Upcoming Events:

  • 3

    DAYS

  • 14

    HOUR

  • 19

    MINUTES

  • 24

    SECONDS

Shrimad Bhagwat Katha - Bengaluru

Program Shedule

Live News

21Jan 2018

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य युवा शांति संदेश का आयोजन 21 जनवरी 2018 को बांग्ला बाजार चौराहा, रेल नगर मैदान, लखनऊ, उत्तर प्रदेश में आयोजित किया।

आज पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में युवा शांति संदेश का आयोजन किया गया। युवाओं ने भगवान की भक्ति और धर्म से संबंधित अनेक सवाल किया जिनका एक-एक करके महाराज श्री ने जवाब देकर उनकी शंकाओं का समाधान किया। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

22Jan 2018

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 21 जनवरी 2018 को बांग्ला बाजार चौराहा, रेल नगर मैदान, लखनऊ, उत्तर प्रदेश में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के पंचम दिवस पर भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

महाराज श्री ने भागवत कथा के पंचम दिवस प्रारम्भ करने से पूर्व आज सुबह युवा शांति सन्देश आयोजन के बारे में बताया, महाराज श्री को बहुत ख़ुशी हुई और उन्होंने कहा कि बहुत सुन्दर दृश्य था बहुत अधिक आनंद आया। लखनऊ के युवा से मिलने पर बहुत ख़ुशी हुई वह बहुत समझदार हैं उन्हें अदब हैं कैसे बोलना हैं कैसे प्रश्न करना हैं। यंहा के युवाओ में देश के प्रति बहुत चिंता देखी। हिन्दू धर्म के लिए उनके ह्रदय में बहुत चिंता हैं और होना भी चाहिए , सभी में होनी चाहिए और अगर युवाओ में धर्म के प्रति चिंता हो गयी तो निश्चित ही भारत महान देश हो जायेगा। इसमें कोई दोहराया नहीं हैं। हमारे देश में वो लोग गुनहगार हैं जिन लोगो ने धर्म को पीछे छोड़ दिया हैं। धर्म सर्वोपरि हैं और हमेशा रहेगा , अगर धर्म के प्रति जागरूकता होगी तभी भगवान तक पुकार जाएगी। आज ख़ुशी हुई ये देखकर कि युवाओ में धर्म के प्रति जागरूकता बढ़ रही हैं और ये समाज के लिए बहुत ख़ुशी की बात हैं हैं।

महाराज श्री ने कथा के पूतना चरित्र का वर्णन करते हुए कहा कि आज का जीव भी पूतना से कम नही जीव भगवान से झूठ बोलता है कि मै तेरा भक्त हूँ लेकिन वो यह नही जानता कि वो तो सर्व ज्ञयाता है। वो सब जानता है। तुम सोचते हो कि भगवान तुम्हें देख नही रहा है। लेकिन तुम्है ये नही मालूम कि भगवान तुम्हारे सारे कर्म पर अपनी दृष्टि बनाये रखते है। ठाकुर जी महाराज ने पूतना के विषय में बताया कि पुतना कंस द्वारा भेजी गई एक राक्षसी थी और श्रीकृष्ण को स्तनपान के जरिए विष देकर मार देना चाहती थी। पुतना कृष्ण को विषपान कराने के लिए एक सुंदर स्त्री का रूप धारण कर वृंदावन में पहुंची थी। मौका पाकर पुतना ने बालकृष्ण को उठा लिया और स्तनपान कराने लगी। श्रीकृष्ण ने स्तनपान करते-करते ही पुतनाका वध कर उसका कल्याण किया।

भगवान जो भी लीला करते हैं वह अपने भक्तों के कल्याण या उनकी इच्छापूर्ति के लिए करते हैं। श्रीकृष्ण ने विचार किया कि मुझमें शुद्ध सत्त्वगुण ही रहता है, पर आगे अनेक राक्षसों का संहार करना है। अत: दुष्टों के दमन के लिए रजोगुण की आवश्यकताहै। इसलिए व्रज की रज के रूप में रजोगुण संग्रह कर रहे हैं। पृथ्वी का एक नाम ‘रसा’ है। श्रीकृष्ण ने सोचा कि सब रस तो ले चुका हूँ अब रसा (पृथ्वी) रस का आस्वादन करूँ। पृथ्वी का नाम ‘क्षमा’ भी है। माटी खाने का अर्थ क्षमा को अपनाना है। भगवान ने सोचा कि मुझे ग्वालबालों के साथ खेलना है,किन्तु वे बड़े ढीठ हैं। खेल-खेल में वे मेरे सम्मान का ध्यान भी भूल जाते हैं। कभी तो घोड़ा बनाकर मेरे ऊपर चढ़ भी जाते हैं। इसलिए क्षमा धारण करके खेलना चाहिए।

अत: श्रीकृष्ण ने क्षमारूप पृथ्वी अंश धारण किया। भगवान व्रजरज का सेवन करके यह दिखला रहे हैं कि जिन भक्तों ने मुझे अपनी सारी भावनाएं व कर्म समर्पित कर रखें हैं वे मेरे कितने प्रिय हैं। भगवान स्वयं अपने भक्तों की चरणरज मुख के द्वारा हृदय में धारण करते हैं। पृथ्वी ने गाय का रूप धारण करके श्रीकृष्ण को पुकारा तब श्रीकृष्ण पृथ्वी पर आये हैं। इसलिए वह मिट्टी में नहाते, खेलते और खाते हैं ताकि पृथ्वी का उद्धार कर सकें। अत: उसका कुछ अंश द्विजों (दांतों) को दान कर दिया। गोपबालकों ने जाकर यशोदामाता से शिकायत कर दी–’मां ! कन्हैया ने माटी खायी है।’ उन भोले-भाले ग्वालबालों को यह नहीं मालूम था कि पृथ्वी ने जब गाय का रूप धारणकर भगवान को पुकारा तब भगवान पृथ्वी के घर आये हैं। पृथ्वी माटी,मिट्टी के रूप में है अत: जिसके घर आये हैं उसकी वस्तु तो खानी ही पड़ेगी। इसलिए यदि श्रीकृष्ण ने माटी खाली तो क्या हुआ? ‘बालक माटी खायेगा तो रोगी हो जायेगा’ ऐसा सोचकर यशोदामाता हाथ में छड़ी लेकर दौड़ी आयीं। उन्होंने कान्हा का हाथ पकड़कर डाँटते हुये कहा–‘क्यों रे नटखट ! तू अब बहुत ढीठ हो गया है।

श्रीकृष्ण ने कहा–‘मैया ! मैंने माटी कहां खायी है।’ यशोदामैया ने कहा कि अकेले में खायी है। श्रीकृष्ण ने कहा कि अकेले में खायी है तो किसने देखा? यशोदामैया ने कहा–ग्वालों ने देखा। श्रीकृष्ण ने मैया से कहा–’तू इनको बड़ा सत्यवादी मानती है तो मेरा मुंह तुम्हारे सामने है। तुझे विश्वास न हो तो मेरा मुख देख ले।’‘अच्छा खोल मुख।’ माता के ऐसा कहने पर श्रीकृष्ण ने अपना मुख खोल दिया। भगवान के साथ ऐश्वर्यशक्ति सदा रहती है। उसने सोचा कि यदि हमारे स्वामी के मुंह में माटी निकल आयी तो यशोदामैया उनको मारेंगी और यदि माटी नहीं निकली तो दाऊ दादा पीटेंगे। इसलिए ऐसी कोई माया प्रकट करनी चाहिए जिससे माता व दाऊ दादा दोनों इधर-उधर हों जाएं और मैं अपने स्वामी को बीच के रास्ते से निकाल ले जाऊं। श्रीकृष्ण के मुख खोलते ही यशोदाजी ने देखा कि मुख में चर-अचर सम्पूर्ण जगत विद्यमान है। आकाश, दिशाएं, पहाड़, द्वीप,समुद्रों के सहित सारी पृथ्वी, बहने वाली वायु, वैद्युत, अग्नि, चन्द्रमा और तारों के साथ सम्पूर्ण ज्योतिर्मण्डल, जल, तेज अर्थात्प्रकृति, महतत्त्व, अहंकार, देवगण, इन्द्रियां, मन, बुद्धि, त्रिगुण, जीव, काल, कर्म, प्रारब्ध आदि तत्त्व भी मूर्त दीखने लगे। पूरा त्रिभुवन है, उसमें जम्बूद्वीप है, उसमें भारतवर्ष है, और उसमें यह ब्रज, ब्रज में नन्दबाबा का घर, घर में भी यशोदा और वह भी श्रीकृष्ण का हाथ पकड़े। बड़ा विस्मय हुआ माता को।


अब श्रीकृष्ण ने देखा कि मैया ने तो मेरा असली तत्त्व ही पहचान लिया है।

राधे राधे बोलना पड़ेगा।।

21Jan 2018

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 20 जनवरी 2018 को बांग्ला बाजार चौराहा, रेल नगर मैदान, लखनऊ, उत्तर प्रदेश में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के चतुर्थ दिवस पर भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

महाराज श्री ने भागवत कथा के चतुर्थ दिवस की शुरुआत भी भागवत आरती के साथ की गई। कथा कार्यक्रम में आए म्यूजिक डायरेक्टर विष्णु नारायण ने भी राधा रानी के चरणों में भक्तिमय प्रस्तुति दी। अखिल भारतीय महासभा के प्रदेश अध्यक्ष राजीव कुमार गुप्ता जी ने 51 किलो की माला से महाराज जी का मालायर्पण किया।

महाराज श्री ने कथा का आरंभ करते हुए कहा की आज के हमारे युवा बहुत जल्दी निराश हो जाते हैं। आप लोग यह बात याद रखिएगा की जिंदगी में धैर्य का बहुत बड़ा योगदान है। बुरे वक्त में धैर्य ही तुम्हें बचाएगा। बच्चों की सीख देते हुए कहा की अपने मां बाप की सेवा किजिए, उन्हे नौकरों के भरोसे मत छोडिए, बेटे को बेटा और बहु का बेटी बनकर रहना चाहिए। घर आए मेहमान को भगवान समझना चाहिए, उन्हे कभी भी द्वेष की भावना से नहीं देखना चाहिए, ऐसा करने से नरक की प्राप्ति होती है।

महाराज श्री ने कथा के प्रसंग का वृतांत सुनाते हुए बताया कि वामन अवतार भगवान विष्णु के दशावतारो में पांचवा अवतार और मानव रूप में अवतार था। जिसमें भगवान विष्णु ने एक बौने के रूप में इंद्र की रक्षा के लिए धरती पर अवतार लिया। वामन अवतार की कहानी असुर राजा महाबली से प्रारम्भ होती है। महाबली प्रहलाद का पौत्र और विरोचना का पुत्र था। महाबली एक महान शासक था जिसे उसकी प्रजा बहुत स्नेह करती थी। उसके राज्य में प्रजा बहुत खुश और समृद्ध थी। उसको उसके पितामह प्रहलाद और गुरु शुक्राचार्य ने वेदों का ज्ञान दिया था। समुद्रमंथन के दौरान जब देवता अमृत ले जा रहे थे तब इंद्रदेव ने बाली को मार दिया था जिसको शुक्राचार्य ने पुनः अपन मन्त्रो से जीवित कर दिया था।

महाबली ने भगवान ब्रह्मा को प्रसन्न करने के लिए तपस्या की थी जिसके फलस्वरूप भगवान ब्रह्मा ने प्रकट होकर वरदान मांगने को कहा। बाली भगवान ब्रह्मा के आगे नतमस्तक होकर बोला “प्रभु, मै इस संसार को दिखाना चाहता हूँ कि असुर अच्छे भी होते हैं। मुझे इंद्र के बराबर शक्ति चाहिए और मुझे युद्ध में कोई पराजित ना कर सके।" भगवान ब्रह्मा ने इन शक्तियों के लिए उसे उपयुक्त मानकर बिना प्रश्न किये उसे वरदान दे दिया।


शुक्राचार्य एक अच्छे गुरु और रणनीतिकार थे जिनकी मदद से बाली ने तीनो लोकों पर विजय प्राप्त कर ली। बाली ने इंद्रदेव को पराजित कर इंद्रलोक पर कब्जा कर लिया। एक दिन गुरु शुक्राचार्य ने बाली से कहा अगर तुम सदैव के लिए तीनो लोकों के स्वामी रहना चाहते हो तो तुम्हारे जैसे राजा को अश्वमेध यज्ञ अवश्य करना चाहिए।
बाली अपने गुरु की आज्ञा मानते हुए यज्ञ की तैयारी में लग गया। बाली एक उदार राजा था जिसे सारी प्रजा पसंद करती थी। इंद्र को ऐसा महसूस होने लगा कि बाली अगर ऐसे ही प्रजापालक रहेगा तो शीघ्र सारे देवता भी बाली की तरफ हो जायेंगे।


इंद्रदेव देवमाता अदिति के पास सहायता के लिए गए और उन्हें सारी बात बताई। देवमाता ने बिष्णु भगवान से वरदान माँगा कि वे उनके पुत्र के रूप में धरती पर जन्म लेकर बाली का विनाश करें। जल्द ही अदिति और ऋषि कश्यप के यहाँ एक सुंदर बौने पुत्र ने जन्म लिया। पांच वर्ष का होते ही वामन का जनेऊ समारोह आयोजित कर उसे गुरुकुल भेज दिया।
इस दौरान महाबली ने 100 में से 99 अश्वमेध यज्ञ पुरे कर लिए थे। अंतिम अश्वमेध यज्ञ समाप्त होने ही वाला था कि तभी दरबार में दिव्य बालक वामन पहुँच गया।महाबली ने कहा कि आज वो किसी भी व्यक्ति को कोई भी दक्षिणा दे सकता है। तभी गुरु शुक्राचार्य महाबली को महल के भीतर ले गये और उसे बताया कि ये बालक ओर कोई नहीं स्वयं भगवान विष्णु हैं वो इंद्रदेव के कहने पर यहाँ आए हैं और अगर तुमने इन्हें जो भी मांगने को कहा तो तुम सब कुछ खो दोगे।

महाबली अपनी बात पर अटल रहे और कहा मुझे वैभव खोने का भय नहीं है बल्कि अपन प्रभु को खोने का है इसलिए मै उनकी इच्छा पूरी करूंगा।
महाबली उस बालक के पास गया और स्नेह से कहा “आप अपनी इच्छा बताइये”।उस बालक ने महाबली की और शांत स्वभाव से देखा और कहा “मुझे केवल तीन पग जमीन चाहिए जिसे मैं अपने पैरों से नाप सकूं”।

महाबली ने हँसते हुए कहा “केवल तीन पग जमीन चाहिए, मैं तुमको दूँगा।"
जैसे ही महाबली ने अपने मुँह से ये शब्द निकाले वामन का आकार धीरे धीरे बढ़ता गया। वो बालक इतना बढ़ा हो गया कि बाली केवल उसके पैरों को देख सकता था। वामन आकार में इतना बढ़ा था कि धरती को उसने अपने एक पग में माप लिया।

राधे राधे बोलना पड़ेगा।।

20Jan 2018

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 19 जनवरी 2018 को बांग्ला बाजार चौराहा, रेल नगर मैदान, लखनऊ, उत्तर प्रदेश में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के तृतीय दिवस पर भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 17 - 23 जनवरी तक, बांग्ला बाजार चौराहा, रेल नगर मैदान, लखनऊ, उत्तर प्रदेश आयोजित श्रीमद भागवत कथा के तृतीय दिवस पर भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

महाराज श्री ने भागवत कथा के तृतीय दिवस की शुरुआत भागवत आरती के साथ की गई। कथा वाचक देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने कथा का प्रारंभ करते हुए कहा की ये जीवन कुरुक्षेत्र हैं, आप कृष्ण के अर्जुन बनो। यहां लोग आपको कहते है बुरे बनिए लेकिन आप उनको कहिए अच्छे बनिए, आपकी सोच ही सबकुछ है। महाराज जी ने श्रोताओं को भक्ति गीतों से मंत्रमुग्ध भी किया।

महाराज जी ने कहा की अगर आपको किसी भी संत की बात पर विश्वास हो जाए तो उनके द्वारा कहा गया वाक्य आपका जीवन सफल बना देगा। “विश्वासं फलं दायकं” पहले विश्वास जरुरी है, विश्वास किजिए, अगर विश्वास नहीं करेंगे तो फिर संदेह है। उन्होंने आगे कहा की अगर आप सम्मानीयों का सम्मान करेंगे तो आपको भी सम्मान मिलेगा लेकिन अगर आप उनका सम्मान नहीं करोगे तो आपका भी सम्मान नहीं होगा।

महाराज जी ने कहा की शुकदेव जी ने कहा है की जिसकी भी मृत्यु निकट हो उसे भागवत कथा सुननी चाहिए। उन्होंने कहा की नासा के वैज्ञानिकों ने तक कहा है की आकाश से पार केवल ऊँ की ध्वनी ही सुनाई देती है। उन्होंने कहा की अगर पूरी धरती किसी पर निर्भर है तो वो सनातन धर्म पर निर्भर है।

महाराज जी ने कहा की जो लोग कहते हैं की मेरी उम्र नहीं हुई अभी भजन करने की, कथा सुनने की, वो लोग बेवकूफ हैं। जिंदगी का कोई भरोसा नहीं है, अगर जिंदगी मे कल नहीं आया तो क्या करोगे।

महाराज श्री ने कथा के प्रसंग का वृतांत सुनाते हुए कल के कथा क्रम याद कराया की जी वयक्ति को यहाँ पता चल जाये की उसकी मृत्यु सातवें दिन हो वो क्या करेगा क्या सोचेगा ? राजा परीक्षित ने यह जान कर उसी क्षण अपना महल छोड़ दिया। पर आज तो आपको यह भी नहीं मालूम की आपकी मृत्यु कब होगी , मृत्यु तो निश्चित है पर कब ये आपको नहीं पता तो आप जीवित रहते हुए अपने समय को क्यों बर्बाद करते हो। मानव जीवन सबसे श्रेष्ठ है क्योकि इसमें हमे नाम सुमिरन करने का मार्ग उपलब्ध होता है अन्य किसी योनि में नहीं मिलता। तो इस मानव जीवन का मोल पहचाने और इसको प्रभु के चरणों में सोप दे तो कल्याण निश्चित ही होगा। भगवान अपने बारे में मानव से हुई भूल को तो भुला सकते हैं लेकिन संतों को लेकर की गई भूल के दुष्परिणाम से वह भी नहीं बचाते। इसका उदाहरण है कि राजा परीक्षित ने जब संत का अपमान किया तो राजा परीक्षित को भी काल के काल में जाने के लिए छोड़ दिया।

राजा परीक्षित ने अपना सर्वस्व त्याग कर अपनी मुक्ति का मार्ग खोजने निकल पड़े गंगा के तट पर। जब राजा परीक्षित भगवान शुकदेव जी महाराज के सामने पहुंचे तो उनको राजा ने शाष्टांग प्रणाम किया। शाष्टांग प्रणाम करने से पुण्य की प्राप्ति होती है। शुकदेव जी महाराज जो सबसे बड़े वैरागी है चूड़ामणि है उनसे राजा परीक्षित जी ने प्रश्न किया कि हे गुरुदेव जो व्यक्ति सातवें दिन मरने वाला हो उस व्यक्ति को क्या करना चाहिए? किसका स्मरण करना चाहिए और किसका परित्याग करना चाहिए? कृपा कर मुझे बताइये...

अब शुकदेव जी ने मुस्कुराते हुए परीक्षित से कहा की हे राजन ये प्रश्न केवल आपके कल्याण का ही नहीं अपितु संसार के कल्याण का प्रश्न है। तो राजन जिस व्यक्ति की मृत्यु सातवें दिन है उसको श्रीमद भागवत कथा का श्रवण करना चाहिए तो उसका कल्याण निश्चित है। श्रीमद भागवत में 18000 श्लोक, 12 स्कन्द और 335 अध्याय है जो जीव सात दिन में सम्पूर्ण भागवत का श्रवण करेगा वो अवश्य ही मनोवांछित फल की प्राप्ति करता है। राजा परीक्षित ने शुकदेव जी से प्रार्थना की हे गुरुवर आप ही मुझे श्रीमद भागवत का ज्ञान प्रदान करे और मेरे कल्याण का मार्ग प्रशस्थ करे।

भगवान मानव को जन्म देने से पहले कहते हैं ऐसा कर्म करना जिससे दोबारा जन्म ना लेना पड़े। मानव मुट्ठी बंद करके यह संकल्प दोहराते हुए इस पृथ्वी पर जन्म लेता है। प्रभु भागवत कथा के माध्यम से मानव का यह संकल्प याद दिलाते रहते हैं। भागवत सुनने वालों का भगवान हमेशा कल्याण करते हैं। भागवत ने कहा है जो भगवान को प्रिय हो वही करो, हमेशा भगवान से मिलने का उद्देश्य बना लो, जो प्रभु का मार्ग हो उसे अपना लो, इस संसार में जन्म-मरण से मुक्ति भगवान की कथा ही दिला सकती है। भगवान की कथा विचार, वैराग्य, ज्ञान और हरि से मिलने का मार्ग बता देती है। राजा परीक्षित के कारण है भागवत कथा पृथ्वी के लोगो को सुनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। समाज द्वारा बनाए गए नियम गलत हो सकते हैं किंतु भगवान के नियम ना तो गलत हो सकते हैं और नहीं बदले जा सकते हैं।

राधे राधे बोलना पड़ेगा।।

18Jan 2018

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 18 जनवरी 2018 को बांग्ला बाजार चौराहा, रेल नगर मैदान, लखनऊ, उत्तर प्रदेश में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के द्वितीय दिवस पर भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 17 - 23 जनवरी तक, बांग्ला बाजार चौराहा, रेल नगर मैदान, लखनऊ, उत्तर प्रदेश आयोजित श्रीमद भागवत कथा के द्वितीय दिवस पर भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

महाराज जी ने भागवत कथा के द्वितीय दिवस की शुरुआत भक्तिमय गीतों से की जिसपर भक्त जमकर नाचने पर विवश हो उठे। कथा श्रवण करने आए भक्तो से महाराज जी ने कहा की कथा को कभी भी फल प्राप्ति के लिए ही नहीं सुनना चाहिए, फल तो मिलेगा ही, कथा का श्रवण मेरे चित्त में मेरे प्रभु के अलावा कोई ओर ना हो इसके लिए कथा सुननी चाहिए। कथा प्रभु के स्वभाव को बताती है। महाराज जी ने कथा सुनने आएं श्रोताओं से कहा की कथा स्थल पर आने की जल्दी करो लेकिन यहां से जाने की कभी जल्दी मत करो।

महाराज जी ने कहा की अगर जीव के मन में बस भागवत कथा सुनना है का भाव भी आ जाए तो प्रभु उनके ह्रदय में कैद हो जाते हैं और सच्चे श्रोताओं को इसका अनुभव भी होता है। महाराज जी ने कहा की कथा सुनने की एक ही शर्त है इसे नियम से सुना जाए।

महाराज जी ने मोबाइल से होने वाले नुकसानों के बारे में भी बताया। महाराज जी ने कहा की आज के दौर में बच्चो की याददाशत कमजोर होती जा रही है, उसका सबसे बड़ा कारण है मोबाइल। मोबाइल मानसिक विनाश कर रहा है। बच्चे मां बाप से छुपकर इस्तेमाल करते हैं। पढ़ने के बजाय सोशल मीडिया पर ऑनलाइन रहते हैं। उन्होंने कहा की अगर अच्छे से इसका इस्तेमाल किया जाए तो ठीक लेकिन ज्यादा इस्तेमाल से आपकी मेमोरी के लिए ये घातक है।

महाराज जी ने कथा के प्रसंग का वृतांत सुनाते हुए कहा कथा सुनना भी सबके भाग्य में नहीं होता जब भगवान् भोलेनाथ से माता पार्वती ने उनसे अमर कथा सुनाने की प्रार्थना की तो बाबा भोलेनाथ ने कहा की जाओ पहले यह देखकर आओ की कैलाश पर तुम्हारे या मेरे अलावा और कोई तो नहीं है क्योकि यह कथा सबको नसीब में नहीं है। माता ने पूरा कैलाश देख आई पर शुक के अपरिपक्व अंडो पर उनकी नज़र नहीं पड़ी। भगवान शंकर जी ने पार्वती जी को जो अमर कथा सुनाई वह भागवत कथा ही थी। लेकिन मध्य में पार्वती जी को निद्रा आ गई। और वो कथा शुक ने पूरी सुनली। यह भी पूर्व जन्मों के पाप का प्रभाव होता है कि कथा बीच में छूट जाती है। भगवान की कथा मन से नहीं सुनने के कारण ही जीवन में पूरी तरह से धार्मिकता नहीं आ पाती है। जीवन में श्याम नहीं तो आराम नहीं। भगवान को अपना परिवार मानकर उनकी लीलाओं में रमना चाहिए। गोविंद के गीत गाए बिना शांति नहीं मिलेगी। धर्म, संत, मां-बाप और गुरु की सेवा करो। जितना भजन करोगे उतनी ही शांति मिलेगी। संतों का सानिध्य हृदय में भगवान को बसा देता है। क्योंकि कथाएं सुनने से चित्त पिघल जाता है और पिघला चित ही भगवान को बसा सकता है।

पूज्य महाराज जी ने बताया कि श्री शुक देव जी द्वारा चुपके से अमर कथा सुन लेने के कारण जब शंकर जी ने उन्हें मारने के लिए दौड़ाया तो वह एक ब्राह्मणी के गर्भ में छुप गए। कई वर्षों बाद व्यास जी के निवेदन पर भगवान शंकर जी इस पुत्र के ज्ञानवान होने का वरदान दे कर चले गए। व्यास जी ने जब श्री शुक को बाहर आने के लिए कहा तो उन्होंने कहा कि जब तक मुझे माया से सदा मुक्त होने का आश्वासन नहीं मिलेगा। मैं नहीं आऊंगा। तब भगवान नारायण को स्वयं आकर ये कहना पड़ा की श्री शुक आप आओ आपको मेरी माया कभी नहीं लगेगी ,उन्हें आश्वासन मिला तभी वह बाहर आए।यानि की माया का बंधन उनको नहीं चाहिए था। पर आज का मानव तो केवल माया का बंधन ही चारो ओर बांधता फिरता है। और बार बार इस माया के चक्कर में इस धरती पर अलग अलग योनियों में जन्म लेता है। तो जब आपके पास भागवत कथा जैसा सरल माध्यम दिया है जो आपको इस जनम मरण के चक्कर से मुक्त कर देगा और नारायण के धाम में सदा के लिए आपको स्थान मिलेगा।

राधे राधे बोलना पड़ेगा।।

18Jan 2018

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 17 जनवरी 2018 को बांग्ला बाजार चौराहा, रेल नगर मैदान, लखनऊ, उत्तर प्रदेश में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के प्रथम दिवस महाराज श्री ने कथा प्रारम्भ करते हुए भक्तो को भागवत कथा का महत्व बताया।

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 17 - 23 जनवरी तक, बांग्ला बाजार चौराहा, रेल नगर मैदान, लखनऊ, उत्तर प्रदेश आयोजित श्रीमद भागवत कथा के प्रथम दिवस पर भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

महाराज श्री ने कथा प्रारम्भ करते हुए भक्तो को भागवत कथा का महत्व बताया। उन्होंने कहा की जिसकी कथा सुनते सुनते मुर्छित व्यक्ति भी सजीव हो उठता है, रोता हुआ व्यक्ति भी नाच उठता है, जो आनन्द को भी आनन्द प्रदान करने वाला है ये उस परमात्मा की कथा है। महाराज श्री ने पालनहार सच्चिदानंद की महिमा का वर्णन किया। उन्होंने कहा वही सबकुछ है हम कुछ नही, जब उसकी इच्छा होती है हमारा जन्म होता है और जब उसकी इच्छा होती है तो हमारी लीला पूरी हो जाती है। उन्होंने कहा की जिसका चित्त उसके बस में होता है वहीं सच्चिदानंद होता है। हमारा चित्त हमारे बस में नहीं है, उनका चित्त उनके बस में है इसीलिए वह सच्चिदानंद है।

महाराज श्री कथा का वृतांत बताते हुए कहा कि जो लोग कहते है कथा वाचक खाली कहते हैं कि भगवान के दर्शन होते हैं वो लोग 7 दिन भागवत कथा सुनो अगर भागवत कथा का अनुभव ना हो तो कहना। महाराज श्री ने कहा की कलयुग के लोगों के कल्याण के लिए भागवत का श्रवण करना जरुरी है। उन्होंने कहा की सभी वेदों, पुराणों, शास्त्रों का सार है श्रीमद् भागवत, जिसने भागवत श्रवण कर लिया उसका कल्याण सुनिश्चित हो जाता है।

महाराज जी ने युवाओं को भी प्रेरणा देते हुए कहा की आप जिस पैसे के पीछे भागते हो क्या वो पैसा आपको मोक्ष दिला सकता है, आप पैसों से सब कुछ खरीद सकते हो लेकिन मोक्ष नहीं ले सकते, लेकिन सातों दिनों की भागवत कथा नियमित रुप से सुनने से मोक्ष मिल जाता है।

महाराज श्री ने सरकार द्वारा हज सब्सिडी खत्म करने के बारे में भी बात की, उन्होंने कहा की सरकार ने हज सब्सिडी खत्म कर दी, मुस्लमान भाईयों ने इस आदेश का स्वागत किया है हम उनका साधुवाद करते हैं।

कथा के दौरान महाराज जी ने आज की पीढ़ी को प्रसन्न रहने के सूत्र भी बताए, उन्होंने कहा की जैसा नजरिया होगा तेरा, वैसे नजारे होंगे तेरे, अपने से नीचे वालों को देखों प्रसन्न हो जाओगे, अपने से ऊपर वालों को देखोगे तो दुखी हो जाओगे।

कथा के दौरान महाराज जी ने कई भक्ति गीतों से भक्तों को नाचने पर भी मजबूर कर दिया। पहले दिन ही कथा में हजारों की संख्या में भक्त पहुंचे।

राधे राधे बोलना पड़ेगा।।

17Jan 2018

आज लखनऊ, उत्तर प्रदेश में कथा से पहले विशाल कलश यात्रा निकाली।

आज लखनऊ, उत्तर प्रदेश में कथा से पहले विशाल कलश यात्रा निकाली। इस भव्य कलश यात्रा में सैंकड़ों माताएं बहने कलश उठाकर कथा पंडाल पहुंची। महाराज श्री के सानिध्य में लखनऊ में 17 - 23 जनवरी 2018 तक श्रीमद्भागवत कथा का आयोजन किया जा रहा है। कलश यात्रा के दौरान लखनऊ की सड़कों पर दृश्य देखने योग्य था, हर जगह माताएं-बहने कलश उठाये नजर आ रही थी। सभी लखनऊ वासियों से निवेदन है कि बढ़-चढ़ कर कथा पंडाल में आकर कथा का रसपान करें।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

17Jan 2018

हिन्दू जागरण मंच, रामपुर में देश की आतंरिक सुरक्षा एवं हमारी सामाजिक भूमिका को लेकर एक विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया।

हिन्दू जागरण मंच, रामपुर में देश की आतंरिक सुरक्षा एवं हमारी सामाजिक भूमिका को लेकर 16 जनवरी 2018 को एक विचार गोष्ठी का आयोजन किया गया। इस विचार गोष्ठी में धर्मरत्न शांतिदूत श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज को मुख्य अतिथि के तौर पर आमंत्रित किया गया। यहां महाराज श्री ने मौजूद सभी लोगों को आज के समय में समाज और देश में चारो और जो अराजकता, आतंकवादी घुसपैठ, संगठित अपराध करने वाले, लव जिहाद के नाम पर हिन्दू युवाओं को अपने धर्म से भटकाने वाले तथा जनसँख्या वृद्धि जैसे गंभीर विषयों पर जागृत किया। महाराज श्री ने कहा की यदि प्रत्येक हिन्दू को अपने धर्म और देश के प्रति हमेशा सजग एवं कर्तव्यनिष्ठ रहेगा तो किसी बाहरी व्यक्ति या संगठन की ताकत नहीं की वह हिन्दू और मेरे भारत की नींव को हिला सके।

|| राधे राधे बोलना पड़ेगा ||

14Jan 2018

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में मकर संक्रांति के पावन अवसर पर 14 जनवरी 2018 को प्रयागराज, उत्तर प्रदेश में आयोजित श्री कृष्ण कथा के प्रथम दिवस पर भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

महाराज श्री ने कथा प्रारम्भ करते हुए कहा कि गोस्वामी तुलसी दास बाबा जिन्होंने मानव जीवन के लिए लिखा कि यह जीवन एक यात्रा हैं आने वाले इतिहास में जब भी कोई चर्चा होगी हमारे नाम की तो इसमें लिखा जायेगा कि इसमें किसकी यात्रा अच्छी थी और किसकी यात्रा बुरी। अब तक ता इतिहास उठाइये चाहे राम-रावण का, चाहे कृष्ण-कंस का और चाहे पह्रलाद-हिरणाकश्यप की हो। कई लोग ऐसे होते हैं जिन्हे हम आज भी याद करते हैं। और कई लोग ऐसे होते हैं जिन्हे हम कभी यद् नहीं करना चाहते हैं। जिन्हे हम सिर्फ जलाना चाहते हैं।

जीवन की यात्रा के बारे में बताते हुए महराज श्री ने कहा कि यही हैं " जीवन की यात्रा" दुर्लभो मानषु जन्मः अथार्त कि मानब शरीर दुर्लभ हैं पर इस शरीर का एक पल का भरोसा नहीं हैं। एक क्षण का भी भरोसा नहीं हैं की में कान्हा से चला हु और कँहा पर पहुंच जाऊं, इस यात्रा को कैसे पूरा किया जाये कैसे निभाया जाये ये सारी जिम्मेदारी हमारी हैं। जीवन आपका हैं किसी और का नहीं जिम्मेदारी जीवन के प्रति आपकी हैं किसी और की नहीं हैं, तुम्हारे निर्णय तुम्हारे जीवन को बनाने के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं जिससे आप अपनी यात्रा को यादगार बना सकते हैं। ........अब हम सबको इस बात का ख्याल रखना चाहिए की हमे क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए ये सब अब हम सबकी जिम्मेदारी हैं मेरे जीवन की यात्रा कैसे होनी चाहिए ........... सुखद या दुखद या फिर अच्छी या बुरी, ये मेरी जीवन यात्रा मुझे विवश करेगी " मुझे मरने पर " और एक जीवन यात्रा मुझे विवश करेगी मुझे मुझे आनंद प्रफुल्लित के लिए और इसी तरह मानव जीवन का उद्देश्य पूरा हो जायेगा।

महाराज श्री ने जीवन के कुछ महत्वपूर्ण पलो का वृतांत सुनाते हुए कहा कि जो मानव शरीर हमे मिला हैं जान मानस को मिला हैं ये मानव जीवन देवताओ के लिए दुर्लभ हैं हमे पता हैं कि मानव जीवन बहुत महत्वपूर्ण हैं लेकिन हमे इसकी क़द्र होनी चाहिए। लेकिन ऐसा नहीं हैं कोई इस जीवन को अहम से नष्ट कर रहा हैं तो कोई जवानी के नशे से नष्ट कर रहा हैं तो कोई गंदे नशे से नष्ट कर रहा हैं नष्ट किये जा जा रहा हैं। कृष्ण कथा में सांसारिक वस्तुओं की इच्छा लेकर नहीं, अपितु भगवान की इच्छा लेकर सुनिये। कथा के दौरान भक्ति गीतों पर भक्त नाचने झूमने लगे। पहले दिन की कृष्णा कथा में हजारों की संख्या में भक्त पहुंचे।

जीवन की यात्रा मंगलमय और सुखद बनानी हैं तो अपने गुरु को हमेशा साथ लेकर चलो और सीधा और सरल उदहारण धुर्व हैं जो सादे पांच साल के थे जब उन्होंने अपने गुरु के चरण पकड़ लिए थे और पह्रलाद जिन्होंने गर्भ में ही अपने गुरु के चरण पकड़ लिए गर्भ में ही श्री नारद से ज्ञान प्राप्त हुआ गर्भ में... आप सभी तो अपनी उम्र के उस पड़ाव में हो जंहा सब समझदार हैं और अपनी जिंदगी का एक हिस्सा जी चुके हो और गुरु के नाम के लिए आज भी यही कहते हैं कि अभी उम्र नहीं हुई। ........गुरु पाने के लिए..... अगर अपने जीवन को सुखद बनाना हैं तो जीवन में गुरु को ले आइये गुरु की शिक्षा आपके जीवन को सर्वोपरि बना देगा, जीवन को जीना सीख जाओगे कैसे अपने जीवन को सुखमय बनाया जाये ये सीख जाओगे। सर्प से क्या सीखा ? सर्प कभी भी अपने लिए घर नहीं बनाता कभी भी नहीं बनता अपना घर। और आप बताइये हमारी कितनी आयु हैं ६०, ६५, ८५, बस फिर भी हम ये सब सोचते हैं।

एक मनुष्य को यही प्रार्थना करनी चाहिए। "जब मुझे बुलावो तो लवो पर आखिरी तेरा नाम होना चाहिए , लवो पर आखिरी तेरा नाम होना चाहिए दुनिया को भूल जाऊं चित्त में दर्शन होना चाहिए , सिर्फ तेरा दर्शन होना चाहिए।"

राधे राधे बोलना पड़ेगा।।

15Jan 2018

मकर संक्रांति के पावन अवसर पर पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने सड़क पर ठंड से ठिठुर रहे लोगों को कंबल वितरण किए।

मकर संक्रांति के पावन अवसर पर पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने सड़क पर ठंड से ठिठुर रहे लोगों को कंबल वितरण किए।

12Jan 2018

ठाकुर श्री प्रियाकान्त जू मंदिर के द्वितीय पाटोत्सव पर शांति सेवा सभागृह में संत सम्मेलन, आर्शीवचन और भजन संध्या का आयोजन किया गया।

ठाकुर श्री प्रियाकान्त जू मंदिर के द्वितीय पाटोत्सव पर शांति सेवा सभागृह में संत सम्मेलन, आर्शीवचन और भजन संध्या का आयोजन किया गया। संत सम्मेलन में धर्मरत्न पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुरजी महाराज, पूज्य महामण्डलेश्वर नवलगिरि जी महाराज, डा0 श्री आदित्यानंद जी महाराज, महन्त श्री हरिबोल जी महाराज, श्री मोहिनी शरण जी महाराज, मंहत अमरदास जी आदि ने अपने विचार व्यक्त किये। आयोजित संत सम्मेलन में आए वक्ताओं ने युवापीढ़ी को सनातन धर्म और संस्कारों से भटकाने वाले कारकों पर चर्चा की और अपने आशीष वचनों से आए भक्तों को कृतार्थ किया।

12Jan 2018

धर्मरत्न पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुरजी महाराज,के सानिघ्य में द्वितीय पाटोत्सव में भजन संध्या का आयोजन किया गया।

ठाकुर श्री प्रियाकान्त जू मंदिर के द्वितीय पाटोत्सव पर आए भक्तों को धर्मरत्न पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुरजी महाराज ने अपने श्री मुख से गाए भजनों से झुमने पर मजबूर कर दिया। सभी भक्तगण प्रभु की भक्ति में रम गए और मनमुग्ध होकर नाचने लगे। भक्तिरस की ऐसी धारा बही की क्या छोटा, क्या बड़ा हर कोई इस रस की धारा में बहता चला गया।

13Jan 2018

द्वितीय पाटोत्सव पर महाराज श्री ने किया ठाकुर प्रियाकान्त जू का अभिषेक।

ठाकुर श्री प्रियाकान्त जू मंदिर के द्वितीय पाटोत्सव पर शांति सेवा सभागृह में संत सम्मेलन, आर्शीवचन और भजन संध्या का आयोजन किया गया।इन सभी आयोजनों की शुरआत विशाल अभिषेक से हुई जिसमे सभी भक्तो ने अपनी सेवा दी और भगवान श्री प्रियाकान्त जू का आर्शीवाद लिया।

10Jan 2018

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 10 जनवरी 2018 को कोलकाता में सप्तम दिवस की कथा में भक्तो को भागवत कथा का श्रवण कराया।

आज की कथा का प्रारम्भ एक सुन्दर भजन के साथ किया। महाराज जी ने कहा की श्री शुकदेव जी गंगा नदी के तट पर बैठ कर राजा परीक्षित को भागवत कथा सुना रहे है और हम सब भी सौभाग्यशाली है की गंगा के किनारे हम सब भी भगवत कथा का श्रवण कर रहे है। माँ भगवती यहाँ पहुंच कर अपनी यात्रा को पूरा करती है गंगा सागर में मिलकर। भगवान् हम सभी की यात्रा भी पूरी करे ठाकुर के चरणों में मिलकर। जो लोग ये कहते है की भक्ति करना उन लोगो का काम है जो कुछ नहीं करे सकते लेकिन मै यह कहता हूँ की भक्ति करना बहुत हिम्मत का काम है वो ही प्राणी भक्ति कर सकता है जो धैर्य, साहस और प्रभु में पूर्ण विश्वास हो वही सच्ची भक्ति कर सकता है।

कल के क्रम में ठाकुर का विवाह रुक्मणि जी के साथ हुआ। द्वारिका में भगवान् ने अपना राज्य स्थापित किया। महाराज श्री ने आगे कहा कि पुराणों की कथा के अनुसार भगवान श्री कृष्ण ने कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी तिथि को नरकासुर नाम के असुर का वध किया। नरकासुर ने 16 हज़ार 100 कन्याओं को बंदी बना रखा था। नरकासुर का वध करके श्री कृष्ण ने कन्याओं को बंधन मुक्त करवाया। इन कन्याओं ने श्री कृष्ण से कहा की समाज उन्हें स्वीकार नहीं करेगा अतः आप ही कोई उपाय करें। समाज में इन कन्याओं को सम्मान दिलाने के लिए सत्यभामा के सहयोग से श्री कृष्ण ने इन सभी कन्याओं से विवाह कर लिया। इस कारण भगवान ने १६१०० रूप बनाकर सबके साथ एक मुहूर्त में एक साथ विवाह किया था। कुछ मूर्ख लोग कहते हैं कि भगवान कृष्ण ने इतने विवाह किये। भगवान ने कामनावश विवाह नहीं किया था। श्री कृष्ण के 18 हजार से अधिक विवाहों के कारणों पर विस्तार से प्रकाश डालते महाराज जी ने कहा कि मोर आजीवन ब्रह्मचारी होता है। उसके आंसुओं को धारण करके मोरनी गर्भ धारण करती है। श्री कृष्ण भी मोर पंख धारी हैं। भगवान श्री कृष्ण की भी शादियों और पुत्रों की कुछ ऐसी ही लीलाये हैं। वे गोपियों के साथ तो रहते हैं। लेकिन उनका संग नहीं चाहते। करुणावश किया था। भगवान कहते हैं जिसको कोई नहीं अपनाता अगर वो मेरी शरण में आये तो मैं उसे अपना लेता हूँ। भगवान श्री कृष्ण ने कामदेव पर विजय प्राप्त की है। उनके संकल्प मात्र से उनके पुत्रों की गिनती एक लाख इकसठ हजार अस्सी थी। भगवान श्री कृष्ण ने आजीवन ब्रह्मचर्य का पालन किया।

भगवान कृष्ण मित्र और शत्रु के लिए समान भावना रखते है इसके पीछे भी मोरपंख का उद्दारण देखकर हम यह कह सकते है। कृष्ण के भाई थे शेषनाग के अवतार बलराम और नागो के दुश्मन होते है मोर। अत: मोरपंख सर पर लगाके कृष्ण का यह सभी को सन्देश है की वो सबके लिए समभाव रखते है। मोरपंख में सभी रंग है गहरे भी और हलके भी। कृष्णा अपने भक्तो को ऐसे रंगों को देखकर यही सन्देश देते है जीवन ही इस तरह सभी रंगों से भरा हुआ है कभी चमकीले रंग तो कभी हलके रंग, कभी सुखी जीवन तो कभी दुखी जीवन।

इस मायावी दुनिया में देखा गया है कि जो प्यारा लगता है, हमें उसके अवगुण नहीं दिखाई देते और जिसे नापसंद करते हैं, हम उसके गुण नहीं देखते। नज़रिये के अनुसार ही नज़ारे दिखते हैं। लेकिन ध्यान रखना धर्म के विरुद्ध कभी मत जाना। बुराइयां खुद के लिए गड्ढा खोदती हैं। लेकिन जो सच प्रभु को प्रसन्न करना चाहते हो तो हमेशा दूसरों को खुशियां देना सीखो तुम्हें अपने आप खुशियाँ मिलती जाएँगी। अगर आपको कोई गलत बोले तो भी बुरा न मानो क्योकि वो कही न कही हमारे ही कर्म ही काट रहा है। क्योकि संसार में आने से पहले ही हमारा समय , स्थान और कारन निश्चित कर देता है इसलिए अपने कर्मो को हमेशा सही रखना तो ईश्वर सदैव आपका हाथ थामे रखेगा।

" राधे राधे बोलना पड़ेगा। "

9Jan 2018

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 9 जनवरी 2018 को कोलकाता में षष्टम दिवस की कथा में भक्तो को भागवत कथा का श्रवण कराया।

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 4 से 10 जनवरी तक, सी. डी. पार्क, साल्ट लेक, कोलकाता आयोजित श्रीमद भागवत कथा के षष्टम दिवस पर भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

आज की कथा का प्रारम्भ एक सुन्दर भजन से वृंदावन नगरी जाने के लिए गोपियों की समस्या को सुनाया की कैसे वो मोहन से कहती है की "कैसे आऊं मैं कन्हैया दूर नगरी बड़ी दूर नगरी" कठिनाई उस समय भी थी और आज भी है। अंतर केवल इतना है उस समय गोपियों को समाज का, परिवार का लोगो के बातो का भय था फिर भी गोपियों ने सब बाधाओं को पार कर कृष्ण को पाया। पर आज का मानव कृष्ण को पाना नहीं चाहता क्यों? क्योकि आज के मानव के पास समय नहीं है क्योकि उसको सांसारिक कामो से फुरसत नहीं। घर ,ऑफिस, बच्चे, सामाजिक प्रतिष्ठा, रुपये कमाने की अंधी दौड़ में वो भगवान् को भूल बैठा है।

"विरथा जीवन क्यों खोवे रे मन जीवन है अनमोल ,या रसना का तू कर प्रयोग तू राधे राधे बोल" तुमको यह जीवन जो मिला है तुम इसको व्यर्थ में ही गवां रहे हो। उसका उपयोग करो जिस तरह पारस का मोल है ये मानव जीवन भी भगवान ने आपको दिया है जो पारस से भी बढ़कर है क्योंकि यह मानव जीवन अनमोल है और इसको कुसंगति से बर्बाद नहीं करना चाहिए। इस चौरासी लाख योनियों में मानव जीवन को सर्वश्रेष्ठ माना गया है क्योंकि इसमें हमें प्रभु का नाम सुमिरन करने का सत्संग करने का अवसर प्राप्त होता है। राम नाम सुमिरन से मानव जीवन का कल्याण हो जाता है।

आज का मानव यह बोलता है की अभी हमारी उम्र नहीं है मंदिर जाने की बुढ़ापे में करेंगे भक्ति। तो मेरे प्यारे आपसे में पूंछता हूँ कि बुढ़ापे में डिस्को जा सकोगे ? तो आज का युवा ये बोलेगा की बुढ़ापे में कैसे जा सकते है उस समय तो शक्ति - ताकत नहीं रहेगी कैसे नाचेंगे तो मुझे बताओ की जब बुढ़ापे में सर्दी के मौसम में सर्दी ज्यादा लगे , गर्मी में गर्मी सताए , कफ से गला जाम हो जाये आवाज़ नहीं निकले तब लोग भगवान का नाम तो मेरे प्यारे सच तो यह है की बागवान की भक्ति करने के लिए सबसे ज्यादा शक्ति की जरूरत होती है। क्योकि जब तक आप में शक्ति और पवित्रता नहीं है तब तक ईश्वर की प्राप्ति नहीं हो सकती।

एक शिकारी था और उसका एक वफादार कुत्ता था। एक बार शिकारी का बहुत ही बुरा समय आया तो उसने अपना कुत्ता एक सेठ को गिरवी रख दिया और बोलै जब मेरे पास धन आजायेगा तो मै अपने कुत्ते को वापस ले जाऊंगा। एक रात सेठ के घर चोर आये और सब सामान चुरा ले गए तो उस कुत्ते ने बिना आवाज़ किये चोरो के पीछे पीछे चल दिया। सुबह होने को थी इसलिए चोरो ने उस धन को के स्थान पर गाड़ दिया कुत्ता सब देख रहा था। जब सेठ ने देखा की चोरी होगयी है तो वो उस कुत्ते पर गुस्सा होने लगे की शिकारी ने कहा था की ये तो बफादार है पर इसने तो कुछ नहीं किया। तभी उस कुत्ते ने सेठ की धोती पकड़ कर उस स्थान तक ले गया जहाँ चोरो ने धन दवाया था। अब सेठ बहुत खुश हुआ और उसने एक पत्र लिख कर कुत्ते के गले में टाँग दिया की शिकारी मैंने तुम्हारा कर्ज़ा माफ़ कर दिया क्योकि तुम्हारे कुत्ते ने मुझ पर बहुत बड़ा उपकार किया है। और कुत्ते को छोड़ दिया कुत्ता जा रहा था, उधर शिकारी ने कुछ धन अर्जन कर के सेठ के पास जारहा था उसने दूर से देखा की उसका कुत्ता आरहा है तो उसने सोचा की इसने मेरा वचन तोड़ दिया और उसने उसको दूर से गोली मार दी और कुत्ता मर गया। जब पास आया तो देखा की उसके गले में एक पत्र था अब वो फूट - फूट कर रोने लगा पर अब पछताने से उसका कुत्ता वापस नहीं आएगा।

इसी प्रकार यह मानव जीवन जो मिला है उसको गवां देने के बाद आप कितना भी पछताए पर ये वापस लौट कर नहीं मिलेगा। आप पारस का तो मोल चुका सकते हो पर। ये मानव जीवन पारस से भी अनमोल है जो हमे भगवान ने दिया तो समय रहते इसका सदुपयोग करिये तो ठाकुर आपकी सद्गति अवश्य करेगा।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

8Jan 2018

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 8 जनवरी 2018 को कोलकाता में पंचम दिवस की कथा में भक्तो को भागवत कथा का श्रवण कराया।

"भगवान जो भी लीला करते हैं वह अपने भक्तों के कल्याण या उनकी इच्छापूर्ति के लिए करते हैं।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 4 से 10 जनवरी तक, सी. डी. पार्क, साल्ट लेक, कोलकाता आयोजित श्रीमद भागवत कथा के पंचम दिवस पर भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

महाराज श्री ने कहा धनवान व्यक्ति वही है जो अपने तन,मन,धन से सेवा भक्ति करें वही आज के समय में धनवान व्यक्ति है। पूतना चरित्र का वर्णन करते हुए महाराज श्री ने कहा कि आज का जीव भी पूतना से कम नही जीव भगवान से झूठ बोलता है कि मै तेरा भक्त हूँ लेकिन वो यह नही जानता कि वो तो सर्व ज्ञयाता है। वो सब जानता है। तुम सोचते हो कि भगवान तुम्हें देख नही रहा है। लेकिन तुम्है ये नही मालूम कि भगवान तुम्हारे सारे कर्म पर अपनी दृष्टि बनाये रखते है। ठाकुर जी महाराज ने पूतना के विषय में बताया कि पुतना कंस द्वारा भेजी गई एक राक्षसी थी और श्रीकृष्ण को स्तनपान के जरिए विष देकर मार देना चाहती थी। पुतना कृष्ण को विषपान कराने के लिए एक सुंदर स्त्री का रूप धारण कर वृंदावन में पहुंची थी। मौका पाकर पुतना ने बालकृष्ण को उठा लिया और स्तनपान कराने लगी। श्रीकृष्ण ने स्तनपान करते-करते ही पुतनाका वध कर उसका कल्याण किया।

भगवान जो भी लीला करते हैं वह अपने भक्तों के कल्याण या उनकी इच्छापूर्ति के लिए करते हैं। श्रीकृष्ण ने विचार किया कि मुझमें शुद्ध सत्त्वगुण ही रहता है, पर आगे अनेक राक्षसों का संहार करना है। अत: दुष्टों के दमन के लिए रजोगुण की आवश्यकताहै। इसलिए व्रज की रज के रूप में रजोगुण संग्रह कर रहे हैं। पृथ्वी का एक नाम ‘रसा’ है। श्रीकृष्ण ने सोचा कि सब रस तो ले चुका हूँ अब रसा (पृथ्वी) रस का आस्वादन करूँ। पृथ्वी का नाम ‘क्षमा’ भी है। माटी खाने का अर्थ क्षमा को अपनाना है। भगवान ने सोचा कि मुझे ग्वालबालों के साथ खेलना है,किन्तु वे बड़े ढीठ हैं। खेल-खेल में वे मेरे सम्मान का ध्यान भी भूल जाते हैं। कभी तो घोड़ा बनाकर मेरे ऊपर चढ़ भी जाते हैं। इसलिए क्षमा धारण करके खेलना चाहिए।

अत: श्रीकृष्ण ने क्षमारूप पृथ्वी अंश धारण किया। भगवान व्रजरज का सेवन करके यह दिखला रहे हैं कि जिन भक्तों ने मुझे अपनी सारी भावनाएं व कर्म समर्पित कर रखें हैं वे मेरे कितने प्रिय हैं। भगवान स्वयं अपने भक्तों की चरणरज मुख के द्वारा हृदय में धारण करते हैं। पृथ्वी ने गाय का रूप धारण करके श्रीकृष्ण को पुकारा तब श्रीकृष्ण पृथ्वी पर आये हैं। इसलिए वह मिट्टी में नहाते, खेलते और खाते हैं ताकि पृथ्वी का उद्धार कर सकें। अत: उसका कुछ अंश द्विजों (दांतों) को दान कर दिया। गोपबालकों ने जाकर यशोदामाता से शिकायत कर दी–’मां ! कन्हैया ने माटी खायी है।’ उन भोले-भाले ग्वालबालों को यह नहीं मालूम था कि पृथ्वी ने जब गाय का रूप धारणकर भगवान को पुकारा तब भगवान पृथ्वी के घर आये हैं। पृथ्वी माटी,मिट्टी के रूप में है अत: जिसके घर आये हैं उसकी वस्तु तो खानी ही पड़ेगी। इसलिए यदि श्रीकृष्ण ने माटी खाली तो क्या हुआ? ‘बालक माटी खायेगा तो रोगी हो जायेगा’ ऐसा सोचकर यशोदामाता हाथ में छड़ी लेकर दौड़ी आयीं। उन्होंने कान्हा का हाथ पकड़कर डाँटते हुये कहा–‘क्यों रे नटखट ! तू अब बहुत ढीठ हो गया है।

श्रीकृष्ण ने कहा–‘मैया ! मैंने माटी कहां खायी है।’ यशोदामैया ने कहा कि अकेले में खायी है। श्रीकृष्ण ने कहा कि अकेले में खायी है तो किसने देखा? यशोदामैया ने कहा–ग्वालों ने देखा। श्रीकृष्ण ने मैया से कहा–’तू इनको बड़ा सत्यवादी मानती है तो मेरा मुंह तुम्हारे सामने है। तुझे विश्वास न हो तो मेरा मुख देख ले।’‘अच्छा खोल मुख।’ माता के ऐसा कहने पर श्रीकृष्ण ने अपना मुख खोल दिया। भगवान के साथ ऐश्वर्यशक्ति सदा रहती है। उसने सोचा कि यदि हमारे स्वामी के मुंह में माटी निकल आयी तो यशोदामैया उनको मारेंगी और यदि माटी नहीं निकली तो दाऊ दादा पीटेंगे। इसलिए ऐसी कोई माया प्रकट करनी चाहिए जिससे माता व दाऊ दादा दोनों इधर-उधर हों जाएं और मैं अपने स्वामी को बीच के रास्ते से निकाल ले जाऊं। श्रीकृष्ण के मुख खोलते ही यशोदाजी ने देखा कि मुख में चर-अचर सम्पूर्ण जगत विद्यमान है। आकाश, दिशाएं, पहाड़, द्वीप,समुद्रों के सहित सारी पृथ्वी, बहने वाली वायु, वैद्युत, अग्नि, चन्द्रमा और तारों के साथ सम्पूर्ण ज्योतिर्मण्डल, जल, तेज अर्थात्प्रकृति, महतत्त्व, अहंकार, देवगण, इन्द्रियां, मन, बुद्धि, त्रिगुण, जीव, काल, कर्म, प्रारब्ध आदि तत्त्व भी मूर्त दीखने लगे। पूरा त्रिभुवन है, उसमें जम्बूद्वीप है, उसमें भारतवर्ष है, और उसमें यह ब्रज, ब्रज में नन्दबाबा का घर, घर में भी यशोदा और वह भी श्रीकृष्ण का हाथ पकड़े। बड़ा विस्मय हुआ माता को।
अब श्रीकृष्ण ने देखा कि मैया ने तो मेरा असली तत्त्व ही पहचान लिया है।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

7Jan 2018

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 7 जनवरी 2018 को कोलकाता में चतुर्थ दिवस की कथा में भक्तो को भागवत कथा का महत्व बताया।

"देश और धर्म की सेवा ही सबसे बड़ी सेवा है।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 4 से 10 जनवरी तक, सी. डी. पार्क, साल्ट लेक, कोलकाता में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के चतुर्थ दिवस पर भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

पूज्य महाराज श्री ने कथा प्रारम्भ करते हुए बताया कि वामन अवतार भगवान विष्णु के दशावतारो में पांचवा अवतार और मानव रूप में अवतार था। जिसमें भगवान विष्णु ने एक बौने के रूप में इंद्र की रक्षा के लिए धरती पर अवतार लिया। वामन अवतार की कहानी असुर राजा महाबली से प्रारम्भ होती है। महाबली प्रहलाद का पौत्र और विरोचना का पुत्र था। महाबली एक महान शासक था जिसे उसकी प्रजा बहुत स्नेह करती थी। उसके राज्य में प्रजा बहुत खुश और समृद्ध थी। उसको उसके पितामह प्रहलाद और गुरु शुक्राचार्य ने वेदों का ज्ञान दिया था। समुद्रमंथन के दौरान जब देवता अमृत ले जा रहे थे तब इंद्रदेव ने बाली को मार दिया था जिसको शुक्राचार्य ने पुनः अपन मन्त्रो से जीवित कर दिया था।

महाबली ने भगवान ब्रह्मा को प्रसन्न करने के लिए तपस्या की थी जिसके फलस्वरूप भगवान ब्रह्मा ने प्रकट होकर वरदान मांगने को कहा। बाली भगवान ब्रह्मा के आगे नतमस्तक होकर बोला “प्रभु, मै इस संसार को दिखाना चाहता हूँ कि असुर अच्छे भी होते हैं। मुझे इंद्र के बराबर शक्ति चाहिए और मुझे युद्ध में कोई पराजित ना कर सके।" भगवान ब्रह्मा ने इन शक्तियों के लिए उसे उपयुक्त मानकर बिना प्रश्न किये उसे वरदान दे दिया।

शुक्राचार्य एक अच्छे गुरु और रणनीतिकार थे जिनकी मदद से बाली ने तीनो लोकों पर विजय प्राप्त कर ली। बाली ने इंद्रदेव को पराजित कर इंद्रलोक पर कब्जा कर लिया। एक दिन गुरु शुक्राचार्य ने बाली से कहा अगर तुम सदैव के लिए तीनो लोकों के स्वामी रहना चाहते हो तो तुम्हारे जैसे राजा को अश्वमेध यज्ञ अवश्य करना चाहिए।

बाली अपने गुरु की आज्ञा मानते हुए यज्ञ की तैयारी में लग गया। बाली एक उदार राजा था जिसे सारी प्रजा पसंद करती थी। इंद्र को ऐसा महसूस होने लगा कि बाली अगर ऐसे ही प्रजापालक रहेगा तो शीघ्र सारे देवता भी बाली की तरफ हो जायेंगे।

इंद्रदेव देवमाता अदिति के पास सहायता के लिए गए और उन्हें सारी बात बताई। देवमाता ने बिष्णु भगवान से वरदान माँगा कि वे उनके पुत्र के रूप में धरती पर जन्म लेकर बाली का विनाश करें। जल्द ही अदिति और ऋषि कश्यप के यहाँ एक सुंदर बौने पुत्र ने जन्म लिया। पांच वर्ष का होते ही वामन का जनेऊ समारोह आयोजित कर उसे गुरुकुल भेज दिया।

इस दौरान महाबली ने 100 में से 99 अश्वमेध यज्ञ पुरे कर लिए थे। अंतिम अश्वमेध यज्ञ समाप्त होने ही वाला था कि तभी दरबार में दिव्य बालक वामन पहुँच गया।

महाबली ने कहा कि आज वो किसी भी व्यक्ति को कोई भी दक्षिणा दे सकता है। तभी गुरु शुक्राचार्य महाबली को महल के भीतर ले गये और उसे बताया कि ये बालक ओर कोई नहीं स्वयं भगवान विष्णु हैं वो इंद्रदेव के कहने पर यहाँ आए हैं और अगर तुमने इन्हें जो भी मांगने को कहा तो तुम सब कुछ खो दोगे।

महाबली अपनी बात पर अटल रहे और कहा मुझे वैभव खोने का भय नहीं है बल्कि अपन प्रभु को खोने का है इसलिए मै उनकी इच्छा पूरी करूंगा।

महाबली उस बालक के पास गया और स्नेह से कहा “आप अपनी इच्छा बताइये”।

उस बालक ने महाबली की और शांत स्वभाव से देखा और कहा “मुझे केवल तीन पग जमीन चाहिए जिसे मैं अपने पैरों से नाप सकूं”।

महाबली ने हँसते हुए कहा “केवल तीन पग जमीन चाहिए, मैं तुमको दूँगा।"

जैसे ही महाबली ने अपने मुँह से ये शब्द निकाले वामन का आकार धीरे धीरे बढ़ता गया। वो बालक इतना बढ़ा हो गया कि बाली केवल उसके पैरों को देख सकता था। वामन आकार में इतना बढ़ा था कि धरती को उसने अपने एक पग में माप लिया।

दुसरे पग में उस दिव्य बालक ने पूरा आकाश नाप लिया। अब उस बालक ने महाबली को बुलाया और कहा मैंने अपने दो पगों में धरती और आकाश को नाप लिया है। अब मुझे अपना तीसरा कदम रखने के लिए कोई जगह नहीं बची, तुम बताओ मैं अपना तीसरा कदम कहाँ रखूँ।

महाबली ने उस बालक से कहा “प्रभु, मैं वचन तोड़ने वालों में से नहीं हूँ आप तीसरा कदम मेरे शीश पर रखिये।"

भगवान विष्णु ने भी मुस्कुराते हुए अपना तीसरा कदम महाबली के सिर पर रख दिया। वामन के तीसरे कदम की शक्ति से महाबली पाताल लोक में चला गया। अब महाबली का तीनो लोकों से वैभव समाप्त हो गया और सदैव पाताल लोक में रह गया।

इंद्रदेव और अन्य देवताओं ने भगवान विष्णु के इस अवतार की प्रशंशा की और अपना साम्राज्य दिलाने के लिए धन्यवाद दिया।

इसके बाद पूज्य महाराज श्री ने भगवान श्री कृष्ण की लीला का सुंदर वर्णन श्रवण कराया। सभी भक्तों ने श्री कृष्ण जन्मोत्सव को बड़ी धूमधाम से मनाया।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

6Jan 2018

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 6 जनवरी 2018 को कोलकाता में तृतीय दिवस की कथा में भक्तो को भागवत कथा का महत्व बताया।

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 4 से 10 जनवरी तक, सी. डी. पार्क, साल्ट लेक, कोलकाता आयोजित श्रीमद भागवत कथा के तृतीय दिवस पर भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

महाराज जी सुन्दर भजन से भगवान की स्तुति की और कल का कथा क्रम याद कराया की जी वयक्ति को यहाँ पता चल जाये की उसकी मृत्यु सातवें दिन हो वो क्या करेगा क्या सोचेगा ? राजा परीक्षित ने यह जान कर उसी क्षण अपना महल छोड़ दिया। पर आज तो आपको यह भी नहीं मालूम की आपकी मृत्यु कब होगी , मृत्यु तो निश्चित है पर कब ये आपको नहीं पता तो आप जीवित रहते हुए अपने समय को क्यों बर्बाद करते हो। मानव जीवन सबसे श्रेष्ठ है क्योकि इसमें हमे नाम सुमिरन करने का मार्ग उपलब्ध होता है अन्य किसी योनि में नहीं मिलता। तो इस मानव जीवन का मोल पहचाने और इसको प्रभु के चरणों में सोप दे तो कल्याण निश्चित ही होगा। भगवान अपने बारे में मानव से हुई भूल को तो भुला सकते हैं लेकिन संतों को लेकर की गई भूल के दुष्परिणाम से वह भी नहीं बचाते। इसका उदाहरण है कि राजा परीक्षित ने जब संत का अपमान किया तो राजा परीक्षित को भी काल के काल में जाने के लिए छोड़ दिया।

राजा परीक्षित ने अपना सर्वस्व त्याग कर अपनी मुक्ति का मार्ग खोजने निकल पड़े गंगा के तट पर। जब राजा परीक्षित भगवान शुकदेव जी महाराज के सामने पहुंचे तो उनको राजा ने शाष्टांग प्रणाम किया। शाष्टांग प्रणाम करने से पुण्य की प्राप्ति होती है। शुकदेव जी महाराज जो सबसे बड़े वैरागी है चूड़ामणि है उनसे राजा परीक्षित जी ने प्रश्न किया कि हे गुरुदेव जो व्यक्ति सातवें दिन मरने वाला हो उस व्यक्ति को क्या करना चाहिए? किसका स्मरण करना चाहिए और किसका परित्याग करना चाहिए? कृपा कर मुझे बताइये...

अब शुकदेव जी ने मुस्कुराते हुए परीक्षित से कहा की हे राजन ये प्रश्न केवल आपके कल्याण का ही नहीं अपितु संसार के कल्याण का प्रश्न है। तो राजन जिस व्यक्ति की मृत्यु सातवें दिन है उसको श्रीमद भागवत कथा का श्रवण करना चाहिए तो उसका कल्याण निश्चित है। श्रीमद भागवत में 18000 श्लोक, 12 स्कन्द और 335 अध्याय है जो जीव सात दिन में सम्पूर्ण भागवत का श्रवण करेगा वो अवश्य ही मनोवांछित फल की प्राप्ति करता है। राजा परीक्षित ने शुकदेव जी से प्रार्थना की हे गुरुवर आप ही मुझे श्रीमद भागवत का ज्ञान प्रदान करे और मेरे कल्याण का मार्ग प्रशस्थ करे।

भगवान मानव को जन्म देने से पहले कहते हैं ऐसा कर्म करना जिससे दोबारा जन्म ना लेना पड़े। मानव मुट्ठी बंद करके यह संकल्प दोहराते हुए इस पृथ्वी पर जन्म लेता है। प्रभु भागवत कथा के माध्यम से मानव का यह संकल्प याद दिलाते रहते हैं। भागवत सुनने वालों का भगवान हमेशा कल्याण करते हैं। भागवत ने कहा है जो भगवान को प्रिय हो वही करो, हमेशा भगवान से मिलने का उद्देश्य बना लो, जो प्रभु का मार्ग हो उसे अपना लो, इस संसार में जन्म-मरण से मुक्ति भगवान की कथा ही दिला सकती है। भगवान की कथा विचार, वैराग्य, ज्ञान और हरि से मिलने का मार्ग बता देती है। राजा परीक्षित के कारण है भागवत कथा पृथ्वी के लोगो को सुनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। समाज द्वारा बनाए गए नियम गलत हो सकते हैं किंतु भगवान के नियम ना तो गलत हो सकते हैं और नहीं बदले जा सकते हैं।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

5Jan 2018

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 5 जनवरी 2018 को कोलकाता में द्वितीय दिवस की कथा में भक्तो को भागवत कथा का महत्व बताया।

"कथाएं सुनने से चित्त पिघल जाता है और पिघला चित ही भगवान को बसा सकता है।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 4 से 10 जनवरी तक, सी. डी. पार्क, साल्ट लेक, कोलकाता आयोजित श्रीमद भागवत कथा के दिव्तिय दिवस पर भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

कथा प्रारम्भ करते हुए पूज्य महाराज श्री ने कहा की श्रीमद भागवत कथा कलयुग में मोक्ष का एक सर्वश्रेठ मार्ग है। जन्मो - जन्मो के अच्छे कर्मो के फल स्वरुप हमे भागवत कथा श्रवण करने का लाभ मिलता है और जो कथा करवाता है उसके पुण्य कर्मो का तो कहना ही क्या। श्रीमद भागवत कथा सुनने के लिए भी हमें कर्म अच्छे करने होंगे तभी ये कथा सुनने का भी लाभ भी हमें मिलेगा। क्योकि आज का मानव आपने कार्य को अधिक महत्व देता है और भगवान को भूल जाता है।

"सुख में सुमरिन सब करे दुःख में करे न कोई, और जो सुख में सुमिरन करे तो दुःख काहे को होये।" आज कलयुगी मानव बस मतलब के लिए ही भगवान को याद करते है। बच्चो में संस्कार खत्म हो गए है क्योंकि हमारे घरो से रामायण, गीता महापुरुषों की वाणी खत्म ही होगई है। कलयुग में लोग अशुभ को समझ नहीं पाएंगे। ये ही सोच कर प्रभु दुखी हो रहे है तो सर्वेस्वरी राधा रानी से बोलते है की कलयुग में कोई तो जाये जो इनको मुक्ति का मार्ग बताये तो राधा जी ने बोला की ये शुक जो है ये जायेगा और कलयुग में आपकी अमर कथा का गुणगान कर जगत का कल्याण करेगा। भागवत वही अमर कथा है जो भगवान शिव ने माता पार्वती को सुनाई थी।

कथा सुनना भी सबके भाग्य में नहीं होता जब भगवान् भोलेनाथ से माता पार्वती ने उनसे अमर कथा सुनाने की प्रार्थना की तो बाबा भोलेनाथ ने कहा की जाओ पहले यह देखकर आओ की कैलाश पर तुम्हारे या मेरे अलावा और कोई तो नहीं है क्योकि यह कथा सबको नसीब में नहीं है। माता ने पूरा कैलाश देख आई पर शुक के अपरिपक्व अंडो पर उनकी नज़र नहीं पड़ी। भगवान शंकर जी ने पार्वती जी को जो अमर कथा सुनाई वह भागवत कथा ही थी। लेकिन मध्य में पार्वती जी को निद्रा आ गई। और वो कथा शुक ने पूरी सुनली। यह भी पूर्व जन्मों के पाप का प्रभाव होता है कि कथा बीच में छूट जाती है। भगवान की कथा मन से नहीं सुनने के कारण ही जीवन में पूरी तरह से धार्मिकता नहीं आ पाती है। जीवन में श्याम नहीं तो आराम नहीं। भगवान को अपना परिवार मानकर उनकी लीलाओं में रमना चाहिए। गोविंद के गीत गाए बिना शांति नहीं मिलेगी। धर्म, संत, मां-बाप और गुरु की सेवा करो। जितना भजन करोगे उतनी ही शांति मिलेगी। संतों का सानिध्य हृदय में भगवान को बसा देता है। क्योंकि कथाएं सुनने से चित्त पिघल जाता है और पिघला चित ही भगवान को बसा सकता है।

श्री शुक जी की कथा सुनाते पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने बताया कि श्री शुक जी द्वारा चुपके से अमर कथा सुन लेने के कारण जब शंकर जी ने उन्हें मारने के लिए दौड़ाया तो वह एक ब्राह्मणी के गर्भ में छुप गए। कई वर्षों बाद व्यास जी के निवेदन पर भगवान शंकर जी इस पुत्र के ज्ञानवान होने का वरदान दे कर चले गए। व्यास जी ने जब श्री शुक को बाहर आने के लिए कहा तो उन्होंने कहा कि जब तक मुझे माया से सदा मुक्त होने का आश्वासन नहीं मिलेगा। मैं नहीं आऊंगा। तब भगवान नारायण को स्वयं आकर ये कहना पड़ा की श्री शुक आप आओ आपको मेरी माया कभी नहीं लगेगी ,उन्हें आश्वासन मिला तभी वह बाहर आए।

यानि की माया का बंधन उनको नहीं चाहिए था। पर आज का मानव तो केवल माया का बंधन ही चारो ओर बांधता फिरता है। और बार बार इस माया के चक्कर में इस धरती पर अलग अलग योनियों में जन्म लेता है। तो जब आपके पास भागवत कथा जैसा सरल माध्यम दिया है जो आपको इस जनम मरण के चक्कर से मुक्त कर देगा और नारायण के धाम में सदा के लिए आपको स्थान मिलेगा

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

4Jan 2018

आज कोलकाता , पश्चिम बंगाल में कथा से पहले विशाल कलश यात्रा निकाली।

आज कोलकाता , पश्चिम बंगाल में कथा से पहले विशाल कलश यात्रा निकाली। इस भव्य कलश यात्रा में सैंकड़ों माताएं बहने कलश उठाकर कथा पंडाल पहुंची। महाराज श्री के सानिध्य में कोलकाता में 4 -10 जनवरी 2018 तक श्रीमद्भागवत कथा का आयोजन किया जा रहा है। कलश यात्रा के दौरान कोलकाता की सड़कों पर दृश्य देखने योग्य था, हर जगह माताएं-बहने कलश उठाये नजर आ रही थी। सभी कोलकाता वासियों से निवेदन है कि बढ़-चढ़ कर कथा पंडाल में आकर कथा का रसपान करें।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

4Jan 2018

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 4 जनवरी 2018 को कोलकाता में प्रथम दिवस की कथा में भक्तो को भागवत कथा का महत्व बताया।

भागवत नाम उच्चारण करने से सारे पाप नष्ट हो जाते है। अब प्रश्न ये उठता है की बात कौन गारंटी देगा तो मै आपको ये बात निश्चित रूप से कह सकता हूँ कि जो व्यक्ति ठाकुर की कथा मन लगा कर सुनता है तो उसकी मनोकामना अवश्य पूर्ण होती है। अब प्रश्न की भागवत सुनने से क्या मिलता है ? तो मेरे प्यारे भागवत एक कल्प वृक्ष है इससे जो मांगों वो मिलेगा पर शर्त यह है की भागवत में सच्ची श्रद्धा और विश्वास रखे तो निर्धन को धन , रोगी को निरोगी काया ,निसंतान को संतान सब कुछ ठाकुर देता है।

" सत्यं परम धीमहि " यानि भागवत ही परम सत्य है क्योकि सत्य कभी भी नहीं बदलता वो कल भी था , आज भी है और कल भी रहेगा। सत्य कभी खंडित नहीं होता तीनो काल में रहता है तो यह कथा भी सत्य की कथा है इसके प्रारम्भ सत्य , मध्य में सत्य और अंत भी सत्य है तो इसको सुनने से सत्य का ज्ञान हो जाता है। जो भी भागवत की शरण में आएगा उस की मुक्ति निश्चित है। भगवान को जानने की इच्छा ही भागवत है। इसलिए भगवान को जानने और उनसे संबंध बनाने की कोशिश जरुर करना। क्योंकि दुनिया के सारे संबंध भले साथ छोड़ देंगे। लेकिन भगवान तुम्हारा साथ कभी नहीं छोडेंगे।

प्रारम्भ में यह की भागवत का महात्यम क्या है ? एक बात सनकादिक ऋषि और सूद जी महाराज विराजमान थे तो उन्होंने ये प्रश्न किया की कलियुग के लोगो का कल्याण कैसे होगा ? आप देखिये किसी भी पुराण में किसी और युग के लोगो की चिंता नहीं की पर कलयुग के लोगो के कल्याण की चिंता हर पुराण और वेद में की गई कारण क्या है क्योकि कलयुग का प्राणी अपने कल्याण के मार्ग को भूल कर केवल अपने मन की ही करता है जो उसके मन को भाये वह बस वही कार्य करता है। और फिर कलियुग के मानव की आयु कम है और शास्त्र ज्यादा है तो फिर एक कल्याण का मार्ग बताया भागवत कथा। श्रीमद भागवत कथा सुनने मात्र से ही जीव का कल्याण हो जाता है महाराज श्री ने कहा कि व्यास जी ने जब इस भगवत प्राप्ति का ग्रंथ लिखा, तब भागवत नाम दिया गया। बाद में इसे श्रीमद् भागवत नाम दिया गया। इस श्रीमद् शब्द के पीछे एक बड़ा मर्म छुपा हुआ है श्री यानी जब धन का अहंकार हो जाए तो भागवत सुन लो, अहंकार दूर हो जाएगा। इस सांसारिक जीवन में जो कुछ भी प्राप्त किये हो सब किराए के मकान की तरह है। खाली करना ही पड़ेगा।

व्यक्ति इस संसार से केवल अपना कर्म लेकर जाता है। इसलिए अच्छे कर्म करो। भाग्य, भक्ति, वैराग्य और मुक्ति पाने के लिए भागवत की कथा सुनो। केवल सुनो ही नहीं बल्कि भागवत की मानों भी। सच्चा हिन्दू वही है जो कृष्ण की सुने और उसको माने , गीता की सुनो और उसकी मानों भी , माँ - बाप, गुरु की सुनो तो उनकी मानो भी तो आपके कर्म श्रेष्ठ होंगे और जब कर्म श्रेष्ठ होंगे तो आप को संसार की कोई भी वस्तु कभी दुखी नहीं कर पायेगी। और जब आप को संसार की किसी बात का फर्क पड़ना बंद हो जायेगा तो निश्चित ही आप वैराग्य की और अग्रसर हो जायेगे और तब ईश्वर को पाना सरल हो जायेगा। .

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

4Jan 2018

आज पूज्य महाराज श्री ने कोलकाता काली मंदिर में किये दर्शन।

आज पूज्य महाराज श्री कोलकाता पहुंचे वहां पहुंचते ही महाराज श्री ने सर्व प्रथम माँ काली के मंदिर जाकर माँ भगवती के चरणों में पूजा अर्चना कर उनसे आशीर्वाद प्राप्त किया और विशाल श्रीमद भागवत कथा का आयोजन सफल होने की प्रार्थना की। इसके बाद महाराज श्री ने कोलकाता में निज निवास की ओर प्रस्थान किया।

|| राधे राधे बोलना पड़ेगा ||

3Jan 2018

पुणे में पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में पाश्चात्य नव वर्ष का कार्यक्रम आयोजित किया गया।

पुणे में पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में पाश्चात्य नव वर्ष का कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें हजारों की संख्या में भक्तों ने भगवान श्री राम की आरती दीपक एवं अपने मोबाइल की लाइट से कर नव वर्ष की शुरुआत की। इस महा आरती में भक्तों ने भगवान श्री राम से प्रार्थना भी की इस वर्ष अयोध्या में भगवान श्री राम का मंदिर बन जाये। इसके बाद महाराज श्री के भजनों पर भक्त झूम उठे।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

3Jan 2018

आज पूज्य महाराज श्री का कोलकाता एयरपोर्ट पर हुआ भव्य स्वागत।

आज पूज्य महाराज श्री का कोलकाता एयरपोर्ट पर विश्व शांति सेवा समिति कोलकाता एवं विश्व शांति सेवा चैरिटेबल ट्रस्ट के सदस्यों और भक्तों ने स्वागत किया।
इस अवसर पर भारी संख्या में भक्त एयरपोर्ट पर पहुंचे। पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 4-10 जनवरी 2018 तक कथा का आयोजन किया गया है। सभी कोलकातावासी कथा में ज़्यादा से ज्यादा संख्या में आकर कथा का रसपान करें।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

31Dec 2017

आज पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में युवा शांति संदेश का आयोजन किया गया।

आज पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में युवा शांति संदेश का आयोजन किया गया। युवाओं ने भगवान की भक्ति और धर्म से संबंधित अनेक सवाल किया जिनका एक-एक करके महाराज श्री ने जवाब देकर उनकी शंकाओं का समाधान किया। क्या है वो सभी सवाल जानने के लिए देखिये वीडियो। वीडियो देखने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

31Dec 2017

कल पूज्य महाराज श्री ने सेंट्रल जेल, पुणे में मौजूद कैदियों को आशीर्वचन दिए।

कल पूज्य महाराज श्री ने सेंट्रल जेल, पुणे में मौजूद कैदियों को आशीर्वचन दिए। महाराज श्री ने कहा कि कई बार आदमी बुरी संगत में या आवेश में आकर गलत काम कर देता है और उसकी सजा पाता है लेकिन आप यह कतई ना मान ले कि आपका जीवन समाप्त हो गया है जो आप सजा काट रहे है वह आपके द्वारा किये गए कर्मो का प्राश्चित है। इसके बाद आप पुनः अपने जीवन को सदमार्ग में लगा कर अपने जीवन के उद्देश्य को पूर्ण करो।

महाराज श्री ने आगे कहा कि आप सो सजा पा रहे है वह मात्र आपके लिए नहीं है आपके सगी-सम्बन्धी भी उसी सजा को भोग रहे है क्योंकि कोई अपने पिता से दूर है कोई अपने पति से, तो कोई अपने पुत्र से, इसीलिए जब भी आप सज़ा समाप्त करके जाए तो अपने जीवन को प्रभु की भक्ति और सद्कर्म में ही लगाएं।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

30Dec 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 24 से 31 दिसंबर आयोजित श्रीमद भागवत कथा के सप्तम दिवस कथा का रसपान करें।

"देश और धर्म की सेवा ही सबसे बड़ी सेवा है।"

सप्तम दिवस की भागवत श्रवण कराते हुए धर्मरत्न शांतिदूत पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने कहा कि मानव कितना भी धन क्यों न इक्कठा कर ले, लेकिन वह धन हमारी आख़री सांस तक हमारा साथ नहीं दे सकता, हमारे परिजन भी हमें शमशान तक ही छोड़के आते है, यहां तक की हमारा शरीर भी सिर्फ हमारी चिता तक ही साथ रहता है लेकिन अगर कुछ हमारा साथ देता है तो वो है हमारा धर्म। ऐसा सिर्फ महाराज जी ही नहीं कहते है बल्कि हमारे ऋषि मुनिओं ने भी ऐसा ही कहा और लिखा है।

महाराज श्री ने आगे कहा कि पुराणों की कथा के अनुसार भगवान श्री कृष्ण ने कार्तिक कृष्ण चतुर्दशी तिथि को नरकासुर नाम के असुर का वध किया। नरकासुर ने 16 हज़ार 100 कन्याओं को बंदी बना रखा था। नरकासुर का वध करके श्री कृष्ण ने कन्याओं को बंधन मुक्त करवाया। इन कन्याओं ने श्री कृष्ण से कहा की समाज उन्हें स्वीकार नहीं करेगा अतः आप ही कोई उपाय करें। समाज में इन कन्याओं को सम्मान दिलाने के लिए सत्यभामा के सहयोग से श्री कृष्ण ने इन सभी कन्याओं से विवाह कर लिया। इस कारण भगवान ने १६१०० रूप बनाकर सबके साथ एक मुहूर्त में एक साथ विवाह किया था। कुछ मूर्ख लोग कहते हैं कि भगवान कृष्ण ने इतने विवाह किये। भगवान ने कामनावश विवाह नहीं किया था, करुणावश किया था। भगवान कहते हैं जिसको कोई नहीं अपनाता अगर वो मेरी शरण में आये तो मैं उसे अपना लेता हूँ।

भगवान श्री कृष्ण ने कामदेव पर विजय प्राप्त की है। उनके संकल्प मात्र से उनके पुत्रों की गिनती एक लाख इकसठ हजार अस्सी थी। भगवान श्री कृष्ण ने आजीवन ब्रह्मचर्य का पालन किया। भगवान अपने मुकुट पर मोर पंख इसीलिए लगाते हैं क्योंकि मोर एकमात्र ऐसा प्राणी है जो सम्पूर्ण जीवन में ब्रह्मचर्य का पालन करता है। मोरनी का गर्भ भी मोर के आंसुओ को पीकर ही धारण होता है। इत: इतने पवित्र पक्षी के पंख भगवान खुद अपने सर पर सजाते है।

भगवान कृष्ण मित्र और शत्रु के लिए समान भावना रखते है इसके पीछे भी मोरपंख का उद्दारण देखकर हम यह कह सकते है। कृष्ण के भाई थे शेषनाग के अवतार बलराम और नागो के दुश्मन होते है मोर। अत: मोरपंख सर पर लगाके कृष्ण का यह सभी को सन्देश है की वो सबके लिए समभाव रखते है। मोरपंख में सभी रंग है गहरे भी और हलके भी। कृष्णा अपने भक्तो को ऐसे रंगों को देखकर यही सन्देश देते है जीवन ही इस तरह सभी रंगों से भरा हुआ है कभी चमकीले रंग तो कभी हलके रंग, कभी सुखी जीवन तो कभी दुखी जीवन।

पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने कथा बढ़ाते हुए कहा कि श्री कृष्ण और सुदामा की मित्रता की कथा श्रोताओं के श्रवण कराई। सुदामा एक गरीब ब्राह्मण था। वह और उसका परिवार अत्यंत गरीबी तथा दुर्दशा का जीवन व्यतीत कर रहा था। कई-कई दिनों तक उसे बहुत थोड़ा खाकर ही गुजारा करना पड़ता था। कई बार तो उसे भूखे पेट भी सोना पड़ता था। सुदामा अपने तथा अपने परिवार की दुर्दशा के लिए स्वयं को दोषी मानता था। उसके मन में कई बार आत्महत्या करने का भी विचार आया। दुखी मन से वह कई बार अपनी पत्नी से भी अपने विचार व्यक्त किया करता था। उसकी पत्नी उसे दिलासा देती रहती थी। उसने सुदामा को एक बार अपने परम मित्र श्रीकृष्ण, जो उस समय द्वारका के राजा हुआ करते थे, की याद दिलाई। बचपन में सुदामा तथा श्रीकृष्ण एक साथ रहते थे तथा सांदीपन मुनि के आश्रम में दोनों ने एक साथ शिक्षा ग्रहण की थी।

सुदामा की पत्नी ने सुदामा को उनके पास जाने का आग्रह किया और कहा, “श्रीकृष्ण बहुत दयावान हैं, इसलिए वे हमारी सहायता अवश्य करेंगे।’ सुदामा ने संकोच-भरे स्वर में कहा, “श्रीकृष्ण एक पराक्रमी राजा हैं और मैं एक गरीब ब्राह्मण हूं। मैं कैसे उनके पास जाकर सहायता मांग सकता हूं ?’ उसकी पत्नी ने तुरंत उत्तर दिया, “तो क्या हुआ ? मित्रता में किसी प्रकार का भेद-भाव नहीं होता। आप उनसे अवश्य सहायता मांगें। मुझसे बच्चों की भूख-प्यास नहीं देखी जाती।’ अंततः सुदामा श्रीकृष्ण के पास जाने को राजी हो गया। उसकी पत्नी पड़ोसियों से थोड़े-से चावल मांगकर ले आई तथा सुदामा को वे चावल अपने मित्र को भेंट करने के लिए दे दिए। सुदामा द्वारका के लिए रवाना हो गया।

महल के द्वार पर पहुंचने पर वहां के पहरेदार ने सुदामा को महल के अंदर जाने से रोक दिया। सुदामा ने कहा कि वह वहां के राजा श्रीकृष्ण का बचपन का मित्र है तथा वह उनके दर्शन किए बिना वहां से नहीं जाएगा।

श्रीकृष्ण के कानों तक भी यह बात पहुंची। उन्होंने जैसे ही सुदामा का नाम सुना, उनकी खुशी का ठिकाना न रहा। वे नंगे पांव ही सुदामा से भेंट करने के लिए दौड़ पड़े। दोनों ने एक-दूसरे को गले से लगा लिया तथा दोनों के नेत्रों से खुशी के आंसू निकल पड़े। श्रीकृष्ण सुदामा को आदर-सत्कार के साथ महल के अंदर ले गए। उन्होंने स्वयं सुदामा के मैले पैरों को धोया। उन्हें अपने ही सिंहासन पर बैठाया। श्रीकृष्ण की पत्नियां भी उन दोनों के आदर-सत्कार में लगी रहीं। दोनों मित्रों ने एक साथ भोजन किया तथा आश्रम में बिताए अपने बचपन के दिनों को याद किया।

भोजन करते समय जब श्रीकृष्ण ने सुदामा से अपने लिए लाए गए उपहार के बारे में पूछा तो सुदामा लज्जित हो गया तथा अपनी मैली-सी पोटली में रखे चावलों को निकालने में संकोच करने लगा। परंतु श्रीकृष्ण ने वह पोटली सुदामा के हाथों से छीन ली तथा उन चावलों को बड़े चाव से खाने लगे।

भोजन के उपरांत श्रीकृष्ण ने सुदामा को अपने ही मुलायम बिस्तर पर सुलाया तथा खुद वहां बैठकर सुदामा के पैर तब तक दबाते रहे जब तक कि उसे नींद नहीं आ गई।

कुछ दिन वहीं ठहर कर सुदामा ने कृष्ण से विदा होने की आज्ञा ली। श्रीकृष्ण ने अपने परिवारजनों के साथ सुदामा को प्रेममय विदाई दी।

इस दौरान सुदामा अपने मित्र को द्वारका आने का सही कारण न बता सका तथा वह बिना अपनी समस्या निवारण के ही वापस अपने घर को लौट गया। उसे समझ नहीं आ रहा था कि वह अपनी पत्नी तथा बच्चों को क्या जवाब देगा, जो उसका बड़ी ही बेसब्री से इंतज़ार कर रहे थे। सुदामा के सामने अपने परिवारीजनों के उदास चेहरे बार-बार आ रहे थे।

परंतु इस बीच श्रीकृष्ण अपना कर्तव्य पूरा कर चुके थे। सुदामा की टूटी झोंपड़ी एक सुंदर एवं विशाल महल में बदल गई थी।

उसकी पत्नी तथा बच्चे सुंदर वस्त्र तथा आभूषण धारण किए हुए उसके स्वागत के लिए खड़े थे। श्रीकृष्ण की कृपा से ही वे धनवान बन गए थे। सुदामा को श्रीकृष्ण से किसी प्रकार की सहायता न ले पाने का मलाल भी नहीं रहा। वास्तव में श्रीकृष्ण सुदामा के एक सच्चे मित्र साबित हुए थे, जिन्होंने गरीब सुदामा की बुरे वक्त में सहायता की।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

29Dec 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 24 से 31 दिसंबर आयोजित श्रीमद भागवत कथा के षष्टम दिवस कथा का रसपान करें।

"आध्यात्मिक सफलता" तब है जब आप ईश्वर को प्राप्त कर ले।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 24 से 31 दिसंबर तक, भेलपूरी चौक, महापौर निवास मैदान निगड़ी प्राधिकरण, पुणे, महाराष्ट्र में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के षष्टम दिवस पर भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

महाराज श्री ने कथा प्रारम्भ करते हुए कहा कि आज का मानव एक सफल जीवन चाहता है , सफलता फिर उसको चाहे किसी को मार कर भी मिले तो भी उसको कोई फर्क नहीं पड़ता। आपकी नज़र में सफलता क्या है ? रुपया - पैसा, घर - बंगला , गाड़ी , बच्चो की नौकरी , समाज में एक रुतवा क्या यह सफलता है नहीं आज मैं बताता हूँ की मेरी नज़र में सफलता किसको कहते है। जब आप ४ वर्ष के होते हो तो अपने वस्त्रो को गीला न करना आपकी इस उम्र की सफलता है , जब आपकी उम्र ८ वर्ष के हो और अपने घर का मार्ग नहीं भूलते तो ये आपकी इस उम्र की सफलता है , १२ वर्ष की सफलता अच्छे रिश्तों को बनाना सीख जाना , १८ वर्ष के जा आप हो तो मदिरा या अन्य व्यसनों से दूर रहना इस उम्र की सफलता कही जाती है ,, २५ वर्ष अच्छी नौकरी का पाना , ३० वर्ष में आपके पारिवारिक वयक्तित्व का निखर के आना , ३५ वर्ष में धन बचने की स्थिति , ४५ वर्ष में युवापन बरकरार रखना , ५५ वर्ष में जिम्मेदारी को पूरा कर लेना , ६५ वर्ष में शरीर का निरोगी होना , ७० वर्ष में आत्मनिर्भर होना आपने कार्य स्वयं करना , ७५ वर्ष में भी पुराने लोग से मिलते रहना , ८० वर्ष में पुनः अपने घर का मार्ग न भूलना, ८५ वर्ष में पुनः अपने वस्त्रों को गीला न करना इस वर्ष की सफलता है , और ९० से तब तक जब तक इस धरती से जाने से पहले अपने प्रियतम का दीदार करले तो वो अपने जीवन का असली उदेश्य को प्राप्त कर लेता है वो ही सफलता है।

आध्यात्मिक सफलता तब है जब आप ईश्वर को प्राप्त कर ले। जिस प्रकार सूर्य एक दिन में तीन दशा को प्राप्त होता है, सूर्य उदय के समय सूर्य कितना सुन्दर लगता है , दोपहर में सूर्य अपने पूरे तेज़ पर होता तो लोग घरो में छुप जाते है , तथा तीसरी स्थिति सूर्य का अस्त होना। उसी प्रकार मानव भी तीन दशा को प्राप्त होता है ,सूर्योदय के सामान हमारा बचपन, सूर्य की मध्य स्थिति जैसी मानव की जवानी जब वो पूरे जोश और अपने सफलता के चरम पर होता है और सूर्यास्त जैसा हमारा बुढ़ापा है जो धीरे - धीरे मृत्यु की ओर जाता है। तो हमे सम्पूर्ण जीवन ठाकुर का ध्यान करना चाहिए जिससे मेरा गोविन्द स्वयं आपकी बांह पकड़ कर अपने धाम ले जाएगा।

इस जीवन की कीमत केवल एक साधक ही जान सकता है क्योंकि यह मानव जीवन अनमोल है और इसको कुसंगति से बर्बाद नहीं करना चाहिए। इस चौरासी लाख योनियों में मानव जीवन को सर्वश्रेष्ठ माना गया है क्योंकि इसमें हमें प्रभु का नाम सुमिरन करने का सत्संग करने का अवसर प्राप्त होता है। राम नाम सुमिरन से मानव जीवन का कल्याण हो जाता है।

तो प्यारे इस अनमोल मानव जीवन को व्यर्थ न जाने दो, सत्संग करो, गोविन्द की साधना करो, मेरे गोविन्द जरूर कृपा करेंगे, क्योंकि वो कभी अपने भक्तो से दूर नहीं होता। वो तो हर वक़्त आपके साथ है और असीम कृपा बरसाता हैं।

।। राधे - राधे बोलना पड़ेगा ।।

28Dec 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 24 से 31 दिसंबर आयोजित श्रीमद भागवत कथा के पंचम दिवस कथा का रसपान करें।

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 24 से 31 दिसंबर तक, भेलपूरी चौक, महापौर निवास मैदान निगड़ी प्राधिकरण, पुणे, महाराष्ट्र में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के पंचम दिवस पर विश्व शांति के लिए प्रार्थना की और प्रथम में एक भजन के साथ राधा रानी की स्तुति की।

महाराज जी ने कहा की आज का मानव यह कहता है कि महाराज ठाकुर की पूजा में मन क्यों नहीं लगता ? तो मानव ने सारी अच्छी आदातो का त्याग कर दिया है। मन कहा से लगेगा , यहाँ तक की मीठा बोलना भी छोड़ दिया है। आज लोग अपने से बड़ो की बात तक सुनने को राजी नहीं होते। बच्चे अपने बड़ो को जबाब देना सीख रहे है। कारन क्या है इसका पता लगाना आपको जानना आवश्यक है. कारन है हमारा खान - पान कहते है न जैसा खाया अन्न वैसा बनेगा मन। आज कल लोग पता नहीं क्या क्या खाना सीख गए है शाकाहार को छोड़ कर पशु की तरह मांसाहार का भक्षण करने लगे है तो वैसे ही हिंसक पशु प्रवृति मानव के अंदर आगयी है। क्रोध , काम , लोभ , मोह ने बुरी तरह से मानव को जकड़ रखा है , परिवार को परिवार न समझना ,किसी के लिए दया का भाव न होना , अपने ही अहंकार में चूर तो फिर बताओ ठाकुर कैसे मिलेगा। राम जी चौदह वर्ष तक वन में रहे जहाँ खाने को कुछ भी नहीं था पर प्रभु ने सबरी को झूठे बेर खाये पर अखाद्य वस्तुओ को नहीं छुआ। और वही रावण ब्राह्मण हो कर मांस - शराब जैसे वस्तुओ का सेवन कर अपना कुल बर्वाद कर गया बंदरो की सेना ने लंका का सर्वनाश कर दिया।

आप सभी को मेरा निवेदन है मांसाहार का त्याग करे क्योकि उसमे उस जीव की तड़प है , उसके परिवार की आहे है ऐसा खाद्य खाने कभी आप का मन ठाकुर की पूजा मन कैसे लगेगा। क्योकि ठाकुर की संतान तो वो जीव भी है जिसको आप खा रहे हो तो वो आपकी पूजा कैसे स्वीकार कर सकता है। जिन लोगो ने भले कर्म होते हैं सिर्फ उन्ही लोगो को भागवत कथा में मन लगता हैं बाकि जिन लोगो के कर्म भले नहीं होते उनका कथा में मन लगना तो बहुत दूर की बात हैं।

आगे कथा क्रम को बढ़ाते हुए महाराज जी ने बताया कि जब पूतना भगवान के जन्म के ६ दिन बाद प्रभु को मारने के लिए अपने स्तनों पर कालकूट विष लगा कर आई तो मेरे कन्हैया ने अपनी आँखे बंद कर ली, कारण क्या था? क्योकि जब एक बार मेरे ठाकुर की शरण में आ जाता है तो उसका उद्धार निश्चित है। परन्तु मेरे ठाकुर को दिखावा, छलावा पसंद नहीं। आप जैसे हो वैसे आओ रावण भी भगवान श्री राम के सामने आया परन्तु छल से नहीं शत्रु बन कर, कंस भी सामने शत्रु बन आया पर भगवान ने उनका उद्दार किया। लेकिन जब पूतना और शूपर्णखा आई तो प्रभु ने आखे फेर ली क्योंकि वो मित्र के वेश रख कर शत्रुता निभाने आई थी।
आज के युग में भी तो यही हो रहा है हम दिखते कुछ है और होता कुछ है। इसलिए आज प्रभु को पाने में कठिनाई है तुम जैसे हो लालची हो तो वैसे ही जाओ, कामी हो तो वैसे ही, पापी हो तो भी मेरा ठाकुर तुमको अपना लेगा। क्योंकि हो तो आखिर तुम उसके ही। रोज बोलो ठाकुर से जो हूँ जैसा हूँ तुम्हारा ही हूँ वो कब तक नज़र बचाएगा। मेरा ठाकुर इतना दयालु है तार ही देगा। जैसे माँ को बालक जैसा भी हो प्यारा लगता है वैसे तुम जैसे हो वैसे ही मेरे ठाकुर के हो जाओ तो वो तुमको अपना प्यारा बना ही लेगा।

श्रीमद भागवत कथा हमें भगवान से मिलने का पात्र बनाती हैं जंहा लोग एक साथ घर वालो के साथ एक साथ नहीं बैठते वही आज भागवत कथा के कारण हज़ारों लाखों भक्त एक साथ बैठकर ठाकुर जी का भजन कर रहे हैं तो ये कृपा ठाकुर जी की हैं।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

27Dec 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 24 से 31 दिसंबर आयोजित श्रीमद भागवत कथा के चतुर्थ दिवस कथा का रसपान करें।

"भगवान से रिश्ता जोड़" सांसारिक उत्सव भले छूट जाएं, लेकिन भगवान का कोई उत्सव छूटना नहीं चाहिए"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 24 से 31 दिसंबर तक, भेलपूरी चौक, महापौर निवास मैदान निगड़ी प्राधिकरण, पुणे, महाराष्ट्र में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के चतुर्थ दिवस पर विश्व शांति के लिए प्रार्थना की और प्रथम में एक भजन के साथ राधा रानी की स्तुति की।

" मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे,
मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे | "

महाराज जी न्र बताया कि भागवत में एक सुन्दर भाव छुपा हुआ है वो है जीव का कल्याण। कभी अपने मन में संशय न आने दे क्योकि संशय से आप का मनोबल कमजोर हो जाता है। और जब जीवन में संशय आये तो सत्संग में जरूर आये क्योकि जब आप अपने मन में कोई संशय लेकर भागवत कथा में आते है तो निश्चित ही भागवत आपके संशय का निवारण अवश्य करती है। ये जीवन बहुत अनमोल है पर आज का मानव ये संशय करके उसको बर्बाद कर रहा है। मानव आज तो विज्ञानं पर भरोसा करता है पर वो तो हमारे पुराणों में विश्वास नहीं करता। एक एक साँस अनमोल है उसको व्यर्थ न जाने दे।

श्रीमद् भागवत कथा में राजा बलि की कथा श्रवण कराते हुए पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने कहा कि जब राजा बलि ने भगवान वामन को तीन पग का दान दे दिया। तब भगवान ने दो पग में ही सब कुछ नाप लिया। फिर भगवान ने राजा बलि की ओर देखा तो राजा बलि ने कहा, "प्रभु तीसरे पग में आप मुझे नाप लीजिए मेरा संकल्प पूरा हो जाएगा"। भगवान अति प्रसन्न हुए और बोले वरदान मांगो। प्रभु की बात सुनकर राजा बलि की पत्नी ने कहा प्रभु यह सब तो आप ही का था राजा भ्रम में इसे अपना समझ बैठे थे। अच्छा किया आज आपने यह भ्रम तोड़ दिया। भगवान वामन ने राजा बलि को न केवल उनको राज्य दिया बल्कि उनका पहरेदार बनना भी स्वीकार कर लिया।

भक्तों भगवान भक्तों की मर्यादा के आगे अपनी मर्यादा का ख्याल नहीं करते। महाराज श्री ने कथा को आगे बढ़ाते हुए कहा कि नारायण के ना आने पर लक्ष्मी जी बेचैन हो गई और सच्चाई पता चलने पर प्रभु को पुनः वापस लाने के जतन में लग गई। लक्ष्मी जी राजा बलि के मार्ग पर बैठ कर रोने लगी। जब राजा बलि ने कारण पूछा तो उन्होंने बताया कि रक्षाबंधन आ रहा है और मेरा कोई भाई नहीं है। यह बात सुनकर राजा बलि ने उन से राखी बंधवाई और जब बदले में राजा बलि ने कुछ मांगने की बात कही तो लक्ष्मी जी ने उनसे उनके पहरेदार की मांग कर ली। मेरे प्यारे भक्तों दानवीर हो तो राजाबलि जैसा लक्ष्मीपति को त्रिलोक दे दिया और लक्ष्मी को त्रिलोकीनाथ दे दिया।

महाराज श्री ने भगवान के नाम की महिमा बताते हुए कहा कि जब कोई काम नहीं आता तब गोविंद याद आते हैं। गजराज का पैर जब मगर में पकड़ रखा था तब उनके सभी संबंधी उसे छोड़ कर चले गए। गजराज की केवल थोड़ी सी तू ही पानी के ऊपर थी अंत समय में गजराज ने नारायण को पुकारा गजराज केवल गो कहा भगवान प्रकट हो गए और जब तक गोविंद नाम पूरा हुआ भगवान ने सुदर्शन चक्र से ग्राह का वध कर दिया। याद रखना भगवान से संबंध बनाए बिना कोई काम नहीं बनेगा भगवान से रिश्ता जोड़ सांसारिक उत्सव भले छूट जाएं लेकिन भगवान का कोई उत्सव छूटना नहीं चाहिए।

" राधे राधे बोलना ही पड़ेगा "

26Dec 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 24 से 31 दिसंबर आयोजित श्रीमद भागवत कथा के तृतीय दिवस कथा का रसपान करें।

"तन की सुंदरता पर दुनिया मोहित होती है और मन की सुंदरता पर मोहन मोहित होते हैं।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 24 से 31 दिसंबर तक, भेलपूरी चौक, महापौर निवास मैदान निगड़ी प्राधिकरण, पुणे, महाराष्ट्र में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के तृतीय दिवस पर भगवान श्री वामन की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

धर्म रत्न शांतिदूत पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने कथा प्रारम्भ करते हुए कहा कि जिसके मुख से भगवत नाम का उच्चारण होता है, उनको किसी अन्य चीज़ की आवश्यकता नहीं है। जो हमारे संतों ने हमे दिया है वो आजकल के लोगो को समझ नहीं आती। क्योकि अज्ञान का पर्दा है जवानी का जोश है लेकिन एक बात बताइये बच्चा कितना भी बड़ा हो जाये पर उसको उतना ज्ञान नहीं हो सकता जितना की उनके माता - पिता को है कारण क्या है की उनको बच्चो से ज्यादा अनुभव है। वही तो हमारे संतो ने किया हज़ारों सालो का अनुभव ही उन्होंने लिखा है जो हमे इस जीवन को जीने का सही तरीका बताते है, भगवन नाम की महिमा का गुणगान सिखाते है, कल्याण का मार्ग बताते है। संत कहते है कि जिनके मन में ईश्वर का नाम है उनको और किसी कार्य की आवश्यकता नहीं, जिसने गंगा में स्नान किया तो उसको दूसरे किसी स्नान की आवश्यकता नहीं , जिसने वृन्दावन धाम किया उसे और कोई धाम जाने की आवश्यकता नहीं और जिसने कृष्ण का नाम न लिया हो तो वो मानव ही नहीं।

भगवान के सामने, गुरु के सामने हमे हमेशा शाष्टांग प्रणाम करना चाहिए। जब राजा परीक्षित भगवान शुकदेव जी महाराज के सामने पहुंचे तो उनको राजा ने शाष्टांग प्रणाम किया। शाष्टांग प्रणाम करने से पुण्य की प्राप्ति होती है। शुकदेव जी महाराज जो सबसे बड़े वैरागी है चूड़ामणि है उनसे राजा परीक्षित जी ने प्रश्न किया कि हे गुरुदेव जो व्यक्ति सातवें दिन मरने वाला हो उस व्यक्ति को क्या करना चाहिए? किसका स्मरण करना चाहिए और किसका परित्याग करना चाहिए? कृपा कर मुझे बताइये...

इस बात से एक प्रसंग याद आ रहा है की जब यक्ष ने धर्मराज से प्रश्न किया तो उनमें से एक प्रश्न यह भी था की संसार का सबसे बड़ा आश्चर्य क्या है? तो धर्मराज ने उत्तर दिया की लोग अपने ही हाथो अपने ही लोगो को शमशान में अंतिम विदाई देकर आते है अपने ही हाथो जला कर आते है फिर भी लौट कर ऐसे जीते है की उनको कभी नहीं मरना। ये ही सबसे बड़ा आश्चर्य है की हम संसार में इस अटल सत्य को भूल जाते है की हमको एक न एक दिन मरना अवश्य पड़ेगा। तो हम क्यों सत्कर्म नहीं करते की हमारा ये मानव जन्म सुधरे, क्यों हम दुसरो की बुराई करते है? अनावश्यक पाप कर्मो को करते है। ये अज्ञानता के वशीभूत होकर सत्य को भुला देते है। यही संसार का सबसे बड़ा आश्चर्य है.

अब शुकदेव जी ने मुस्कुराते हुए परीक्षित से कहा की हे राजन ये प्रश्न केवल आपके कल्याण का ही नहीं अपितु संसार के कल्याण का प्रश्न है। तो राजन जिस व्यक्ति की मृत्यु सातवें दिन है उसको श्रीमद भागवत कथा का श्रवण करना चाहिए तो उसका कल्याण निश्चित है। श्रीमद भागवत में 18000 श्लोक, 12 स्कन्द और 335 अध्याय है जो जीव सात दिन में सम्पूर्ण भागवत का श्रवण करेगा वो अवश्य ही मनोवांछित फल की प्राप्ति करता है। राजा परीक्षित ने शुकदेव जी से प्रार्थना की हे गुरुवर आप ही मुझे श्रीमद भागवत का ज्ञान प्रदान करे और मेरे कल्याण का मार्ग प्रशस्थ करे।

भगवान को मनाने की कोशिश करते रहना चाहिए क्योंकि मानव जीवन द्वार है परमात्मा मिलन का, सतकर्म का और मोक्ष प्राप्ति का।जितना जतन अपने तन को सजाने में करते हो, उसका थोड़ा भी यदि मन को सजाने में लगा दो तो परिणाम देखना। तन की सुंदरता पर दुनिया मोहित होती है और मन की सुंदरता पर मोहन मोहित होते हैं। अपने अपमान करने वालों को भी सम्मान देने वाला ही सुंदर मन वाला होता है।

ठाकुर जी महाराज ने कहा की देवहुति ने कपिल मुनि से पूछा पुत्र मैनें सुना है की तुम साक्षात् भगवान के अवतार हो और मेरा ये सौभाग्य है की तुमने मेरे यहाँ जन्म लिया और मैनें तुम्हें अपना दूध पिलाया। कपिल जी महाराज ने कहा की माँ आपने सही सुना है। देवहुति बोली पुत्र मुझे कृपा कर बताइए की मानव जीवन का लक्ष्य क्या है। मानव जीवन मिल जाने के बाद जीव को जीवन भर क्या करना चाहिए। किस पर विश्वास करना चाहिए और किस पर विश्वास नहीं करना चाहिए। कपिल महाराज बोले माँ मानव जीवन मिलने के बाद जीव को जीवन पर्यन्त भगवान को मनाने की कोशिश करते रहना चाहिए। क्योंकि मानव जीवन द्वार है परमात्मा मिलन का ,सतकर्म का और मोक्ष प्राप्ति का। जानती हो माँ बच्चा जब माँ के गर्भ में होता है तो मास का एक लोथड़ा होता है धीरे धीरे उस में से अंग बनाना शुरू होता है।

इस पर ऊपरी त्वचा नहीं होती और माँ जो भी खाती है वो सीधा बच्चे को जाकर चुभता है और जो बच्चे इस चुभन को नहीं सह पाते उनकी गर्भ में ही मृत्यु हो जाती है। माँ के गर्भ में बच्चे का स्थान मल- मूत्र के पास होता है। बच्चा इस पीड़ा को सह नहीं पाता वह चिल्लाता है भगवान मुझे बचाओ मुझे यहाँ से बाहर निकालो तब प्रभु कहते हैं की मैं तम्हे यहाँ से बहार निकाल दूँगा लेकिन तुम्हे एक वादा करना होगा की जन्म लेने के बाद तुम्हे अपने धर्म को आगे बढ़ना होगा। धर्म का प्रचार करना होगा। लेकिन बच्चा जन्म लेने के बाद प्रभु से किया हुआ वादा भूल जाता है और संसार की मोहमाया में लिप्त हो जाता है और फिर मृत्यु के बाद दुबारा उसी कष्ट से होकर गुजरना पड़ता है।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

23Dec 2017

आज पुणे, महाराष्ट्र में कथा से पहले विशाल कलश यात्रा निकाली।

आज पुणे, महाराष्ट्र में कथा से पहले विशाल कलश यात्रा निकाली। इस भव्य कलश यात्रा में सैंकड़ों माताएं बहने कलश उठाकर कथा पंडाल पहुंची। महाराज श्री के सानिध्य में पुणे में 24-31 दिसंबर 2017 तक श्रीमद्भागवत कथा का आयोजन किया जा रहा है। कलश यात्रा के दौरान पुणे की सड़कों पर दृश्य देखने योग्य था, हर जगह माताएं-बहने कलश उठाये नजर आ रही थी। सभी पुणेवासियों से निवेदन है की बढ़-चढ़ कर कथा पंडाल में आकर कथा का रसपान करें।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

24Dec 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 24 से 31 दिसंबर श्रीमद भागवत कथा के प्रथम दिवस की कथा का रसपान करें।

"भगवान की भक्ति टिकाऊ है बिकाऊ नहीं है।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 24 से 31 दिसंबर तक, भेलपूरी चौक, महापौर निवास मैदान निगड़ी प्राधिकरण, पुणे, महाराष्ट्र में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के प्रथम दिवस पर भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

आज कथा के प्रारम्भ होने से पहले पुणे के कार्यकर्ताओं एवं समिति के सदस्यों ने महाराज जी का अभिनन्दन किया। इस पर महाराज जी ने सभी भक्तों को इतने प्रेम के लिए धन्यवाद दिया और कहा की जितना सूंदर मेरे ठाकुर का द्धार आप सभी कार्यकर्ताओं ने सजाया है उसके लिए आप सभी का बहुत-बहुत साधुवाद। पंडाल में भागवत कथा सुनने श्रोताओं का हुजूम उमड़ रहा है।

महाराज जी ने बताया कि श्रीमद भगवत में चार अक्षर हैं भा ग व त , भ से भक्ति , ग से ज्ञान , व से वैराग्य , त से तरुण उद्धार अथार्त तत्प्श्चात मोक्ष..... भागवत कथा सुनने से किस प्रकार प्राणी का कल्याण हो जाता है जो भी भागवत की शरण में आएगा उस की मुक्ति निश्चित है, भागवत वेद रूपी वृक्ष का फल है। भगवान को जानने की इच्छा ही भागवत है। इसलिए भगवान को जानने और उनसे संबंध बनाने की कोशिश जरुर करना। क्योंकि दुनिया के सारे संबंध भले साथ छोड़ देंगे। लेकिन भगवान तुम्हारा साथ कभी नहीं छोडेंगे। अतः कन्हैया से ना केवल संबंध बनाओ बल्कि उसे निभाओ भी।

भागवत श्रवण का नियम बताते हुए महाराज श्री ने कहा कि भागवत भक्त बनकर सुनना चाहिए । भागवत पूरे 7 दिन सुनना चाहिए। केवल भगवान के बारे में सोचना चाहिए । जैसे मीरा ने सोचा, गोपियों ने सोचा और शबरी ने सोचा। भक्ति में धन नहीं भाव का महत्व है।

महाराज श्री ने कहा कि कलयुग में भागवत सबसे कल्याणकारी है। भगवान श्री कृष्ण के मुख से निकली भागवत ज्ञान गंगा की कोई सीमा नहीं है। भगवान प्राप्ति के लिए भागवत साधन और साध्य दोनों है। भगवान श्रीकृष्ण ने भागवत में अपने स्वरूप को ढाला है। इसलिए भागवत साक्षात श्री कृष्ण है और श्री कृष्ण अपने भक्तों की सच्ची पुकार को कभी नहीं ठुकराते। भागवत की कथा सभी मनोकामनाएं पूर्ण करने वाली है। शर्त यह है कि भक्ति की भावनायें पवित्र होनी चाहिए।

भागवत वेद रूपी वृक्ष का फल है। भगवान को जानने की इच्छा ही भागवत है। इसलिए भगवान को जानने और उनसे संबंध बनाने की कोशिश जरुर करना।

कथा को आगे बढ़ाते पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने कहा कि मानव जीवन की इच्छा भगवत प्राप्ति की होनी चाहिए। सांसारिक चिंताओं से परे हटकर केवल आत्म कल्याण की सोचो। इस जिंदगी में जब भी कोई दुख आ जाए तो उसे इस दुनिया वालों को मत सुनाना। क्योंकि यह दुनिया वाले तुम्हारे दुख को सबके सामने फैला देंगे। अपना दुःख केवल दो ही लोगों को सुनाना। क्योंकि यह दुनिया वाले तुम्हारे दुख को सबके सामने फैला देंगे। अपना दुःख केवल दो ही लोगों को सुनाना। एक अपने गुरु और दूसरे अपने परमात्मा को। यह निश्चित समझो तुम्हारा सब दुख हमेशा के लिए दूर हो जाएगा।

कथा का प्रारंभ श्रीमती शैलजा मोरे(डेप्यूटी मेयर, पिम्परी चिंचवड़ महानगर पालिका), श्रीमती शर्मिला राजेन्द्र बाबर (पार्षद), श्री अमित गावड़े (पार्षद), श्री विशाल खंडेलवाल (पार्षद देहु रोड, कैनोटनमेन्ट बोर्ड), श्री सुभाष देवी चंद बंसल (अध्यक्ष श्री अग्रसेन ट्रस्ट, चिंचवड़), श्री जेपी सिंघल (अध्यक्ष- विश्व शांति सेवा समिति पुणे) द्वारा दीप प्रज्वलित करके किया गया। इस अवसर पर श्री प्रेम चंद जी मित्तल, श्री विनोद जी बंसल, श्री जोगिंदर मित्तल, श्री सागर अग्रवाल, सी. ए. के.एल. बंसल के साथ अन्य गणमान्य भी मौजूद रहे। कार्यक्रम के दौरान संचालन की भूमिका श्री विजय शर्मा जी ने निभाई ।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

25Dec 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 24 से 31 दिसंबर आयोजित श्रीमद भागवत कथा के द्वितीय दिवस कथा का रसपान करें।

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 24 से 31 दिसंबर तक, भेलपूरी चौक, महापौर निवास मैदान निगड़ी प्राधिकरण, पुणे, महाराष्ट्र में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के द्वितीय दिवस पर भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 24 से 31 दिसंबर तक, भेलपूरी चौक, महापौर निवास मैदान निगड़ी प्राधिकरण, पुणे, महाराष्ट्र में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के द्वितीय दिवस पर भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

कथा प्रारम्भ करते हुए पूज्य महाराज श्री ने कहा की श्रीमद भागवत कथा कलयुग में मोक्ष का एक सर्वश्रेठ मार्ग है।श्रीमद भागवत कथा सुनने के लिए भी हमे कर्म अच्छे करने होंगे तभी ये कथा सुनने का भी लाभ भी हमें मिलेगा। क्योकि आज का मानव आपने कार्य को अधिक महत्व देता है और भगवान् को भूल जाता है। तो यह भी तो मायने रखता है की कर्म आप ने किसके लिए छोड़ा, भगवान के लिए सांसारिक कर्म छोड़ा या सांसारिक कर्म के लिए भगवान् को छोड़ दिया। आप एक बात बताओ की जब आपके बच्चे आपको छोड़ कर चले जाते है तो आप आपने पड़ोसियों से उनकी बुराई करने लगते है तो हम भी तो यही करते की इस संसार के लिए अपने असली पिता को भूल कर बैठ जाते है। पर ऐसा क्यों हो रहा है क्योकि हमारे घरो से रामायण , गीता महापुरुषों की वाणी खत्म ही होगई है। मेरा आप सभी से अनुरोध है की आप जो कथा सुनते है उसको जीवन में उतारने का प्रयास करे। कलियुग मे कथा श्रवण मात्रा से ही जीव का कल्याण हो जाता है। पर कलयुग का जीव सब कुछ विपरीत ही करता है। जिस देश में पशु पक्षी भी भगवान् की आराधना करते है तो वहां मनुष्य को कैसा होना चाहिए जरा सोचिए।

महाराज श्री ने कहा कि व्यास जी ने जब इस भगवत प्राप्ति का ग्रंथ लिखा, तब भागवत नाम दिया गया। बाद में इसे श्रीमद् भागवत नाम दिया गया। इस श्रीमद् शब्द के पीछे एक बड़ा मर्म छुपा हुआ है श्री यानी जब धन का अहंकार हो जाए तो भागवत सुन लो, अहंकार दूर हो जाएगा। इस सांसारिक जीवन में जो कुछ भी प्राप्त किये हो सब किराए के मकान की तरह है। खाली करना ही पड़ेगा। व्यक्ति इस संसार से केवल अपना कर्म लेकर जाता है। इसलिए अच्छे कर्म करो। भाग्य, भक्ति, वैराग्य और मुक्ति पाने के लिए भागवत की कथा सुनो। कलयुग में लोगो की लोग अशुभ को समझ नहीं पाएंगे।

कथा सुनना भी सबके भाग्य में नहीं होता जब भगवान् भोलेनाथ से माता पार्वती ने उनसे अमर कथा सुनाने की प्रार्थना की तो बाबा भोलेनाथ ने कहा की जाओ पहले यह देखकर आओ की कैलाश पर तुम्हारे या मेरे अलावा और कोई तो नहीं है क्योकि यह कथा सबको नसीब में नहीं है। माता ने पूरा कैलाश देख आई पर शुक के अपरिपक्व अंडो पर उनकी नज़र नहीं पड़ी। भगवान शंकर जी ने पार्वती जी को जो अमर कथा सुनाई वह भागवत कथा ही थी। लेकिन मध्य में पार्वती जी को निद्रा आ गई। और वो कथा शुक ने पूरी सुनली। यह भी पूर्व जन्मों के पाप का प्रभाव होता है कि कथा बीच में छूट जाती है। भगवान की कथा मन से नहीं सुनने के कारण ही जीवन में पूरी तरह से धार्मिकता नहीं आ पाती है। जीवन में श्याम नहीं तो आराम नहीं। भगवान को अपना परिवार मानकर उनकी लीलाओं में रमना चाहिए। गोविंद के गीत गाए बिना शांति नहीं मिलेगी। धर्म, संत, मां-बाप और गुरु की सेवा करो। जितना भजन करोगे उतनी ही शांति मिलेगी। संतों का सानिध्य हृदय में भगवान को बसा देता है। क्योंकि कथाएं सुनने से चित्त पिघल जाता है और पिघला चित्र ही भगवान को बसा सकता है।

श्री शुक जी की कथा सुनाते पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने बताया कि श्री शुक जी द्वारा चुपके से अमर कथा सुन लेने के कारण जब शंकर जी ने उन्हें मारने के लिए दौड़ाया तो वह एक ब्राह्मणी के गर्भ में छुप गए। कई वर्षों बाद व्यास जी के निवेदन पर भगवान शंकर जी इस पुत्र के ज्ञानवान होने का वरदान दे कर चले गए। व्यास जी ने जब श्री शुक को बाहर आने के लिए कहा तो उन्होंने कहा कि जब तक मुझे माया से सदा मुक्त होने का आश्वासन नहीं मिलेगा। मैं नहीं आऊंगा। तब भगवान नारायण को स्वयं आकर ये कहना पड़ा की श्री शुक आप आओ आपको मेरी माया कभी नहीं लगेगी ,उन्हें आश्वासन मिला तभी वह बाहर आए।

यानि की माया का बंधन उनको नहीं चाहिए था। पर आज का मानव तो केवल माया का बंधन ही चारो ओर बांधता फिरता है। और बार बार इस माया के चक्कर में इस धरती पर अलग अलग योनियों में जन्म लेता है। तो जब आपके पास भागवत कथा जैसा सरल माध्यम दिया है जो आपको इस जनम मरण के चक्कर से मुक्त कर देगा और नारायण के धाम में सदा के लिए आपको स्थान मिलेगा

" राधे राधे बोलना पड़ेगा। "

23Dec 2017

आज पूज्य महाराज श्री का पुणे एयरपोर्ट पर विश्व शांति सेवा समिति पुणे एवं विश्व शांति सेवा चैरिटेबल ट्रस्ट के सदस्यों और भक्तों ने स्वागत किया।

आज पूज्य महाराज श्री का पुणे एयरपोर्ट पर विश्व शांति सेवा समिति पुणे एवं विश्व शांति सेवा चैरिटेबल ट्रस्ट के सदस्यों और भक्तों ने स्वागत किया। महाराज श्री को 21 किलो की पुष्प माला अर्पण की गई।

इस अवसर पर भारी संख्या में भक्त एयरपोर्ट पर पहुंचे। पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 24-31 दिसंबर 2017 तक कथा का आयोजन किया गया है। सभी पुणेवासी कथा में ज़्यादा से ज्यादा संख्या में आकर कथा का रसपान करें।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

22Dec 2017

विश्व शांति सेवा समिति इंदौर की मिलन सभा विश्व शांति सेवा चैरिटेबल ट्रस्ट के सचिव श्री विजय शर्मा जी की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई।

विश्व शांति सेवा समिति इंदौर की मिलन सभा विश्व शांति सेवा चैरिटेबल ट्रस्ट के सचिव श्री विजय शर्मा जी की अध्यक्षता में सम्पन्न हुई।

इस सभा का मुख्य उद्देश्य सभी कार्यकर्ताओं को धर्म,एकता के लिए जागरूक एवं विशाल श्रीमदभागवत कथा के आयोजन में अपनी सेवा प्रदान करना तथा मानव कल्याण के लिए प्रेरित करना था। धर्म रत्न, शांतिदूत श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में इंदौर में 18-26 मार्च 2018 तक विशाल श्रीमद भागवत कथा का आयोजन किया जा रहा है। सभी इंदौर वासी इस कथा में बढ़-चढ़ कर भाग लें।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

23Dec 2017

शीत ऋतु में असहाय एवं निर्धन व्यक्तियों को कम्बल वितरण

विश्व शान्ति सेवा चैरीटेबल ट्रस्ट के तत्वाधान में धर्मरत्न शान्तिदूत पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुरजी महाराज ने शीत ऋतु में असहाय एवं निर्धन व्यक्तियों को कम्बल वितरण कर सहायता प्रदान की। शुक्रवार को श्रीधाम वृन्दावन के परिक्रमा मार्ग में रात्रि को स्वयंसेवकों के साथ महाराज श्री ने स्वंय असहाय एवं विकलांगजनों को कम्बल ओढ़ाकर मानवता का संदेश दिया।

रात्रि 10 बजे के बाद महाराज श्री ने मथुरा में भ्रमण करते हुये मथुरा छावनी स्टेशन, काली माता मंदिर पर एकत्रित भिक्षुकों को कम्बल एवं दक्षिणा प्रदान की। मथुरा जंक्शन पर खुले आसमान के नीचे अपर्याप्त बिस्तरों में सोते हुये परिवारों पर ट्रस्ट के स्वयं सेवकों ने कम्बल ओढ़ाया। महाराज श्री अपने साथ दो गाड़ियों में गर्म कम्बल लेकर निकले हुये थे। जहाँ भी शीत से परेशान व्यक्ति दिखायी दिये उन्हें वस्त्रादि प्रदान किये गये। महाराज श्री के सेवाभाव को देखकर स्वंयसेवक भी द्रवित हो रहे थे। ठाकुर श्री प्रियाकान्तजू भगवान सभी असहायजन को स्वास्थ्य प्रदान करें। सभी को सर छुपाने के लिये स्थान मिले, ऐसी कामना है।

इस अवसर पर गजेन्द्र सिंह, दाऊदयाल महाराज, मनमोहन, जगदीश वर्मा,दिनेश कुमार, कमल शर्मा, विक्की वर्मा, अजय, दिवाकर आदि साथ रहे । आईये हम भी पीड़ित मानवता की सेवा में आगे आकर सबकी मदद करें।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

22Dec 2017

आज दोपहर पूज्य महाराजश्री बतौर मुख्य अतिथि पहुँचे धौलपुर जहाँ पर बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओ और 20 -20 क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन किया जा रहा हैं ।

राधे राधे , आज दोपहर पूज्य महाराजश्री बतौर मुख्य अतिथि पहुँचे धौलपुर जहाँ पर बेटी बचाओं बेटी पढ़ाओ , जल बचाओं, हरित धौलपुर, सन्देश को समर्थित एक्सप्रेस वे टी -20 -20 क्रिकेट टूर्नामेंट का आयोजन किया जा रहा हैं । पूज्य महाराजश्री के स्वागत के लिए युवाओं की बड़ी संख्या मौजूद थी। आयोजक समिति ने माल्यार्पण कर पूज्य महाराजश्री का स्वागत किया । पूज्य महाराजश्री ने दोनों टीमों के खिलाडियों से परिचय किया उसके बाद टॉस उछालकर मैच प्रारम्भ कराया। विजेता टीम को पूज्य महाराजश्री ने बधाई दी और अच्छे प्रदर्शन के लिए खिलाडी को मैन ऑफ द मैच की ट्रॉफी प्रदान की। राजस्थान क्रिकेट बोर्ड के पूर्व सचिव श्री सौमेंद्र तिवारी जी एवं आयोजक समिति ने पूज्य महाराजश्री को राधे कृष्ण की छवि भेंट कर आभार व्यक्त किया । राधे राधे।

19Dec 2017

पूज्य जगद्गुरू शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती जी महाराज ने पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज को दी "धर्म रत्न" की उपाधि।

पूज्य जगद्गुरू शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती जी महाराज ने पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज को दी "धर्म रत्न" की उपाधि।

आप सभी भक्तों को बड़े हर्ष के साथ सूचित किया जाता है कि अनन्त श्री विभूषित ज्योतिष्पीठाधीश्वर एवं द्धारकाशारदापीठाधीश्वर जगदगुरु शंकराचार्य स्वामी श्री स्वरूपानंद सरस्वती जी महाराज ने आज पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज की "धर्म रत्न" की उपाधि से अलंकृत किया। पूज्य महाराज श्री को यह उपाधि भागवत कथाओं के माध्यम से सनातन धर्म के प्रचार-प्रसार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए दी गई है। यह पहली बार है कि पूज्य जगद्गुरु शंकराचार्य जी महाराज ने किसी को "धर्म रत्न" की उपाधि से अलंकृत किया हो।
पूज्य ठाकुर जी महाराज ने इस उपाधि से अलंकृत करने के लिए पूज्य जगद्गुरु शंकराचार्य जी महाराज का आभार प्रकट किया। आज से ठाकुर जी महाराज का पूरा नाम "धर्मरत्न शांतिदूत श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज" लिखा जाएगा।

ज्योतिष्पीठ द्वारिकाशारदा पीठाधीश्वर जगद्गुरू शंकराचार्य स्वरूपानंद सरस्वती जी महाराज का 31 किलो के पुष्पमाल से अभिनंदन किया गया। आयोजन के मध्य विभिन्न वक्ताओं ने युवापीढ़ी को सनातन धर्म से भटकाने वाले कारकों पर चिंता व्यक्त की, वहीं जगद्गुरू शंकराचार्य जी महाराज ने धर्म के वास्तविक स्वरूप और वर्तमान परिस्थितियों पर श्रोताओं का मार्गदर्शन किया।

पूज्य जगद्गुरू शकंराचार्य जी महाराज ने रामायण और महाभारत को शिक्षा पाठ्यक्रम में शामिल करने की आवश्यकता बतायी। उन्होने कहा कि अगर आधुनिक शिक्षा के साथ पौराणिक कथायें भी बतायी जाये तो उनसे युवाओं को ज्ञात होगा कि बुरे कर्म का फल बुरा ही मिलेगा। रामायण शिक्षा देती है कि परनारि पर दृष्टि डालने वाले का अंत में क्या हाल होता है। दुर्गासप्तशती का अध्ययन होगा तो हर छोटी बालिका में देवी नजर आयेगी। कथाकारों एवं धर्मप्रचारकों को सम्बोधित करते हुये कहा कि वे वक्ता राधा-कृष्ण के गीतों के साथ मनुष्य को पापकर्मों के बाद में मिलने वाले नरकों का वर्णन भी सुनायें।

पूज्य जगद्गुरु शंकराचार्य जी महाराज ने कहा कि केवल हिन्दुस्तान में पैदा होने से ही कोई हिन्दु नहीं होता। हमें कल्चर से नहीं बल्कि धर्म से हिन्दु होना चाहिये। जो वेदशास्त्रों को ना माने वह हिन्दु नहीं है। उन्होने कहा कि हमसे कहा जाता है कि हम हिन्दु समाज में वर्ण और आश्रम की व्यवस्था को समाप्त करने का आदेश पारित कर दें। क्योंकि जातियों के आधार पर हिन्दु टूट रहा है। ऐसा नहीं किया जा सकता है। वर्ण आश्रम हमारी परम्पराओं में है। मुगलों के समय अगर जातियां ना होती तो पूरा हिन्दु समाज आज मुसलमान बन गया होता। उस समय मुसलमानों के अत्याचारों के सामने जो जातियाँ टूट गयीं केवल वही मुसलमान बनी। जो बची रहीं वह आज भी हिन्दु हैं।

इससे पूर्व श्री गोविन्दानंद तीर्थ जी महाराज ने कहा कि आज की युवा पीढ़ी बहुत ईमानदार और जागरूक है। वह अपनी शंकाओं का समाधान चाहती है। ज्ञान एवं तर्कों के द्वारा उन्हें संतुष्ट कर धर्मालम्बी बनाया रखा जा सकता है। श्री ब्रहमचारी सुबोध नारायण जी महाराज, श्री अमृतानंद सरस्वती जी महाराज, श्री ब्रहमविद्यानंद जी महाराज आदि संतगण के साथ रामकृपाल त्रिपाठी जी, सच्चिदानंद द्विवेदी जी, नेत्रपाल शास्त्री जी, महामण्डलेश्वर भास्करानंद जी, बाल योगेश्वरानंद गिरी जी, महन्त सच्चिदानंद शास्त्री जी, पं. अशोक शास्त्री जी, मृदुल कान्त शास्त्री जी, बिहारीलाल वशिष्ठ जी, अनिल शर्मा जी (यमुना मिशन) रवि रावत जी, एच.पी. अग्रवाल जी, अशोक गुप्ता जी, श्यामसुन्दर शर्मा जी, जगदीश वर्मा जी, मुकुन्द उपाध्याय जी, विष्णु शर्मा जी, दिनेश सिंह जी आदि उपस्थित थे।

विश्व शांति सेवा चैरीटेबल ट्रस्ट की ओर पूज्य जगद्गुरु शंकराचार्य जी महाराज को अभिनंदन पत्र प्रदान किया गया। ट्रस्ट सचिव श्री विजय शर्मा जी ने आभार व्यक्त किया। मंच संचालन आचार्य श्री बद्रीश जी महाराज ने किया।

।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

 

17Dec 2017

बैंगलोर में पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 26 जनवरी से 2 फरवरी 2018 तक आयोजित होगी श्रीमदभागवत कथा।

विश्व शांति सेवा समिति बैंगलोर ने पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 26 जनवरी से 2 फरवरी 2018 तक आयोजित होने वाली श्रीमदभागवत कथा की तैयारियों को लेकर बैठक की और कथा से जुड़ी जिम्मेदारियों को कार्यकर्ताओं को बताया। इस अवसर पर मुख्य यजमान श्री संजय अग्रवाल, श्री सुनील अग्रवाल उत्सव यजमान, श्री नवीन जैन,श्री गोपाल जी समिति सदस्य श्री महेश कुमावत,श्री सुरेश जांगिड़, श्री संजय अग्रवाल, श्री संजय चतुर्वेदी, श्री रतन पांडे,श्री ओम प्रकाश ठाकुर, श्री रवि जी, श्री विशाल जी व सभी कार्यकर्ता के साथ अन्य गणमान्य शामिल रहे। सभी बैंगलोरवासी कथा में सादर आमंत्रित हैं। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

17Dec 2017

जगद्गुरू शंकराचार्य पूज्य श्री स्वरूपानंदन जी महाराज पहुँचे शान्ति सेवा धाम, 20 दिसंबर तक करेंगे प्रवास

जगद्गुरू शंकराचार्य पूज्य श्री स्वरूपानंदन जी महाराज पहुँचे शान्ति सेवा धाम, 20 दिसंबर तक करेंगे प्रवास आज ज्योतिष्पीठ द्वारिकाशारदापीठाधीश्वर जगद्गुरू शंकराचार्य पूज्य श्री स्वरूपानंदन सरस्वती जी महाराज तीन दिवसीय प्रवास पर शांति सेवा धाम, वृन्दावन में पदार्पण हुआ। उनके साथ पूज्य श्री ब्रहमचारी सुबोध नारायण जी महाराज, श्री अमृतानंद सरस्वती जी महाराज एवं श्री ब्रहमविद्यानंद जी महाराज आदि संतगण वृन्दावन आये हैं। शांति सेवा धाम पर पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने माल्यापर्ण कर उनका स्वागत किया। इसके पश्चात संतविद्वतजनों की उपस्थिति में पूज्य ठाकुर जी महाराज ने पूज्य शंकराचार्य जी का चरणपूजन कर आरती उतारी। आप सभी भक्तों के लिए श्री स्वरूपानंद सरस्वती जी महाराज का मंगलवार को सांय 4 बजे से शांति सेवा धाम पर आशीर्वचन का कार्यक्रम रहेगा, इसके बाद महाराज जी ठा. श्री प्रियाकान्तजू मंदिर की आरती में सम्मिलित होगें। वे यहाँ 20 दिसम्बर तक रहेगें। इस मौके पर विश्व शांति सेवा चैरिटेबल ट्रस्ट के सचिव श्री विजय शर्मा जी, श्री रवि रावत जी, श्री एच.पी. अग्रवाल जी, श्री श्यामसुन्दर शर्मा जी, श्री मुकुन्द उपाध्याय जी, श्री विष्णु शर्मा जी, हरि दिनेश सिंह जी, श्री कमल शर्मा जी आदि उपस्थित रहे। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

13Dec 2017

मुंबई के अनाथ आश्रम में पूज्य महाराज श्री ने किया योगदान।

आज पूज्य महाराज श्री मुंबई के एक अनाथ आश्रम गए और वहां मौजूद बच्चों को वस्त्र, 3 महीने का राशन एवं 51000 रुपये की धनराशि दी। इसके बाद महाराज श्री ने बच्चों को आशीर्वचन दिया और उनके साथ समय व्यतीत किया। महाराज श्री का यही स्वपन है कि देश का हर बच्चा अच्छा नागरिक बने और देश की प्रगति में भागीदार बने। इसलिए महाराज श्री सदैव गरीब एवं अनाथ बच्चों की हर संभव सहायता करते हैं। इसी पहल में महाराज श्री ने आश्रय सेवा सदन बनाने का निर्णय किया है। इस अवसर पर विश्व शांति सेवा समिति और विश्व शांति सेवा समिति मुंबई के सदस्य भी मौजूद रहे। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

14Dec 2017

पूज्य महाराज श्री ने सिद्धि विनायक का आशीर्वाद प्राप्त किया।

आज पूज्य महाराज श्री ने मुम्बई में विशाल श्रीमद भागवत कथा का सफल आयोजन करने के बाद आज मुम्बई के सिद्धि विनायक मंदिर में भगवान श्री गणेश के दर्शन कर उनसे आशीर्वाद प्राप्त किया। महाराज श्री ने इस सफल आयोजन के लिए भगवान श्री गणेश का धन्यवाद किया। इस अवसर पर मुम्बई के भक्तों ने भी भगवान के दर्शन किए। इसके बाद पूज्य महाराज श्री ने मुम्बई से वृन्दावन के लिए प्रस्थान किया। महाराज श्री को एयरपोर्ट पर विदा करने के लिए भारी संख्या में भक्त पहुंचे। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

13Dec 2017

"नज़रिये के अनुसार ही नज़ारे दिखते हैं।"

पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने सप्तम दिवस की भागवत कथा श्रवण कराते कहा कहा कि श्री कृष्ण की भक्ति के लिए सांसारिक कार्यों से निवृत्त होने का इंतजार मत करो। यह अपने आपको धोखे में रखने वाला बहाना है। वृद्धावस्था में जब सारे अंग शिथिल हो जायेंगे, तब क्या भक्ति हो पाएगी। खुद से यह वादा कर लो कि शुभ कामों को तुरंत ही शुरू कर देना है और बुरे कामों को टालते जाना है। उन्होंने कथा को आगे बढ़ाते कहा कि इस मायावी दुनिया में देखा गया है कि जो प्यारा लगता है, हमें उसके अवगुण नहीं दिखाई देते और जिसे नापसंद करते हैं, हम उसके गुण नहीं देखते। नज़रिये के अनुसार ही नज़ारे दिखते हैं। लेकिन ध्यान रखना धर्म के विरुद्ध कभी मत जाना। बुराइयां खुद के लिए गड्ढा खोदती हैं। वाकई प्रभु को प्रसन्न करना चाहते हो तो हमेशा दूसरों को खुशियां देना। तुम्हें अपने आप खुशियाँ मिलती जाएँगी। भागवत कथा के अंतिम दिन श्रोताओं के उमड़े जन सैलाब को भगवत भक्ति की प्रेरणा देते महाराज जी कहा कि भक्ति के मार्ग में बाधा बनने वाले सम्बन्धियों से दूरी बना लो। शास्त्रों और वेदों का पालन करो। यदि कुछ भी न कर पाओ तो कन्हैया से रिश्ता जोड़कर अपनी आत्मा का कल्याण करो। आत्मा के स्वामी श्री कृष्ण ही हैं। कथा के दौरान श्री कृष्ण के 18 हजार से अधिक विवाहों के कारणों पर विस्तार से प्रकाश डालते महाराज जी ने कहा कि मोर आजीवन ब्रह्मचारी होता है। उसके आंसुओं को धारण करके मोरनी गर्भ धारण करती है। श्री कृष्ण भी मोर पंख धारी हैं। भगवान श्री कृष्ण की भी शादियों और पुत्रों की कुछ ऐसी ही लीलाये हैं। वे गोपियों के साथ तो रहते हैं। लेकिन उनका संग नहीं चाहते। पूज्य श्री देवकीनन्दन ठाकुर जी महाराज ने श्री कृष्ण और सुदामा की संगीतमय कथा सुनाई। इस दौरान कृष्ण और सुदामा की करुणामय कथा का अभिनय से चित्रण भी हुआ। यह कथा सुनाते खुद महाराज नई भी रोने लगे। साथ ही सभी श्रोताओं की आँखों से भी अश्रु धारा बहने लगी। विश्व शांति एवं मानव कल्याण हेतु विश्व शांति सेवा समिति एवं विश्व शांति चेरिटेबल ट्रस्ट दिल्ली के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित कथा को मुख्य संरक्षक श्री अयोध्या प्रसाद सेठ और श्री गजेन्द्र भंडारी के नेतृत्व में आयोजन समिति के सभी कार्यकर्ताओं ने जी जान से कार्यक्रम को सफल बनाया। सभी प्रमुख धार्मिक अनुष्ठानों को मुख्य यजमान श्रीमती माया मुरारी लाल एवं श्रीमती नीलम चौधरी ने सम्पन्न कराया। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

12Dec 2017

बिना साधना के प्रभु का सानिध्य नहीं।

"बिना साधना के प्रभु का सानिध्य नहीं।" श्रीमद् भागवत कथा के षष्टम दिवस पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने कहा कि बिना साधना के भगवान का सानिध्य नहीं मिलता। द्वापर युग में गोपियों को भगवान श्री कृष्ण का सानिध्य इसलिए मिला, क्योंकि वे त्रेता युग में ऋषि - मुनि के जन्म में भगवान के सानिध्य की इच्छा को लेकर कठोर साधना की थी। शुद्ध भाव से की गई परमात्मा की भक्ति सभी सिद्धियों को देने वाली है। जितना समय हम इस दुनिया को देते हैं, उसका 5% भी यदि भगवान श्रीकृष्ण की भक्ति में लगाएं तो भगवान की कृपा निश्चित मिलेगी। पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने कहा कि गोपियों ने श्री कृष्ण को पाने के लिए त्याग किया परंतु हम चाहते हैं कि हमें भगवान बिना कुछ किये ही मिल जाये, जो की असम्भव है। महाराज श्री ने बताया कि शुकदेव जी महाराज परीक्षित से कहते हैं राजन जो इस कथा को सुनता हैं उसे भगवान के रसमय स्वरूप का दर्शन होता हैं। उसके अंदर से काम हटकर श्याम के प्रति प्रेम जाग्रत होता हैं। जब भगवान प्रकट हुए तो गोपियों ने भगवान से 3 प्रकार के प्राणियों के विषय में पूछा। 1 . एक व्यक्ति वो हैं जो प्रेम करने वाले से प्रेम करता हैं। 2 . दूसरा व्यक्ति वो हैं जो सबसे प्रेम करता हैं चाहे उससे कोई करे या न करे। 3 . तीसरे प्रकार का प्राणी प्रेम करने वाले से कोई सम्बन्ध नही रखता और न करने वाले से तो कोई संबंध हैं ही नही। आप इन तीनो में कोनसे व्यक्ति की श्रेणियों में आते हो? भगवान ने कहा की गोपियों! जो प्रेम करने वाले के लिए प्रेम करता हैं वहां प्रेम नही हैं वहां स्वार्थ झलकता हैं। केवल व्यापर हैं वहां। आपने किसी को प्रेम किया और आपने उसे प्रेम किया। ये बस स्वार्थ हैं। दूसरे प्रकार के प्राणियों के बारे में आपने पूछा वो हैं माता-पिता, गुरुजन। संतान भले ही अपने माता-पिता के , गुरुदेव के प्रति प्रेम हो या न हो। लेकिन माता-पिता और गुरु के मन में पुत्र के प्रति हमेशा कल्याण की भावना बनी रहती हैं। लेकिन तीसरे प्रकार के व्यक्ति के बारे में आपने कहा की ये किसी से प्रेम नही करते तो इनके 4 लक्षण होते हैं- आत्माराम- जो बस अपनी आत्मा में ही रमन करता हैं। पूर्ण काम- संसार के सब भोग पड़े हैं लेकिन तृप्त हैं। किसी तरह की कोई इच्छा नहीं हैं। कृतघ्न – जो किसी के उपकार को नहीं मानता हैं। गुरुद्रोही- जो उपकार करने वाले को अपना शत्रु समझता हैं। श्री कृष्ण कहते हैं की गोपियों इनमे से मैं कोई भी नही हूँ। मैं तो तुम्हारे जन्म जन्म का ऋणियां हूँ। सबके कर्जे को मैं उतार सकता हूँ पर तुम्हारे प्रेम के कर्जे को नहीं। तुम प्रेम की ध्वजा हो। संसार में जब-जब प्रेम की गाथा गाई जाएगी वहां पर तुम्हे अवश्य याद किया जायेगा। पहले तो भगवान ने रास किया था लेकिन अब महारास में प्रवेश करने जा रहे हैं। तीन तरह से भगवान श्री कृष्ण ने रास किया है। एक गोपी और एक कृष्ण, दो गोपी और एक कृष्ण, अनेक गोपी और एक कृष्ण। इस महारास में कामदेव ने गोपियों को माध्यम बनाकर 5 तीर छोड़े थे। अब महारास के समय कामदेव ने 5 तीर छोड़े- 1. आलिंगन 2. नर्महास 3. करळकावलिस्पर्श 4. नखाग्रपात 5 . षस्मित्कटाक्षपात ये पांच तीर कामदेव ने गोपियों के माध्यम से छोड़े थे लेकिन भगवान ने हर तीर को परास्त किया। श्रीमद भागवत कथा को आगे बढ़ाते हुए ठाकुर जी महाराज ने कहा कि हमारी इच्छाएं ही सारे पापों की जड़ हैं। इसलिए इन इच्छाओं को ही छोड़ दे। दुनिया की सारी बाधाएं दूर हो जाएंगी। हर भक्त के मन में यह भाव होना चाहिए कि हमें श्री कृष्ण मिले, भले ही मेरे जीवन के अंतिम साँस से पहले ही क्यों ना मिले। उन्होंने कहा कि सद्कर्मों से आत्मा खुश होती है। इसका प्रमाण देखना हो तो कभी किसी का छीन करके खाओ, देखना आत्मा खुश नहीं होगी। फिर किसी ज़रूरतमंद को कुछ खिलाकर देखना कि आत्मा कितनी खुश होती है। मंगलवार की कथा में श्री कृष्ण- रुक्मिणी विवाह का वर्णन हुआ। आज कृष्ण-रुक्मणि विवाहोत्सव बड़ी धूमधाम से मनाया गया एवं सभी भक्तों ने भगवान श्री कृष्ण-रुक्मणी की सुन्दर झांकी के दर्शन किये। कथा के मुख्य यजमान एवं सहयजमान व उत्सव यजमान ने कन्यादान की रश्म पूरी की और महाराज श्री से आशीर्वाद प्राप्त किया। भगवान श्री कृष्ण के विवाह में पूरा पंडाल झूम उठा भक्तों ने नृत्य कर बड़ी धूमधाम से भगवान श्री कृष्ण के विवाह के आयोजन का मनाया। कथा के दौरान पूज्य श्री देवकीनन्दन ठाकुर जी महाराज के मंत्रमुग्ध कर देने वाले श्री कृष्ण के भजनों पर श्रोता झूमते नजर आए। मुख्य संरक्षक श्री अयोध्या प्रसाद सेठ और श्री गजेन्द्र भंडारी के नेतृत्व में आयोजक समिति के सभी कार्यकर्ता व्यवस्था संभाले हुए हैं। दिन-प्रतिदिन भक्तों का हुजूम कथा पंडाल में उमड़ रहा है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

9Nov 2017

भदोई में भव्य आगमन

! राधे राधे !! महाराज श्री का शुभ आगमन भदोई में हुआ, जंहा सभी भक्त जन ने महाराज श्री का भव्य स्वागत किया, आज पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में कटरा बाजार सीतामढ़ी थाना कोइरुन तहसील ज्ञानपुर भदोई में श्रीमद भागवत कथा का प्रारम्भ दोपहर २:३० से होगा।

8Nov 2017

भदोई में हुई विशाल कलश यात्रा

!! राधे राधे !! आप देख रहे हैं भदोही,उत्तर प्रदेश से कलश यात्रा की कुछ झलके.... पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में कटरा बाजार सीतामढ़ी थाना कोइरुन तहसील ज्ञानपुर भदोई में श्रीमद भागवत कथा का आयोजन 9 से 15 नवंबर तक किया जा रहा है।

9Nov 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 9 से 15नवंबर तक 2017 कटरा बाजार सीतामढ़ी थाना कोइरुन तहसील ज्ञानपुर, भदोही में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के प्रथम दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

सर्वप्रथम महाराज श्री ने विश्व शांति के लिए ठाकुर जी से प्रार्थना की और उसके बाद भागवत कथा में प्रवेश किया। महाराज श्री ने बताया की भागवत में आने से हमे सभी तीर्थो का पुण्य प्राप्त हो जाता है। क्योकि जहाँ भागवत कथा होती है वहां सभी पवित्र नदिया , सभी देवता , सारे तीर्थ वास करते है। और कथा पंडाल में आकर भागवत सुनने मात्रा से ही हमे सभी तीर्थो का पुण्य लाभ हमको प्राप्त हो जाता है। पूर्व के युगो में जो हजारों वर्षो की तपस्या करके भगवान की प्राप्ति होती थी। परन्तु कलियुग में केवल नाम संकीर्तन व कथा श्रवण मात्र से ही मनुष्य को ईश्वर की प्राप्ति हो जाती है। प्रत्येक पुराण में कलियुग के प्राणियों के लिए चिंता वयक्त की, कि किस प्रकार कलयुगी मनुष्य का उद्धार हो कारण बस इतना है की आज का मानव धर्म को सर्वोपरि नहीं धन को सर्वोपरि मानता है। पूर्व काल में एक नगर में एक ब्राह्मण रहता था। उसका नाम आत्मदेव था। वह बहुत ज्ञानी और तेजस्वी था। उसकी पत्नी धुन्धुली कुलीन होने पर भी अपनी बात पर अड़नेवाली थी। वह क्रूर, झगडालू और कंजूस थी। बहुत समय बीत जाने के बाद भी उन दोनों के यहाँ संतान नही हुई। उन्होंने बहुत तरह से दान धर्म निभाया पर कुछ नही हुआ। एक दिन आत्मदेव दुखी होकर घर छोड़ कर वन को चला गया। वह एक तालाब के पास पंहुचा। पानी पी कर बैठा तो उसने एक सन्यासी महात्मा को वहाँ आते देखा। आत्मदेव ने सन्यासी के चरणों में प्रणाम किया और लम्बी लम्बी साँसे लेने लगा। सन्यासी ने उसके दुःख का कारण पूछा तो वह बोला कि अब देवता और ब्राह्मण भी उसका दिया प्रसन्न मन से स्वीकार नही करते। उसके संतान न होने से वह बहुत दुखी है और आत्महत्या करने आया है। उसके संतानहीन जीवन, घर और धन को धिक्कार है। जब आत्मदेव सन्यासी के सामने ये सब कहकर रोने लगा तब महात्मा को बहुत दया आई। उन्होंने आत्मदेव से कहा कि मैनें तुम्हारे माथे कीलकीरों में पढ़ा है कि सात जन्मों तक तुम्हारे कोई संतान नही हो सकती इसलिए तुम संसार की वासना छोड़ कर संन्यास ले लो। परन्तु ब्राह्मण ने कहा कि जिसमें पुत्र और स्त्री का सुख नही है वह संन्यास भी नीरस है। महात्मा ने समझाते हुए कहा कि विधाता का लेख मिटाने पर भी तुम्हे संतान से सुख नही मिलेगा। जब वह ब्राह्मण किसी प्रकार नही माना, तब सन्यासी ने उसे एक फल दिया और कहा कि ये अपनी पत्नी को खिला देना। इससे एक पुत्र होगा। अगर तुम्हारी पत्नी एक साल तक सत्य, शौच, दया, दान और एक समय एक ही अन्न खाने का नियम रखेगी तो बालक बहुत शुद्ध स्वभाव वाला होगा। ब्राह्मण ने वह फल अपनी पत्नी को दिया और कहीं चला गया। उसकी पत्नी कुटिल स्वभाव कि थी। उसने अपनी सखी से कहा कि मैं यह फल खाऊँगी तो मुझे बहुत कष्ट सहने पड़ेंगे। प्रसव कि पीड़ा, नियमों का पालन आदि सब करना होगा। इसलिए मैं ये फल नही खाऊँगी। उसके पति ने जब घर आकर पूछा कि फल खा लिया तो उसने कहा हाँ खा लिया। धुन्धुली ने अपनी बहन को सब बात बतायी तो वह बोली कि मेरे पास एक उपाए है। उसकी बहन ने कहा कि मेरे पेट में जो बच्चा है वो मैं तुझे दे दूँगी। तक तक तू गर्भवती के समान घर में गुप्त रूप से रह। तू मेरे पति को कुछ धन दे देगी तो वो तुझे अपना बालक दे देंगे। हम ऐसी युक्ति करेंगे जिससे सब यही कहें कि मेरा बालक छेह महीने का होकर मर गया। फिर मैं तेरे घर आकर उस बालक का पालन पोषण करती रहूंगी। और यह फल तू गौ को खिला दे। ब्राह्मणी ने सब कुछ अपनी बहन के कहे अनुसार किया। जब उसकी बहन को पुत्र हुआ तो उसकेपति ने चुपचाप उसे धुन्धुली को दे दिया। आत्मदेव बालक के होने ही ख़बर सुनकर बहुत आनंदित हुआ। उसकी स्त्री ने कहा कि बालक के पालन पोषण के लिए मैं अपनी बहन को यहाँ बुला लेती हूँ। आत्मदेव ने कहा ठीक है। उस बच्चे का नाम धुंधकारी रख दिया। तीन महीने बाद उस गौ ने भी एक मनुष्य के आकार के बच्चे को जन्म दिया। लोगों को बहुत आश्चर्य हुआ और आत्मदेव के भाग्य कीसराहना करने लगे। आत्मदेव ने बालक के गौ के से कान देखकर उसका नाम गोकर्ण रख दिया। जब वे दोनों बालक जवान हुए तो गोकर्ण बहुत बड़ा पंडित और ज्ञानी हुआ किंतु धुंधकारी बहुत दुष्ट निकला। चोरी करना, सबसे द्वेष बढाना, दूसरे के बालकों को कुएं में डालना और सबको तंग करना यही उसका स्वभाव था। उसने वेश्याओं के जाल में फँस कर अपने पिता की सारी संपत्ति नष्ट कर दी। जब सब कुछ ख़तम हो गया तो आत्मदेव बहुत दुखी हुआ और कहने लगा कि इससे तो मेरी पत्नी बाँझ ही रहती। अब मैं कहाँ जाऊं और क्या करूं। उसी समय गोकर्ण ने आकर अपने पिता को समझाया कि यह संसार असार है। यह अत्यन्त दुखरूप और मोह में डालने वाला है। सुख न तो इन्द्र को है और न ही चक्रवर्ती राजा को। सुख केवल एकांतजीवी विरक्त मुनि को है। "यह मेरा पुत्र है" इस अज्ञान-को छोड़ दीजिये। मोह से नरक कीप्राप्ति है। इसलिए सबकुछ छोड़ कर वन में चले जाइए। गोकर्ण की बात सुनकर आत्मदेव को बहुत अच्छा लगा। उसने अपने पुत्र से उसे और उपदेश देने को कहा। गोकर्ण ने कहा यहशरीर हड्डी, मांस और रुधिर का पिंड है। इसे मैं मानना छोड़ दीजिये। स्त्री पुत्र आदि को अपना कभी ना मानें। भगवान् का भजन सबसे बड़ा धर्म है। निरंतर उसी का आश्रय लिए रहे। आत्मदेव ने अपने पुत्र की बात सुनकर घर त्याग दिया और वन में रात दिन भगवान् की सेवा- पूजा करने लगा। नियमपूर्वक भागवत के दशम स्कंध का पाठ करने से उसने भगवान् श्री कृष्ण चंद्र को प्राप्त कर लिया। हम भी इसी प्रकार भगवान् का भजन कर उस प्रभु को अपने चित्त में धारण कर इस मांस,हड्डी और रुधिर के इस नाशवान शरीर अपना न मान कर केवल उस अजर अमर आत्मा को जिसमे मेरा ठाकुर बसा है उसको अपना माने। " राधे राधे बोलना पड़ेगा "

10Nov 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 9 से 15 नवंबर तक 2017 कटरा बाजार सीतामढ़ी थाना कोइरुन तहसील ज्ञानपुर, भदोही में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के दितीय दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

महाराज श्री ने बताया श्रीमद भगवत वेदरूपी वृक्ष का कटा हुआ फल हैं ये ऐसा फल हैं जिसमे न गुठली हैं न छिलका हैं, संसार का कोई भी वृक्ष हो, कोई भी फल हो उसमे गुठली या छिलका होगा ही, जो कुछ न कुछ फेंका जाये, लेकिन ये एक ऐसा फल हैं जिसमे कुछ फेंकना नहीं हैं बस सब कुछ ग्रह्रण करना हैं, पका हुआ हैं रस से भरा हुआ हैं इसमें बस रस ही रस हैं वेदरूपी वृक्ष का पका हुआ फल हैं इसमें सभी वेदो का सार हैं ये पंचम वेद निराला हैं "अद्धभुत ग्रन्थ हैं" आज हमारे घर में जो समस्याएं हैं छोटे बड़ो का सम्मान नहीं करते, बड़े छोटो को संस्कार नहीं दे पाते, ये क्या हैं इसके पीछे बजह हैं कि हमने अपने शास्त्रों का अध्ययन छोड़ दिया हैं हमने अपने शास्त्रों में विश्वास करना छोड़ दिया हैं, अब तो जातिवाद का ज़हर इतना घुल गया हैं कि हम लोग पुराणों में भी अपना चेहरा चमकाने बाले लोग ये कह देते हैं कि ब्राह्मणो ने वेद इसलिए बना दिए कि दुनिया इनके नीचे रहे इनको मानती रहे, ये कितना बड़ा अधर्म हैं वेद भगवान के मुख से निकले हैं ये किसी ब्राह्मण ने नहीं बनाया, भगवान के मुख से निकले हैं ये श्रीमद भगवत महापुराण भगवान के मुख से निकली हैं ये व्यक्ति की रचना नहीं हैं, हाँ वेद व्यास जी ने इसका विस्तार किया हैं लेकिन जो मुख्य सूत्र हैं वह भगवान के मुख ने निकला हैं क्योकि हम लोग ये बाते इसलिए करते हैं कि हम स्वम धर्म करना नहीं चाहते, श्रीमद भगवत महापुराण एक ऐसा पका हुआ फल हैं जिसके भी जीवन में आ जाये,उसके जीवन को जीवन बना दे, उसे जीवन जीना सीखा दे , ये किसी जाति से सम्बंधित नहीं हैं ये सिर्फ भक्ति से सम्बंधित हैं आप ये याद रखिये..... मेरे भाई बहन हम वेद पुराण जैसे ग्रंथो का अगर अध्ययन करे, तो हमारी ज़िन्दगी कभी भी बुरी नहीं हो सकती, अगर इनका अध्ययन न करे तो, हमारी ज़िंदगी कभी अच्छी नहीं हो सकती, कभी नहीं हो सकती, आज जो नई पीढ़ी हैं वो दौड़ रही हैं न, ऐसी रेस में जिसका कोई अंत नहीं, मिला क्या उनको ? एक खिलोने की तरह वो ज़िन्दगी को समझ रहे हैं , और खिलोने की तरह जितनी चावी भर दी उतना चलाना हैं बस, ज़िंदगी के मूल्य को समझो ये साधारण नहीं हैं ये बहुत अमूल्य हैं। " राधे राधे बोलना पड़ेगा "

11Nov 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 9 से 15 नवंबर तक 2017 कटरा बाजार सीतामढ़ी थाना कोइरुन तहसील ज्ञानपुर, भदोही में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के तृतीय दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

महाराज श्री ने कहा, जिस प्रकार पेड़ से पत्ता या फल अलग होकर ज्यादा दिन नहीं रह सकता है उसी प्रकार श्रीकृष्ण से अलग होकर ये जीवन बेकार हो जाता है। इसलिए श्रीमद भागवत बहुत ही बड़ा वरदान है हमारे लिए उस भगवान का। जिन्हें ये मिलता है तो उसकी किसमत का क्या कहना है। कल आपने सुना था कि राजा परीक्षित को श्राप लगा था कि उसकी मृत्यु तक्षक नाग के डसने से सातवे दिन हो जाएगी। तब राजा परीक्षित यमुना के तट पर पहुंचा और वहां पर मौजूद सभी ऋषियों और मुनियों से ये सवाल करने लगा कि जिसकी मृत्यु ही सातवे दिन हो जाएगी तो वह क्या करे। तब अनेकों ऋषियों ने अनेकों पथ उनको दिखाए। इस पर कोई कहता है भजन करो,कोई कहता है गंगा स्नान करे, किसी संत ने कहा मोन करो, स्मरण करो ध्यान करो, उपासना करो। अनेको संत से उन्हें अनेकों विचार प्राप्त हुए। यहाँ पर भागवत में ये नहीं कहा गया है कि जो संतों ने मार्ग दिखाया है वो गलत है। मैं आपको बता दूँ कि यदि आपकी किसी संत में सच्ची निष्ठा है तो आपका सदा कल्याण ही होगा। ये निष्ठा हम सच्ची निष्ठा को कह रहे है ये पैसे वाली निष्ठा नहीं है कि गुरु जी पैसे वाले है उनसे नाता जोड़ लो तो हमको भी पैसा मिल जायेगा। हमारा भी उनके रिश्ते से नाम हो जायेगा। ऐसी निष्ठा कभी भी हमारा बेडा पर करने वाली नहीं है। तो इसलिए हमको तो सिर्फ उनके वचनो पर ही विश्वास रखना चाहिए। उनके बताए हुए रास्तों पर चलना चाहिए वो भी बिना किसी स्वार्थ भाव के। कोई भी सांसारिक वस्तु हमको उनसे नहीं चाहिए। हमको तो उनसे केवल भागवत भक्ति ही चाहिए। हमको तो उनसे केवल भगवान का नाम ही चाहिए। अगर ये सच्ची निष्ठा है आपमें तो कभी भी डाउट मत करना। तब किसी भी संत का दिया हुआ मन्त्र ही आपका बेडा पर कर देगा अगर आपका उस संत में विश्वास पक्का है तो। अगर आपका उस संत में विश्वास मजबूत है तो ही ऐसा होगा। इसलिए हमको तो केवल उन्ही लोगों के पास ही जाना चाहिए जो हमको भगवान की भक्ति की ओर अग्रसर करते है। जब जो हमको दिख रहा है तो भी हम उसकी पूजा ढंग से नहीं कर रहे है तो जो हमको सही ढंग से नहीं दिखने वाले को कैसे ढंग से पूजेंगे। इसलिए तो हमको सदा ही ऐसे संत से ही दीक्षा लेनी चाहिए जो हमको भगवान की सच्ची भक्ति करने को प्रेरित करे। उनके चरणों में ही जाकर हमको उस दीक्षा को ग्रहण करना चाहिए और उनके द्वारा दिए हुए उस मन्त्र का सच्चाई से जाप करते रहना चाहिए। यही सब तो मेरे उस गुरु ने कहा है कि हमें मन को साफ़ रखकर उस मन्त्र का जाप करना चाहिए तो इस तरह से हमारा बेडा पार हो जायेगा। मेरे उस गुरु का मन्त्र कभी भी झूठा नहीं जा सकता है। यदि हम इस भाव के साथ भगवान के उस मन्त्र का जाप करेंगे तो हमको उस परम परमात्मा के दर्शन होंगे ही। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

12Nov 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 9 से 15 नवंबर तक 2017 कटरा बाजार सीतामढ़ी थाना कोइरुन तहसील ज्ञानपुर, भदोही में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के चतुर्थ दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

चुतर्थ दिवस की कथा का प्रसंग प्रारम्भ करते हुए महाराज श्री ने भगवान श्री कृष्ण के प्राक्ट्य की कथा सुनाई मथुरा नगरी में राजा उग्रसेन जिनका एक पुत्र था कंस जो अपनी बहन देवकी को जब विवाह के बाद विदा करने जा रहे थे तो रस्ते में आकाशवाणी हुई की हे कंस तू जिस बहन को इतने आदर के साथ विदा कर रहा है उसीका आठवाँ पुत्र तेरा काल होगा इतना सुनते ही कंस ने देवकी के केश पकडे और रथ से नीचे उतर लिया। और देवकी से बोला की जब तू ही नहीं होगी तो तेरा पुत्र कैसे होगा तब वासुदेव जी कहा की तुम इतने कमजोर हो की स्त्री पर हाथ उठाते हो। जहाँ स्त्रियों का सम्मान होता है वह देवता वास करते है इसलिए कभी स्त्री पर हाथ नहीं उठाना चाहिये। हमारे शास्त्रों में कहा गया है कि जहाँ नारी की पूजा होती है वहाँ देवता भी वास करते है और जहाँ नारी का निरादर होता है वहां से लक्ष्मी रूठ कर चली जाती है। इसी परंपरा के अनुसार वसुदेव जी ने कंस से कहा की तुमको देवकी को मरने से क्या लाभ तुम्हारा काल तो उसका आठवाँ पुत्र है में तुमको वचन देता हूँ की मैं स्वयं तुमको देवकी के सभी पुत्रो को तुम्हें सौंप दूँगा परन्तु देवकी के प्राण मत लो। ऐसा सुन कंस ने उनको कारगर में डाल दिया। जब प्रभु ने जन्म लिया तो वासुदेव जी के बंधन अपने आप खुल गए और वासुदेव जी कंस कारागार से भगवान् को लेकर नन्द बाबा के यहाँ छोड़ आये और वहाँ से जन्मी योगमाया को ले आये। अब देखिये मेरे ठाकुर की माया की वो अपने भक्तो का ख्याल कैसे रखता है? जिसके घर ८५ साल के उम्र में बालक का जन्म हो तो उसकी ख़ुशी का क्या ठिकाना होगा अनुमान लगाइये। नन्द बाबा के घर बधाइयों का ताता लग गया। क्योंकि मेरा ठाकुर को जो प्रेम से बुलाता है तो वो वहाँ जाये बिना नहीं रह सकते। इसी तरह आप नाम तो लेकर देखो मेरे कन्हैया का, पर मेरे कन्हैया को दिखावा नहीं पसंद जैसे हो वैसे ही उसके सामने जाओ वो तुमको अपना लेगा। महाराज श्री ने कहा की हम और आप कैसे पुत्र की कामना करते है कंस जैसे पुत्र या राम जैसे पुत्र की , तो सभी अपने घर में राम जैसा पुत्र ही चाहेंगे। तो मेरे प्यारे आपको भी दसरथ और कौशल्या बना ही पड़ेगा कियोकि राम में संस्कार देने वाले उनके माता पिता ही थे। तो मेरे प्यारे आपको भी अपने बच्चों को संस्कारी बनाना होगा तब हर घर में राम और भरत होगा। " राधे राधे बोलना ही पड़ेगा "

13Nov 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 9 से 15 नवंबर तक 2017 कटरा बाजार सीतामढ़ी थाना कोइरुन तहसील ज्ञानपुर, भदोही में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के पंचम दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

आज पंचम दिवस की कथा प्रारंभ करने से पूर्व महाराज श्री ने कृष्ण जन्म पर नंद बाबा नंद बाबा की खुशी का वृतांत सुनाते हुए कहा की जब प्रभु ने जन्म लिया तो वासुदेव जी कंस कारागार से उनको लेकर नन्द बाबा के यहाँ छोड़ आये और वहाँ से जन्मी योगमाया को ले आये। अब देखिये मेरे ठाकुर की माया की वो अपने भक्तो का ख्याल कैसे रखता है? जिसके घर ८५ साल के उम्र में बालक का जन्म हो तो उसकी ख़ुशी का क्या ठिकाना होगा अनुमान लगाइये। क्योंकि मेरा ठाकुर को जो प्रेम से बुलाता है तो वो वहाँ जाये बिना नहीं रह सकते। इसी तरह आप नाम तो लेकर देखो मेरे कन्हैया का, पर मेरे कन्हैया को दिखावा नहीं पसंद जैसे हो वैसे ही उसके सामने जाओ वो तुमको अपना लेगा। जब पूतना भगवान के जन्म के ६ दिन बाद प्रभु को मारने के लिए अपने स्तनों पर कालकूट विष लगा कर आई तो मेरे कन्हैया ने अपनी आँखे बंद कर ली, कारण क्या था? क्योकि जब एक बार मेरे ठाकुर की शरण में आ जाता है तो उसका उद्धार निश्चित है। परन्तु मेरे ठाकुर को दिखावा, छलावा पसंद नहीं। आप जैसे हो वैसे आओ रावण भी भगवान श्री राम के सामने आया परन्तु छल से नहीं शत्रु बन कर, कंस भी सामने शत्रु बन आया पर भगवान ने उनका उद्दार किया। लेकिन जब पूतना और शूपर्णखा आई तो प्रभु ने आखे फेर ली क्योंकि वो मित्र के वेश रख कर शत्रुता निभाने आई थी। आज के युग में भी तो यही हो रहा है हम दिखते कुछ है और होता कुछ है। इसलिए आज प्रभु को पाने में कठिनाई है तुम जैसे हो लालची हो तो वैसे ही जाओ, कामी हो तो वैसे ही, पापी हो तो भी मेरा ठाकुर तुमको अपना लेगा। क्योंकि हो तो आखिर तुम उसके ही। रोज बोलो ठाकुर से जो हूँ जैसा हूँ तुम्हारा ही हूँ वो कब तक नज़र बचाएगा। मेरा ठाकुर इतना दयालु है तार ही देगा। जैसे माँ को बालक जैसा भी हो प्यारा लगता है वैसे तुम जैसे हो वैसे ही मेरे ठाकुर के हो जाओ तो वो तुमको अपना प्यारा बना ही लेगा। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

14Nov 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 9 से 15 नवंबर तक 2017 कटरा बाजार सीतामढ़ी थाना कोइरुन तहसील ज्ञानपुर, भदोही में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के षष्टम दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

महाराज श्री ने बताया ,कि भावना में भाव हैं तो भव से बेड़ा पार हैं जो कुछ हैं वो भाव का ही हैं जो कहते है की भगवान नहीं हैं उनके अंदर वो भाव नहीं हैं उनके लिए भगवन नहीं हैं और जिनके मन में भाव हैं उनके लिए भगवान भी हैं, सब कुछ भावना के ऊपर ही निर्भर करता हैं तुलसी दास जे ने कहा हैं कि... जाकी रही भावना जैसी, प्रभु मूरत देखी तिन तैसी जिसकी जैसी भावना हैं भगवान उसको बैसा ही नजर आता हैं। जैसे. कहा गया हैं....... "पत्थर की राधा प्यारी पत्थर के कृष्ण मुरारी पत्थर से पत्थर घिस कर पैदा होती चिंगारी पत्थर की नारी अहिल्या पग से श्री राम ने तारी पत्थर के मठ मे बैठी मां मेरी शेरोन वाली" महाराज श्री ने ये भी बताया कि इस जीवन की कीमत केवल एक साधक ही जान सकता है क्योंकि यह मानव जीवन अनमोल है और इसको कुसंगति से बर्बाद नहीं करना चाहिए। इस चौरासी लाख योनियों में मानव जीवन को सर्वश्रेष्ठ माना गया है क्योंकि इसमें हमें प्रभु का नाम सुमिरन करने का सत्संग करने का अवसर प्राप्त होता है। राम नाम सुमिरन से मानव जीवन का कल्याण हो जाता है। तो प्यारे इस अनमोल मानव जीवन को व्यर्थ न जाने दो, सत्संग करो, गोविन्द की साधना करो, मेरे गोविन्द जरूर कृपा करेंगे, क्योंकि वो कभी अपने भक्तो से दूर नहीं होता। वो तो हर वक़्त आपके साथ है और असीम कृपा बरसाता हैं। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

15Nov 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 9 से 15 नवंबर तक 2017 कटरा बाजार सीतामढ़ी थाना कोइरुन तहसील ज्ञानपुर, भदोही में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के सप्तम दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

श्री देवकी नन्दन ठाकुर जी महाराज ने कथा प्रारम्भ करते हुए कहा कि भगवान श्री कृष्ण ने नरकासुर नाम के असुर का वध किया। नरकासुर ने 16 हजार 100 कन्याओं को बंदी बना रखा था। नरकासुर का वध करके श्री कृष्ण ने कन्याओं को बंधन मुक्त करवाया। इन कन्याओं ने श्री कृष्ण से कहा कि समाज उन्हें स्वीकार नहीं करेगा अतः आप ही कोई उपाय करें। समाज में इन कन्याओं को सम्मान दिलाने के लिए सत्यभामा के सहयोग से श्री कृष्ण ने इन सभी कन्याओं से विवाह कर लिया। इस कारण भगवान ने 16,100 रूप बनाकर सबके साथ एक मुहूर्त में एकसाथ विवाह किया है। कुछ मूर्ख लोग कहते हैं की भगवान कृष्ण ने इतने विवाह किया। भगवान ने किसी कामनावश विवाह नही किया था करुणावश विवाह किया था। भगवान कहते हैं जिसको कोई नहीं अपनाता है अगर वो मेरी शरण में आये तो मैं उसे अपना लेता हूँ। भगवान श्री कृष्ण ने कामदेव पर विजय प्राप्त की है। उनके संकल्प मात्र से उनके पुत्रों की गिनती एक लाख इकसठ हजार अस्सी थी। भगवान श्री कृष्ण ने आजीवन ब्रह्मचर्य का पालन किया। भगवान अपने मुकुट पर मोर पंख इसीलिए लगाते हैं क्योंकि मोर एकमात्र ऐसा प्राणी है जो सम्पूर्ण जीवन में ब्रह्मचर्य का पालन करता है। मोरनी का गर्भ भी मोर के आंसुओ को पीकर ही धारण होता है। इत: इतने पवित्र पक्षी के पंख भगवान खुद अपने सर पर सजाते है। भगवान कृष्ण मित्र और शत्रु के लिए समान भावना रखते है इसके पीछे भी मोरपंख का उद्दारण देखकर हम यह कह सकते है। कृष्ण के भाई थे शेषनाग के अवतार बलराम और नागो के दुश्मन होते है मोर। अत: मोरपंख सर पर लगाके कृष्ण का यह सभी को सन्देश है की वो सबके लिए समभाव रखते है। मोरपंख में सभी रंग है गहरे भी और हलके भी। कृष्णा अपने भक्तो को ऐसे रंगों को देखकर यही सन्देश देते है जीवन ही इस तरह सभी रंगों से भरा हुआ है कभी चमकीले रंग तो कभी हलके रंग, कभी सुखी जीवन तो कभी दुखी जीवन। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

18Nov 2017

महाराज श्री का अहमदाबाद में हुआ भव्य स्वागत

महाराज श्री का अहमदाबाद में हुआ भव्य स्वागत श्रद्धेय पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज का अहमदाबाद एयरपोर्ट आगमन पर वहां के कार्यकर्ताओं एवं भक्तों द्वारा भव्य स्वागत किया गया। हजारों की संख्या में भक्त बाइक व वाहनों द्वारा महाराज श्री का स्वागत करने एयरपोर्ट पर पहुंचे। यंहा पर महाराज श्री का स्वागत ढोल, नगाड़ो द्वारा करने के पश्चात महाराज श्री सभी भक्तों के साथ दोपहर 3 बजे एनवायरनमेंट एंड सैनिटेशन इंस्टिट्यूट, सुघढ़ पहुंचेे, यहां पर इंस्टिट्यूट की मैनेजमेंट द्वारा महाराज श्री का स्वागत किया गया। यहां कुछ समय ठहरने के पश्चात महाराज श्री ने साबरमती आश्रम के लिए प्रस्थान किया। साबरमती आश्रम की मैनेजमेंट द्वारा महाराज श्री का स्वागत किया गया, यहाँ महाराज श्री ने बापू जी को पुष्पांजलि अर्पित कर उनसे आशीर्वाद प्राप्त किया। इसके बाद महाराज श्री ने गरीब बच्चो को आशीर्वचन दिया और यहां मौजूद भक्त मंडली द्वारा भजन सुना। यहां से महाराज श्री कथा प्रांगण की ओर प्रस्थान किया जहां मौजूद सैंकड़ों भक्तों ने महाराज श्री का स्वागत किया।

19Nov 2017

अहमदाबाद से कलश यात्रा की कुछ झलके....

!! राधे राधे !! आप देख रहे हैं अहमदाबाद से कलश यात्रा की कुछ झलके.... पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में महादेव स्टेट कामधेनु मैदान , कृष्णा कुंज सोसाइटी के सामने, गणेश चौक नई RTO रोड वस्त्राल, अहमदाबाद में श्रीमद भागवत कथा का आयोजन 19 से 26 नवंबर तक किया जा रहा है।

19Nov 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 19 से 26 नवंबर तक 2017 महादेव स्टेट कामधेनु मैदान , कृष्णा कुंज सोसाइटी के सामने, गणेश चौक नई RTO रोड वस्त्राल, अहमदाबाद में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के प्रथम दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

महाराज श्री ने कथा प्रारम्भ करते हुए कहा हमारे जीवन में तीन ताप होते है दैहिक, दैविक और भौतिक। सुख हो या दुःख तीनों तीन प्रकार के होते है। चाहे शारीरिक सुख हो या शारीरिक दुःख हो, चाहे भौतिक सुख हो या भौतिक दुःख हो, चाहे दैविक सुख हो या दैविक दुःख। तीनो प्रकार के ताप व्यक्ति को सुख भी देते है और दुःख भी देते है। पर इनकी उत्पत्ति करने वाले कौन है? इनका पालन करने वाले कौन है? इनका संहार करने वाले कौन है? ऐसे सचिदानंद को हम कोटि-कोटि नमन करते है। जिन व्यक्तियों के पास सब कुछ हो और उसे भगवान से कुछ नहीं चाहिए होता है तो फिर भी भगवान उस को मोक्ष दे देता है। अगर हम भगवान से कहे की आप मुझसे धन दौलत ले ले और मुझे आप मोक्ष दे दो तो क्या भगवान हमें मोक्ष देंगे? तो क्या इस पर भगवान हमको मोक्ष देंगे क्या? बिलकुल भी नहीं देंगे। तो इस पर भगवान हमको वहां से चले जाने को कहेंगे और जो ये तुम मुझे देने की बात कह रहे हो वो सब भी तो मेरा ही है। जो मैंने तुझे इस संसार में भेजा है कि जा और तू कुछ सीख ले इस धरती पर जाकर। जो ये तू कहता है की ये मेरा है पर ये तेरा नहीं ये तो मेरा ही है। इस पर भी भगवान हमको मोक्ष नहीं देते है। और उस व्यक्ति को मोक्ष दे देते है जो मात्र इन सात दिनों में श्रीमद भागवत कथा को सुनते है। उस भागवत को सुनाने से बिना मांगे ही वो सब कुछ मिल जाता है जो जन्म जन्म की तपस्या करने के बाद भी हमको नहीं मिलता है। बड़े बड़े ऋषि मुनि जो तरसते रहते है उस मोक्ष को पाने के लिए वो मात्र इन सात दिनों में भागवत कथा को सुनने से ही हमको मिल जाता है। सबसे शुद्ध अंतिम संस्कार भारतीय परंपरा का होता है। पांच तत्व से बना हुआ ये हमारा शरीर अंत में चिता पर जलने के बाद ही इन पांचों तत्वों में ही इसको समर्पित कर दिया जाता है। एक भी तत्व हमारे अंतिम संस्कार से वंचित नहीं रहता है। लेकिन आज के मनुष्य के पास इतना समय ही नहीं होता है कि वो भागवत कथा को सुने। लेकिन गन्दी जगह पर वही व्यक्ति बिना बुलाए ही चला जाता है और काफी पैसे खर्च करके आ जाता है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

20Nov 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 19 से 26 नवंबर तक 2017 महादेव स्टेट कामधेनु मैदान , कृष्णा कुंज सोसाइटी के सामने, गणेश चौक नई RTO रोड वस्त्राल, अहमदाबाद में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के द्वितीय दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

महाराज श्री ने कहा कि हमको तो सदा ही अच्छे और बुरे का फर्क लेकर ही भगवान की भक्ति को करते रहना चाहिए। क्योँकि उसी के अनुसार ही हम अपने सभी कार्यों को कर सकते है। हमको तो सदैव ही अच्छे कार्य ही करने चाहिए और बुरे कार्यों से सदा के लिए ही दूर रहना चाहिए। तभी हमारा इस संसार में सही रूप से गुजारा हो सकता है। भगवान भी उन्ही का साथ देते है जो सदा कर्मों में लिप्त रहते है। जो लोग सदा ही बुरे कार्य करते है उनसे तो भगवान सदा ही दूरी बनाये रखते है। महाराज श्री ने आगे कहा की पहले हम सब को भगवान की भक्ति करने पर ही जोर दिया है। महाराज श्री ने हमको बताया कि प्रभु भक्ति से ही हम सब के पाप आसानी से धुल जाते है। क्योँकि आज के इस कलयुग में सभी अपने अपने काम करने में ही लगा रहता है। उसको भगवान की भक्ति करने का भी समय नहीं रहता है। लेकिन अपने जीवन को सही ढंग से जीने के लिए और अपने जीवन की सभी समस्याओं को दूर करने के लिए हमको भगवान की पूजा करनी चाहिए। भगवान की पूजा करने के लिए सबसे पहले तो हमारा मन स्वच्छ और साफ़ होना चाहिए। क्योँकि साफ़ और सवच्छ मन में ही भगवान का वास होता है। जब हमारा मन साफ होगा तो तभी हमारे मन में दूसरों के लिए अच्छे विचार आएंगे। जब हम दूसरों से प्यार करेंगे तो स्वयं भगवान भी हमसब से प्रेम करेंगे। और हमारे जीवन में आने वाली सभी समस्याओं को दूर कर देंगे। प्रभु भक्ति से ही हम सब का हर तरह से कल्याण हो सकता है। इसलिए तो हम सबको कभी न कभी भागवत कथा का श्रावण करना चाहिए। भागवत कथा हमको इंसान बनाती है। भगवात कथा ही हम सब को सही मायने में जीना सिखाती है। यहाँ पर महाराज श्री ने बताया कि यदि हम सात दिन की भागवत कथा को सुनेंगे तो अवश्य ही हमको इन सात दिनों में बहुत कुछ ऐसा सिखने को मिलेगा जो हम सब के लिए लाभकारी होगा और जिसके बारे में कभी भी हमने सुना ही नहीं होगा। महाराज श्री ने कहा कि भगवान त्रिलोकीनाथ जी की कृपा से ही हम सब को यह मानव जीवन प्राप्त होता है। उन्ही की कृपा से ही हम सब इस भागवत कथा को सुनते है। कहते है कि अगर मानव जीवन प्राप्त करने के बाद यदि हमने भगवान की भक्ति नहीं की ,अगर जीव ने दानपुण्य नहीं किया,अगर जीव सुरमा नहीं है ,अगर जीव भक्त है है ,अगर जीव तपस्वी नहीं है ,ऐसे व्यक्ति को मानव कहना बिलकुल ही गलत है। ऐसा मनुष्य तो केवल माँ का मलमूत्र ही है। इसके आलावा और कुछ भी नहीं होता है। उसे तो केवल माँ का मलमूत्र ही कहना उचित होता है। उसे तो मानवों की शृंखला में रखना ही गलत होता है। जिसने मानव जीवन पा कर तपस्या नहीं की ,दानपुण्य नहीं किया ,सुरमा नहीं हुआ ,भगवान का भक्त नहीं हुआ, ऐसे मानव जीवन को पाकर तो सिर्फ लाभ ही क्या हुआ। ना जाने आपके कितने जन्मों के पुण्य के फल के दवारा ही आपको इस श्रीमद भागवत कथा को सुनने का सौभाग्य आपको प्राप्त हुआ है ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

21Nov 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 19 से 26 नवंबर तक 2017 महादेव स्टेट कामधेनु मैदान , कृष्णा कुंज सोसाइटी के सामने, गणेश चौक नई RTO रोड वस्त्राल, अहमदाबाद में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के तृतीय दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

महाराज श्री ने कहा, भगवान साकार के लिए साकार रूप में है और निराकार के लिए निराकार स्वरुप है। आप उसको किस रूप में भजे ये आपके ऊपर है। भगवान तो आपको उस ही रूप में प्राप्त होंगे। परन्तु आज के बच्चे अच्छी बात नहीं सीखेंगे, क्योंकि हमारे बड़े हमें जो सिखाते है हम उस पर ध्यान नहीं देते हैं लेकिन जो हमारे दोस्त हमें सिखाते है वो हम पूर्ण रूप से हम अपने जीवन में उतार लेते है। मैं एक बात बार-बार कहता हूँ की आपके माँ -बाप कभी आपका बुरा नहीं चाहते। दोस्त आपको गलत बात सिखाते है, पीना सिखाते है पर हमारे माँ - बाप हमे वो सिखाते है जिससे हमारा कल्याण हो। शुकदेव जी महाराज जो सबसे बड़े वैरागी है चूड़ामणि है उनसे राजा परीक्षित जी ने प्रश्न किया कि हे गुरुदेव जो व्यक्ति सातवें दिन मरने वाला हो उस व्यक्ति को क्या करना चाहिए? किसका स्मरण करना चाहिए और किसका परित्याग करना चाहिए? कृपा कर मुझे बताइये... इस बात से एक प्रसंग याद आ रहा है की जब यक्ष ने धर्मराज से प्रश्न किया तो उनमें से एक प्रश्न यह भी था की संसार का सबसे बड़ा आश्चर्य क्या है? तो धर्मराज ने उत्तर दिया की लोग अपने ही हाथो अपने ही लोगो को शमशान में अंतिम विदाई देकर आते है अपने ही हाथो जला कर आते है फिर भी लौट कर ऐसे जीते है की उनको कभी नहीं मरना। ये ही सबसे बड़ा आश्चर्य है की हम संसार में इस अटल सत्य को भूल जाते है की हमको एक न एक दिन मरना अवश्य पड़ेगा। तो हम क्यों सत्कर्म नहीं करते की हमारा ये मानव जन्म सुधरे, क्यों हम दुसरो की बुराई करते है? अनावश्यक पाप कर्मो को करते है। ये अज्ञानता के वशीभूत होकर सत्य को भुला देते है। यही संसार का सबसे बड़ा आश्चर्य है. अब शुकदेव जी ने मुस्कुराते हुए परीक्षित से कहा की हे राजन ये प्रश्न केवल आपके कल्याण का ही नहीं अपितु संसार के कल्याण का प्रश्न है। तो राजन जिस व्यक्ति की मृत्यु सातवें दिन है उसको श्रीमद भागवत कथा का श्रवण करना चाहिए तो उसका कल्याण निश्चित है। श्रीमद भागवत में 18000 श्लोक, 12 स्कन्द और 335 अध्याय है जो जीव सात दिन में सम्पूर्ण भागवत का श्रवण करेगा वो अवश्य ही मनोवांछित फल की प्राप्ति करता है। राजा परीक्षित ने शुकदेव जी से प्रार्थना की हे गुरुवर आप ही मुझे श्रीमद भागवत का ज्ञान प्रदान करे और मेरे कल्याण का मार्ग प्रशस्थ करे। भगवान को मनाने की कोशिश करते रहना चाहिए क्योंकि मानव जीवन द्वार है परमात्मा मिलन का, सतकर्म का और मोक्ष प्राप्ति का। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

22Nov 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 19 से 26 नवंबर तक 2017 महादेव स्टेट कामधेनु मैदान , कृष्णा कुंज सोसाइटी के सामने, गणेश चौक नई RTO रोड वस्त्राल, अहमदाबाद में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के चतुर्थ दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

महाराज श्री ने कथा प्रारम्भ करने से पूर्व भारतीय संस्कृति से जुडी हुई एक कथा को बताया की किस प्रकार हम आज वो सारे कार्य कर रहे है जिसकी आज्ञा भारतीय संस्कृति कभी नही देती। महाराज श्री ने बताया की एक वकील साहब थे और उनके मित्र की पत्नी का उनको एक दिन फ़ोन आया और वो रो रो कर कह रही थी की आप भाईसाहब जल्दी घर आजाइये। वकील साहब तुरंत पहुंजे तो देखा घर का माहौल विचित्र सा था सभी परिवार के सदस्य मुँह लकए थे और भाभी जी तो रो ही रही थी। पूंछने पर पता चला की उनके मित्र जो जज थे अपनी पत्नी को तलाक देना चाहते थे। तो वकील साहब उनको समझने लगे की आप ऐसा कियो कर रहे है आपके दो बच्चे है और भाभी जी इस उम्र में कहाँ जाएगी। जज साहब ने कोई उत्तर नहीं दिया। अचानक ही वकील साहब ने उनकी माता के विषय में प्रश्न किया की तो जज साहब रोने लगे और बोले मेरी पत्नी मेरी माँ के साथ नहीं रहना चाहती। मेरे बच्चे मेरी माँ के साथ प्रसन्न नहीं रहते उनको आज़ादी चाहिए , में अपनी माँ के पास बैठता हूँ तो मेरी पत्नी मुझसे प्रसन्न नहीं होती अनेक प्रकार के ताने मारती है आख़िर मेरी माँ ने कलेश से तंग आकर मुझसे कहा की मुझे वृद्धाश्रम छोड़ आओ। और आज तीन दिन से मेरी माँ एक वृद्धाश्रम रह रही है वो माँ जिसने मुझे इस लायक बनाया की में अपने परिवार की देख भाल कर सकूँ। तो आप ही बताइये की मुझे इनके कारण अपनी माँ को छोड़ना पड़ा कियोकि इनको आज़ादी चाहिए तो क्यों न पूरी आज़ादी देदूं इसलिए में इनको तलाक देना चाहता हूँ। क्योकि आज जो में अपनी माँ के साथ कर रहा हूँ निश्चित रूप से मेरा ये बेटा मेरे साथ करेगा तो में आज से ही उस वृद्धाश्रम में चला जाता हूँ जहाँ मेरी माँ रह रही है। आप ही बताइये क्या यह हमारी भारतीय संस्कार है की अपनी स्वार्थ के लिए अपनी आज़ादी के लिए हम अपनी उस माँ को छोड़ दे जिसने हमे जनम दिया ,हमारे लिए लाखो कष्ट सहे। नहीं प्यारे भारतीय संस्कार तो श्रावण कुमार , राम और सीता जैसे चरित्र का अनुसरण करना सिखाता है। तो हम क्यों पश्च्यात सभ्यता के रंग में रंगकर अपनी सभ्यता का मर्दन अपने ही हाथो कर करे है , क्यों कुसंस्कार का बीज स्वयं अपने हाथो अपने बच्चो में बो रहे है ,क्योकि प्यारे जो बोयेगा काटना भी पड़ेगा। इसलिए आप अपने परिवार में स्वयं ऐसा कोई आचरण न करे जिससे आपके बच्चो पर कुसंस्कार की काली छाया भी पड़े। " राधे -राधे बोलना पड़ेगा "

23Nov 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 19 से 26 नवंबर तक 2017 महादेव स्टेट कामधेनु मैदान , कृष्णा कुंज सोसाइटी के सामने, गणेश चौक नई RTO रोड वस्त्राल, अहमदाबाद में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के पंचम दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

महाराज श्री ने कथा प्रारम्भ करने से पूर्व सुंदर श्लोक भक्तों को श्रवण कराया। गुरु ब्रम्हा गुरु विष्णू गुरुः देवो महेश्वरा गुरु शाक्षात परब्रम्हा तस्मै श्री गुरुवे नमः महाराज श्री ने बताया कि जिन लोगो ने भले कर्म होते हैं सिर्फ उन्ही लोगो को भागवत कथा में मन लगता हैं बाकि जिन लोगो के क्रम भले नहीं होते उनका कथा में मन लगना तो बहुत दूर की बात हैं। आज के युग में भी तो यही हो रहा है हम दिखते कुछ है और होता कुछ है। इसलिए आज प्रभु को पाने में कठिनाई है तुम जैसे हो लालची हो तो वैसे ही जाओ, कामी हो तो वैसे ही, पापी हो तो भी मेरा ठाकुर तुमको अपना लेगा। क्योंकि हो तो आखिर तुम उसके ही। रोज बोलो ठाकुर से जो हूँ जैसा हूँ तुम्हारा ही हूँ वो कब तक नज़र बचाएगा। मेरा ठाकुर इतना दयालु है तार ही देगा। जैसे माँ को बालक जैसा भी हो प्यारा लगता है वैसे तुम जैसे हो वैसे ही मेरे ठाकुर के हो जाओ तो वो तुमको अपना प्यारा बना ही लेगा। श्रीमद भागवत कथा हमें भगवान से मिलने का पात्र बनाती हैं जंहा लोग एक साथ घर वालो के साथ एक साथ नहीं बैठते वही आज भागवत कथा के कारण हज़ारों लाखों भक्त एक साथ बैठकर ठाकुर जी का भजन कर रहे हैं तो ये कृपा ठाकुर जी की हैं जो भगवत कथा के कारण सभी को मिल रही हैं, इसी के साथ ठाकुर जी का वंदन करते है............ मीठे रस से भरी रे, राधा रानी लागे, मने कारो कारो जमुनाजी रो पानी लागे | यमुना मैया कारी कारी राधा गोरी गोरी | वृन्दावन में धूम मचावे बरसाना री छोरी | व्रज्धाम राधाजू की रजधानी लागे || कान्हा नित मुरली मे टेरे सुमरे बरम बार | कोटिन रूप धरे मनमोहन, तऊ ना पावे पार | रूप रंग की छबीली पटरानी लागे || ना भावे मने माखन-मिसरी, अब ना कोई मिठाई | मारी जीबड़या ने भावे अब तो राधा नाम मलाई | वृषभानु की लाली तो गुड़धानी लागे || राधा राधा नाम रटत है जो नर आठों याम | तिनकी बाधा दूर करत है राधा राधा नाम | राधा नाम मे सफल जिंदगानी लागे || ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

24Nov 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 19 से 26 नवंबर तक 2017 महादेव स्टेट कामधेनु मैदान , कृष्णा कुंज सोसाइटी के सामने, गणेश चौक नई RTO रोड वस्त्राल, अहमदाबाद में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के षस्टम दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

महाराज जी ने कहा की वैसे तो सब गोविन्द से मिलना चाहते है , भक्ति करना चाहते पर क्या होता है जब हम उसको पाना चाहते है तो रास्ते में कठिनाई आना शुरू हो जाती है। इसी बात पर एक गोपी ठाकुर से शिकायत करती है की " दूर नगरी, बड़ी दूर नगरी कैसे आऊं मैं सांवरिया, तेरी गोकुल नगरी बड़ी दूर नगरी, बड़ी दूर नगरी ' कथा से पूर्व में आप सभी से एक आग्रह करुँगा की जो मै आपसे रोज कल्चर टैरिरिज्म की बात करता हूँ , उस का कल एक प्रत्यक्ष उदाहरण देखने को मिला कल द्वारिका में एक ४ साल के बालक ने एक ४ साल की बच्ची के साथ गलत कार्य करने का प्रयास किया। तो आप मुझे बतायेगे की ४ साल का अबोध बालक जिसको यह नहीं पता होता की वह लड़का है या लड़की उसको यह गलत कार्य करने की प्रेरणा कहा से मिली ? तो आप सब माता - पिता जो अपनी जान छुड़ाने के लिए अपने बच्चो को जो मोबाईल , टी.वि. कार्टून में लगाए रहते है तो ये भयंकर परिणाम उसी का नतीजा है। आप बताइये की जो कार्टून बच्चे देखते है वह कहा बनते है विदेश में और जहाँ बनते है वहाँ ये प्रतिबंधित है तो हमारे भारत में क्यों दिखाए जाते है। मेरे भाई बहन ये वह का कल्चर हो सकता है पर मेरे भारत का नहीं। मेरे भारत का कल्चर तो राम है कृष्ण है विवेकानंद है तो आप सभी से मेरा आग्रह है की आप अपने बच्चो को रामायण,गीता का ज्ञान दो कम से कम इतना ही दे दो जितना आप जानते हो। एक बार विवेकानंद जी से एक विदेशी महिला ने कहा की स्वामी जी आप मुझसे शादी कर लीजिये क्योकि में आप जैसा एक पुत्र चाहती हूँ तब विवेकानंद जी ने कहा की मैं तो एक ब्रह्मचारी हूँ अगर आपको मेरे जैसा पुत्र चाहिए तो शादी की आवश्यकता है आप मुझे ही अपना बेटा बनालो ऐसा है हमारा भारत का संस्कार। आपने बच्चो को विवेकानंद बनाओ न की कार्टून जैसा जो किसी का मान करना न जाने। आज कलयुग में हर तरफ पाप , लोभ ,काम ,ईर्ष्या का ही जाल है जैसे जल जो बहुत भारी होता है क्यों जहाज पानी के ऊपर चलता है लेकिन जब वही पानी जहाज के अंदर आजाता है तो जहाज डूब जाता है इसी प्रकार आप भी इस कलियुग में रहते हुए अपने जीवन रूपी इस जहाज को इस पाप रूपी संसार से उस पार ले जाओ ना कि कलियुग के इन पापो के अपने अंदर समाकर जीवन को डूबो दो। आप सभी से निवेदन है की आप अपने बच्चो के माता -पिता होने का सही फ़र्ज़ निभाए उनको समय दे। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

25Nov 2017

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 19 से 26 नवंबर तक 2017 महादेव स्टेट कामधेनु मैदान , कृष्णा कुंज सोसाइटी के सामने, गणेश चौक नई RTO रोड वस्त्राल, अहमदाबाद में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के सप्तम दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

श्री देवकी नन्दन ठाकुर जी महाराज ने कथा प्रारम्भ करते हुए कहा कि भगवान श्री कृष्ण ने नरकासुर नाम के असुर का वध किया। नरकासुर ने 16 हजार 100 कन्याओं को बंदी बना रखा था। नरकासुर का वध करके श्री कृष्ण ने कन्याओं को बंधन मुक्त करवाया। इन कन्याओं ने श्री कृष्ण से कहा कि समाज उन्हें स्वीकार नहीं करेगा अतः आप ही कोई उपाय करें। समाज में इन कन्याओं को सम्मान दिलाने के लिए सत्यभामा के सहयोग से श्री कृष्ण ने इन सभी कन्याओं से विवाह कर लिया। इस कारण भगवान ने 16,100 रूप बनाकर सबके साथ एक मुहूर्त में एकसाथ विवाह किया है। कुछ मूर्ख लोग कहते हैं की भगवान कृष्ण ने इतने विवाह किया। भगवान ने किसी कामनावश विवाह नही किया था करुणावश विवाह किया था। भगवान कहते हैं जिसको कोई नहीं अपनाता है अगर वो मेरी शरण में आये तो मैं उसे अपना लेता हूँ। भगवान श्री कृष्ण ने कामदेव पर विजय प्राप्त की है। उनके संकल्प मात्र से उनके पुत्रों की गिनती एक लाख इकसठ हजार अस्सी थी। भगवान श्री कृष्ण ने आजीवन ब्रह्मचर्य का पालन किया। भगवान अपने मुकुट पर मोर पंख इसीलिए लगाते हैं क्योंकि मोर एकमात्र ऐसा प्राणी है जो सम्पूर्ण जीवन में ब्रह्मचर्य का पालन करता है। मोरनी का गर्भ भी मोर के आंसुओ को पीकर ही धारण होता है। इत: इतने पवित्र पक्षी के पंख भगवान खुद अपने सर पर सजाते है। भगवान कृष्ण मित्र और शत्रु के लिए समान भावना रखते है इसके पीछे भी मोरपंख का उद्दारण देखकर हम यह कह सकते है। कृष्ण के भाई थे शेषनाग के अवतार बलराम और नागो के दुश्मन होते है मोर। अत: मोरपंख सर पर लगाके कृष्ण का यह सभी को सन्देश है की वो सबके लिए समभाव रखते है। मोरपंख में सभी रंग है गहरे भी और हलके भी। कृष्णा अपने भक्तो को ऐसे रंगों को देखकर यही सन्देश देते है जीवन ही इस तरह सभी रंगों से भरा हुआ है कभी चमकीले रंग तो कभी हलके रंग, कभी सुखी जीवन तो कभी दुखी जीवन। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

5Dec 2017

बारिश के सैलाब पर भारी पड़ा भक्तों का जन सैलाब

6-13 दिसंबर 2017 तक श्रीमद भागवत के द्वारा शांति सन्देश का अलख जगाने पहुंचे पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज का मुंबई एयरपोर्ट पर शिष्यों, स्वयं सेवक परिवार और सैंकड़ों भक्तों ने भव्य स्वागत किया। भारी बारिश होने के बावजूद हजारों की संख्या में भक्त बाइक व वाहनों द्वारा महाराज श्री का स्वागत करने एयरपोर्ट पर पहुंचे। सभी भक्तों में महाराज श्री के आने का उत्साह देखने योग्य था। यहाँ पर महाराज श्री का स्वागत ढोल, नगाड़ो द्वारा किया गया। एयरपोर्ट पर हर जगह राधे - राधे की गूंज सुनाई दे रही थी। इस अवसर पर मुम्बई के सैकड़ो भक्तों ने एयरपोर्ट पर फूल माला, गुलदस्ते, पगड़ी, शाल भेंट कर उनका स्वागत किया। महाराज श्री ने सभी भक्तों एवं कार्यकर्ताओं का इस भव्य स्वागत के लिए धन्यवाद कहा। यहाँ से महाराज श्री ने निवास स्थान की ओर प्रस्थान किया, महाराज श्री के साथ सैंकड़ों भक्त बाइक एवं कार द्वारा ढोल-नगाड़े बजाते हुए रोड़ से निकले तो दृश्य देखने योग्य था, जगह-जगह पर मुंबई वासियों द्वारा महाराज श्री का पुष्प-माला द्वारा स्वागत किया जा रहा था। महाराज श्री की एक झलक पाने एवं आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए भक्तों में जोश देखते ही बन रहा था। भक्तों का इतना जनसैलाब था की महाराज जी को एयरपोर्ट से निवास स्थान पर पहुँचने में 3-4 घंटे लग गए। जैसे ही महाराज श्री निवास स्थान पहुंचे वहां मौजूद सैकड़ों माताओं-बहनो ने महाराज जी का 108 आरती कर स्वागत किया तथा उन्हें 31 किलो का पुष्प हार भेंट किया। गौरतलब है की पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज 6-13 दिसंबर तक श्रीमद भागवत कथा भक्तों को श्रवण कराएँगे। भारी बारिश को देखते हुए समिति एवं आयोजक ने कथा पंडाल को वाटर प्रूफ बनवाया है और भक्तों को किसी तरह की परेशानी न हो उसकी उचित व्यवस्था भी समिति द्वारा कथा पंडाल में की गई है। देश-विदेश में बैठे भक्त कथा का सीधा प्रसारण दोपहर 3 बजे से आस्था चैनल एवं महाराज जी के यूट्यूब चैनल पर भी देख सकते हैं। कथा से पूर्व हनुमान मंदिर, नवघर रोड़ से कथा स्थल तक सैंकड़ों माताओं बहनो द्वारा कलश यात्रा निकाली जायेगी। इस यात्रा में विभिन्न प्रकार की झांकिया भी निकाली जायेगी। महाराज श्री रथारुढ़ हो कर कलश यात्रा से कथा स्थल तक पहुंचेंगे। सभी मुम्बईवासियों से निवेदन है की इस भव्य और विशाल आयोजन में आकर कथा का लाभ उठायें एवं पुण्य प्राप्त करें। आप सभी मुंबई वासी सह परिवार कथा के लिए आमंत्रित हैं। महाराज श्री के स्वागत के समय विश्व शांति सेवा चैरिटेबल ट्रस्ट के सचिव श्री विजय शर्मा जी, मुंबई कथा के मुख्य संरक्षक - श्री गजेंद्र भंडारी जी, आयोजक समिति -सर्व श्री बनवारी लाल शरण शर्मा, अजय शरण समोटा, पिंटू शरण जी, छुट्टन शरण शर्मा, विनोद शरण, हीराकान्त शरण झा, हेमलता शरण, दिनेश शरण शर्मा, राकेश शरण शर्मा, सुभाष शरण चेजारा, जनार्दन शरण पाठक, कोकिला शरण सोनी, माया रमा प्रसाद शरण सक्सेना, अनीता शरण पुत्र मोनू शरण सोनी, प्रह्लाद शरण सिसोदिया, रेखा शरण शर्मा, किरण शरण शाह पुत्र आयुष शरण शाह, जागृति शरण ठक्कर आदि के सैंकड़ों शिष्य एवं भक्त मौजूद रहे।

6Dec 2017

मुम्बई में निकली भव्य कलश यात्रा

आज मुम्बई में पूज्य श्री महाराज श्री के सानिध्य में हजारों माताओं-बहनों ने कलश यात्रा निकाली। कलश यात्रा हनुमान मंदिर, नवग्रह रोड़ से शुरू होकर कथा पंडाल पहुंची। महाराज श्री के सानिध्य में हजारों भक्तों ने भगवान हनुमान की आरती कर उनसे कथा के लिए आशीर्वाद प्राप्त किया। इस दौरान सैंकड़ों भक्त ढोल-नगाड़े बजाते हुए रोड़ से निकले तो दृश्य देखने योग्य था, जगह-जगह पर मुंबई वासियों द्वारा महाराज श्री का पुष्प-माला द्वारा स्वागत किया जा रहा था। महाराज श्री की एक झलक पाने एवं आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए भक्तों में जोश देखते ही बन रहा था। अनेकों-अनेक प्रकार की झांकियां महाराज श्री के रथ के आगे चल रही थी। महाराज श्री रथारूढ़ होकर कथा स्थल तक पहुंचे। गौरतलब है की पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज 6-13 दिसंबर तक श्रीमद भागवत कथा भक्तों को श्रवण कराएँगे। भारी बारिश को देखते हुए समिति एवं आयोजक ने कथा पंडाल को वाटर प्रूफ बनवाया है और भक्तों को किसी तरह की परेशानी न हो उसकी उचित व्यवस्था भी समिति द्वारा कथा पंडाल में की गई है। देश-विदेश में बैठे भक्त कथा का सीधा प्रसारण दोपहर 3 बजे से आस्था चैनल एवं महाराज जी के यूट्यूब चैनल पर भी देख सकते हैं। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

6Dec 2017

सभी मनोकामनाएं पूर्ण करती है भागवत कथा पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में विश्व शांति एवं मानव कल्याण हेतु आयोजित श्रीमद् भागवत कथा का मुम्बई में आज से शुभारंभ हुआ।

महाराज श्री ने विश्व शांति के लिए प्रार्थना की और भागवत कथा के महत्व भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने 6 दिसम्बर का दिन भक्तो को याद कराया और सभी भक्तों से राम मंदिर बने इसके लिए प्रार्थना करने के लिए कहा। महाराज श्री ने कहा कि इस दिन रामभक्तों ने राम मंदिर अयोध्या में बने इसकी इच्छा प्रकट की। पर हमारे ही देश में दो विचार धाराएँ कार्य कर रही है एक की अयोध्या में श्री राम मंदिर बने और दूसरा की मंदिर नहीं बनाना चाहिए। एक बात बताये जब इंडोनेशिया में राम मंदिर हो सकता है जहाँ की पूरी आबादी मुस्लिम समुदाय की है तो भारत जैसे हिन्दू देश में अयोध्या में जहाँ भगवान श्री राम का जन्म हुआ वहाँ मंदिर क्यों नहीं बनना चाहिए? अगर कोई चरित्र धारण करने योग्य है तो वह चरित्र है श्री राम का। अपने धर्म के प्रति, अपने गुरु के प्रति, अपने माता-पिता के प्रति, अपने भाई के प्रति,अपनी पत्नी व्रत प्रति, क्या व्यवहार होना चाहिए? कैसा चरित्र होना चाहिए? ये हमे राम से सीखना चाहिए। पर आज कल के बच्चे राम के चरित्र से दूर हो रहे है, कारण क्या है? तो जबाब बस इतना ही है की हम अपने बच्चों को कार्टून तो दिखाते है राम नहीं। तो दुर्भाग्य है इस देश का जहाँ राम मंदिर बनने के लिए वाद - विवाद होता है सरकार को भय लगता है की कही हड़कंप ना मच जाये देश में, तो आप बताये कैसे चरित्रवान बनेगा भारत का युवा और कैसे देश का विकास होगा? आप जानते है की मुस्लिम बहनें भी यही चाहती है की उनका बेटा राम जैसा आज्ञाकारी हो। चाहे वो कोई भी मजहब हो भगवान श्री राम सबके आदर्श है क्योकि राम ने किसी से कुछ छिना नहीं बल्कि दिया है। उन जैसी त्याग की भावना किसी के भी अंदर नहीं। न्यूज़ में भी बताया गया की वहां 10 सबूत मिले है राम मंदिर होने के। राम भारत के आदरणीय व अनुकरणीय उदहारण है। मैं तो कहता हूँ की भारत में ही नहीं बल्कि पाकिस्तान, अमेरिका, इंडोनेशिया व पूरे विश्व में राम मंदिर होना चाहिए ताकि पूरा विश्व चरित्रवान बन सके। जहाँ एक ही सभ्यता हो जियो और जीने दो। आओ हम सब प्रार्थना करे की हमारे प्रभु श्री राम अब तिरपाल में न रहे उनका भव्य मंदिर बने, जहाँ सभी भक्तो की मनोकामनाएं श्री राम पूरी करे। इससे पूर्व कथा का शुभारंभ महाराज श्री के सानिध्य में श्रीमती डिम्पल मेहता महापौर, भायंदर ने दीप प्रज्वलित कर किया। इस अवसर पर श्री जेपी सिन्घल जी,श्री हरजीवन प्रसाद जी दिल्ली,श्री मुरारी जी,श्री बनवारी लाल जी,श्री अजय समोता आदि मौजूद रहे। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा। ।।

7Dec 2017

भागवत साधन भी है और साध्य भी पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 6 से 13 दिसंबर 2017 तक, भायंदर, ईस्ट मुम्बई में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के प्रथम दिवस पर भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

आज कथा के प्रारम्भ होने से पहले मुंबई के कार्यकर्ताओं एवं समिति के सदस्यों द्वारा महाराज जी को सूंदर पगड़ी बांध कर उनका अभिनन्दन किया। इस पर महाराज जी ने सभी भक्तों को इतने प्रेम के लिए धन्यवाद दिया और कहा की जितना सूंदर मेरे ठाकुर का द्धार आप सभी कार्यकर्ताओं ने सजाया है व जितने प्यार से जो ये पगड़ी बांधकर आपने ये प्यार मेरे सर माथे दिया है उसके लिए आप सभी का बहुत-बहुत साधुवाद। महाराज जी ने बताया की भागवत कथा सुनने से किस प्रकार प्राणी का कल्याण हो जाता है जो भी भागवत की शरण में आएगा उस की मुक्ति निश्चित है, भागवत परमात्मा स्वरुप है। इसमें श्याम सुन्दर की कथा है। जो लोग ये कहते है की भागवत में राधा रानी का नाम नहीं है। तो मैं यह उनको बता देना चाहता हुँ कि भगवात में राधा रानी का नाम एक बार नहीं कई बार आता है। भागवत प्रारंभ ही सर्वेश्वरी राधा रानी के नाम से होती है क्योंकि इसे श्रीमद भागवत कहते है तो प्यारे श्री का मतलब ही राधा है। तो बोलो कौन कौन राधा रानी के बारे में सुनना चाहते है? राधा रानी के स्वरुप का वर्णन जो पुराणों में किया गया हो उसे कही अधिक रहस्यमयी है। राधा रानी के स्वरुप का वर्णन तो स्वयं कृष्ण भी नहीं कर सकते। अगर राधा रानी को जानना है तो पहले अपने आप को जानिए, आप मन है, आप बुद्धि है, ये शरीर आपका है तो कौन है? अगर आपसे पूछा जाये तो आप कहेगे की ये मेरी आत्मा है, मेरा शरीर है, मेरी बुद्धि है और ये शरीर इस आत्मा का नौकर है। मैं ऐसा क्या करुँ की मेरी आत्मा प्रसन्न हो जायें, अब मुझे बताये की अगर शरीर आत्मा के अधीन है तो आत्मा का स्वामी कौन? तो आत्मा का स्वामी है परमात्मा श्री कृष्ण ये मेरी आत्मा उसी कृष्ण का अंश है। और श्री कृष्ण की आत्मा है राधा रानी। तो ये जो आत्मा बुद्धि और वाणी का विषय नहीं है। कोई मेरी आत्मा का वर्णन कैसे कर सकता है तो जब मेरे प्रभु की आत्मा ही राधा रानी है। तो उनका वर्णन तो संभव भी नहीं है। बस हम इसको अनुभव कर सकते है और वो भी तब ही जब हम कृष्ण रस का रसपान करे। महाराज श्री ने कहा कि कलयुग में भागवत सबसे कल्याणकारी है। भगवान श्री कृष्ण के मुख से निकली भागवत ज्ञान गंगा की कोई सीमा नहीं है। भगवान प्राप्ति के लिए भागवत साधन और साध्य दोनों है। भगवान श्रीकृष्ण ने भागवत में अपने स्वरूप को ढाला है। इसलिए भागवत साक्षात श्री कृष्ण है और श्री कृष्ण अपने भक्तों की सच्ची पुकार को कभी नहीं ठुकराते। महाराज श्री ने अपार भीड़ को वृंदावन की महिमा बताते हुए कहा कि वृंदावन में पैदा होने की इच्छा लेकर देवताओं ने भी कठोर तपस्या की। ब्रह्मा जी ने यहाँ जन्म लेने के लिए हजारों वर्षों तक तपस्या की। यहां तक कि वृज में पैदा होने पर्वत बनना भी स्वीकार किया। ताकि श्री कृष्ण को चाहने वालों के पैरों की धूल अपने ऊपर पड़ सके। ऐसा माना जाता है कि वृज को भगवान श्री कृष्ण का सानिध्य प्राप्त है । कथा को आगे बढ़ाते पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने कहा कि मानव जीवन की इच्छा भगवत प्राप्ति की होनी चाहिए। सांसारिक चिंताओं से परे हटकर केवल आत्म कल्याण की सोचो। इस जिंदगी में जब भी कोई दुख आ जाए तो उसे इस दुनिया वालों को मत सुनाना। क्योंकि यह दुनिया वाले तुम्हारे दुख को सबके सामने फैला देंगे। अपना दुःख केवल दो ही लोगों को सुनाना। एक अपने गुरु और दूसरे अपने परमात्मा को। यह निश्चित समझो तुम्हारा सब दुख हमेशा के लिए दूर हो जाएगा। || राधे राधे बोलना पड़ेगा ||

8Dec 2017

जीवन में श्याम नहीं तो आराम नहीं

कथा प्रारम्भ करते हुए पूज्य महाराज श्री ने कहा की श्रीमद भागवत कथा कलयुग में मोक्ष का एक सर्वश्रेठ मार्ग है। श्रीमद भागवत कथा सुनने मात्र से ही जीव का कल्याण हो जाता है। पर कलयुग का जीव सब कुछ विपरीत ही करता है। ऋषियों ने बताया की कलयुग में भगवान का सुमिरन मात्र से ही ईश्वर को पाना संभव है, परन्तु सतयुग में द्वापर में अन्य सभी युगों में यह अत्यन्त कठिन कार्य था, परन्तु सरल मार्ग पाने के बाद भी आज का कलियुगी मानव शुभ को अशुभ और अशुभ को शुभ कर देता है। महाराज श्री ने कहा कि व्यास जी ने जब इस भगवत प्राप्ति का ग्रंथ लिखा, तब भागवत नाम दिया गया। बाद में इसे श्रीमद् भागवत नाम दिया गया। इस श्रीमद् शब्द के पीछे एक बड़ा मर्म छुपा हुआ है श्री यानी जब धन का अहंकार हो जाए तो भागवत सुन लो, अहंकार दूर हो जाएगा। इस सांसारिक जीवन में जो कुछ भी प्राप्त किये हो सब किराए के मकान की तरह है। खाली करना ही पड़ेगा। व्यक्ति इस संसार से केवल अपना कर्म लेकर जाता है। इसलिए अच्छे कर्म करो। भाग्य, भक्ति, वैराग्य और मुक्ति पाने के लिए भागवत की कथा सुनो। देवकीनंदन जी की भागवत के अनुसार कलयुग की चर्चा करते हुए बताया कलयुग में लोगों की स्थिति विचित्र होगी। लोग अशुभ को समझ नहीं पाएंगे। कलयुगवासी गाय के बजाय बकरियां पालेंगे और देखा भी तो जा रहा है। लोग कुत्ते पाल लेते हैं लेकिन गाय नहीं पालते। संबंधों के बारे में बोलते हुए महाराज श्री ने कहा की कलयुग के बारे में कहा गया है कि बेटा बाप को आदेश देगा, बहुएँ सास पर हुक्म चलाएंगी, शिष्य वचन रुपी बाण से गुरु का दिल भेदन करेंगे। सभी ब्राह्मण बनने की कोशिश करेंगे। उन्हें दान लेने में भी हिचक नहीं होगी। अपने मत के अनुसार किए गए कर्म को ही लोग अपना धर्म बताएंगे। भुखमरी बढ़ेगी और संबंधों की अहमियत खत्म होती जाएगी। लोग पशुओं जैसे आचरण करते मिलेंगे। मांसाहार बढ़ेगा, सिर्फ धन के लिए ही लोग जिएंगे, भजन के बिना तेज कम होगा, लोगों की उम्र कम होगी। लेकिन अंत में जब इसका आभास होने लगेगा तब फिर धर्म की और लोगों की प्रवृत्ति बढ़ेगी। कलयुग के लोगों में धर्म की प्रवृति बढ़ा कर उनका उद्धार करने की जिम्मेदारी श्री शुक जी को सौंपी गई और वह इसके लिए तैयार भी हो गए। महाराज श्री ने कहा कि भगवान शंकर जी ने पार्वती जी को जो अमर कथा सुनाई वह भागवत कथा ही थी। लेकिन मध्य में पार्वती जी को निद्रा आ गई। यह पूर्व जन्मों के पाप का प्रभाव होता है कि कथा बीच में छूट जाती है। भगवान की कथा मन से नहीं सुनने के कारण ही जीवन में पूरी तरह से धार्मिकता नहीं आ पाती है। जीवन में श्याम नहीं तो आराम नहीं। भगवान को अपना परिवार मानकर उनकी लीलाओं में रमना चाहिए। गोविंद के गीत गाए बिना शांति नहीं मिलेगी। धर्म, संत, मां-बाप और गुरु की सेवा करो। जितना भजन करोगे उतनी ही शांति मिलेगी। संतों का सानिध्य हृदय में भगवान को बसा देता है। क्योंकि कथाएं सुनने से चित्त पिघल जाता है और पिघला चित्र ही भगवान को बसा सकता है। श्री शुक जी की कथा सुनाते पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने बताया कि श्री शुक जी द्वारा चुपके से अमर कथा सुन लेने के कारण जब शंकर जी ने उन्हें मारने के लिए दौड़ाया तो वह एक ब्राह्मणी के गर्भ में छुप गए। कई वर्षों बाद व्यास जी के निवेदन पर भगवान शंकर जी इस पुत्र के ज्ञानवान होने का वरदान दे कर चले गए। व्यास जी ने जब श्री शुक को बाहर आने के लिए कहा तो उन्होंने कहा कि जब तक मुझे माया से सदा मुक्त होने का आश्वासन नहीं मिलेगा। मैं नहीं आऊंगा। उन्हें आश्वासन मिला तभी वह बाहर आए। जब श्री शुकदेव जी पिता की आज्ञा पर जनक जी के यहां पहुंचे तब जनक जी ने उन्हें 3 दिनों तक इंतजार कराया। लेकिन शुकदेव जी के मुख पर प्रसन्नता के अलावा कोई भाव नहीं आया। जनक जी ने उन्हें कई सुंदरियों के बीच रखा। लेकिन शुकदेव जी नजरें झुका अपने इष्ट देव को भजते रहें। याद रखना भक्ति में नजर झुका कर रखना। जनक जी ने उनके ब्रह्मचर्य का परीक्षण कर लिया। कथा के बीच में महाराज जी भगवान के गीतों से भाव विभोर कर रहे हैं। पंडाल में भागवत कथा सुनने श्रोताओं का हुजूम उमड़ रहा है। !! राधे राधे बोलना पड़ेगा !!

8Dec 2017

संतों के अपमान पर भगवान भी नहीं बचाते।

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 6 से 13 दिसंबर 2017 तक, भायंदर, ईस्ट मुम्बई में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के तृतीय दिवस पर भगवान ध्रुव की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने भागवत कथा श्रवण कराते हुए कहा कि भगवान अपने बारे में मानव से हुई भूल को तो भुला सकते हैं लेकिन संतों को लेकर की गई भूल के दुष्परिणाम से वह भी नहीं बचाते। इसका उदाहरण है कि राजा परीक्षित ने जब संत का अपमान किया तो राजा परीक्षित को भी काल के काल में जाने के लिए छोड़ दिया। याद रखो तन दुनिया का है और मन कन्हैया का। इस दुनिया में सम्बन्ध बनाने से पहले लोग पूछते हैं परिवार कितना है, व्यापार कितना है? लेकिन कोई यह नहीं पूछता कि भगवान से प्यार कितना है? मानव जीवन पाने पर भागवत प्राप्ति की कोशिश करनी चाहिए। भगवान मानव को जन्म देने से पहले कहते हैं ऐसा कर्म करना जिससे दोबारा जन्म ना लेना पड़े। मानव मुट्ठी बंद करके यह संकल्प दोहराते हुए इस पृथ्वी पर जन्म लेता है। प्रभु भागवत कथा के माध्यम से मानव का यह संकल्प याद दिलाते रहते हैं। भागवत सुनने वालों का भगवान हमेशा कल्याण करते हैं। भागवत ने कहा है जो भगवान को प्रिय हो वही करो, हमेशा भगवान से मिलने का उद्देश्य बना लो, जो प्रभु का मार्ग हो उसे अपना लो, इस संसार में जन्म-मरण से मुक्ति भगवान की कथा ही दिला सकती है। भगवान की कथा विचार, वैराग्य, ज्ञान और हरि से मिलने का मार्ग बता देती है। राजा परीक्षित के कारण है भागवत कथा पृथ्वी के लोगो को सुनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। समाज द्वारा बनाए गए नियम गलत हो सकते हैं किंतु भगवान के नियम ना तो गलत हो सकते हैं और नहीं बदले जा सकते हैं। महाराज श्री ने कथा में आगे कहा कि जितना जतन अपने तन को सजाने में करते हो, उसका थोड़ा भी यदि मन को सजाने में लगा दो तो परिणाम देखना। तन की सुंदरता पर दुनिया मोहित होती है और मन की सुंदरता पर मोहन मोहित होते हैं। अपने अपमान करने वालों को भी सम्मान देने वाला ही सुंदर मन वाला होता है। पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने कहा कि ध्रुव जी महाराज ने अपनी कठोर तपस्या से मात्र 6 माह में प्रभु दर्शन कर लिया। जब प्रभु ने उनसे कहा कि वर मांगों तो उन्होंने कहा कि अपने चरणों की भक्ति दे दो। प्रभु ने ध्रुव जी महाराज को भक्ति के साथ-साथ में विष्णु लोक में एक लोक दे दिया जो ध्रुव लोक कहलाया। ध्यान देना घर में एक सुपुत्र आ जाए तो पूरे परिवार का बेड़ा पार हो जाता है। ध्रुव जी महाराज की कथा भक्ति मार्ग पर चलने का सौभाग्य बनाती है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

9Dec 2017

भक्तों की मर्यादा के आगे प्रभु अपनी मर्यादा का ख्याल नहीं रखते।

श्रीमद् भागवत कथा में राजा बलि की कथा श्रवण कराते हुए पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने कहा कि जब राजा बलि ने भगवान वामन को तीन पग का दान दे दिया। तब भगवान ने दो पग में ही सब कुछ नाप लिया। फिर भगवान ने राजा बलि की ओर देखा तोराजा बलि ने कहा, "प्रभु तीसरे पग में आप मुझे नाप लीजिए मेरा संकल्प पूरा हो जाएगा"। भगवान अति प्रसन्न हुए और बोले वरदान मांगो। प्रभु की बात सुनकर राजा बलि की पत्नी ने कहा प्रभु यह सब तो आप ही का था राजा भ्रम में इसे अपना समझ बैठे थे। अच्छा किया आज आपने यह भ्रम तोड़ दिया। भगवान वामन ने राजा बलि को न केवल उनको राज्य दिया बल्कि उनका पहरेदार बनना भी स्वीकार कर लिया। भक्तों भगवान भक्तों की मर्यादा के आगे अपनी मर्यादा का ख्याल नहीं करते। महाराज श्री ने कथा को आगे बढ़ाते हुए कहा कि नारायण के ना आने पर लक्ष्मी जी बेचैन हो गई और सच्चाई पता चलने पर प्रभु को पुनः वापस लाने के जतन में लग गई। लक्ष्मी जी राजा बलि के मार्ग पर बैठ कर रोने लगी। जब राजा बलि ने कारण पूछा तो उन्होंने बताया कि रक्षाबंधन आ रहा है और मेरा कोई भाई नहीं है। यह बात सुनकर राजा बलि ने उन से राखी बंधवाई और जब बदले में राजा बलि ने कुछ मांगने की बात कही तो लक्ष्मी जी ने उनसे उनके पहरेदार की मांग कर ली। मेरे प्यारे भक्तों दानवीर हो तो राजाबलि जैसा लक्ष्मीपति को त्रिलोक दे दिया और लक्ष्मी को त्रिलोकीनाथ दे दिया। कथा में आगे पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने एकादशी व्रत की महिमा बताते हुए कहा कि परमात्मा सत्य और व्रत के बिना नहीं मिलते। भगवत प्राप्ति हेतु एकादशी का व्रत करना चाहिए। भगवान नारायण को एकादशी व्रत बहुत प्रिय है। एकादशी व्रत सांसारिक कामना लेकर मत करना। बल्कि अपनी मुक्ति के लिए करना चाहिए। महाराज श्री ने भगवान के नाम की महिमा बताते हुए कहा कि जब कोई काम नहीं आता तब गोविंद याद आते हैं। गजराज का पैर जब मगर में पकड़ रखा था तब उनके सभी संबंधी उसे छोड़ कर चले गए। गजराज की केवल थोड़ी सी तू ही पानी के ऊपर थी अंत समय में गजराज ने नारायण को पुकारा गजराज केवल गो कहा भगवान प्रकट हो गए और जब तक गोविंद नाम पूरा हुआ भगवान ने सुदर्शन चक्र से ग्राह का वध कर दिया। याद रखना भगवान से संबंध बनाए बिना कोई काम नहीं बनेगा भगवान से रिश्ता जोड़ सांसारिक उत्सव भले छूट जाएं लेकिन भगवान का कोई उत्सव छूटना नहीं चाहिए। भगवान की कथा चरित्र का निर्माण करती है। उन्होंने कहा कि देश का यह दुर्भाग्य है कि कोर्ट में तो गीता की शपथ दिलाई जाती है, लेकिन हमारे पाठ्यक्रम में गीता और रामायण को अनिवार्य नहीं किया जाता। आज की कथा में भगवान श्री कृष्ण का जन्मोत्सव मनाया गया। रविवार को श्रोताओं का सैलाब उमड़ पड़ा। आयोजन से जुड़े सभी लोग व्यवस्था को बनाये रखने में लगे हुए थे। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

10Dec 2017

युवा शांति संदेश

आज पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में युवाओं एवं बच्चों के लिए "युवा शांति संदेश" का आयोजन किया गया, जिसमें महाराज श्री ने सभी युवाओं एवं बच्चों के धर्म और संस्कृति से जुड़े सवालों का एक-एक करके जवाब दिया।

29Oct 2017

" मृत्यु के रहस्य को समझने के बाद हमें मृत्यु से भय नहीं लगेगा "

परम पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में मोतीझील ग्राउंड, कानपुर में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के सप्तम दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया तथा इसके साथ मृत्यु के रहस्य को भी समझाया। महाराज श्री ने बताया की मृत्यु का रहस्य हल्का सा रहस्य हैं इस रहस्य को जो समझ लेगा उसके बाद उसे कभी मृत्यु से कभी भय नहीं होगा। प्रतिदिन हम मरते हैं आप सोच रहे होंगे प्रतिदिन हम कैसे मरते हैं? महाराज श्री ने बताया जब हम सोने जाते हैं जब आपको नींदआती हैं तब आप सोचिये की आप जिन्दा हो या मरे हुए, जैसे आप मृत्यु के बाद कुछ नहीं कर सकते। वैसे ही आप सोने के बाद कुछ नहीं कर सकते, सो गए तो दुनिया से खो गए वैसे ही मर गए तो भी दुनिया से खो गए, सोना यानि निद्रा ये भी मृत्यु से काम नहीं हैं ये मृत्यु का दूसरा रूप हैं हम रोज मरने जाते हैं कभी दोपहर को कभी शाम को रोज मरने जाते हैं और अपनी मर्जी से जाते हैं। फिर भी हमें कोई डर नहीं होता हैं क्योकि हमे पता होता हैं कि सो कर उठ जाने के बाद ही वही सब वही शुरू हो जायेगा। यही पुत्र हमारे हैं ये परिवार हमारा हैं। यही घोडा-गाड़ी सब हमारा हैं ये मकान दुकान सब हमारा हैं पर मृत्यु से इसीलिए डर लगता हैं की हमे लगता हैं की सब छूट जायेगा। इस भागवत ने हमको सिखाया हैं कि जब एक व्यक्ति मरता है तो दुखी होता है और जब दूसरा व्यक्ति मरता हैं तो सुखी होता है। महाराज श्री ने ये भी बताया की मंगल स्वरुप ये दुनिया नहीं ये मंगल स्वरुप दुनिया बनाने वाला है। हमको आपको हम सभी को उसी स्वरुप के चरण शरण ग्रहण करना चाहिए। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

28Oct 2017

"चौरासी लाख योनियों में मानव जीवन को ही सर्वश्रेष्ठ माना गया है"

"चौरासी लाख योनियों में मानव जीवन को ही सर्वश्रेष्ठ माना गया है" परम पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में मोतीझील ग्राउंड, कानपुर में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के षष्टम दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज जी ने बताया की इस जीवन की कीमत केवल एक साधक ही जान सकता है क्योंकि यह मानव जीवन अनमोल है और इसको कुसंगति से बर्बाद नहीं करना चाहिए। इस चौरासी लाख योनियों में मानव जीवन को सर्वश्रेष्ठ माना गया है क्योंकि इसमें हमें प्रभु का नाम सुमिरन करने का सत्संग करने का अवसर प्राप्त होता है। राम नाम सुमिरन से मानव जीवन का कल्याण हो जाता है। एक बार का प्रसंग बताते हुए महाराज जी ने कहा की एक आश्रम में एक शिष्य और गुरु जी थे किसी कार्य के कारण उनको आश्रम से बहार जाना पड़ा। शिष्य अकेला रह गया, तो वहां एक ग्रामीण आया उसने गुरूजी के विषय में पूछा की मुझे गुरूजी से मिलना है तब शिष्य ने बताया की गुरूजी तो नहीं है क्या मैं कुछ आपकी मदद कर सकता हूँ? उस आदमी ने बताया की मेरा लड़का बीमार है। तब शिष्य ने बताया की आप एक उपाय करे किसी स्थान पर तीन बार राम नाम लिखना और फिर उसको स्नान कराकर वो जल अपने बालक को पिला देना ईश्वर आपकी सहायता करेगा। उस व्यक्ति की एक पत्थर पर तीन बार राम का नाम लिख कर पत्थर को स्न्नान करा वह जल अपने बेटे को पिला दिया और जल पीते ही उसका बेटा ऐसे ठीक हो गया की जैसे उसको कुछ हुआ ही नहीं। अब उस व्यक्ति ने सोचा की में उस शिष्य को धन्यवाद तो दे आऊं। उसके उपाय के कारण मेरा पुत्र ठीक हो गया। आश्रम पहुंचने पर देखा की गुरूजी आ गये तो उसने पूरा वृतांत गुरूजी को बताया, तो गुरु ने शिष्य को बुलाया और बहुत डाटा की तुमको भगवान के नाम का महत्त्व नहीं पता, जो काम एक बार लिखने से होता वहाँ तुमने तीन बार राम का नाम लिखवाया। ऐसा है प्यारे राम नाम की महत्ता और साधक को उस नाम की परख। तो प्यारे इस अनमोल मानव जीवन को व्यर्थ न जाने दो, सत्संग करो, गोविन्द की साधना करो, मेरे गोविन्द जरूर कृपा करेंगे, क्योंकि वो कभी अपने भक्तो से दूर नहीं होता। वो तो हर वक़्त आपके साथ है और असीम कृपा बरसाता है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

27Oct 2017

"एक अच्छा इंसान बनने के लिए हमको पहले भारतीय संस्कृति और वैदिक संस्कृति को समझाना पड़ेगा "

परम पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में मोतीझील ग्राउंड, कानपुर में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के पंचम दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। यहां महाराज श्री ने कथा प्रारम्भ करते हुए कहा कि सबसे पहले आप भारतीय संस्कृति, वैदिक संस्कृति को समझिये, तब यह निर्णय लीजिये की आप अपने बच्चों को क्या बनाना चाहते है? आपका बच्चा मदिरालय जाये या मंदिर जाये, मूवी जाये या सत्संग जाये, स्मोकिंग/ड्रिंकिंग करे या भगवान का चरणामृत पीये, बुढ़ापे में आपको हाथ पकड़ कर घर से निकाल दे या फिर श्रवण कुमार की तरह आपकी सेवा करे। आप अपने बच्चे को ऐसा डॉ. बनाना चाहेंगे जो मुर्दे से भी पैसा कमाए या ऐसा वैध बने जो किसी के पास पैसा न हो तब भी उसका इलाज कर उसकी जान बचाये। आप अपने बच्चे को ऐसा वकील बनायेगे जो खुद पैसा कमाने के लिए अपने क्लाइंट का केस लम्बा चलाये चाहे उसका घर बार बिक क्यों न जाये, या फिर ऐसा की चाहे कुछ भी हो में अपने क्लाइंट को न्याय दिलवाये। क्या आप अपने बेटे-बेटियों को ऐसा इंजनियर बनाना चाहेंगे जो ऐसे पुल का निर्माण करे जिसमे लोगो की जान चली जाये या फिर ऐसा की उनके बनाये हुई भवन सालो साल चले उनका जगत में नाम हो एक अच्छे समाज का निर्माण हो। आप अपने बच्चो को कैसा बनाना चाहते हो? भारतीय बनाना चाहते हो या अमेरिकन? अभी मैं हाल ही में अमेरिका गया तो वहाँ के लोग कह रहे थे की महाराज जी यहाँ के बच्चे तो ७वी क्लास में ड्रक्स लेने लगते है। मैंने उससे तो नहीं कहा पर मेरे मन में तो ये बात आई की मेरा भारत भी तुमसे पीछे नहीं है। यहाँ जितनी बुराईंयां है उसको हमारे भारत ने सबसे पहले कैच किया है। आज इन बुराइयों को स्टेटस सिम्बल समझते है शराब पीना, चलते चलते गलियां देना, माँ बाप की इंसल्ट करना, छोटे-कपडे पहन कर निकलेंगे तो हम मॉर्डन है, लेकिन मेरे भाई बहन ये पश्च्यात संस्कृति हो सकती है, भारतीय नहीं। यहाँ तो श्रवण कुमार महान था और महान ही रहेगा। पंचम दिवस की कथा का प्रसंग प्रारम्भ करते हुए महाराज श्री ने श्री कृष्ण के जन्म का वर्णन करते हुए कहा की जब प्रभु ने जन्म लिया तो वासुदेव जी कंस कारागार से उनको लेकर नन्द बाबा के यहाँ छोड़ आये और वहाँ से जन्मी योगमाया को ले आये। अब देखिये मेरे ठाकुर की माया की वो अपने भक्तो का ख्याल कैसे रखता है? जिसके घर ८५ साल के उम्र में बालक का जन्म हो तो उसकी ख़ुशी का क्या ठिकाना होगा अनुमान लगाइये। क्योंकि मेरा ठाकुर को जो प्रेम से बुलाता है तो वो वहाँ जाये बिना नहीं रह सकते। इसी तरह आप नाम तो लेकर देखो मेरे कन्हैया का, पर मेरे कन्हैया को दिखावा नहीं पसंद जैसे हो वैसे ही उसके सामने जाओ वो तुमको अपना लेगा। जब पूतना भगवान के जन्म के ६ दिन बाद प्रभु को मारने के लिए अपने स्तनों पर कालकूट विष लगा कर आई तो मेरे कन्हैया ने अपनी आँखे बंद कर ली, कारण क्या था? क्योकि जब एक बार मेरे ठाकुर की शरण में आ जाता है तो उसका उद्धार निश्चित है। परन्तु मेरे ठाकुर को दिखावा, छलावा पसंद नहीं। आप जैसे हो वैसे आओ रावण भी भगवान श्री राम के सामने आया परन्तु छल से नहीं शत्रु बन कर, कंस भी सामने शत्रु बन आया पर भगवान ने उनका उद्दार किया। लेकिन जब पूतना और शूपर्णखा आई तो प्रभु ने आखे फेर ली क्योंकि वो मित्र के वेश रख कर शत्रुता निभाने आई थी। आज के युग में भी तो यही हो रहा है हम दिखते कुछ है और होता कुछ है। इसलिए आज प्रभु को पाने में कठिनाई है तुम जैसे हो लालची हो तो वैसे ही जाओ, कामी हो तो वैसे ही, पापी हो तो भी मेरा ठाकुर तुमको अपना लेगा। क्योंकि हो तो आखिर तुम उसके ही। रोज बोलो ठाकुर से जो हूँ जैसा हूँ तुम्हारा ही हूँ वो कब तक नज़र बचाएगा। मेरा ठाकुर इतना दयालु है तार ही देगा। जैसे माँ को बालक जैसा भी हो प्यारा लगता है वैसे तुम जैसे हो वैसे ही मेरे ठाकुर के हो जाओ तो वो तुमको अपना प्यारा बना ही लेगा। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

25Oct 2017

"भागवत कथा हमको जीना सीखाती है।"

परम पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में मोतीझील ग्राउंड, कानपुर में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के तृतीय दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। कथा प्रारम्भ करते हुए महाराज श्री ने कहा की हम सबको कभी न कभी भागवत कथा का श्रवण करना चाहिए। भागवत कथा हमको इंसान बनाती है। भागवत कथा ही हम सभी को सही मायने में जीना सिखाती है। यहाँ पर महाराज श्री ने बताया कि यदि हम सात दिन की भागवत कथा को सुनेंगे तो अवश्य ही हमको इन सात दिनों में बहुत कुछ ऐसा सिखने को मिलेगा जो हम सब के लिए लाभकारी होगा और जिसके बारे में कभी भी हमने सुना ही नहीं होगा। महाराज श्री ने कहा कि जहाँ कृष्ण हो और अर्जुन हो वहां पर जीत न हो यह तो असंभव है। जब अर्जुन कृष्ण का त्याग कर दे, तो यानि अहंकारी हो जाए तो उसका जीवन ही बेकार हो जाता है। जिस प्रकार पेड़ से पत्ता या फल अलग होकर ज्यादा दिन नहीं रह सकता है उसी प्रकार श्रीकृष्ण से अलग होकर ये जीवन बेकार हो जाता है। इसलिए श्रीमद भागवत बहुत ही बड़ा वरदान है हमारे लिए उस भगवान का। जिन्हें ये मिलता है तो उसकी किसमत का क्या कहना है। कल आपने सुना था कि राजा परीक्षित को श्राप लगा था कि उसकी मृत्यु तक्षक नाग के डसने से सातवे दिन हो जाएगी। तब राजा परीक्षित यमुना के तट पर पहुंचा और वहां पर मौजूद सभी ऋषियों और मुनियों से ये सवाल करने लगा कि जिसकी मृत्यु ही सातवे दिन हो जाएगी तो वह क्या करे। तब अनेकों ऋषियों ने अनेकों पथ उनको दिखाए। इस पर कोई कहता है भजन करो,कोई कहता है गंगा स्नान करे, किसी संत ने कहा मोन करो, स्मरण करो ध्यान करो, उपासना करो। अनेको संत से उन्हें अनेकों विचार प्राप्त हुए। यहाँ पर भागवत में ये नहीं कहा गया है कि जो संतों ने मार्ग दिखाया है वो गलत है। मैं आपको बता दूँ कि यदि आपकी किसी संत में सच्ची निष्ठा है तो आपका सदा कल्याण ही होगा। ये निष्ठा हम सच्ची निष्ठा को कह रहे है ये पैसे वाली निष्ठा नहीं है कि गुरु जी पैसे वाले है उनसे नाता जोड़ लो तो हमको भी पैसा मिल जायेगा। हमारा भी उनके रिश्ते से नाम हो जायेगा। ऐसी निष्ठा कभी भी हमारा बेडा पर करने वाली नहीं है। तो इसलिए हमको तो सिर्फ उनके वचनो पर ही विश्वास रखना चाहिए। उनके बताए हुए रास्तों पर चलना चाहिए वो भी बिना किसी स्वार्थ भाव के। कोई भी सांसारिक वस्तु हमको उनसे नहीं चाहिए। हमको तो उनसे केवल भागवत भक्ति ही चाहिए। हमको तो उनसे केवल भगवान का नाम ही चाहिए। अगर ये सच्ची निष्ठा है आपमें तो कभी भी डाउट मत करना। तब किसी भी संत का दिया हुआ मन्त्र ही आपका बेडा पर कर देगा अगर आपका उस संत में विश्वास पक्का है तो। अगर आपका उस संत में विश्वास मजबूत है तो ही ऐसा होगा। इसलिए हमको तो केवल उन्ही लोगों के पास ही जाना चाहिए जो हमको भगवान की भक्ति की ओर अग्रसर करते है। जब जो हमको दिख रहा है तो भी हम उसकी पूजा ढंग से नहीं कर रहे है तो जो हमको सही ढंग से नहीं दिखने वाले को कैसे ढंग से पूजेंगे। इसलिए तो हमको सदा ही ऐसे संत से ही दीक्षा लेनी चाहिए जो हमको भगवान की सच्ची भक्ति करने को प्रेरित करे। उनके चरणों में ही जाकर हमको उस दीक्षा को ग्रहण करना चाहिए और उनके द्वारा दिए हुए उस मन्त्र का सच्चाई से जाप करते रहना चाहिए। यही सब तो मेरे उस गुरु ने कहा है कि हमें मन को साफ़ रखकर उस मन्त्र का जाप करना चाहिए तो इस तरह से हमारा बेडा पार हो जायेगा। मेरे उस गुरु का मन्त्र कभी भी झूठा नहीं जा सकता है। यदि हम इस भाव के साथ भगवान के उस मन्त्र का जाप करेंगे तो हमको उस परम परमात्मा के दर्शन होंगे ही। महाराज श्री ने बताया कि हमारी मृत्यु सदा ही आनी ही होती है। ये तो परम सत्य है की जिस व्यक्ति का जीवन हुआ है उसकी मृत्यु अवश्य ही होगी। इसलिए हमें अच्छे काम करके अपने जीवन को सफल बना लेना चाहिए। जितने भी भगवान के धाम होते है वैसे ही उसमें पाप और क्रोध भी रहना चाहता है। ये तो आप पर निर्भर करता है की आप किसको अपनाते है। जिसकी मृत्यु आती है उसको भागवत कथा को सुनना चाहिए। पूज्य महाराज श्री ने कहा की जब परीक्षित जी महाराज को पता चला कि सातवें दिन उनकी मृत्यु निश्चित है तो अपना सब कुछ त्याग दिया। उसी समय भगवान नारद के आदेश पर भगवान शुकदेव जी वहाँ पर पधारें। उनके मुख पर बहुत तेज था सभी संतो ने उनको प्रणाम किया। मेरा सभी बच्चों से निवेदन है की जब भी आपके घर में आये उनका खड़े होकर प्रणाम कर सम्मान करना चाहिए। भारत की संस्कृति है "अतिथि देवो भवः" अतिथि भगवान के समान है। मेरा सभी माताओं और बहनों से निवेदन है की आपके घर में जब भी कोई अतिथि आये तो उनका सम्मान करें पता नहीं भगवान कब मेहमान बन आपके घर आ जाए। यह सब तभी संभव है जब आप अपने बच्चों को संस्कार दोगे। शुकदेव जी महाराज जब आये तब राजा परीक्षित ने उन्हें साष्टांग दंडवत प्रणाम किया। और शुकदेव जी से पूछा जिसकी मृत्यु निश्चित हो उसे क्या करना चाहिए और मृत्यु हमारे जीवन का कटु सत्य है। हम इस संसार में खाली हाथ आए थे और खाली हाथ ही जायंगे। यह पता होने के बावजूद भी हम अपना सारा जीवन सांसारिक भोगविलास में गुजार देते हैं और प्रभु ने हमें जिस कार्य के लिए मानव जीवन दिया है उससे हम भटक जाते हैं। शुकदेव जी ने परीक्षित जी महाराज से कहा हे राजन जिस की मृत्यु निश्चित हो उसे भागवत कथा श्रवण करनी चाहिए। उसी प्रकार हमें भी सच्चे मन से भागवत कथा श्रवण करनी चाहिए और भगवान की भक्ति करनी चाहिए। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

26Oct 2017

" हमको अपने मन को शांत करने के लिए भगवान का ध्यान करना चाहिए "

महाराज जी ने चुतर्थ दिवस की कथा प्रारम्भ करने से पूर्व विश्व शांति के लिए ठाकुर जी से प्रार्थना की। महाराज जी ने बताया की हम शांति के लिए संसार में इधर उधर भटकते है लेकिन शांति नहीं मिलती क्योंकि हम अपने मन को शांत नहीं करते है। इसलिए सबसे पहले अपना चित शांत करना होगा तो फिर हमे संसार में हर जगह शांति का अनुभव होगा और जब संसार बिगड़ता है तो केवल राधा रानी ही बिगड़ी बनाती है। महाराज जी ने बताया की कार्तिक माह चल रहा है और कार्तिक माह में गज - ग्राह की कथा सुननी चाहिए। क्योकि गज का अर्थ भक्त है और ग्रह का अर्थ है दुखी , महाराज जी ने कहा की इस संसार में प्रत्येक व्यक्ति को कोई न दुःख अवश्य होता है तब हम भगवान को याद करते है। अगर सुख में प्रभु का स्मरण करे तो निश्चित है की दुःख आएंगे ही नहीं। परन्तु व्यक्ति सुख के समय अहंकार करता है। आज कल तो नौजवान माथे पर तिलक नहीं लगाए, कलावा नहीं बंधेगे, कंठी नहीं पहनेगे क्योकि वो समझते है यह सब करने से लोग उनका मज़ाक बनायेगे। परन्तु जिस प्रकार आज स्कूल में पहचान पत्र मिलता है की यह छात्र किस विद्यालय या कक्षा का है उसी प्रकार तिलक, कलावा और कंठी पहनने से हम भगवान के भक्त है या नहीं यह भी पता चलता है। पर संसार में पड़े हुए हम संसारी व्यक्ति की तरह केवल उसी संसार बंधनो में ही जीना चाहते है। ठीक उसी प्रकार गज राज अपने परिवार के साथ जंगल में भृमण कर रहा था और जब उसकी पत्नी को प्यास लगी तो वे सभी सरोवर की ओर गए। वहाँ जाकर गजराज अपने परिवार के साथ जल विहार करने लगा। अहंकार में मस्त गजराज अपने परिवार को देख कर प्रसन्न हो रहा था। जैसे हम अपने परिवार को देख कर अहंकारी हो जाते है और वह देख कर अपने मन को तस्सल्ली देते है। उस सुखमय क्रीड़ा में सरोवर में एक ग्राह जिसे वह अच्छा नहीं लगा उसने कहा कौन है जो मेरे सरोवर में क्रीड़ा कर रहा है। ग्राह ने आकर गजराज का पैर पकड़ लिया और जल में खींचने लगा। गजराज ने पूरी ताकत के साथ अपने पैर को छुड़ाने का प्रयास करता रहा। अपने बच्चो और पत्नी से मदद नहीं माँगी। इसी तरह पुरुष भी विपत्ति आने पर जब तक हर तरफ से न टूट जाये अपने परिवार से मदद नहीं मांगता है। ये ही उसका अहंकार है। लेकिन जब गजराज को अपनी ताकत से बचने का मार्ग नहीं मिला तो उसने अपने परिवार से मदद ली पर उसकी सहायता करने में कोई सफल नहीं हुआ। तो गजराज के बच्चो ने पहले साथ छोड़ा फिर पत्नी ने भी। इसी तरह संसार में जब विपत्ति आती है तो सबसे पहले परिवार वाले सबसे पहले साथ छोड़ते है। इसी तरह गजराज को भी सभी ने छोड़ दिया और जब वह डूबने लगा तो उसने मेरे ठाकुर को पुकारा की हे गोपाल। बस मेरे ठाकुर इतना सुनते ही नंगे पाँव गरुड़ को छोड़ कर दौड़े आये और ग्राह को अपने सुदर्शन द्वारा इस संसार से मुक्त कर दिया और गजराज के प्राणो की रक्षा की। तब भगवान से किसी ने पूछा की हे प्रभु गजराज तो आपका भक्त था फिर आपने ग्राह को क्यों मुक्त कर अपने धाम भेज दिया। तब मेरे ठाकुर ने कहा जो मेरे पैर पकड़ता है मैं उसको बाद में और जो मेरे अपनों के पैर पकड़ता है उसको में सबसे पहले तारता हूँ। जिस तरह गजराज मेरा भक्त था पर ग्राह ने मेरे प्रिय के पॉव पकड़कर प्रिय से भी प्रिय बन गया। इसके बाद महाराज श्री ने कहा की साधू, भक्त और ब्राह्मण का कभी भी अपमान नहीं करना चाहिए। जो भी इनका अपमान करता है उसे स्वयं भगवान भी माफ़ नहीं करते है। " राधे राधे बोलना पड़ेगा "

24Oct 2017

"गुरु वही है जो गोविंद से मिलने का मार्ग बताए।"

परम पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में मोतीझील ग्राउंड, कानपुर में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के द्वितीय दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने बताया कि हर व्यक्ति को अपने जीवन में भगवान की भक्ति जरूर करनी चाहिए क्योँकि भक्ति से ही मनुष्य का जीवन सदा के लिए सुधर सकता है। उसके सभी पाप धुल जाते है। हम लोग ही बहुत ही भाग्यवान है क्योंकि हमे सब तरह के अंगों से भगवान ने संपन्न किया हुआ है। भगवान ने हमको हाथ, पैर, आँख, नाक, दिमाग सभी कुछ दिया हुआ है। मेरे ठाकुर जी ने हमको इतनी सूंदर सी जिंदगी दी है। तो हमको उनके इस वरदान को कभी भी नहीं भूलना चाहिए। इस मानव योनि को प्राप्त करने के बाद भी अगर मानव मेरे प्रभु को याद न करे तो हमसे बड़ा आत्मघाती या पापी इस दुनिया में और कोई नहीं है। महाराज श्री ने कहा कि भगवान ने हर व्यक्ति को अपनी एक अलग ही समझ दी है। उसी के अनुसार ही हर व्यक्ति अपनी क्षमता के अनुसार ही हर कार्य को करता है। कई अपनी समझ से अपने हर कार्य को भगवान की मर्जी समझकर ही करते है और सदा ही स्वच्छ मन से कार्य को करते है ताकि उनसे कोई भी गलती न हो और कुछ लोग अपने गंदे विचारो से ही कार्य को करते है और उन्ही में सदैव लिप्त रहते है। वो अच्छे और बुरे का फर्क नहीं समझते है। हमको तो सदा ही अच्छे और बुरे का फर्क लेकर ही भगवान की भक्ति को करते रहना चाहिए। क्योँकि उसी के अनुसार ही हम अपने सभी कार्यों को कर सकते है। हमको तो सदैव ही अच्छे कार्य ही करने चाहिए और बुरे कार्यों से सदा के लिए ही दूर रहना चाहिए। तभी हमारा इस संसार में सही रूप से गुजारा हो सकता है। भगवान भी उन्ही का साथ देते है जो सदा कर्मों में लिप्त रहते है। जो लोग सदा ही बुरे कार्य करते है उनसे तो भगवान सदा ही दूरी बनाये रखते है। महाराज श्री ने कहा कि देवता भी आपके भाग्य को देखकर जलते होंगे। वो सोचते होंगे कि जो भाग्य मानव ने पाया है वो भाग्य हमने क्यों नहीं पाया। कार्तिक मास में हमको श्रीमद भागवत कथा क्योँ नहीं सुनने को मिलती है। इसी मानव को ही क्योँ सुनने को मिलती है वो भी कार्तिक मास के इस पवित्र महीने में ही। इसलिए ही हे मानव हम सभी देवता आपको बारम्बार नमन करते है। क्योँकि यह भागवत कथा ही इस मानव को मोक्ष रुपी वरदान करती है। महाराज श्री ने आगे कहा की पहले हम सब को भगवान की भक्ति करने पर ही जोर दिया है। महाराज श्री ने हमको बताया कि प्रभु भक्ति से ही हम सब के पाप आसानी से धुल जाते है। क्योँकि आज के इस कलयुग में सभी अपने अपने काम करने में ही लगा रहता है। उसको भगवान की भक्ति करने का भी समय नहीं रहता है। लेकिन अपने जीवन को सही ढंग से जीने के लिए और अपने जीवन की सभी समस्याओं को दूर करने के लिए हमको भगवान की पूजा करनी चाहिए। भगवान की पूजा करने के लिए सबसे पहले तो हमारा मन स्वच्छ और साफ़ होना चाहिए। क्योँकि साफ़ और सवच्छ मन में ही भगवान का वास होता है। जब हमारा मन साफ होगा तो तभी हमारे मन में दूसरों के लिए अच्छे विचार आएंगे। जब हम दूसरों से प्यार करेंगे तो स्वयं भगवान भी हमसब से प्रेम करेंगे। और हमारे जीवन में आने वाली सभी समस्याओं को दूर कर देंगे। प्रभु भक्ति से ही हम सब का हर तरह से कल्याण हो सकता है। इसलिए तो हम सबको कभी न कभी भागवत कथा का श्रावण करना चाहिए। भागवत कथा हमको इंसान बनाती है। भगवात कथा ही हम सब को सही मायने में जीना सिखाती है। यहाँ पर महाराज श्री ने बताया कि यदि हम सात दिन की भागवत कथा को सुनेंगे तो अवश्य ही हमको इन सात दिनों में बहुत कुछ ऐसा सिखने को मिलेगा जो हम सब के लिए लाभकारी होगा और जिसके बारे में कभी भी हमने सुना ही नहीं होगा। महाराज श्री ने कहा कि भगवान त्रिलोकीनाथ जी की कृपा से ही हम सब को यह मानव जीवन प्राप्त होता है। उन्ही की कृपा से ही हम सब इस भागवत कथा को सुनते है। कहते है कि अगर मानव जीवन प्राप्त करने के बाद यदि हमने भगवान की भक्ति नहीं की ,अगर जीव ने दानपुण्य नहीं किया,अगर जीव सुरमा नहीं है ,अगर जीव भक्त है है ,अगर जीव तपस्वी नहीं है ,ऐसे व्यक्ति को मानव कहना बिलकुल ही गलत है। ऐसा मनुष्य तो केवल माँ का मलमूत्र ही है। इसके आलावा और कुछ भी नहीं होता है। उसे तो केवल माँ का मलमूत्र ही कहना उचित होता है। उसे तो मानवों की शृंखला में रखना ही गलत होता है। जिसने मानव जीवन पा कर तपस्या नहीं की ,दानपुण्य नहीं किया ,सुरमा नहीं हुआ ,भगवान का भक्त नहीं हुआ, ऐसे मानव जीवन को पाकर तो सिर्फ लाभ ही क्या हुआ। ना जाने आपके कितने जन्मों के पुण्य के फल के दवारा ही आपको इस श्रीमद भागवत कथा को सुनने का सौभाग्य आपको प्राप्त हुआ है महाराज श्री ने कहा की मैं जब भी विदेश जाता हूँ तो वहा भक्त ३००-४०० किलोमीटर से कथा सुनाने आते हैं और उसके बाद प्रत्येक दिन अपने काम पर भी जाते हैं। इसी को तो टाइम मैनेजमेंट कहते हैं। हमे किसी की शादी में जाना हो तो हम अपने काम से, अपने ऑफिस से छुट्टियां ले लेते हैं लेकिन क्या कभी आपने भागवत कथा सुनाने के लिए छुट्टी ली है क्या? हमे अपने ठाकुर जी से मिलने के लिए भी छुट्टी लेनी चाहिए। इसके बाद महाराज श्री ने कहा की आपके जीवन की सबसे ज्यादा चिंता आपके माता-पिता को होती है क्योंकि उन्हें यही चिंता सताती रहती है की मेरा बच्चा भविष्य में क्या करेगा। आपके माता पिता को आपके इस जीवन की इतनी चिंता है तो जो सबका परमपिता परमेश्वर है उसको कितनी चिंता होगी आपके जीवन की। इतना ही नहीं ठाकुर जी को आपके इसी जीवन की नहीं अपितु आपके अनंत जीवन की चिंता होती है तभी तो उसने आपको इससे मुक्त करने के लिए आपको मानव जीवन दिया है। लेकिन हम उसकी भक्ति न करके फिरसे इस जीवन को व्यर्थ कर देते हैं। गुरु का दायित्व क्या है? गुरु के गुण क्या है? अभी तक आप शिष्य के गुण जानते थे आज गुरु के गुण भी जानिये। गुरु के 3 दायित्व है। गुरु वही है जो तीन काम करा सके गुरु वही जो गोविन्द मिलावे। गुरु वही जो संत सिवावे गुरु वही जो विपिन बसावे ये तीन काम जो करा दे वही सच्चा गुरु है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

23Oct 2017

"मनुष्य को अपने संस्कार कभी नहीं भूलने चाहिए क्योंकि उन्ही से उनका सही विकास होता है"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में 22-28 अक्टूबर 2017 तक मोतीझील ग्राउंड, कानपुर में आयोजित श्रीमद भागवत कथा के प्रथम दिवस में भगवान श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने आज की कथा प्रारम्भ करते हुए कहा कि मेरे बाबुजी आज भी जीवित है वे हमारे संस्कारों में, हमारे आचरण में सदैव जीवित रहेंगे। महाराज श्री ने कहा कि मोदी सरकार का नारा दिया है "बेटी पढ़ाओ, बेटी बचाओ" इसमें एक और जोड़ देना चाहिए बेटी पढ़ाओ- बेटी बचाओ-संस्कार लाओ। और संस्कार बेटियों के लिए नहीं बल्कि बेटो के लिए पहले लाओ ताकि जब भी बेटी रोड़ पर निकले तो बेटे को यह याद रहे कि वो किसी की बेटी या बहन होगी। जब हम बेटों को संस्कार दे देंगे तो बेटियों को बचाने की जरूरत नही पड़ेगी। महाराज श्री ने कहा कि हमें अपने संस्कार बचाने के लिए बच्चों के साथ बैठकर रामायण देखनी चाहिए, रामायण पढ़नी चाहिए, तभी हमारे संस्कार बच पाएंगे। पूर्व काल में एक नगर में एक ब्राह्मण रहता था। उसका नाम आत्मदेव था। वह बहुत ज्ञानी और तेजस्वी था। उसकी पत्नी धुन्धुली कुलीन होने पर भी अपनी बात पर अड़नेवाली थी। वह क्रूर, झगडालू और कंजूस थी। बहुत समय बीत जाने के बाद भी उन दोनों के यहाँ संतान नही हुई। उन्होंने बहुत तरह से दान धर्म निभाया पर कुछ नही हुआ। एक दिन आत्मदेव दुखी होकर घर छोड़ कर वन को चला गया। वह एक तालाब के पास पंहुचा। पानी पी कर बैठा तो उसने एक सन्यासी महात्मा को वहाँ आते देखा। आत्मदेव ने सन्यासी के चरणों में प्रणाम किया और लम्बी लम्बी साँसे लेने लगा। सन्यासी ने उसके दुःख का कारण पूछा तो वह बोला कि अब देवता और ब्राह्मण भी उसका दिया प्रसन्न मन से स्वीकार नही करते। उसके संतान न होने से वह बहुत दुखी है और आत्महत्या करने आया है। उसके संतानहीन जीवन, घर और धन को धिक्कार है। जब आत्मदेव सन्यासी के सामने ये सब कहकर रोने लगा तब महात्मा को बहुत दया आई। उन्होंने आत्मदेव से कहा कि मैनें तुम्हारे माथे कीलकीरों में पढ़ा है कि सात जन्मों तक तुम्हारे कोई संतान नही हो सकती इसलिए तुम संसार की वासना छोड़ कर संन्यास ले लो। परन्तु ब्राह्मण ने कहा कि जिसमें पुत्र और स्त्री का सुख नही है वह संन्यास भी नीरस है। महात्मा ने समझाते हुए कहा कि विधाता का लेख मिटाने पर भी तुम्हे संतान से सुख नही मिलेगा। जब वह ब्राह्मण किसी प्रकार नही माना, तब सन्यासी ने उसे एक फल दिया और कहा कि ये अपनी पत्नी को खिला देना। इससे एक पुत्र होगा। अगर तुम्हारी पत्नी एक साल तक सत्य, शौच, दया, दान और एक समय एक ही अन्न खाने का नियम रखेगी तो बालक बहुत शुद्ध स्वभाव वाला होगा। ब्राह्मण ने वह फल अपनी पत्नी को दिया और कहीं चला गया। उसकी पत्नी कुटिल स्वभाव कि थी। उसने अपनी सखी से कहा कि मैं यह फल खाऊँगी तो मुझे बहुत कष्ट सहने पड़ेंगे। प्रसव कि पीड़ा, नियमों का पालन आदि सब करना होगा। इसलिए मैं ये फल नही खाऊँगी। उसके पति ने जब घर आकर पूछा कि फल खा लिया तो उसने कहा हाँ खा लिया। धुन्धुली ने अपनी बहन को सब बात बतायी तो वह बोली कि मेरे पास एक उपाए है। उसकी बहन ने कहा कि मेरे पेट में जो बच्चा है वो मैं तुझे दे दूँगी। तक तक तू गर्भवती के समान घर में गुप्त रूप से रह। तू मेरे पति को कुछ धन दे देगी तो वो तुझे अपना बालक दे देंगे। हम ऐसी युक्ति करेंगे जिससे सब यही कहें कि मेरा बालक छेह महीने का होकर मर गया। फिर मैं तेरे घर आकर उस बालक का पालन पोषण करती रहूंगी। और यह फल तू गौ को खिला दे। ब्राह्मणी ने सब कुछ अपनी बहन के कहे अनुसार किया। जब उसकी बहन को पुत्र हुआ तो उसकेपति ने चुपचाप उसे धुन्धुली को दे दिया। आत्मदेव बालक के होने ही ख़बर सुनकर बहुत आनंदित हुआ। उसकी स्त्री ने कहा कि बालक के पालन पोषण के लिए मैं अपनी बहन को यहाँ बुला लेती हूँ। आत्मदेव ने कहा ठीक है। उस बच्चे का नाम धुंधकारी रख दिया। तीन महीने बाद उस गौ ने भी एक मनुष्य के आकार के बच्चे को जन्म दिया। लोगों को बहुत आश्चर्य हुआ और आत्मदेव के भाग्य कीसराहना करने लगे। आत्मदेव ने बालक के गौ के से कान देखकर उसका नाम गोकर्ण रख दिया। जब वे दोनों बालक जवान हुए तो गोकर्ण बहुत बड़ा पंडित और ज्ञानी हुआ किंतु धुंधकारी बहुत दुष्ट निकला। चोरी करना, सबसे द्वेष बढाना, दूसरे के बालकों को कुएं में डालना और सबको तंग करना यही उसका स्वभाव था। उसने वेश्याओं के जाल में फँस कर अपने पिता की सारी संपत्ति नष्ट कर दी। जब सब कुछ ख़तम हो गया तो आत्मदेव बहुत दुखी हुआ और कहने लगा कि इससे तो मेरी पत्नी बाँझ ही रहती। अब मैं कहाँ जाऊं और क्या करूं। उसी समय गोकर्ण ने आकर अपने पिता को समझाया कि यह संसार असार है। यह अत्यन्त दुखरूप और मोह में डालने वाला है। सुख न तो इन्द्र को है और न ही चक्रवर्ती राजा को। सुख केवल एकांतजीवी विरक्त मुनि को है। "यह मेरा पुत्र है" इस अज्ञान-को छोड़ दीजिये। मोह से नरक कीप्राप्ति है। इसलिए सबकुछ छोड़ कर वन में चले जाइए। गोकर्ण की बात सुनकर आत्मदेव को बहुत अच्छा लगा। उसने अपने पुत्र से उसे और उपदेश देने को कहा। गोकर्ण ने कहा यहशरीर हड्डी, मांस और रुधिर का पिंड है। इसे मैं मानना छोड़ दीजिये। स्त्री पुत्र आदि को अपना कभी ना मानें। भगवान् का भजन सबसे बड़ा धर्म है। निरंतर उसी का आश्रय लिए रहे। आत्मदेव ने अपने पुत्र की बात सुनकर घर त्याग दिया और वन में रात दिन भगवान् की सेवा- पूजा करने लगा। नियमपूर्वक भागवत के दशम स्कंध का पाठ करने से उसने भगवान् श्री कृष्ण चंद्र को प्राप्त कर लिया। राधे राधे बोलना पड़ेगा !!

19Oct 2017

" भगवान की भक्ति से ही मनुष्य के सभी कष्ट दूर हो जाते है "

परम पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में सास्काटून, कनाडा में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के पंचम दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कथा प्रारम्भ करते हुए कहा कि आज आप सभी को धनतेरस की हार्दिक शुभकामनायें। मैं भगवान से कामना करता हूँ कि आप सभी इसी तरह से सुखी और समृद्ध बने रहे और जो कुछ भी भगवान आपको दे उसके साथ आप सदा ही भगवान की भक्ति करते रहे। गरीब हो, अमीर हो, फकीर हो, मिडिल क्लास हो, लेकिन भक्ति आपके साथ जुडी रहे तो आप हो जाते है वर्ल्ड क्लास। आप वर्ल्ड क्लास बनेंगे तभी जब आपके साथ भक्ति जुडी होगी। भक्ति के बिना हमारा कोई भी काम नहीं बनेगा। इसलिए हर व्यक्ति को अपने - अपने प्रभु की भक्ति में सदा ही लगे रहना चाहिए। उनकी भक्ति करने से ही हमारे सभी पाप आसानी से मिट जाते है। इसके बाद महाराज श्री ने "मेरी भई श्याम संग प्रीत दुनिया क्या जाने" भजन भक्तों को श्रवण कराया। तब महाराज श्री ने कथा को शुरू करने से पहले भारत या विदेश में मौजूद अपने सभी भक्तों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाये दी। महाराज श्री ने बताया कि आपने देखा होगा कि दीपावली वाले दिन श्री गणेश जी और माँ लक्ष्मी जी की पूजा होती है। दीपावली से जुडी हुई कुछ विशेष बातें महाराज श्री ने भक्तों को बताई। दीपावली वाले दिन आपने देखा होगा कि हमलोग अपने घरों को अच्छी तरह से साफ करते है और सजाते है। इस दिन लोग घरों पर घी के दीपक जलाते है। ऐसा हम लोग क्योँ करते है, इसके पीछे एक कथा आती है। आज के दिन ही माँ लक्ष्मी जी पृथ्वी पर भ्रमण करने के लिए आती है। और जिस व्यक्ति का घर माँ को साफ, सूंदर, पवित्र, अच्छा दीखता है तो वो वहीँ पर ही सदा के लिए रुक जाती है। जिस घर में सफाई, शुद्धता, पवित्रता, रोशनी नहीं होती है तो वहां से लक्ष्मी जी सदा के लिए चली जाती है। एक बात ये भी मानते है कि माँ लक्ष्मी जी का ही स्वरुप माता सीता जी थी, तो उनके अयोध्या आने की ख़ुशी में भी यह पर्व मनाया जाता है। लेकिन यहाँ पर प्रश्न ये उठता है की गणेश जी की पूजा माँ लक्ष्मी जी के साथ क्योँ होती है? यह जानना हम सभी के लिए बहुत ही महत्वपूर्ण है। एक व्यक्ति था और वह काफी निर्धन था। वह व्यक्ति चाहता था कि मैं एक धनवान व्यक्ति बन जाऊं। मुझे भी राज सुख प्राप्त हो और मेरे भी दूसरों की तरह ही ठाठ बाट हो। तब उसने इसके लिए माँ लक्ष्मी जी की पूजा की। तब पूजा करने से माँ लक्ष्मी जी प्रश्न होकर बोली कि मैं तुम्हारी तपस्या से बहुत ही प्रसन्न हूँ। तुमको मुझसे जो वरदान मांगना है तुम मांग लो। तब उस व्यक्ति ने कहा कि माँ मैं राज सुख पाना चाहता हूँ। अभी मेरे पास कुछ भी नहीं है पर मैं चाहता हूँ कि मुझे भी राज सुख मिले। तब माँ लक्ष्मी जी ने तथास्तु कहा और राज सुख का वरदान उसको दे दिया। लक्ष्मी जी से वरदान पाने के बाद वह व्यक्ति एक राजा के दरबार में गया और वहां पर पहुँच कर उसने बिना कुछ भी कहे ही उस राजा के सिर पर रखा हुआ मुकुट गिरा दिया। इसको देखकर वहां पर मौजूद सभी प्रजा और खुद राजा भी काफी क्रोधित हो गया। उसी समय एक और दृश्य देखते है कि उस मुकुट में से एक सांप निकल कर जा रहा है। तो इसको देखकर तो सभी लोग काफी प्रसन्न हुए कि इसने तो हमारे महाराज जी के जीवन की इस सांप से रक्षा की है। इस सब को देखकर तो वह राजा भी उससे काफी खुश हुआ कि आपने तो इस सांप से मेरे जीवन की रक्षा की है। इसलिए हम तुमको कुछ देना चाहते है, क्या तुम हमारा मंत्री बनना चाहते है। तब राजा ने अपने राज्य का सबसे बड़ा मंत्री उसको बना दिया। तो इस तरह से वह व्यक्ति राज सुख को भोगने लगा। सारी सुख-सुविधाएं उसको मिलने लगी और बड़े ही मजे में वह जीवन बिताने लगा। कुछ दिन बाद इसी तरह ही महल के राज दरबार में भोजन प्रसाद का काम चल रहा था तो उसी व्यक्ति ने वहां पर आकर कहा कि तुरंत हमको इस महल को खाली करना है। तो वहां पर मौजूद सभी लोग डरके मारे वहां से भागने लगे। जैसे ही सभी ने घबराहट में उस महल को खाली किया तो उसी समय वह महल धड़ाम से पूरा गिर गया। तो इस तरह से ही सभी लोग उस व्यक्ति को और भी मानने लगे और उसकी जय जय कार करने लगे। उसकी काफी प्रशंसा करने लगे। इस सब को देखकर वो सभी लोग कहने लगे कि ये वयक्ति तो त्रिकाल दर्शी है। यह तो भविष्य को जाने वाला है। इस तरह से उस व्यक्ति का राजा के महल में और भी ज्यादा सम्मान होने लगा था। इस तरह से उस व्यक्ति का कुछ ज्यादा ही आदर होने लगा। वो जो कह देता वही होने लगा था। अब इस तरह से उस व्यक्ति को भी काफी अभिमान होने लगा कि इस राज्य में जो वो चाहेगा वही होगा। तो एक दिन उसने देखा कि राजा के महल के सामने गणेश जी की मूर्ति रखी थी। तो उस व्यक्ति ने कहा कि ये जो गणेश जी की मूर्ति है न ये इस महल की शोभा को नष्ट कर रही है। तो इस गणेश जी की मूर्ति को यहाँ से हटा दो और वहां से गणेश जी की मूर्ति को हटा दिया गया। जब मूर्ति वहां से हट गयी तो कुछ दिन बाद की बात है। राजा अपनी सभा में बैठे थे। तो राजा से कहा कि अपने तन का ये वस्त्र उतार दो इसमें सांप है। तो राजा ने पूरी सभा के सामने अपना वो वस्त्र उतार दिया। लेकिन अबकी बार तो उसमें सांप ही नहीं था। जब उसमें से सांप नहीं निकला और वो भी पूरी सभा के सामने तो इस बात को लेकर राजा को काफी गुस्सा आया और तुरंत ही उसके मंत्री पद को छीन लिया गया। उसको कारागार में डाल दिया गया। अब उस व्यक्ति को ये बात नहीं मालूम हो रहा है कि मुझसे गलती कहाँ पर हुई है? तो कारागार में बैठा - बैठा वो व्यक्ति माँ लक्ष्मी जी का पूजन करने लगा कि माँ मुझसे क्या गलती हुई है। तन माँ सपने में आकर उससे बोली कि तुमने जो गणेश जी की मूर्ति का अपमान किया है वही तुम्हारा सबसे बड़ा अपराध है। जीवनभर याद रखिये की यदि आपको लक्ष्मी की प्राप्ति हो जाये और आपमें गणेश जी की बुद्धि न हो तो तुम्हारा कभी भी भला नहीं हो सकता है। तुम्हारा विनाश होने ही वाला है। तुमको याद रखना चाहिए कि गणेश जी बुद्धि के देवता है। अगर मेरे पास दौलत हो और मुझे उस दौलत का सदुपयोग करना न आये तो मैं स्वर्ग की जगह ही नर्क में ही जाने वाला हूँ। उसी धन को आप लोग बर्बादी के लिए लगाते है और उसी धन को हम लोग आबादी के लिए लगाते है। सभी विघ्नो को दूर करने वाले श्री गणेश जी ही हमको बुद्धि देते है। यहाँ पर महाराज श्री ने हमें बहुत ही जरुरु बात बताई कि धनवान होना बहुत बड़ी बात नहीं है लेकिन उस धनवान के साथ ही बुद्धिमान होना बहुत ही बड़ी बात है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

20Oct 2017

" हमको भी भगवान श्री कृष्ण से निस्वार्थ भाव से प्रेम करना चाहिए "

परम पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में सास्काटून, कनाडा में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के षष्टम दिवस में श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। पूज्य श्री महाराज जी ने कथा प्रारम्भ करते हुए कहा कि - गोपियों और श्री कृष्ण में वात्सल्य भाव ही था क्योंकि जिस समय श्री कृष्ण गोपियों के वस्त्र लेकर भाग जाया करते थे तब वे सिर्फ पांच वर्ष के थे। माँ अगर पांच वर्ष के बच्चे की सामने अगर निर्वस्त्र भी होती है तो वो वात्सल्य भाव ही है लेकिन इस पापी दुनिया में इस भाव को समझना तब तक मुश्किल है जब तक हम पूर्ण रूप से भगवान श्री कृष्ण को समर्पित ना हो जाए। भगवान ने कहा की गोपियों! जो प्रेम करने वाले के लिए प्रेम करता हैं वहां प्रेम नही हैं वहां स्वार्थ झलकता हैं। केवल व्यापर हैं वहां। आपने किसी को प्रेम किया और आपने उसे प्रेम किया। ये बस स्वार्थ हैं। दूसरे प्रकार के प्राणियों के बारे में आपने पूछा वो हैं माता-पिता, गुरुजन। संतान भले ही अपने माता-पिता के, गुरुदेव के प्रति प्रेम हो या न हो। लेकिन माता-पिता और गुरु के मन में पुत्र के प्रति हमेशा कल्याण की भावना बनी रहती हैं। लेकिन तीसरे प्रकार के व्यक्ति के बारे में आपने कहा की ये किसी से प्रेम नही करते तो इनके 4 लक्षण होते हैं- आत्माराम- जो बस अपनी आत्मा में ही रमन करता है। पूर्ण काम- संसार के सब भोग पड़े हैं लेकिन तृप्त हैं। किसी तरह की कोई इच्छा नहीं हैं। कृतघ्न – जो किसी के उपकार को नहीं मानता हैं। गुरुद्रोही- जो उपकार करने वाले को अपना शत्रु समझता हैं। गोपियों इनमे से मैं कोई भी नही हूँ। मैं तो तुम्हारे जन्म जन्म का ऋणियां हूँ। सबके कर्जे को मैं उतार सकता हूँ पर तुम्हारे प्रेम के कर्जे को नहीं। तुम प्रेम की ध्वजा हो। संसार में जब-जब प्रेम की गाथा गाइ जाएगी वहां पर तुम्हे अवश्य याद किया जायेगा। पहले तो भगवान ने रास किया था लेकिन अब महारास में प्रवेश करने जा रहे हैं। तीन तरह से भगवन ने रास किया है। एक गोपी और एक कृष्ण, दो गोपी और एक कृष्ण, अनेक गोपी और एक कृष्ण। इस महारास में कामदेव ने गोपियों को माध्यम बनाकर 5 तीर छोड़े थे। अब महारास के समय कामदेव ने 5 तीर छोड़े- 1. आलिंगन 2. नर्महास 3. करळकावलिस्पर्श ४. नखाग्रपात 5 . षस्मित्कटाक्षपा ये पांच तीर कामदेव ने गोपियों के माध्यम से छोड़े थे लेकिन भगवान ने हर तीर को परास्त किया। महाराज श्री ने आगे कहा कि यह महारास 6 महीने तक चलता रहा। ये शरद पूर्णिमा की रात्रि 6 महीने तक रही लेकिन वृन्दावन में बाकी सब कुछ चलता रहा। ये भगवान की लीला है जिसे सिर्फ भगवान ही समझ सकते हैं हम मानव ये लीला समझ नहीं सकते हैं। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

21Oct 2017

" भगवान की आज्ञा से ही मनुष्य स्वर्ग और नरक में जाता है "

परम पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में सास्काटून, कनाडा में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के सप्तम दिवस में श्री कृष्ण की लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कथा प्रारम्भ करते हुए कहा की बलराम जी के देह त्यागने के बाद जब एक दिन श्रीकृष्ण जी पीपल के नीचे ध्यान की मुद्रा में बैठे हुए थे, तब उस क्षेत्र में एक जरा नाम का बहेलिया आया हुआ था। जरा एक शिकारी था और वह हिरण का शिकार करना चाहता था। जरा को दूर से हिरण के मुख के समान श्रीकृष्ण का तलवा दिखाई दिया। बहेलिए ने बिना कोई विचार किए वहीं से एक तीर छोड़ दिया जो कि श्रीकृष्ण के तलवे में जाकर लगा। जब वह पास गया तो उसने देखा कि श्रीकृष्ण के पैरों में उसने तीर मार दिया है। इसके बाद उसे बहुत पश्चाताप हुआ और वह क्षमायाचना करने लगा। तब श्रीकृष्ण ने बहेलिए से कहा कि जरा तू डर मत, तूने मेरे मन का काम किया है। अब तू मेरी आज्ञा से स्वर्गलोक प्राप्त करेगा। बहेलिए के जाने के बाद वहां श्रीकृष्ण का सारथी दारुक पहुंच गया। दारुक को देखकर श्रीकृष्ण ने कहा कि वह द्वारिका जाकर सभी को यह बताए कि पूरा यदुवंश नष्ट हो चुका है और बलराम के साथ कृष्ण भी स्वधाम लौट चुके हैं। अत: सभी लोग द्वारिका छोड़ दो, क्योंकि यह नगरी अब जल मग्न होने वाली है। मेरी माता, पिता और सभी प्रियजन इंद्रप्रस्थ को चले जाएं। यह संदेश लेकर दारुक वहां से चला गया। इसके बाद उस क्षेत्र में सभी देवता और स्वर्ग की अप्सराएं, यक्ष, किन्नर, गंधर्व आदि आए और उन्होंने श्रीकृष्ण की आराधना की। आराधना के बाद श्रीकृष्ण ने अपने नेत्र बंद कर लिए और वे सशरीर ही अपने धाम को लौट गए। श्रीमद भागवत के अनुसार जब श्रीकृष्ण और बलराम के स्वधाम गमन की सूचना इनके प्रियजनों तक पहुंची तो उन्होंने भी इस दुख से प्राण त्याग दिए। देवकी, रोहिणी, वसुदेव, बलरामजी की पत्नियां, श्रीकृष्ण की पटरानियां आदि सभी ने शरीर त्याग दिए। इसके बाद अर्जुन ने यदुवंश के निमित्त पिण्डदान और श्राद्ध आदि संस्कार किए। महाराज श्री ने आगे कहा कि यहां पर कुछ मूर्ख लोग ये कहते है कि ऐसे कैसे भगवान थे जो एक तीर से मर गए, उनको ये समझना चाहिए कि भगवान धर्म की सत्यापन करने के लिए धरती पर आए थे और वे स्वयं द्वारा बनाये गए कालचक्र को कैसे तोड़ सकते थे। इसीलिए ये उनके द्वारा रचित लीला थी। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

18Oct 2017

"धार्मिक शिक्षा हमको बताती है कि हमें किस तरह से जीवन को जीना चाहिए।"

परम पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में सास्काटून, कनाडा में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के चतुर्थ दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कथा प्रारम्भ करते हुए कहा की भगवान ने हमको हाथ, पैर, आँख, नाक, दिमाग सभी कुछ दिया हुआ है। मेरे ठाकुर जी ने हमको इतनी सूंदर सी जिंदगी दी है। तो हमको उनके इस वरदान को कभी भी नहीं भूलना चाहिए। इस मानव योनि को प्राप्त करने के बाद भी अगर मानव मेरे प्रभु को याद न करे तो हमसे बड़ा आत्मघाती या पापी इस दुनिया में और कोई नहीं है। अगर हमारा कोई बुरा कर रहे है तो वो मैं खुद हूँ। मुझसे ज्यादा मेरा बुरा कोई भी नहीं कर सकता है। दुनिया कितना भी मेरा बुरा कर ले पर कहीं न कहीं उसकी भरपाई हो ही जाएगी। लेकिन मैं मेरे लिए जितना बुरा करता हूँ उसकी भरपाई कही भी नहीं हो सकती है। हम अपने धन, दौलत की कितनी भी बुराई कर ले लेकिन उसकी भरपाई हो सकती है लेकिन हम खुद बुरा कर रहे है लाइफ का, जीवन का, जिसकी भरपाई कभी नहीं हो सकती है। क्या एक बार जीवन जाने के बाद कभी जीवन प्राप्त हो सकता है क्या? नहीं हो सकता है। मानव जीवन प्राप्त करना बहुत ही दुर्लभ है और इस मानव जीवन को पाने के बाद उस ठाकुर को हमको याद करना ही चाहिए। चाहे कितना भी बड़ा पापी क्योँ न हो एक बार जो मेरे ठाकुर की शरण में आ जाता है तो मेरे ठाकुर जी उसको माफ़ कर ही देते है। उस पापी को कभी भी त्यागते नहीं है। उस पापी को तो मेरे ठाकुर जी स्वीकार कर ही लेते है और उस पापी का बेडा सदा के लिए पार कर देते है। मैं तो भगवान से बस यही प्रार्थना करता हूँ की जितने भी संत, महात्मा, पापी, मनुष्य है अगर मेरे ठाकुर की शरण में आएं तो उनको मेरे ठाकुर जी सदा के लिए स्वीकार कर लेना और उन सब का बेडा सदा के लिए पार कर देना। बस यही प्रार्थना मैं अपने उन ठाकुर जी से करता हूँ। तब महाराज श्री ने एकादशी के बारे में वहां पर मौजूद भक्तों को बताया कि एकादशी के दिन लोगों को अन्न नहीं खाना चाहिए। अगर हमने व्रत रखा है या नहीं। हमको एकादशी के व्रत में चावल तो बिलकुल भी नहीं खाने चाहिए। न ही चावल खिलाने चाहिए क्योँकि चावल खिलाने से भी हमको पाप लगता है। ये पाप हमको ही नहीं ये तो हमारी स्वर्ग में जा चुकी पीडियों तक लगता है। इस दिन हमको हो सके तो अन्न ही नहीं खाना चाहिए। जौ और चावल तो दूर की बात है। एक संत थे जो अपनी माँ से डरे हुए थे और वो पृथ्वी में जाकर छुप गए थे और जब बाहर आये तो चावल और जौं के रूप में निकले थे। इसलिए हम इनको जीवात्मा ही समझते है। इसलिए अन्न हमारे यहाँ भगवान का रूप है। हमारे यहाँ पर अन्न का सम्मान भी भगवान के रूप में ही किया जाता है। इसलिए हमको अन्न का निरादर भी कभी नहीं करना चाहिए। अगर चावल के साइंटिफिक वर्जन के बात करे तो चावल में जल तत्व की मात्रा अधिक होती है। और जल तत्व का राजा है चंद्र और चंद्र होता है चंचल। एकादशी का व्रत रखने वाले को चावल क्योँ वर्जित है। क्योँकि ये जो चावल खाने से हमारा मन चंचल होता है पर व्रत का मतलब है की मन को संयमित रखना। इसलिए हमको अपने आप से चावल को दूर रखना है। अगर ये चावल हमारे शरीर के नादरा जायेगा तो हमारे शरीर को अंदर से चंचल कर देगा। इसलिए हमलोग चावल का भोग नहीं लगाते है। अगर भोग मिले भी तो उसको कल तक के लिए रख लो और फिर उस दिन को निकलने के बाद ग्रहण कर लो। अब महाराज श्री ने आगे कहा की कल आपने सुना था कि ध्रुव को अपनी अल्प आयु में ही भगवान के दर्शन हो गए थे। धार्मिक शिक्षा हमको बताती है कि हमको किस तरह से जीवन को जीना चाहिए। इसलिए ही तो संतों की वाणी बोलती है कि तू करले याद राम को ये कितनी बड़ी बात है। लेकिन हम लोगों को ये बात इतनी आसानी से समझ में नहीं आती है। आज कल के बच्चे तो इस मॉडर्न शिक्षा को पढ़ते है। उनके लिए आज की शिक्षा को बदल दिया गया है। जो आज कल के बच्चे पढ़ेंगे उसकी को ही तो वो समझेंगे। जब उनको इस बारे में समझाया ही नहीं जा रहा है तो वो समझेंगे कैसे? वो क्या समझेंगे की भगवान इस पत्थर में है तो इसके लिए उनको प्रह्लाद का चरित्र के बारे में सुनना चाहिए। ये मेरे और आपके द्वारा गयी हुई कथा नहीं है ये तो प्रमाण है इसका। अब बताओ कि क्या कहीं पिलर में से भी कोई भगवान निकलता है क्या? जो खुद जड़ है, जिसमें चेतन ही नहीं है उसमें से कौन आ सकता है? ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

17Oct 2017

"भगवान की भक्ति करने से मनुष्य के सभी पाप मिट जाते है"

"भगवान की भक्ति करने से मनुष्य के सभी पाप मिट जाते है" परम पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में सास्काटून, कनाडा में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के तृतीय दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कहा कि हर व्यक्ति को अपने जीवन में भगवान की भक्ति जरूर ही करनी चाहिए। क्योँकि भक्ति से ही मनुष्य का जीवन सदा के लिए सुधर सकता है। उसके सभी पाप धुल जाते है। जो खेल बीत गया है उसको याद मत करो। अब जो बचा है हम और तुम उसका सदुपयोग कर ले तो हमारे और तुम्हारे जीवन का सदुपयोग हो सकता है। राजा परीक्षित ने जब सुखदेव महाराज पधारे तो उनको प्रणाम करके उनसे एक प्रश्न किया। कृपा करके आप मुझे ये बताइए कि जिस व्यक्ति के पास केवल सात दिन है तो उसको इन दिनों में क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए। इस प्रश्न को सुनकर सुखदेव महाराज जी बहुत ही प्रसन्न हुए क्योँकि सुखदेव महाराज जी से जो प्रश्न किया गया है वह जान कल्याण के लिए किया गया है। राजा परीक्षित ने ये नहीं कहा है कि मुझे श्राप लगा है और मैं सातवें दिन मरूंगा। राजा परीक्षित ने कहा जो सातवें दिन मरे उसका क्या। क्योंकि कुछ चीजों को भगवान अपने हाथ में ही रखता है। व्यक्ति कब जन्म लेगा कब मरेगा ,कब यश मिलेगा और कब अपयश ,कब लाभ होगा और कब हानि ,इन छह चीजों को भगवान् अपने हाथ में रखता है ,ये हम सब के हाथ में नहीं होता है। अगर यश ही यश होता हम सब के चाहने से तो कोई भी अपना अपयश नहीं चाहता। लाभ ही लाभ अगर हमको हमारी मर्जी से होता तो कौन चाहता है कि मेरी हानि हो जाये। अगर जन्म ही जन्म हमारी मर्जी से हो जाये तो कौन चाहता है कि हमारे यहाँ पर कोई भी मर जाए। इन छह चीजों को भगवान् ने अपने हाथ में रखा हुआ है इन पर हम सब का कोई भी अधिकार नहीं होता है। तो एक न एक दिन हम सब को मरना ही होता है। हम सब इसको संभाल कर नहीं रख सकते है। तो प्रश्न भी इसी के लिए ही होना चाहिए। लेकिन आज तक हमने मृत्यु को लेकर कोई भी प्रश्न नहीं किया है किसी से भी। जब भी हमने कोई भी प्रश्न किया है जीवन के विषय में किया है। मतलब हम झूठ के विषय में तो प्रश्न करते है लेकिन उस सत्य के बारे में प्रश्न नहीं करते है। तब महाराज श्री ने एक शेर के द्वारा हमको उस सत्य के बारे में बताया जो इस प्रकार है "जिंदगी तो बेवफा है एक दिन ठुकराएगी, मौत महबूबा है तेरी साथ लेकर जाएगी".यहाँ पर बेवफा उसे कहते है जो साथ नहीं देती है। लेकिन सब लोगों को यहाँ पर एक बफादार साथी ही चाहिए होता है। यहाँ पर हम बात कर रहे है जिंदगी के बारे में जिससे हम सबसे ज्यादा प्यार करते है। यहाँ पर महाराज श्री ने कहा कि मोहब्बत तन से है ,पैसे से है या जीवन से है। तभी तो महाराज श्री ने कहा कि प्यार उससे करों जो जिंदगी भर साथ निभाए ,उससे मत करों जो जिंदगी के बीच में ही धोखा दे दे। यहाँ पर हम मृत्यु और जीवन के बारे में बात कर रहे है। जीवन तो एक छलावा है ये तो बीच में ही धोखा दे जाता है लेकिन मृत्यु तो परम सत्य है उसको ही हम नहीं सुधारते है। उसे हम भूल जाना चाहते है। हमको उसको भूलना नहीं चाहिए। अगर हम उसको याद रखेंगे तो कभी भी जिंदगी में हमसे पाप नहीं होंगे। हमें हमेशा ये याद रखना है कि हमारी मृत्यु तो सत्य है और उसको आने से पहले हमको कुछ अच्छा अपनी जिंदगी में करना है। और जो ये श्रीमद भागवत कथा है ये हमारी इस मृत्यु को सुधारती है। जब राजा परीक्षित ने सुखदेव महाराज जी से प्रश्न किया की जिस व्यक्ति की मृत्यु सातवे दिन है तो उसको क्या करना चाहिए। तो इस प्रश्न को सुनकर सुखदेव महाराज जी ने कहा कि उस व्यक्ति को श्रीमद भागवत कथा सुननी चाहिए। हमारे सनातन धर्म में दो ग्रन्थ बहुत ही महत्वपूर्ण है एक रामायण और एक भागवत। रामायण हम सब को जीना सिखाती है कि हमको कैसे जीना चाहिए। और भागवत हमको मरना सिखाती है कि हमको मरना कैसे चाहिए। जीवन जीना आ गया तो भी मृत्यु सुधर जाएगी। मृत्यु अंतिम समय में भी सुधर जाए तो भी हमारे आगे का जीवन सुधर जायेगा। बस पहले तो मेरी मृत्यु ही सुधर जाए कि मरने से पहले मेरे मुख से एक बार उस गोविन्द का नाम निकल जाये। बस एक बार मेरा मन उस हरी के चरणों में लग जाये। एक बार मेरा चित्त उस गोविन्द की कथा में लग जाये। तो ऐसा करने से ही मेरी मृत्यु सुधर जाएगी। और ये सब हमारा काम करती है श्रीमद भागवत कथा ही। उस भागवत कथा के सुनने मात्र से ही हमारी मृत्यु हर तरह से सुधर जाती है। और आने वाला जीवन काफी हद तक सुधर जाता है। श्रीमद भागवत हमारा कल्याण कर देती है। श्री सुखदेव महाराज जी कहते है कि राजन जिसकी मृत्यु निश्चित है उसको श्रीमद भागवत कथा को सुनना चाहिए। जो भी व्यक्ति केवल सात दिन ही श्रीमद भागवत कथा को सुनता है तो उस को जीवन में मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है। इस मोक्ष को पाने के लिए बड़े से बड़े ऋषि मुनि भी कड़ी तपस्या में लगे रहते है। लेकिन फिर भी उनको मोक्ष मिले यह कन्फर्म नहीं होता है। राधे राधे बोलना पड़ेगा !!

16Oct 2017

"भागवत कथा हमको बताती है की जिंदगी को कैसे जीना चाहिए?"

पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में सास्काटून, कनाडा में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के प्रथम दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कथा शुरू करने से पहले हम सभी को भगवान की भक्ति करने पर ही जोर दिया है। प्रभु भक्ति से ही हम सब के पाप आसानी से धुल जाते है। क्योँकि आज के इस कलयुग में सभी अपने अपने काम करने में ही लगा रहता है। उसको भगवान की भक्ति करने का भी समय नहीं रहता है। लेकिन अपने जीवन को सही ढंग से जीने के लिए और अपने जीवन की सभी समस्याओं को दूर करने के लिए हमको भगवान की पूजा करनी चाहिए। भगवान की पूजा करने के लिए सबसे पहले तो हमारा मन स्वच्छ और साफ़ होना चाहिए। क्योँकि साफ़ और स्वच्छ मन में ही भगवान का वास होता है। जब हमारा मन साफ होगा तो तभी हमारे मन में दूसरों के लिए अच्छे विचार आएंगे। जब हम दूसरों से प्यार करेंगे तो स्वयं भगवान भी हमसब से प्रेम करेंगे और हमारे जीवन में आने वाली सभी समस्याओं को दूर कर देंगे। प्रभु भक्ति से ही हम सब का हर तरह से कल्याण हो सकता है। इसलिए तो हम सबको कभी न कभी भागवत कथा का श्रवण करना चाहिए। भागवत कथा हमको इंसान बनाती है। भागवत कथा ही हम सब को सही मायने में जीना सिखाती है। यहाँ पर महाराज श्री ने बताया कि यदि हम सात दिन की भागवत कथा को सुनेंगे तो अवश्य ही हमको इन सात दिनों में बहुत कुछ ऐसा सिखने को मिलेगा जो हम सब के लिए लाभकारी होगा और जिसके बारे में कभी भी हमने सुना ही नहीं होगा। आज की जिंदगी में हमसब का बस एक ही प्रश्न होता है कि पैसा कैसे कमाया जाता है। इसके लिए हम सब कितने साल तक पढाई करते है। इसके लिए हमसब अपनी जिंदगी के बीस साल गवा देते है उसके बाद ही हमसब पैसा कमाने लगते है। क्या कभी हमने अपनी जिंदगी के बीस दिन भी खर्च किये है क्या? की जिंदगी कैसे जीनी चाहिए। हमसब को तो पता ही नहीं चलता है कि जिंदगी हमको कहा पर ले जा रही है। यहाँ पर हमने पैसे कैसे कमाने चाहिए उसमे अपनी जिंदगी के पच्चीस साल लगा दिए है, पर जिंदगी कैसे जीनी चाहिए उसमे हमने मात्र पच्चीस दिन भी नहीं लगाए है। ये तो मूर्खतापूर्ण बात है न हम सब के लिए कि हम सब को जीना भी ढंग से नहीं आता है। लेकिन श्रीमद भागवत कथा हमको बताती है कि हमको अपनी जिंदगी को कैसे जीना चाहिए। इन सात दिनों में भागवत कथा के सुनने मात्र से ही हमको ये मालूम हो जाता है की हमको जिंदगी कैसे जीनी चाहिए। लेकिन हमको यहाँ पर समझाना पड़ेगा कि जिंदगी जीने का सही अर्थ क्या है, भगवान का सहीं अर्थ क्या है, इस संसार का सही अर्थ क्या है? पुराणों में और किसी युग के मनुष्य की बात क्योँ नहीं की गयी है। एक ही बात बार बार हमको बताई गयी है की कलयुग के लोगों का कल्याण कैसे होगा? इसका मतलब है कि और युग के लोगों को पता है कि हमारा कल्याण कैसे होगा। लेकिन कलयुग के लोगों के पास तो आयु की कमी है वो लोग तो इस धरती पर हज़ारो वर्ष जीते थे, हमलोग तो हज़ारो वर्ष नहीं जीते है। वहां पर अकाल मृत्यु अचानक से नहीं होती है लेकिन यहाँ पर तो अकाल मृत्यु अचनाक से होती है। वहां पर जीवन को पूरा जिया जाता था। लेकिन यहाँ पर तो पता ही नहीं चलता है कि जीवन में कब क्या हो जाये। वहां पर लोग सौ - सौ साल जी जाते है लेकिन यहाँ पर तो पचास साल में ही भगवान को प्यारे हो जाते है। हम सब की जिंदगी का कुछ भी पता नहीं है। तो यहाँ पर कलयुग के लोगों की आयु कम है, कलयुग के लोगों के विचार कम है। कलयुग के लोगों की सारी जिंदगी तो खाने कमाने और बच्चो के पालन पोषण में ही निकल जाती है। तो कलयुग का ये मनुष्य अपने बारे में सोच ही नहीं पाता है। इसलिए तो हमारे ऋषि मुनियों ने बार बार ये कहा है कि कलयुग के लोगों का कल्याण कैसे होगा। सोनकादिक ऋषियों ने श्री शुकदेव जी महाराज से प्रश्न किया किहे मुनि श्रेष्ठ कृपा करके हमको बताइये कि इन कलयुग के लोगों का कल्याण कैसे होगा? यहाँ पर सोनकादिक ऋषियों ने शुकदेव जी महाराज से ऐसे कई प्रश्न किये है, लेकिन उनमे से मोक्ष का प्रश्न काफी अलग है और हम सब के लिए जरुरी भी है। ये प्रश्न है कि हम सब की मुक्ति कैसे होगी। मुक्ति जीव की तब तक नहीं होती है जब तक वो तीन ऋणों से मुक्त न हो जाये। वो तीन ऋण कौनसे है। पहला है दैविक ऋण ,दूसरा है पितृ ऋण और तीसरा है ऋषि ऋण। जब हम सूर्य का प्रकश लेते है तो क्या कोई भी टैक्स देते है। पानी का ,वायु का ,कोई भी टैक्स क्या हम सब देते है। क्या इस प्रकार का कोई भी ऋण हम देवताओं को देते है। देवता हम सब को फ्री ऑफ़ कॉस्ट जीवन देते है। ऐसे अग्नि, आकाश, सूर्य ,चंद्र, वायु, जल आदि हमको निशुल्क में ही जीवन देते है। ये सब हमसे कभी भी किसी भी तरह का शुल्क नहीं लेते है। दूसरा पितृ ऋण, जिन माँ बाप ने हमको पैदा किया है। जिस परिवार में हम पैदा हुए है जब तक उस परिवार का ऋण नहीं उतरता है तब तक सब बेकार है। और तीसरा ऋण ऋषि ऋण, जिंदगी कैसे जीनी चाहिए? ये सब हमको हमारे ऋषि मुनियों ने हमको बताया है। पूजा कैसे करे ,जीवन कैसे जीये,किसी का बार परेशान न करे ,भला काम क्या क्या करे ,ये सब हज़ारों वर्ष पहले जो शास्त्र लिखे है ये उन में हम सब को बताया है। उन सब के द्वारा ही हमको बताया है कि हमको क्या करना चाहिए और हमको क्या नहीं करना चाहिए? किस काम को करने से हम परेशान होंगे और किस काम को करने से हमारा भला होगा। बिना कठिन काम करने से तो हमको अच्छा सा फल भी है प्राप्त नहीं होगा। यहाँ पर महाराज श्री ने हमको बताया कि जो आप बीस साल की जिंदगी में नहीं सीखे है तो वो केवल इन सात दिनों में श्रीमद भागवत कथा के सुनने से ही हम सब को पता चल जाती है। सही अर्थ ये है कि भागवत इन सात दिनों में ही हमें बता देती है कि सही मायने में हमको बताती है की जिंदगी को कैसे जीना चाहिए। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

16Oct 2017

"हम बाहरी मैल मिटाने की तरफ ज्यादा ध्यान देते हैं लेकिन जीवन या मन का मैल नहीं मिटाते हैं।"

पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में सास्काटून,अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के द्वितीय दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कहा की आज के समय में मानव बाहरी सुंदरता पर ध्यान देता है लेकिन अंदर की सुंदरता पर काम नहीं करता है। जैसे हम को भी वस्त्र एक दिन पहनने के बाद धोने में डाल देते है, प्रत्येक दिन हम स्नान करते है ऐसे क्या हम अपने मन का मैल मिटाने का काम करते हैं क्या? नहीं करते हैं। हम भौतिक चीजों की तरफ ज्यादा ध्यान देते हैं लेकिन जीवन या मन का मैल नहीं मिटाते हैं। इसके बाद महाराज श्री ने कहा की हम सब दीपावली पर पूजा करके लक्ष्मी जी को प्रसन्न करने की कोशिश करते है लेकिन हम उनके स्वामी को साल भर नहीं जपते हैं तो लक्ष्मी जी कैसे बिन स्वामी आपके घर आ जायेगी। जब गुरु कृपा करते हैं तो हमें सत्संग मिलता है बिना गुरु कृपा के सत्संग नहीं मिलता है। भगवान शिव ने पार्वती अम्बा को अमर कथा सुनाई और भागवत में ऐसा लिखा है कि जिसने भागवत की कथा श्रद्धा से सुन ली वो माँ के गर्भ में दुबारा नहीं आएगा। यह शरीर छूटने के बाद वह वहाँ पहुँच जायेगा, जहाँ से दुबारा फिर जन्म नहीं लेना पड़ेगा, सदैव आनंद रहेगा। शुकदेव भगवान भी यह कथा सुनने लगते हैं, पार्वती अम्बा सुनती जा रहीं हैं। भगवान शंकर के नेत्र बंद थे, समाधि में योग में स्थित होकर सूना रहे हैं। पार्वती अम्बा हूँ! हूँ! करती रहीं और दसवां स्कन्ध समाप्त हुआ तो नींद आ गयी उन्हें। शुकदेव भगवान हूँ! हूँ! करते रहे और बारहवें स्कन्ध के बाद जब आँख खुली तो देखा पार्वती जी सो रहीं थीं हूँ हूँ ! कौन कर रहा था ? पार्वती जी से पूछा तो उन्होंने कहा प्रभु दशम स्कन्ध की समाप्ति तक, मैंने बहुत सावधान हो कर सुना, पता नहीं क्या आपकी माया थी कि मेरी आँख लग गई पर हूँ ! कौन कर रहा था, देखा तो शुकदेव जी तोते के रूप में हूँ! हूँ! कर रहे थे। भगवान शंकर ने चाहा इसको मार दें! जो खूफिया होते हैं, घुसपैठिये उनको तो मार डालना चाहते हैं, तो भगवान शंकर ने त्रिशूल उठाया और चला दिया, शुकदेव जी वहां से भागे और वेद व्यास जी की पत्नी पिंगला के पेट में चले गए, वे बाल सूखा रहीं थीं, उसी समय उनको जम्हाई आई। पार्वती जी बाद में बोलीं भगवान शंकर से ..प्रभु, इसीलिए तो लोग आपको भोला शंकर कहते हैं, एक ओर तो आप कहते हो जो भागवत की कथा सुनले वो अमर हो जाता है और दूसरी ओर आप शुकदेव को मारना चाहते हो .. जब वो अमर कथा सुन ही चुका है तो मरेगा कैसे! ऐसा मान लो कि भगवान् कृष्ण का ही संकल्प है। बारह वर्ष तक शुकदेव जी गर्भ में रहे, ऐसा शास्त्र कहते हैं, और वहीँ भगवत चिंतन, आत्म चिंतन करते रहे। व्यास जी ने प्रार्थना की, कि भाई कौन ऐसा योगी, पत्नी के गर्भ में आ गया जो बाहर आना ही नहीं चाहता। शुकदेव भगवान् ने कहा की मैं बाहर तब आउंगा जब मुझे ये वचन मिल जाये कि भगवान् की माया मुझ पर हावी नहीं होगी । पैदा होने के बाद भगवान् की माया एक दम पकड़ती है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

16Oct 2017

"हम बाहरी मैल मिटाने की तरफ ज्यादा ध्यान देते हैं लेकिन जीवन या मन का मैल नहीं मिटाते हैं।"

पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में सास्काटून,अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के द्वितीय दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कहा की आज के समय में मानव बाहरी सुंदरता पर ध्यान देता है लेकिन अंदर की सुंदरता पर काम नहीं करता है। जैसे हम को भी वस्त्र एक दिन पहनने के बाद धोने में डाल देते है, प्रत्येक दिन हम स्नान करते है ऐसे क्या हम अपने मन का मैल मिटाने का काम करते हैं क्या? नहीं करते हैं। हम भौतिक चीजों की तरफ ज्यादा ध्यान देते हैं लेकिन जीवन या मन का मैल नहीं मिटाते हैं। इसके बाद महाराज श्री ने कहा की हम सब दीपावली पर पूजा करके लक्ष्मी जी को प्रसन्न करने की कोशिश करते है लेकिन हम उनके स्वामी को साल भर नहीं जपते हैं तो लक्ष्मी जी कैसे बिन स्वामी आपके घर आ जायेगी। जब गुरु कृपा करते हैं तो हमें सत्संग मिलता है बिना गुरु कृपा के सत्संग नहीं मिलता है। भगवान शिव ने पार्वती अम्बा को अमर कथा सुनाई और भागवत में ऐसा लिखा है कि जिसने भागवत की कथा श्रद्धा से सुन ली वो माँ के गर्भ में दुबारा नहीं आएगा। यह शरीर छूटने के बाद वह वहाँ पहुँच जायेगा, जहाँ से दुबारा फिर जन्म नहीं लेना पड़ेगा, सदैव आनंद रहेगा। शुकदेव भगवान भी यह कथा सुनने लगते हैं, पार्वती अम्बा सुनती जा रहीं हैं। भगवान शंकर के नेत्र बंद थे, समाधि में योग में स्थित होकर सूना रहे हैं। पार्वती अम्बा हूँ! हूँ! करती रहीं और दसवां स्कन्ध समाप्त हुआ तो नींद आ गयी उन्हें। शुकदेव भगवान हूँ! हूँ! करते रहे और बारहवें स्कन्ध के बाद जब आँख खुली तो देखा पार्वती जी सो रहीं थीं हूँ हूँ ! कौन कर रहा था ? पार्वती जी से पूछा तो उन्होंने कहा प्रभु दशम स्कन्ध की समाप्ति तक, मैंने बहुत सावधान हो कर सुना, पता नहीं क्या आपकी माया थी कि मेरी आँख लग गई पर हूँ ! कौन कर रहा था, देखा तो शुकदेव जी तोते के रूप में हूँ! हूँ! कर रहे थे। भगवान शंकर ने चाहा इसको मार दें! जो खूफिया होते हैं, घुसपैठिये उनको तो मार डालना चाहते हैं, तो भगवान शंकर ने त्रिशूल उठाया और चला दिया, शुकदेव जी वहां से भागे और वेद व्यास जी की पत्नी पिंगला के पेट में चले गए, वे बाल सूखा रहीं थीं, उसी समय उनको जम्हाई आई। पार्वती जी बाद में बोलीं भगवान शंकर से ..प्रभु, इसीलिए तो लोग आपको भोला शंकर कहते हैं, एक ओर तो आप कहते हो जो भागवत की कथा सुनले वो अमर हो जाता है और दूसरी ओर आप शुकदेव को मारना चाहते हो .. जब वो अमर कथा सुन ही चुका है तो मरेगा कैसे! ऐसा मान लो कि भगवान् कृष्ण का ही संकल्प है। बारह वर्ष तक शुकदेव जी गर्भ में रहे, ऐसा शास्त्र कहते हैं, और वहीँ भगवत चिंतन, आत्म चिंतन करते रहे। व्यास जी ने प्रार्थना की, कि भाई कौन ऐसा योगी, पत्नी के गर्भ में आ गया जो बाहर आना ही नहीं चाहता। शुकदेव भगवान् ने कहा की मैं बाहर तब आउंगा जब मुझे ये वचन मिल जाये कि भगवान् की माया मुझ पर हावी नहीं होगी । पैदा होने के बाद भगवान् की माया एक दम पकड़ती है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

16Oct 2017

"हम बाहरी मैल मिटाने की तरफ ज्यादा ध्यान देते हैं लेकिन जीवन या मन का मैल नहीं मिटाते हैं।"

पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में सास्काटून,अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के द्वितीय दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कहा की आज के समय में मानव बाहरी सुंदरता पर ध्यान देता है लेकिन अंदर की सुंदरता पर काम नहीं करता है। जैसे हम को भी वस्त्र एक दिन पहनने के बाद धोने में डाल देते है, प्रत्येक दिन हम स्नान करते है ऐसे क्या हम अपने मन का मैल मिटाने का काम करते हैं क्या? नहीं करते हैं। हम भौतिक चीजों की तरफ ज्यादा ध्यान देते हैं लेकिन जीवन या मन का मैल नहीं मिटाते हैं। इसके बाद महाराज श्री ने कहा की हम सब दीपावली पर पूजा करके लक्ष्मी जी को प्रसन्न करने की कोशिश करते है लेकिन हम उनके स्वामी को साल भर नहीं जपते हैं तो लक्ष्मी जी कैसे बिन स्वामी आपके घर आ जायेगी। जब गुरु कृपा करते हैं तो हमें सत्संग मिलता है बिना गुरु कृपा के सत्संग नहीं मिलता है। भगवान शिव ने पार्वती अम्बा को अमर कथा सुनाई और भागवत में ऐसा लिखा है कि जिसने भागवत की कथा श्रद्धा से सुन ली वो माँ के गर्भ में दुबारा नहीं आएगा। यह शरीर छूटने के बाद वह वहाँ पहुँच जायेगा, जहाँ से दुबारा फिर जन्म नहीं लेना पड़ेगा, सदैव आनंद रहेगा। शुकदेव भगवान भी यह कथा सुनने लगते हैं, पार्वती अम्बा सुनती जा रहीं हैं। भगवान शंकर के नेत्र बंद थे, समाधि में योग में स्थित होकर सूना रहे हैं। पार्वती अम्बा हूँ! हूँ! करती रहीं और दसवां स्कन्ध समाप्त हुआ तो नींद आ गयी उन्हें। शुकदेव भगवान हूँ! हूँ! करते रहे और बारहवें स्कन्ध के बाद जब आँख खुली तो देखा पार्वती जी सो रहीं थीं हूँ हूँ ! कौन कर रहा था ? पार्वती जी से पूछा तो उन्होंने कहा प्रभु दशम स्कन्ध की समाप्ति तक, मैंने बहुत सावधान हो कर सुना, पता नहीं क्या आपकी माया थी कि मेरी आँख लग गई पर हूँ ! कौन कर रहा था, देखा तो शुकदेव जी तोते के रूप में हूँ! हूँ! कर रहे थे। भगवान शंकर ने चाहा इसको मार दें! जो खूफिया होते हैं, घुसपैठिये उनको तो मार डालना चाहते हैं, तो भगवान शंकर ने त्रिशूल उठाया और चला दिया, शुकदेव जी वहां से भागे और वेद व्यास जी की पत्नी पिंगला के पेट में चले गए, वे बाल सूखा रहीं थीं, उसी समय उनको जम्हाई आई। पार्वती जी बाद में बोलीं भगवान शंकर से ..प्रभु, इसीलिए तो लोग आपको भोला शंकर कहते हैं, एक ओर तो आप कहते हो जो भागवत की कथा सुनले वो अमर हो जाता है और दूसरी ओर आप शुकदेव को मारना चाहते हो .. जब वो अमर कथा सुन ही चुका है तो मरेगा कैसे! ऐसा मान लो कि भगवान् कृष्ण का ही संकल्प है। बारह वर्ष तक शुकदेव जी गर्भ में रहे, ऐसा शास्त्र कहते हैं, और वहीँ भगवत चिंतन, आत्म चिंतन करते रहे। व्यास जी ने प्रार्थना की, कि भाई कौन ऐसा योगी, पत्नी के गर्भ में आ गया जो बाहर आना ही नहीं चाहता। शुकदेव भगवान् ने कहा की मैं बाहर तब आउंगा जब मुझे ये वचन मिल जाये कि भगवान् की माया मुझ पर हावी नहीं होगी । पैदा होने के बाद भगवान् की माया एक दम पकड़ती है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

16Oct 2017

"हम बाहरी मैल मिटाने की तरफ ज्यादा ध्यान देते हैं लेकिन जीवन या मन का मैल नहीं मिटाते हैं।"

पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में सास्काटून,अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के द्वितीय दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कहा की आज के समय में मानव बाहरी सुंदरता पर ध्यान देता है लेकिन अंदर की सुंदरता पर काम नहीं करता है। जैसे हम को भी वस्त्र एक दिन पहनने के बाद धोने में डाल देते है, प्रत्येक दिन हम स्नान करते है ऐसे क्या हम अपने मन का मैल मिटाने का काम करते हैं क्या? नहीं करते हैं। हम भौतिक चीजों की तरफ ज्यादा ध्यान देते हैं लेकिन जीवन या मन का मैल नहीं मिटाते हैं। इसके बाद महाराज श्री ने कहा की हम सब दीपावली पर पूजा करके लक्ष्मी जी को प्रसन्न करने की कोशिश करते है लेकिन हम उनके स्वामी को साल भर नहीं जपते हैं तो लक्ष्मी जी कैसे बिन स्वामी आपके घर आ जायेगी। जब गुरु कृपा करते हैं तो हमें सत्संग मिलता है बिना गुरु कृपा के सत्संग नहीं मिलता है। भगवान शिव ने पार्वती अम्बा को अमर कथा सुनाई और भागवत में ऐसा लिखा है कि जिसने भागवत की कथा श्रद्धा से सुन ली वो माँ के गर्भ में दुबारा नहीं आएगा। यह शरीर छूटने के बाद वह वहाँ पहुँच जायेगा, जहाँ से दुबारा फिर जन्म नहीं लेना पड़ेगा, सदैव आनंद रहेगा। शुकदेव भगवान भी यह कथा सुनने लगते हैं, पार्वती अम्बा सुनती जा रहीं हैं। भगवान शंकर के नेत्र बंद थे, समाधि में योग में स्थित होकर सूना रहे हैं। पार्वती अम्बा हूँ! हूँ! करती रहीं और दसवां स्कन्ध समाप्त हुआ तो नींद आ गयी उन्हें। शुकदेव भगवान हूँ! हूँ! करते रहे और बारहवें स्कन्ध के बाद जब आँख खुली तो देखा पार्वती जी सो रहीं थीं हूँ हूँ ! कौन कर रहा था ? पार्वती जी से पूछा तो उन्होंने कहा प्रभु दशम स्कन्ध की समाप्ति तक, मैंने बहुत सावधान हो कर सुना, पता नहीं क्या आपकी माया थी कि मेरी आँख लग गई पर हूँ ! कौन कर रहा था, देखा तो शुकदेव जी तोते के रूप में हूँ! हूँ! कर रहे थे। भगवान शंकर ने चाहा इसको मार दें! जो खूफिया होते हैं, घुसपैठिये उनको तो मार डालना चाहते हैं, तो भगवान शंकर ने त्रिशूल उठाया और चला दिया, शुकदेव जी वहां से भागे और वेद व्यास जी की पत्नी पिंगला के पेट में चले गए, वे बाल सूखा रहीं थीं, उसी समय उनको जम्हाई आई। पार्वती जी बाद में बोलीं भगवान शंकर से ..प्रभु, इसीलिए तो लोग आपको भोला शंकर कहते हैं, एक ओर तो आप कहते हो जो भागवत की कथा सुनले वो अमर हो जाता है और दूसरी ओर आप शुकदेव को मारना चाहते हो .. जब वो अमर कथा सुन ही चुका है तो मरेगा कैसे! ऐसा मान लो कि भगवान् कृष्ण का ही संकल्प है। बारह वर्ष तक शुकदेव जी गर्भ में रहे, ऐसा शास्त्र कहते हैं, और वहीँ भगवत चिंतन, आत्म चिंतन करते रहे। व्यास जी ने प्रार्थना की, कि भाई कौन ऐसा योगी, पत्नी के गर्भ में आ गया जो बाहर आना ही नहीं चाहता। शुकदेव भगवान् ने कहा की मैं बाहर तब आउंगा जब मुझे ये वचन मिल जाये कि भगवान् की माया मुझ पर हावी नहीं होगी । पैदा होने के बाद भगवान् की माया एक दम पकड़ती है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

16Oct 2017

"हम बाहरी मैल मिटाने की तरफ ज्यादा ध्यान देते हैं लेकिन जीवन या मन का मैल नहीं मिटाते हैं।"

पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में सास्काटून,अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के द्वितीय दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कहा की आज के समय में मानव बाहरी सुंदरता पर ध्यान देता है लेकिन अंदर की सुंदरता पर काम नहीं करता है। जैसे हम को भी वस्त्र एक दिन पहनने के बाद धोने में डाल देते है, प्रत्येक दिन हम स्नान करते है ऐसे क्या हम अपने मन का मैल मिटाने का काम करते हैं क्या? नहीं करते हैं। हम भौतिक चीजों की तरफ ज्यादा ध्यान देते हैं लेकिन जीवन या मन का मैल नहीं मिटाते हैं। इसके बाद महाराज श्री ने कहा की हम सब दीपावली पर पूजा करके लक्ष्मी जी को प्रसन्न करने की कोशिश करते है लेकिन हम उनके स्वामी को साल भर नहीं जपते हैं तो लक्ष्मी जी कैसे बिन स्वामी आपके घर आ जायेगी। जब गुरु कृपा करते हैं तो हमें सत्संग मिलता है बिना गुरु कृपा के सत्संग नहीं मिलता है। भगवान शिव ने पार्वती अम्बा को अमर कथा सुनाई और भागवत में ऐसा लिखा है कि जिसने भागवत की कथा श्रद्धा से सुन ली वो माँ के गर्भ में दुबारा नहीं आएगा। यह शरीर छूटने के बाद वह वहाँ पहुँच जायेगा, जहाँ से दुबारा फिर जन्म नहीं लेना पड़ेगा, सदैव आनंद रहेगा। शुकदेव भगवान भी यह कथा सुनने लगते हैं, पार्वती अम्बा सुनती जा रहीं हैं। भगवान शंकर के नेत्र बंद थे, समाधि में योग में स्थित होकर सूना रहे हैं। पार्वती अम्बा हूँ! हूँ! करती रहीं और दसवां स्कन्ध समाप्त हुआ तो नींद आ गयी उन्हें। शुकदेव भगवान हूँ! हूँ! करते रहे और बारहवें स्कन्ध के बाद जब आँख खुली तो देखा पार्वती जी सो रहीं थीं हूँ हूँ ! कौन कर रहा था ? पार्वती जी से पूछा तो उन्होंने कहा प्रभु दशम स्कन्ध की समाप्ति तक, मैंने बहुत सावधान हो कर सुना, पता नहीं क्या आपकी माया थी कि मेरी आँख लग गई पर हूँ ! कौन कर रहा था, देखा तो शुकदेव जी तोते के रूप में हूँ! हूँ! कर रहे थे। भगवान शंकर ने चाहा इसको मार दें! जो खूफिया होते हैं, घुसपैठिये उनको तो मार डालना चाहते हैं, तो भगवान शंकर ने त्रिशूल उठाया और चला दिया, शुकदेव जी वहां से भागे और वेद व्यास जी की पत्नी पिंगला के पेट में चले गए, वे बाल सूखा रहीं थीं, उसी समय उनको जम्हाई आई। पार्वती जी बाद में बोलीं भगवान शंकर से ..प्रभु, इसीलिए तो लोग आपको भोला शंकर कहते हैं, एक ओर तो आप कहते हो जो भागवत की कथा सुनले वो अमर हो जाता है और दूसरी ओर आप शुकदेव को मारना चाहते हो .. जब वो अमर कथा सुन ही चुका है तो मरेगा कैसे! ऐसा मान लो कि भगवान् कृष्ण का ही संकल्प है। बारह वर्ष तक शुकदेव जी गर्भ में रहे, ऐसा शास्त्र कहते हैं, और वहीँ भगवत चिंतन, आत्म चिंतन करते रहे। व्यास जी ने प्रार्थना की, कि भाई कौन ऐसा योगी, पत्नी के गर्भ में आ गया जो बाहर आना ही नहीं चाहता। शुकदेव भगवान् ने कहा की मैं बाहर तब आउंगा जब मुझे ये वचन मिल जाये कि भगवान् की माया मुझ पर हावी नहीं होगी । पैदा होने के बाद भगवान् की माया एक दम पकड़ती है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

16Oct 2017

"हम बाहरी मैल मिटाने की तरफ ज्यादा ध्यान देते हैं लेकिन जीवन या मन का मैल नहीं मिटाते हैं।"

पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में सास्काटून,कनाडा में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के द्वितीय दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कहा की आज के समय में मानव बाहरी सुंदरता पर ध्यान देता है लेकिन अंदर की सुंदरता पर काम नहीं करता है। जैसे हम को भी वस्त्र एक दिन पहनने के बाद धोने में डाल देते है, प्रत्येक दिन हम स्नान करते है ऐसे क्या हम अपने मन का मैल मिटाने का काम करते हैं क्या? नहीं करते हैं। हम भौतिक चीजों की तरफ ज्यादा ध्यान देते हैं लेकिन जीवन या मन का मैल नहीं मिटाते हैं। इसके बाद महाराज श्री ने कहा की हम सब दीपावली पर पूजा करके लक्ष्मी जी को प्रसन्न करने की कोशिश करते है लेकिन हम उनके स्वामी को साल भर नहीं जपते हैं तो लक्ष्मी जी कैसे बिन स्वामी आपके घर आ जायेगी। जब गुरु कृपा करते हैं तो हमें सत्संग मिलता है बिना गुरु कृपा के सत्संग नहीं मिलता है। भगवान शिव ने पार्वती अम्बा को अमर कथा सुनाई और भागवत में ऐसा लिखा है कि जिसने भागवत की कथा श्रद्धा से सुन ली वो माँ के गर्भ में दुबारा नहीं आएगा। यह शरीर छूटने के बाद वह वहाँ पहुँच जायेगा, जहाँ से दुबारा फिर जन्म नहीं लेना पड़ेगा, सदैव आनंद रहेगा। शुकदेव भगवान भी यह कथा सुनने लगते हैं, पार्वती अम्बा सुनती जा रहीं हैं। भगवान शंकर के नेत्र बंद थे, समाधि में योग में स्थित होकर सूना रहे हैं। पार्वती अम्बा हूँ! हूँ! करती रहीं और दसवां स्कन्ध समाप्त हुआ तो नींद आ गयी उन्हें। शुकदेव भगवान हूँ! हूँ! करते रहे और बारहवें स्कन्ध के बाद जब आँख खुली तो देखा पार्वती जी सो रहीं थीं हूँ हूँ ! कौन कर रहा था ? पार्वती जी से पूछा तो उन्होंने कहा प्रभु दशम स्कन्ध की समाप्ति तक, मैंने बहुत सावधान हो कर सुना, पता नहीं क्या आपकी माया थी कि मेरी आँख लग गई पर हूँ ! कौन कर रहा था, देखा तो शुकदेव जी तोते के रूप में हूँ! हूँ! कर रहे थे। भगवान शंकर ने चाहा इसको मार दें! जो खूफिया होते हैं, घुसपैठिये उनको तो मार डालना चाहते हैं, तो भगवान शंकर ने त्रिशूल उठाया और चला दिया, शुकदेव जी वहां से भागे और वेद व्यास जी की पत्नी पिंगला के पेट में चले गए, वे बाल सूखा रहीं थीं, उसी समय उनको जम्हाई आई। पार्वती जी बाद में बोलीं भगवान शंकर से ..प्रभु, इसीलिए तो लोग आपको भोला शंकर कहते हैं, एक ओर तो आप कहते हो जो भागवत की कथा सुनले वो अमर हो जाता है और दूसरी ओर आप शुकदेव को मारना चाहते हो .. जब वो अमर कथा सुन ही चुका है तो मरेगा कैसे! ऐसा मान लो कि भगवान् कृष्ण का ही संकल्प है। बारह वर्ष तक शुकदेव जी गर्भ में रहे, ऐसा शास्त्र कहते हैं, और वहीँ भगवत चिंतन, आत्म चिंतन करते रहे। व्यास जी ने प्रार्थना की, कि भाई कौन ऐसा योगी, पत्नी के गर्भ में आ गया जो बाहर आना ही नहीं चाहता। शुकदेव भगवान् ने कहा की मैं बाहर तब आउंगा जब मुझे ये वचन मिल जाये कि भगवान् की माया मुझ पर हावी नहीं होगी । पैदा होने के बाद भगवान् की माया एक दम पकड़ती है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

14Oct 2017

"केवल सात दिन श्रीमद भागवत कथा सुनने से ही मोक्ष प्राप्त हो जाता है "

पूज्य महाराज श्री देवकीनंदन ठाकुर जी के सानिध्य में न्यू जर्सी, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के सप्तम दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने आज सबसे पहले कथा शुरू करने से हमें बताया कि हमको किस तरह से भगवान की भक्ति करनी चाहिए। महाराज श्री ने कहा कि प्रभु की भक्ति के लिए सबसे पहले हमको अपने मन को सदा के लिए साफ कर लेना चाहिए। ताकि हमारे मन में किसी भी तरह का कोई भी पाप न आने पाए। क्योँकि जब तक हमारा मन साफ़ नहीं होगा तो हमारा मन उस प्रभु की भक्ति में लगेगा ही नहीं। इसलिए तो कहा गया है कि जिन भी व्यक्तियों का मन साफ़ नहीं होगा तो चाहे वो कितनी भी भक्ति या पूजा क्योँ न कर ले पर उनको इसका फल कभी भी है मिलेगा। हमको सदा ही सच्चे और साफ़ मन से उस परम परमात्मा की पूजा में ही अपने आप को सदा के लिए लगा देना चाहिए। क्योँकि वो परमात्मा ही हमको इस संसार रुपी दलदल से निकाल सकते है। भागवत कथा को सुनने से भी हमको बहुत ही फायदा होता है। जो व्यक्ति केवल सात दिन ही भागवत कथा को सुन लेते है तो उनको उस मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है जिसके लिए बड़े बड़े ऋषि मुनि वर्षो तक वन में तपस्या करते रहते है। तब भी ये भरोसा नहीं रहता है कि उनको मोक्ष मिलेगा भी या नहीं। लेकिन यदि हम इन सात दिनों में भागवत कथा को मात्र सुन भी लेते है तो हमको उस मोक्ष की प्राप्ति हो जाती है। इन बारह महीनो में से ये कार्तिक का महीना बड़ा ही पवित्र होता है। क्योँकि इस महीने में हम जो भी अच्छा कार्य करते है तो उस कार्य का फल भी हमको कुछ ज्यादा ही मिलता है। दुनिया उस कृष्ण का स्मरण करते है और वो कृष्ण उस राधा रानी का भजन करते है। यदि इस कार्तिक महीने में हम राधा और कृष्ण का भजन करते है तो उसका फल भी हमको कई गुना मिलता है। कल कथा में आपने सुना था कि राजकुमारी रुक्मणि का विवाह श्री कृष्ण के साथ संपन्न हुआ था। श्री कृष्ण ने सोलह हज़ार एक सौ आठ विवाह किये थे। कई लोग फिर भी कह देते है कि इतने सारे विवाह करने वाले ये अपने आप को देवता कहलाते है। पर ये कैसे देवता है? जिन्होंने इतने सारे विवाह किये है। लेकिन भगवान का इस धरती पर आने का प्रयोजन कुछ और ही था जिनका वर्णन उन्होंने खुद ही किया है। यहाँ पर भगवान श्री कृष्ण ने स्वयं ही कहा है कि मैं हर युग में केवल धर्म की स्थापना करने के लिए आता हूँ। इसका मतलब ये है कि हर युग में ऐसे भी लोग होते है जो धर्म को नहीं मानते है। सतयुग में हिरण्यकशपु ,त्रेता युग में रावण ,द्वापर युग में कंस और कलयुग में हम और तुम जैसे व्यक्ति होते है जो धर्म को नहीं मानते है या कमियां निकालते रहते है। संसार में भगवान को मज़बूरी से मानने वाले लोग ज्यादा मिलेंगे बजाय मन से मानने वाले लोगों के। जो दिल से भगवान को माने ऐसे लोग दुनिया में बहुत ही कम है और जो दिल से भगवान को मानते है वही सच्चे भक्त होते है। विपत्ति में तो भगवान को मानने वाले होते है ये तो आम बात होती है। इसलिए हमको जो कुछ भी मिले उसे भगवान की मंजूरी समझ कर ले लेना चाहिए। हमको बस इस बात को स्वीकार कर लेना चाहिए कि जो कुछ भी हमको मिला है उसी में हमारी भलाई है। और यही हम सब की सच्ची भक्ति है। पर लेकिन आज इस कलयुग में ऐसे भी भक्त होते है जो सामने तो कुछ और ही करते है और पीछे से कुछ और ही करते है। अब जब कलयुग में भी ऐसे लोग मौजूद है तो भगवान को कलयुग में भी आना पड़ता है। कलयुग के चौथे चरण में कल्कि अवतार होगा। जब भौमासुर नामक राक्षस जहां पर भी कन्याओं को देखता था तो उनको बंदी बना लेता था। जब नारद जी को इस बात का पता चला तो उन्होंने द्वारकाधीश को इस बारे में बताया। तब द्वारकाधीश गरुड़ पर स्वर होकर वहां पर गए और उस दुष्ट राक्षस का वध किया और उन बंदी बानी लड़कियों को आज़ाद कराया। तब उन लड़कियों ने कृष्ण से कहा कि अब हम कहा को जाएँ। अब हम को स्वीकार कौन करेगा। हमारे संसार में बुजुर्गो को सदा से ही भार समझा जाता है। हमारे युवा लड़के कभी भी बुजुर्गों की सेवा करना ही है चाहते है। वो उनको साथ रखना ही नहीं चाहते है। कई युवा लड़के तो उनको अपने साथ रखने में भी शर्म महसूस करते है। क्योँ उन माँ बाप को उन वृद्ध आश्रमों में जाना पड़े जिन्होंने हमको ऊँगली पकड़ कर चलना सिखाया है। जिस मां ने मुझको नौ महीने तक अपने पेट में रखा है। क्या मेरे जवान होने पर उसको यही वरदान मिलेगा की उसको मेरे घर से सदा के लिए जाना पड़ेगा। हम सब आपसे पूछते है कि क्या भारतीय सभ्यता है ,क्या यही भारतीय परम्परा है। इसलिए हम सब को सदा ही अपने बच्चो को यही सीखना चाहिए कि जिस माँ ने हमें जन्म दिया है उस माँ को हमको कभी भी नहीं भूलना चाहिए। उस माँ बाप को हमें कभी किसी भी तरह का दुःख दर्द नहीं देना चाहिए। क्योँकि यही वह माँ बाप है जो खुद भूखे रह कर भी हम सब का पेट भरते है। और आज इस बुढ़ापे में हमको उनको दर्द नहीं देना चाहिए। उनकी हर प्रकार से सेवा करनी चाहिए। हमको उन माँ बाप की आँखों में कभी भी आंसू नहीं आने देना चाहिए। यदि हमारी वजह से उनकी आँखों में आंसू आये तो अपनी इस जिंदगी में हम कभी भी खुश नहीं रह सकते है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

13Oct 2017

"हम सभी को सदा ही पवित्र मन से प्रभु की भक्ति करनी चाहिए "

पूज्य महाराज श्री देवकीनंदन ठाकुर जी के सानिध्य में न्यू जर्सी, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के षष्टम दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने "श्री राधे गोपाल भजमन श्री राधे "नामक भजन सुना कर वहां पर मौजूद सभी अपने भक्त जनो को प्रभु भक्ति के लिए प्रेरित किया। महाराज श्री ने कहा कि हमसब को सबसे पहले अपने मन को पूजा के लिए पवित्र कर लेना चाहिए। तभी हम अपने प्रभु की सच्ची भक्ति कर सकते है। इसलिए हमको अपने मन को सदा ही साफ रखना चाहिए। तभी हमारा मन अपने प्रभु की भक्ति में लग सकता है। जो लोग अपने मन को साफ नहीं रखते है वो अपने प्रभु की भक्ति सच्चे मन से नहीं कर सकते है। अपने प्रभु की भक्ति के लिए हमको सदा ही अपने मन को सदा के लिए साफ रखना चाहिए। महाराज श्री ने कथा को शुरू करने से पहले हमें बताया कि कौन लोग किसके द्वारा प्रसन्न होता है। ब्राह्मण को हम भोजन से प्रसन्न कर सकते है। अगर उसके साथ थोड़ी सी दक्षिणा ज्यादा दे दे तो और भी ज्यादा प्रसन्न हो जाते है। तब हमको वो सब कुछ ज्यादा ही प्रसन्न होकर अच्छा सा वरदान दे देते है। मोर ज्यादा काले घने बादल देखकर अधिक प्रसन्न हो जाते है। और जो साधु लोग होते है वो पराई संपत्ति को देखकर अधिक प्रसन्न हो जाते है। साधु केवल वही नहीं होता है जो लाल वस्त्र पहनता है। जब हम समाज को सुख देने वाले कार्य करते है तो हम साधु कहलाते है। हम भजन करते है तो साधु कहलाते है। ईश्वर को मानते है तो हम साधु कहलाते है। हम सब में साधु भी मौजूद होता है और दुष्ट भी होता है। अगर हम समाज को नुकसान पहुँचाने वाले कार्य करे तो हम साधु नहीं है। तब हम दुष्ट कहलाते है। अगर इस संसार में साधु और संत नहीं होते तो ये संसार सदा ही द्वेष ,ईर्ष्या ,घमंड आदि परेशानियों से सदा ही जूझता रहता। और इस संसार को इन सब से बचाने वाला कोई और नहीं होता। जब हम समाज से ,परिवार से ,अपनी इच्छाओं से परेशान होते है तब हम किसी संत के चरणों में जाकर दो आंसू बहाते है। और कभी - कभी तो वो आंसू ऐसे बहते है कि उस संत के हृदय से सच्चा आशीर्वाद निकल जाता है। वो आशीर्वाद देते है कि जा और चिंता मतकर भगवान तुम्हारी सभी मनोकामनाओं को पूरा करेंगे। और उसके बाद अगर भगवान हमारे ऊपर अपनी कृपा कर देते है तो बाकई हमारे जीवन की सभी समस्याओं का समाधान निकल जाता है। जो सच्चे मन वाले होते है वो ही तो सच्चे साधु होते है। और वही साधु हमारी ख़ुशी देखकर खुद भी खुश हो जाते है। और जो दुष्ट होते है वो पराई विपत्ति को देखकर अधिक प्रसन्न होते है। कई बार हमने देखा है की जिनसे हमारा कुछ भी लेना देना नहीं होता है फिर भी वो हम सब की विपत्ति को देखकर अधिक प्रसन्न होते है। ये तो पुरानी कहावत है कि आजकल व्यक्ति अपने दुःख से दुखी नहीं होता है वो तो दूसरों के सुख से अधिक दुखी होता है। ये सब बातें तो हम सब की मेंटालिटी को दर्शाती है कि हमसब की सोच किस तरह की है। ये सब बातें हम सब की विचारधारा का ,हमारी बुरी थिंकिंग का परिचय कराती है कि आप किसी की प्रसन्नता में प्रसन्न नहीं हो सकते है। अपितु जब कोई भी व्यक्ति प्रसन्न होता है तो आप तो यही सोचते है कि यह व्यक्ति प्रसन्न होने की जगह दुखी होना चाहिए। उस व्यक्ति को दुःख देना चाहिए ,उसको परेशान किया जाना चाहिए। और जब कोई भी व्यक्ति स्वाभाविक रूप से अपने दुःख से दुखी होता है तो हम ख़ुशी मनाते है। आपने देखा भी होगा कि जब कोई व्यक्ति दुखी होता है तो बहुत सारे लोगों के चेहरे पर अपने आप ही ख़ुशी आ जाती है। हम सब को एक बात कभी नहीं भूलनी चाहिए कि जब हम दूसरों के दुःख में खुशियां मनाते है। तो एक दिन वह भी आएगा की जब हम दुखी होंगे और हम सब के शत्रु हमारे दुःख में खुशियां मनाएंगे। हम सब को इन छोटी - छोटी बातों का विशेष ध्यान देना चाहिए। हमको दूसरों के दुःख में खुश नहीं होना चाहिए। बल्कि हमसब को भगवान् से प्रार्थना करनी चाहिए की इसके दुःख को जल्दी से समाप्त कर दो। भगवान इसको दुःख सहने की शक्ति प्रदान करो। आप किसी के भला होने की प्रार्थना नहीं कर सकते है। लेकिन किसी के भला होने की दुआ तो कर सकते है। लेकिन आज का व्यक्ति मेंटली इतना गरीब हो चूका है की न तो वो किसी का भला कर सकता है और न ही किसी के भला होने की दुआ कर सकता है। तुम्हारा क्या चला जायेगा अगर तुम किसी के दुःख को देखकर उसके भला होने की दुआ कर दो तो। अगर हम किसी की दुआ के लिए अपने हाथ उठा देंगे तो हमारे ठाकुर जी अपने सहस्त्रो हाथ उठाकर हमारी मदद करेंगे और हमको कभी भी असुरक्षा महशुश नहीं होगा। जब आप किसी को सुरक्षित करते है तो मेरे ठाकुर जी आपको सुरक्षित रखते है। जब हमको भगवान् का भोजन मिले तो हमको उस प्रसाद को ही भगवान् का आशीर्वाद समझकर ग्रहण कर लेना चाहिए। राधे राधे बोलना पड़ेगा !!

12Oct 2017

"जब हम भगवान की तरफ नहीं देखते है तब वो थोड़ी - थोड़ी मुसीबत भेजते है हमारे जीवन में।"

पूज्य महाराज श्री देवकीनंदन ठाकुर जी के सानिध्य में न्यू जर्सी, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के पंचम दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने "दूर नगरी बड़ी दूर नगरी, कैसे आऊं रे सांवरिया कैसे आऊं रे मनवसिया तेरी गोकुल नगरी" भजन से कथा प्रारम्भ की। महाराज श्री ने कहा की हमारे इष्टदेव यानि की ठाकुर जी ही हम सब को इस संसार रुपी दलदल से सदा के लिए निकाल सकते हैं। यही है जो हमको इस मोहमाया के चंगुल से सदा के लिए आज़ाद कर सकते है। लेकिन आज का इंसान अनजाने में ही कई बार हम सब से एक प्रश्न करता है की जब भगवान हर जगह है तो इतने मंदिरों की क्या जरुरत है। इस पर स्वामी विवेकानंद जी ने बड़ा ही सुन्दर सा जबाव दिया है कि हवा चारो तरफ है लेकिन उस हवा को महसूस करने के लिए हमें कूलर, पंखा की जरुरत होती है। इसके लिए महाराज श्री ने एक दृष्टांत सुनाया कि एक जगह एक बिल्डिंग का निर्माण हो रहा था। सुपरवाइजर था बिल्डिंग के सबसे ऊपर और सभी मजदूर नीचे काम कर रहे थे। तब उस सुपरवाइजर को किसी मजदूर से जरुरी काम पड़ा। जिस मजदूर से उसे काम था उसने उसे आवाज दी लेकिन नीचे काफी होने के कारण किसी ने आवाज नहीं सुनी। तब उसने एक दस रूपये का नोट नीचे फैका। लेकिन मजदूर ने वो दस का नोट उठाया और अपनी जेब में रख लिया और दोबारा काम करने लगा। फिर उस सुपरवाइजर ने पांच सौ का नोट नीचे की तरफ फैका। लेकिन मजदूर ने उस पांच सौ के नोट को भी उठाया और फिर से काम करने लग गया। उसने फिर भी ऊपर की तरफ नहीं देखा। अब सुपरवाइजर ने वहां से अबकी बार एक छोटा सा पत्थर उठाया और उस मजदूर के सर पर दे मारा। अब उस मजदूर ने ऊपर की तरफ देखा कि ये पत्थर आया कहाँ से है? तब उस मजदूर की सुपरवाइजर से वार्ता शुरू हो गयी। ठीक वैसी ही स्थति हमारे जीवन में होती है। जब हमको छोटी-छोटी खुशियां मिलती है तो हम उस भगवान की तरफ देखते भी नहीं है। बड़ी ख़ुशी के वक़्त भी अगर हमको भगवान भी याद करता है तो भी हम अपने आप को बड़ा ही बिजी कर लेते है। जब हम भगवान की तरफ नहीं देखते है तब वो थोड़ी - थोड़ी मुसीबत भेजते है हमारे जीवन में। यहाँ पर गुरु नानकदेव जी ने एक बड़ी अच्छी बात लिखी है कि "जब हमारे जीवन में छोटी - छोटी मुसीबत आती है तब ही हमें इनकी याद आती है"। लेकिन यदि हम इनको अपने सुखी दिनों में याद करेंगे तो दुःख तो कभी आएगा ही नहीं हमारे जीवन में। उनका कहना ये है की सुखी दिनों में हम उनकी तरफ देखते भी नहीं लेकिन जब दुःख आता है तो हमको उनके सिवा कुछ दिखता भी है। इसलिए तो महाराज श्री ने कहा है कि हमको उस बुरे वक़्त का इंतज़ार नहीं करना चाहिए कि कब बुरा वक़्त आएगा और कब हम उसको याद करेंगे। इस थिंकिंग को हमको बदल देना चाहिए। अच्छे समय में ही इतने अच्छे काम कर लेना चाहिए कि बुरे समय में बुराई अपने आप ही चली जाये और ये तभी होगा जब हम अच्छे काम करेंगे। तभी हमारे सभी दुखड़ों को यानि दुखों को हमारे राम दूर कर देंगे। हमको तो अपने आत्म कल्याण के बारे में सोचना चाहिए। अपने बारे में सोचना चाहिए कि मैं कौन हूँ ये सोचना चाहिए। मैं कहाँ से आया हूँ ये भी सोचना चाहिए। हमारे वेदों में कर्म कांड का भी वर्णन मिलता है और वेदों में भक्ति का भी वर्णन मिलता है। तब महाराज श्री ने हमको बताया कि ज्ञानी तो इस संसार में पूर्णतया कोई आया ही नहीं है। हमको भगवान की भक्ति सदा ही करते रहना चाहिए। इसलिए तो हमको उस देव के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानना चाहिए। तभी तो हम अपने जीवन में सफल हो सकते है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

12Oct 2017

"जब हम भगवान की तरफ नहीं देखते है तब वो थोड़ी - थोड़ी मुसीबत भेजते है हमारे जीवन में।"

पूज्य महाराज श्री देवकीनंदन ठाकुर जी के सानिध्य में न्यू जर्सी, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के पंचम दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने "दूर नगरी बड़ी दूर नगरी, कैसे आऊं रे सांवरिया कैसे आऊं रे मनवसिया तेरी गोकुल नगरी" भजन से कथा प्रारम्भ की। महाराज श्री ने कहा की हमारे इष्टदेव यानि की ठाकुर जी ही हम सब को इस संसार रुपी दलदल से सदा के लिए निकाल सकते हैं। यही है जो हमको इस मोहमाया के चंगुल से सदा के लिए आज़ाद कर सकते है। लेकिन आज का इंसान अनजाने में ही कई बार हम सब से एक प्रश्न करता है की जब भगवान हर जगह है तो इतने मंदिरों की क्या जरुरत है। इस पर स्वामी विवेकानंद जी ने बड़ा ही सुन्दर सा जबाव दिया है कि हवा चारो तरफ है लेकिन उस हवा को महसूस करने के लिए हमें कूलर, पंखा की जरुरत होती है। इसके लिए महाराज श्री ने एक दृष्टांत सुनाया कि एक जगह एक बिल्डिंग का निर्माण हो रहा था। सुपरवाइजर था बिल्डिंग के सबसे ऊपर और सभी मजदूर नीचे काम कर रहे थे। तब उस सुपरवाइजर को किसी मजदूर से जरुरी काम पड़ा। जिस मजदूर से उसे काम था उसने उसे आवाज दी लेकिन नीचे काफी होने के कारण किसी ने आवाज नहीं सुनी। तब उसने एक दस रूपये का नोट नीचे फैका। लेकिन मजदूर ने वो दस का नोट उठाया और अपनी जेब में रख लिया और दोबारा काम करने लगा। फिर उस सुपरवाइजर ने पांच सौ का नोट नीचे की तरफ फैका। लेकिन मजदूर ने उस पांच सौ के नोट को भी उठाया और फिर से काम करने लग गया। उसने फिर भी ऊपर की तरफ नहीं देखा। अब सुपरवाइजर ने वहां से अबकी बार एक छोटा सा पत्थर उठाया और उस मजदूर के सर पर दे मारा। अब उस मजदूर ने ऊपर की तरफ देखा कि ये पत्थर आया कहाँ से है? तब उस मजदूर की सुपरवाइजर से वार्ता शुरू हो गयी। ठीक वैसी ही स्थति हमारे जीवन में होती है। जब हमको छोटी-छोटी खुशियां मिलती है तो हम उस भगवान की तरफ देखते भी नहीं है। बड़ी ख़ुशी के वक़्त भी अगर हमको भगवान भी याद करता है तो भी हम अपने आप को बड़ा ही बिजी कर लेते है। जब हम भगवान की तरफ नहीं देखते है तब वो थोड़ी - थोड़ी मुसीबत भेजते है हमारे जीवन में। यहाँ पर गुरु नानकदेव जी ने एक बड़ी अच्छी बात लिखी है कि "जब हमारे जीवन में छोटी - छोटी मुसीबत आती है तब ही हमें इनकी याद आती है"। लेकिन यदि हम इनको अपने सुखी दिनों में याद करेंगे तो दुःख तो कभी आएगा ही नहीं हमारे जीवन में। उनका कहना ये है की सुखी दिनों में हम उनकी तरफ देखते भी नहीं लेकिन जब दुःख आता है तो हमको उनके सिवा कुछ दिखता भी है। इसलिए तो महाराज श्री ने कहा है कि हमको उस बुरे वक़्त का इंतज़ार नहीं करना चाहिए कि कब बुरा वक़्त आएगा और कब हम उसको याद करेंगे। इस थिंकिंग को हमको बदल देना चाहिए। अच्छे समय में ही इतने अच्छे काम कर लेना चाहिए कि बुरे समय में बुराई अपने आप ही चली जाये और ये तभी होगा जब हम अच्छे काम करेंगे। तभी हमारे सभी दुखड़ों को यानि दुखों को हमारे राम दूर कर देंगे। हमको तो अपने आत्म कल्याण के बारे में सोचना चाहिए। अपने बारे में सोचना चाहिए कि मैं कौन हूँ ये सोचना चाहिए। मैं कहाँ से आया हूँ ये भी सोचना चाहिए। हमारे वेदों में कर्म कांड का भी वर्णन मिलता है और वेदों में भक्ति का भी वर्णन मिलता है। तब महाराज श्री ने हमको बताया कि ज्ञानी तो इस संसार में पूर्णतया कोई आया ही नहीं है। हमको भगवान की भक्ति सदा ही करते रहना चाहिए। इसलिए तो हमको उस देव के बारे में ज्यादा से ज्यादा जानना चाहिए। तभी तो हम अपने जीवन में सफल हो सकते है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

11Oct 2017

"सिर्फ सनातन धर्म ही ऐसा है जहां पर कन्याओं का पूजन होता है।"

पूज्य महाराज श्री देवकीनंदन ठाकुर जी के सानिध्य में न्यू जर्सी, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के चतुर्थ दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कहा कि एक भक्त को जिस तरह मैं और मेरा भगवान अधिक प्रिय लगता है। ठीक उसी तरह ही एक पत्नी को मैं और मेरा पति प्रिय लगता है। पुराने समय में जब किसी पत्नी का पति मर जाता था और तो वो भी अपने पति के साथ ही चिता में बैठ कर अपना शरीर त्याग देती थी। ऐसा ही एक प्रमाण तब देखने में आता है जब लक्ष्मण जी ने मेघनाथ जी का वध किया था। मेघनाथ की पत्नी सुलोचना जो शेषनाग की बेटी है और शेषनाग कौन है? वो तो लक्ष्मण जी है। सुलोचना ने अपने ससुर से कहा कि मुझे मेरे पति का सिर लाकर दो। तब रावण ने सुलोचना से कहा कि नहीं तुमको सती नहीं होना चाहिए और उसकी सास मंदोदरी भी सुलोचना से बोली कि नहीं तुम हमारी बेटी की तरह हो। तुमको पति के साथ सती नहीं होना चाहिए। लेकिन सुलोचना तो अपने वचन पर अडिग थी कि नहीं मुझे तो अपने पति के साथ ही सती होना है। सती होने के लिए मुझे मेरे पति का सिर चाहिए। लेकिन सिर तो राम के दल में था और वहां से सिर को लाएगा कौन? तब रावण ने सुलोचना से कहा कि मैं तो मेघनाथ का सिर मांगने नहीं जाऊंगा राम के दल में। तब सास मंदोदरी ने कहा कि अपने पति रावण की आज्ञा के बिना में भी नहीं जाउंगी। तब स्वयं सुलोचना ने राम के दल में जाने का फैसला किया वहां से मेघनाथ का सिर लाने के लिए। जब सबको पता चला कि मेघनाथ की पत्नी उसका सिर लेने के लिए आई है तो सब लोग वहां पर शांत खड़े हो गए। तब सुलोचना ने श्री राम से कहा कि मुझे मेरे पति का सिर चाहिए। तब श्री राम ने उनका सम्मान पूर्वक स्वागत किया और सम्मान पूर्वक ही मेघनाथ का सिर उनको सौप दिया। तब अपने पति का सिर लेकर सुलोचना जलती अग्नि में बैठकर अपने शरीर का त्याग कर देती है और अपने पति के साथ ही सती हो जाती है। हमारे शास्त्रों में ऐसा मानते है कि जो स्त्री अपने पति के साथ सती होती है तो वो हमेशा पति लोक में अपने पति के साथ ही वास करती है। फिर उसको इस धरती पर आने की जरुरत नहीं पड़ती है। पति व्रता पत्नी के सामने तो भगवान भी झुक जाते है। तब महाराज श्री ने करवा चौथ के बारे में भी बताया। महाराज श्री ने बताया कि स्त्रियां सोलह श्रृंगार कब करती है। अगर स्त्री टेंशन में होगी तो सोलह श्रृंगार नहीं कर सकती है। जब स्त्री खुश होगी तो ही वह सोलह श्रृंगार करती है। जब देवी खुश होगी तो ही हमारा घर स्वर्ग बन पाता है। इसीलिए तो कहते है कि जहाँ पर देवियों का सम्मान होता है वहां पर देवता वास करते है। सिर्फ सनातन धर्म ही ऐसा है जहां पर कन्याओं का पूजन होता है ,जहाँ पर देवियों का पूजन होता है। हमारे यहाँ पर कभी भी स्त्रियों का छोटा नहीं समझा गया है। हमारे यहां पर सदा से ही देवियों को पूजनीय समझा गया है। हमें ज्ञान चाहिए तो हमको सरस्वती देवी जी की पूजा करनी चाहिए। यदि हमें धन चाहिए तो हमको माता लक्ष्मी जी की पूजा करनी चाहिए। यदि हमको ताकत चाहिए तो हमको माता दुर्गा की पूजा करनी चाहिए। सब की सब ताकत तो हमारी देवियों के पास ही है ,हमारे पास क्या है? हमारे पास तो कुछ भी नहीं है। उदाहरण के तौर पर शादी के बाद देवियों को कहा जाता है देवी। लेकिन शादी के बाद पुरुष को देवता कभी भी नहीं कहा जाता है। तो यही स्त्री के सम्मान का एक प्रतिक है। स्त्रियां इन्ही कारणों से सम्मान का भाव रखती है और करवाचौथ के दिन पति की लम्बी उम्र के लिए व्रत रखती है और करवाचौथ का व्रत कार्तिक मास में होता है और कार्तिक मास में किया हुआ कोई भी सत कर्म हमको कई गुणा फल देता है। कार्तिक मास इन बारह मासों में से सबसे पवित्र मास माना गया है। और इसीलिए कार्तिक मास में ही करवा चौथ का व्रत है। कार्तिक मास में एक प्रसंग का बहुत ही महत्व है गजेंद्र मोक्ष। हम सब को गजेंद्र मोक्ष अवश्य सुनना चाहिए। जो कार्तिक मास में गजेंद्र मोक्ष सुनते है उनको बहुत ही बड़ा फल मिलता है। आप को जानना चाहिए कि भगवान आपके कितने पास है, करीब है, ये सब हमको जानना चाहिए। हमारी बुद्धि तब बहुत ही छोटी होती है जब हम कहते है कि हम भगवान से बहुत ही दूर है। भगवान हमारी नहीं सुनता है। लेकिन ये गलत है कि जितनी जल्दी भगवान हमारी सुनता है और कोई हमारी नहीं सुनता है। जब हम कोई छोटी समस्या में फस जाते है तो हम और दूसरों को याद करते है। लेकिन जब हम किसी बड़ी समस्या में फस जाते है तो हम केवल और केवल भगवान को ही याद करते है। हम सब को पता होता है कि इस समस्या में केवल भगवान ही हमारी मदद कर सकते है। जब सबसे बड़ी समस्या हमारे जीवन में आती है तो तब हमको सिर्फ उस भगवान की ही याद आती है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

8Oct 2017

" कार्तिक मास में पूजा का फल कई गुना मिलता है "

पूज्य श्री देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज के सानिध्य में न्यू जर्सी, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के प्रथम दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कथा प्रारम्भ करते हुए कहा की लोगों का भागवत सुनना इतना आसान नहीं है। वो भी इस मास में, इस मास में व्यक्ति जो भी कार्य करता है तो इसका फल उसको कई गुना लगता है। ये समय काफी पवित्र होता है। महाराज श्री ने कहा कि इस संसार में हमको जो कुछ भी मिलता है वो सब हमें उस ठाकुर की कृपा से ही मिलता है। इसके बाद महाराज श्री ने "हमारो धन राधा श्री राधा श्री राधा, जीवन धन राधा श्री राधा श्री राधा" भजन भक्तों को श्रवण कराया। जिस प्रकार से राधा रानी का कृष्ण के प्रति सच्चा प्रेम है उसी तरह से हमको भी अपने साथी से सच्चा प्रेम करना चाहिए। हमारे जीवन में तीन ताप होते है दैहिक, दैविक और भौतिक। सुख हो या दुःख तीनों तीन प्रकार के होते है। चाहे शारीरिक सुख हो या शारीरिक दुःख हो, चाहे भौतिक सुख हो या भौतिक दुःख हो, चाहे दैविक सुख हो या दैविक दुःख। तीनो प्रकार के ताप व्यक्ति को सुख भी देते है और दुःख भी देते है। पर इनकी उत्पत्ति करने वाले कौन है? इनका पालन करने वाले कौन है? इनका संहार करने वाले कौन है? ऐसे सचिदानंद को हम कोटि-कोटि नमन करते है। कहते है ऐसे सचिदानंद श्री कृष्ण को जो नमन करते है उनको ये तीनो ताप नहीं सताते है। फिर भगवान इनको अपना लेते है। जिनको कोई अपना ले तो उनका फेवर तो भगवान को भी करना पड़ता है। इसलिए भगवान से उस चीज को मत मांगो जिसका दोबारा मन ही न करे उसे छोड़ने का, लेकिन छोड़ना तो पड़ेगा ही। एक न एक दिन हर वस्तु का आखिरी दिन तो आता ही है। समय का तो पता है नहीं होता है वह किसी से कहकर तो आता ही नहीं है। ये नहीं होता है कि यदि तुम आज अच्छे हो तो कल भी आप अच्छे ही रहोगे। इस जिंदगी का कोई भी भरोसा ही नहीं है। ये मत सोचना की मौत आने के लिए बुढ़ापा ही जरुरी है। कई बुजुर्ग ऐसे भी है जो मौत मांगते है पर उनको मौत आती ही नहीं है। मौत के लिए अगर कुछ आवश्यक है तो वो है आपका जन्म। जन्म के लिए ये आवश्यक नहीं है की आप इस धरती पर भी आये अगर आप माँ के गर्भ में भी आ गए है तो भी आपकी मृत्यु हो सकती है। वो कभी भी हो सकती है उसकी कोई लिमिट नहीं है, कोई सीमा नहीं है, कोई भी कानून नहीं है। तो जिस दिन हमारी मृत्यु आती है उस दिन तो हमें छोड़के जाना ही पड़ेगा। कार्तिक महीने को सब लोग बहुत ही पवित्र मानते है तो इस पवित्र महीने में हमको श्रीमद भागवत कथा को सुनना चाहिए।जब हम इन सातों दिनों में अगर श्रीमद भागवत कथा को सुनेगे तो इसके फलस्वरूप में हम जो भी फल मांगेंगे तो वो हमको जरूर ही मिल जायेगा। अगर कथा सुनकर दरिद्र से दरिद्र भी अपने लिए धन मांगेगा तो उसको धन भी मिल जायेगा। पापी को निष्पाप कर देते है, रोगी को निरोगी कर देते है। जिनके अगर संतान नहीं होती है तो उसको संतान दे देते है। जिन व्यक्तियों के पास सब कुछ हो और उसे भगवान से कुछ नहीं चाहिए होता है तो फिर भी भगवान उस को मोक्ष दे देता है। अगर हम भगवान से कहे की आप मुझसे धन दौलत ले ले और मुझे आप मोक्ष दे दो तो क्या भगवान हमें मोक्ष देंगे? तो क्या इस पर भगवान हमको मोक्ष देंगे क्या? बिलकुल भी नहीं देंगे। तो इस पर भगवान हमको वहां से चले जाने को कहेंगे और जो ये तुम मुझे देने की बात कह रहे हो वो सब भी तो मेरा ही है। जो मैंने तुझे इस संसार में भेजा है कि जा और तू कुछ सीख ले इस धरती पर जाकर। जो ये तू कहता है की ये मेरा है पर ये तेरा नहीं ये तो मेरा ही है। इस पर भी भगवान हमको मोक्ष नहीं देते है। और उस व्यक्ति को मोक्ष दे देते है जो मात्र इन सात दिनों में श्रीमद भागवत कथा को सुनते है। उस भागवत को सुनाने से बिना मांगे ही वो सब कुछ मिल जाता है जो जन्म जन्म की तपस्या करने के बाद भी हमको नहीं मिलता है। बड़े बड़े ऋषि मुनि जो तरसते रहते है उस मोक्ष को पाने के लिए वो मात्र इन सात दिनों में भागवत कथा को सुनने से ही हमको मिल जाता है। सबसे शुद्ध अंतिम संस्कार भारतीय परंपरा का होता है। पांच तत्व से बना हुआ ये हमारा शरीर अंत में चिता पर जलने के बाद ही इन पांचों तत्वों में ही इसको समर्पित कर दिया जाता है। एक भी तत्व हमारे अंतिम संस्कार से वंचित नहीं रहता है। लेकिन आज के मनुष्य के पास इतना समय ही नहीं होता है कि वो भागवत कथा को सुने। लेकिन गन्दी जगह पर वही व्यक्ति बिना बुलाए ही चला जाता है और काफी पैसे खर्च करके आ जाता है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

9Oct 2017

" प्रभु भक्ति के द्वारा ही हम इस संसार में अपने सभी कठिन कामों को भी आसानी से कर लेते है "

पूज्य महाराज श्री देवकीनंदन ठाकुर जी के सानिध्य में न्यू जर्सी, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के द्वितीय दिवस में संगति के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने "मेरा कोई न सहारा बिन तेरे गोपाल सावरिया मेरे" भजन भक्तों को श्रवण कराया। इसके बाद महाराज श्री ने प्रभु भक्ति को बहुत ही जरुरी बताया है। इसी के द्वारा ही हम बड़ी से बड़ी विपदा से लड़ सकते है। प्रभु भक्ति के द्वारा ही हम इस संसार में अपने सभी कठिन कामों को भी आसानी से कर लेते है। इसीलिए से हमें को अपना सारा का सारा ध्यान ही प्रभु की भक्ति में लगा देना चाहिए। ताकि हम सब का ये पापी जीवन सुधर सके। जो व्यक्ति प्रभु की भक्ति नहीं करता है वह हर समय विपदाओं में घिरा रहता है। इस तरह की विपदा का केवल एक ही समाधान है और वो है प्रभु की भक्ति करना। इसलिए ही हमको प्रभु की भक्ति करना ही जरुरी बताया गया है। ये कार्तिक मास का पवित्र महीना चल रहा है। और इस समय में भागवत कथा का सुनना ऐसा होता है मानों हमने अमृत को पा लिया है। इन दिनों में कथा के सुनने से हमको मन वांछित फल मिल जाता है। इन दिनों में कथा के सुनने मात्र से ही हमारे सभी पाप दूर हो जाते है। इस महीने में कथा सुनने से हम सब को उस मोक्ष की प्राप्ति होती है जिसके लिए बड़े-बड़े ऋषि मुनि वन में हज़ारों वर्षो तक तपस्या करते रहते है लेकिन फिर भी उनको मोक्ष नहीं मिलता है। कानो से जो भी पान किया जाता है वो निकलता नहीं है। घाव तो एक बार की गोली से भर भी जाता है लेकिन जो हमारी बोली होती है उसका हमारे जीवन में बहुत ही बड़ा असर पड़ता है। जब हम किसी के द्वारा कुछ अच्छा सुनते है तो उसका हमारे जीवन में अच्छा ही असर पड़ता है। और हमारे जीवन में अनेक तरह के परिवर्तन आने लग जाते है। हमारा जीवन सब समस्याओं से छुटकारा पा लेता है। इसलिए ही केवल श्रवण मात्र से ही हमारे जीवन में सब कुछ बदल सकता है। जब हमारे बच्चे कोई भजन या कथा को सुनते है तो उनके जीवन में उसका बहुत ही अच्छा प्रभाव पड़ता है। जब भी हम किसी को कुछ भला बुरा बोलते है तो उसका असर भी तो हमारे जीवन में ही पड़ता है। अगर हम कुछ बार बोलेंगे तो उसका बुरा असर ही हमारे जीवन में पड़ेगा। और यदि हम कुछ अच्छा बोलेंगे तो कुछ अच्छा असर ही पड़ेगा हमारे जीवन में। इसलिए तो कहते है कि आप जैसा बोलोगे तो जनता भी आपसे वैसा ही व्यवहार करती है। इसलिए तो हमारे ऋषि मुनियों ने हमसे कहा है कि जीवन में बुरे लोगों का संग मत करो। सदा ही अच्छे लोगो का संग करो। बुरे लोगों का संग तो हमारे जीवन को पूरी तरह ही बिगाड़ देते है। इसलिए तो कहा है की हमको इन व्यक्तियों का संग कभी भी नहीं करना चाहिए। इसलिए तो कहा है कि जो विष है वो सिंह की मूछों में रहता है और शर्प के मस्तिष्क में विष रहता है। बिच्छू की पूंछ में विष रहता है। लेकिन दुर्जन व्यक्ति के तो हर अंग में विष रहता है। इसलिए तो कहते है कि न तो बुरे लोगों के साथ व्यापार करना चाहिए, न उठना-बैठना चाहिए, न आना-जाना चाहिए। हमको तो ऐसी संगति को सदा के लिए ही त्याग देना चाहिए। हमलोगों ने हमारे ऋषि मुनियों के कथन को इग्नोर किया है इसलिए ही तो हम सब ज्यादा अपसेट होते है। इसलिए ही हम ज्यादा परेशान रहते है। हमारी जिंदगी में कुछ ज्यादा ही स्ट्रगल रहता है, होता तो सब कुछ है हमारी जिंदगी में पर हम संतुष्ट नहीं होते है अपने जीवन में, क्योँकि हम सब लोगों का संग अच्छा नहीं होता है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

10Oct 2017

" भारतीय परंपरा में महाराज श्री ने 16 शृंगार के वैज्ञानिक महत्व के बारे में बताया "

पूज्य महाराज श्री देवकीनंदन ठाकुर जी के सानिध्य में न्यू जर्सी, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के तृतीय दिवस में करवाचौथ के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। आज की कथा प्रारम्भ करने से पहले पूज्य महाराज श्री ने सभी माताओं, बहनों को करवाचौथ की शुभकामनायें दी व ठा. प्रियाकांत जू भगवान से उनके सुहाग के चिरायु होने की मंगल कामना भी की। महाराज श्री ने सभी माताओं और बहनो को बताया की आज के दिन 16 श्रृंगार अवश्य करना चाहिए। साथ ये भी बताया की एक विवाहित स्त्री को 16 श्रृंगार तब करना चाहिए जब उसका पति साथ हो और एक भक्त को जब उसका ठाकुर साथ हो। महाराज श्री ने कथा में 16 शृंगार का वैज्ञानिक महत्त्व भी बताया की आखिर भारतीय परंपरा में किस कारण स्त्री ये 16 शृंगार करती है। भारतीय संस्कृति ही एक मात्र ऐसी संस्कृति है जहाँ स्त्रियां अपनी मांग में सिंदूर लगाती है, सिंदूर लगाने का वैज्ञानिक महत्व यह है की इसमें पारे की मात्रा होती है जो स्त्रियों में विध्यमान विधुत शक्ति को नियंत्रित करने का कार्य करती है। बिंदी- महिलाये अपनी दोनों भौहों के बीच में इसलिए लगाती है, क्योंकि इस स्थान पर मनुष्य का आज्ञाचक्र स्थित होता है जब हम प्रति दिन इस स्थान पर बिंदी लगाते है तो स्त्रियों की आध्यात्मिक शक्ति जाग्रत होती है। इसी प्रकार काजल लगाने से मताये, बहनें दूसरों की बुरी नज़र से अपने को सुरक्षित करती है। महिलाये जो चूड़ियाँ पहनती है उससे उनके मन की चंचलता दर्शन होता है, क्योकि हम अपने पति के सामने जिस चंचलता का व्यवहार कर सकते है उसी प्रकार का व्यवहार हम समाज में अन्य किसी के समक्ष नहीं करते। यह नियंत्रण हमें चूड़ियों से मिलता है। कंगन हमें ममत्व प्रदान करता है। जो फूलों का गजरा माताएं अपने बालों में लगाती है वो प्रतिपल हमारे मन में स्फूर्ति का प्रदर्शन करता है। बाजूबंद पहने से मासपेशियां एवं हड्डियों पर नियंत्रण बना रहता है। महिलाएं जो पायल और घुँघरू पहनती है वह हमारे घर में सुख व शांति का दर्शन कराती है क्योकि लक्ष्मी के साथ साथ घर में शांति का होना अत्यंत आवश्यक है। इसी प्रकार मेंहदी लगाने से रक्तचाप पर नियंत्रण होता है और माताओं का रक्तचाप नियंत्रित रहना घर व घरवालों के लिए कितना आवश्यक है ये आप सभी जाते हैं। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

10Oct 2017

" भारतीय परंपरा में महाराज श्री ने 16 शृंगार के वैज्ञानिक महत्व के बारे में बताया "

पूज्य महाराज श्री देवकीनंदन ठाकुर जी के सानिध्य में न्यू जर्सी, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के तृतीय दिवस में करवाचौथ के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। आज की कथा प्रारम्भ करने से पहले पूज्य महाराज श्री ने सभी माताओं, बहनों को करवाचौथ की शुभकामनायें दी व ठा. प्रियाकांत जू भगवान से उनके सुहाग के चिरायु होने की मंगल कामना भी की। महाराज श्री ने सभी माताओं और बहनो को बताया की आज के दिन 16 श्रृंगार अवश्य करना चाहिए। साथ ये भी बताया की एक विवाहित स्त्री को 16 श्रृंगार तब करना चाहिए जब उसका पति साथ हो और एक भक्त को जब उसका ठाकुर साथ हो। महाराज श्री ने कथा में 16 शृंगार का वैज्ञानिक महत्त्व भी बताया की आखिर भारतीय परंपरा में किस कारण स्त्री ये 16 शृंगार करती है। भारतीय संस्कृति ही एक मात्र ऐसी संस्कृति है जहाँ स्त्रियां अपनी मांग में सिंदूर लगाती है, सिंदूर लगाने का वैज्ञानिक महत्व यह है की इसमें पारे की मात्रा होती है जो स्त्रियों में विध्यमान विधुत शक्ति को नियंत्रित करने का कार्य करती है। बिंदी- महिलाये अपनी दोनों भौहों के बीच में इसलिए लगाती है, क्योंकि इस स्थान पर मनुष्य का आज्ञाचक्र स्थित होता है जब हम प्रति दिन इस स्थान पर बिंदी लगाते है तो स्त्रियों की आध्यात्मिक शक्ति जाग्रत होती है। इसी प्रकार काजल लगाने से मताये, बहनें दूसरों की बुरी नज़र से अपने को सुरक्षित करती है। महिलाये जो चूड़ियाँ पहनती है उससे उनके मन की चंचलता दर्शन होता है, क्योकि हम अपने पति के सामने जिस चंचलता का व्यवहार कर सकते है उसी प्रकार का व्यवहार हम समाज में अन्य किसी के समक्ष नहीं करते। यह नियंत्रण हमें चूड़ियों से मिलता है। कंगन हमें ममत्व प्रदान करता है। जो फूलों का गजरा माताएं अपने बालों में लगाती है वो प्रतिपल हमारे मन में स्फूर्ति का प्रदर्शन करता है। बाजूबंद पहने से मासपेशियां एवं हड्डियों पर नियंत्रण बना रहता है। महिलाएं जो पायल और घुँघरू पहनती है वह हमारे घर में सुख व शांति का दर्शन कराती है क्योकि लक्ष्मी के साथ साथ घर में शांति का होना अत्यंत आवश्यक है। इसी प्रकार मेंहदी लगाने से रक्तचाप पर नियंत्रण होता है और माताओं का रक्तचाप नियंत्रित रहना घर व घरवालों के लिए कितना आवश्यक है ये आप सभी जाते हैं। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

7Oct 2017

"भगवान की कृपा कोई चीज़ नहीं है जो बाज़ार से खरीदी जा सके।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में शिकागो, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के सप्तम दिवस में भक्ति कैसे की जाए उसका वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने सातवें दिन की कथा प्रारम्भ करने से पहले बताया कि आज शरद पूर्णिमा है और आज ही के दिन भगवान श्री कृष्ण ने वृंदावन में रास किया था। आज के दिन किये हुए हर कार्य पूर्ण होते है। वो कभी भी अपूर्ण यानि की अधुरे हि नहीं रह जाते है। आज के दिन हम जो भी कार्य करते है वही हमें पूर्णता की और ले जाते है। आज शरद पूर्णिमा भी है और आज कथा का समापन भी हो जायेगा। तो आज तो श्री कृष्ण आपको छप्पर फाड़ के दे रहा है। इसके बाद महाराज श्री ने "मेरो प्यारों नन्दलाल किशोरी राधे, औ किशोरी राधे श्यामा राधे" भजन भक्तों से श्रवण कराया। जो व्यक्ति भगवान की भक्ति नहीं करता है वह इस संसार के कष्टों में ही उलझ कर रह जाता है। इसलिए हमको भगवान का आशीर्वाद प्राप्त करने के लिए सदैव ही अपने प्रभु की भक्ति में लगे रहना चाहिए। सत्संग जीव को और जीव के विचारों को पवित्र करता है। भागवत जैसा ग्रन्थ जीव का हर प्रकार से उद्धार भी करता है। लेकिन कई बार बहुत से लोग हमको मिल जाते है और कहते है कि हमने तो भागवत कथा सुनी थी लेकिन हमको तो इसका कोई भी लाभ नहीं हुआ है। हमको भगवान के दर्शन नहीं हुए है सब लोगों को भगवान् के दर्शन हो गए है। ऐसा हमारे साथ ही क्योँ होता है? क्या कभी ऐसा हो सकता है कि भगवान सब पर अपनी कृपा करे और केवल आप पर ही ना करे? भगवान तो हमेशा ही हम पर कृपा करते है, बस सच बताइए कि क्या हमको भगवान की कृपा लेना आता है? कृपा कोई बाज़ार से खरीदी नहीं जा सकती है। कृपा अगर पानी है तो हमें उसके लायक बनना पड़ता है। फिर महाराज श्री ने एक दृष्टांत सुनाया और कहा कि एक बार मिटटी का मटका रूठ गया देवराज इंद्र से की इस संसार में मैं ही आपको सबसे बड़ा शत्रु दीखता हूँ। तब लोगों ने उससे पूछा कि तुम ऐसा क्योँ सोचते हो। तब मटका बोला कि सोचता नहीं मैंने एक्सपीरियंस किया हुआ है। तब मटका बोला की पुरे शहर में बारिश हो जाती है लेकिन मुझे तो महसूस ही नहीं हो पाती है। तब इंद्र बोले कि ऐसा तो नहीं है कि बारिश एक व्यक्ति को छोड़ कर बाकि के सब पर हो रही है। जब आकाश से बारिश की बुँदे गिरती है तो हम सब पर समान रूप से गिरती है। जब भी बारिश होती है तो किसी भी स्थान को छोड़ती नहीं है। तब मटका इंद्र से बोला कि नहीं हमारे ऊपर तो बारिश नहीं होती है। अगर बारिश हम पर होती तो हम भर नहीं जाते। हम तो खाली ही है,हम भरे नहीं है। तब इंद्र देव बोले की मुझे एक बात समझ नहीं आई है कि सब कहते है कि बारिश हुई है पर ये कहता है कि मुझ पर तो बारिश हुई ही नहीं है। जब उस मटके के पास जाकर देखा जहाँ पर वह रखा हुआ है तो कसूर इसमें बारिश का नहीं था उस मटके का ही था। क्योँकि वहां पर बारिश तो हुई थी पर वह मटका उल्टा रखा हुआ था। इस पर इंद्र देव ने उस मटके से कहा कि अब यदि तुम उलटे रखे हो तो तुममे पानी कैसे भरेगा। अगर तुम सीधे रखे होते तो तुममे पानी भी भरता। वैसा ही आज का मनुष्य या प्राणी है जो कहता है कि भगवान हम पर अपनी कृपा नहीं करते है। अगर तुम उलटे लटके हुए हो तो भगवान की कृपा तुमपर आएगी कहाँ से। तुम अगर चाहते हो कि तुम पर भगवान की कृपा हो तो तुम पहले सीधे तो हो जाओ। लेकिन हम सब इस बात को समझाना ही नहीं चाहते है। आप एक बात बताओ कि अगर भगवान की हम पर कृपा नहीं होती तो हमको ये मानव शरीर मिलता कैसे। भगवान की कृपा का हमारे पास प्रत्यक्ष प्रमाण है और वो है हमारा मानव जीवन। लेकिन भगवत कथा के द्वारा मिला ज्ञान हमको जन्म जन्मांतर तक काम आता है। भगवान की कृपा को संभालना सीखो। फिर इसके बाद महाराज श्री ने बताया कि कल आपने सुना था कि भगवान श्री कृष्ण ने रुक्मणि जी से विवाह किया। तो श्री कृष्ण ने सोलह हज़ार एक सौ आठ विवाह किये थे। तब एक व्यक्ति ने उनसे प्रश्न किया कि ये कैसे भगवान है जिन्होंने इतने विवाह किये है। एक पत्नी के चक्कर में आकर हमने देश को छोड़ दिया है पैसे के लिए। हर स्त्रियों को स्वार्थ तो हो सकता है अपने पतियों से ,लेकिन उन रानियों को तो कोई भी स्वार्थ नहीं था उस गोविन्द से। अगर हम सब को उनका दर्शन मात्र ही हो जाये तो इसके बाद हमको तो किसी भी चीज की जरुरत ही नहीं होती है। वो जानती थी कि वो केवल हमारे ही पति नहीं है वो तो जगत के पति है। एकबार नारद ने सोचा कि भगवन तो सबके साथ लीलाए करते है। वो सोचने लगे कि क्या लीला की जाए ,तब उन्होंने सोचा कि इनके घर में थोड़ी लड़ाई की जाए। तब नारद ने सोचा कि जिस भी पत्नी के पास कृष्ण नहीं होंगे तो मैं वहीँ पर लड़ाई का बीज बोऊँगा। देखो वो तो उन्ही से प्रेम करते है ,उन्ही के पास बैठे है। तुमसे तो प्रेम करते ही नहीं है ,तुमहारे पास तो वो आते ही नहीं है। तुम यही पर बैठी रहो ,उनका इंतज़ार करती रहो। तब इसके बाद नारद जिस भी महल में गए तो वहां पर उनको श्री कृष्ण जी मिले। वहां पर ऐसा कोई भी महल नहीं था जहाँ पर श्री कृष्ण नहीं थे। हर एक महल में श्री कृष्ण है ये तो इस भगवत्ता का प्रमाण है। यहाँ पर उन्होंने सोचा कि एक साधारण सा इंसान एक समय में हर जगह पर मौजूद नहीं हो सकता है लेकिन श्री कृष्ण तो हर महल में मौजूद थे। तो अनेको अनेक इच्छाओं से उनकी पूर्ति कर रहे है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

6Oct 2017

"मनुष्य को अभिमान नहीं करना चाहिए क्योंकि अभिमान ही सब दुखों की जड़ है "

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में शिकागो, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के षष्ठम दिवस में भगवान की लीलाओं का सुन्दर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कथा प्रारम्भ करते हुए कहा की भगवान गोविन्द जी को सदैव याद करना चाहिए क्योंकि वो ही है जो हमें इस पापी संसार से मुक्ति दिला सकते है। वो ही है जो इस मतलबी संसार में हमारी हर समस्या से रक्षा कर सकते है। भगवान की इस पवित्र रचना को हम नमन करते है। मेरे ठाकुर जी की ये जो रचना है वो बड़ी ही सूंदर और आनंददायक है। जिसकी कल्पना भी हम लोग नहीं कर सकते है। जब मेरे ठाकुर जी ने इतनी सूंदर सृष्टि की रचना की है तो हम अंदाजा भी नहीं लगा सकते है कि इतनी सूंदर सृष्टि की रचना करने वाले मेरे ठाकुर का रूप कैसा होगा? इस बारे में जरा सा सोच कर तो देखिये। इसके बाद महाराज श्री ने "नाम तुम्हारा तारणहारा जाने कब दर्शन होगा, तेरी रचना इतनी सूंदर तू कितना सूंदर होगा" भजन भक्तों को श्रवण कराया। तभी तो हम सब के मन में अपने प्रभु के प्रति इतनी आस्था का विचार आएगा और हम अपने इष्टदेव की पूजा में लग जायेंगे। महाराज श्री ने कहा कि हम लोगों को सदा ही शांतिपूर्ण ढंग से जीवन जीने की चाह होती है। हम सभी को शांति, सुख और समृद्धि चाहिए होती है। लेकिन कभी-कभी ऐसा होता है की हम लोग चाहते कुछ और है और होता कुछ और है। शान्तिपूर्ण जीवन या जिंदगी जीने के लिए कुछ कर्म होते है जो हमको करने चाहिए। हमारे यहाँ पर सदा ही दो चीजों का सिद्धांत होता है जिसका हमारे बड़े बुजुर्ग बड़ा ही ध्यान रखा करते थे। वो दो चीजों का बड़ा ही ध्यान रखा करते थे एक तो खाने का और दूसरा पीने का। वो लोग भोजन का भी बड़ा ध्यान रखते थे कि कुछ गलत सलत न खा ले। जल पीने का भी बड़ा ध्यान रखते थे कि कुछ गलत सलत न पी ले। यहाँ पर हमें जैसे ही जल आये तो उसे चरणामृत समझना चाहिए और जैसे ही भोजन आये तो उसको भगवान का प्रसाद समझाना चाहिए। ये जो आपके द्वारा दिया हुआ जल है और ये जो आपके द्वारा दिया हुआ भोजन है इसको मैं ग्रहण कर रहा हूँ। इन सब को मैं आपका प्रसाद समझकर ग्रहण कर रहा हूँ तो इसके बदले आप मेरे मन में सदा ही अच्छे विचार देना और मेरा मन सदा ही शुद्ध रखना। इसके बदले आप मुझे अपनी शक्ति देना ,आप इसमें मुझे अपनी कृपा देना, इसमें आप मुझे अपनी भक्ति देना, इसमें आप मुझे अपने अच्छे विचार देना। यही प्रार्थना हमको हर बार जलपान और भोजन ग्रहण करते समय करनी चाहिए। कई बार हम सब लोग ऐसा कर बैठते है जिसकी कल्पना भी हम लोग नहीं कर सकते है। हमारी पति से लड़ाई हो गयी है या पत्नी से लड़ाई हो गयी है। अब वो मुझसे बात करेगी या नहीं, या हमेशा रूठी ही रहेगी। ऐसी नकारात्मक चीजे केवल उस भोजन से ही हमारे अंदर आते है जो हम करते है। जो जल हम पीते है उसके अंदर से ही हमारे अंदर ये नकारात्मक विचार आते है। हम बिना किसी भोग लगाए ही सब कुछ ग्रहण किये जा रहे है जो हमको नहीं करना चाहिए। हम जब भी कुछ खाते है या कुछ पीते है तो सबसे पहले भगवान को भोग लगा देना चाहिए। इस सब में केवल थोड़ा सा समय ही तो लगता है। थोड़ा सा समय निकाल कर हमको आँखे बंद करके भगवान का ध्यान करना चाहिए। सदैव हमसब को सकारात्मक होकर काम करना चाहिए। जैसे की यदि हमारी अपने पति या पत्नी से लड़ाई भी हो गयी है तो उसको ठन्डे दिमाग से बैठा कर उसके लिए थोड़ा सा पानी लेकर आना चाहिए और एक लौटे में जल लेकर आइये और भगवान से कहिये की हे भगवान इस जल में आप अपनी पावर डाल दीजिये। जैसे ही आप वो जल अपने पति या पत्नी को पिलाएंगे तो पांच मिनट के अंदर ही हमारे घर का माहौल ठीक होने लग जायेगा। श्री कृष्ण भगवान ब्रज में अनेकों लीला करते है। उन्ही लीलाओं में से कल आपने गिरिराज महाराज की लीला को सुना था। भगवान श्री कृष्ण ने गोवर्धन पर्वत इसलिए उठाया था क्योंकि एक तो ब्रजवासियों से पूजा करवानी थी बिना बताए की मैं भी भगवान हूँ। दूसरा कारण यह था कि इंद्र को अभिमान हो गया था कि मैं देवराज इंद्र हूँ और भगवान को अभिमान ही पसंद नहीं है। सब कुछ भगवान सहन कर लेते है केवल अभिमान ही सहन नहीं कर सकते है। कई लोगों को अपने पैसे का अभिमान बहुत ही होता है। किसी को अपने बहुत ही बड़े पद का अभिमान बहुत ही होता है। कई लोगों को तो अपनी भक्ति का भी अभिमान बहुत ही होता है। नारद जी को तो इस बात का अभिमान बहुत था कि मैंने काम और क्रोध को जीत लिया है। तो नारद जी भगवान से कह था कि मैंने अपनी कृपा से कामदेव को जीत लिया है। पर भगवान केवल वाणी पर ही नहीं जाते है वो तो सीधे भीतर ही जाते है कि अंदर चल क्या रहा है। यहां पर मेरे प्रभु की पहुंच केवल थोड़ी जगह तक ही सीमित नहीं है, उनकी पहुँच तो हमारे अंदर तक है। कि हमारे अंदर चल क्या रहा है। ऐसा कुछ नहीं है जो मेरे प्रभु जानते न हो। जब नारद ने कह की मैंने ही काम को जीता है तो इस बात में भी उनका घमंड साफ़ झलक रहा था। तो इस पर भगवान ने उनको बन्दर बना दिया। तो इस पर भगवान नारद जी का धैर्य जांचने के लिए योग माया को कहा की तुम एक सूंदर स्त्री का रूप धारण करके नारद के पास जाना। तुम इतनी सूंदर बनना कि नारद जी के मन में शादी की इच्छा जग जाये। जब नारद जी ने मोहनी बनी स्त्री को देखा तो देखता ही रह गया। तो उसी समय नारद ने सोचा की अभी तो ये कन्या भी कुंवारी है और अभी तक तो मैं भी कुंवारा हूँ। पर मेरे साथ तो एक समस्या है कि मुझसे शादी करेगा कौन? क्योँकि मैं तो एक ब्रह्मचारी हूँ और ये तो एक राजकुमारी है। तब भगवान के पास नारद जी दौड़े-दौड़े गए और कहने लगे कि आप मुझको अपना रूप दे दो। नारद जी भगवान से कह रहे है कि आप वो ही करना जिसमें मेरा हित हो। आपको तो तुरंत ही ये सब कर देना चाहिए क्योँकि मैं तो आपका दास हूँ। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

5Oct 2017

"आप जैसा भी और जिसका भी संग करोगे तो उसका रंग एक न एक दिन आप पर जरूर ही चढ़ जायेगा।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में शिकागो, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के चतुर्थ दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने "मीठों रस से भरों री राधा रानी लागे, महारानी लागे" भजन से आज की कथा प्रारम्भ की। महाराज श्री ने अपने प्रभु भक्ति को ही हम सभी के लिए जरुरी बताया। क्योँकि इस के द्वारा ही हम सभी अपने जीवन को सुधार सकते हैं। इस परमात्मा की भक्ति से ही हम हर पाप से मुक्ति पा सकते है। प्रभु भक्ति से ही हम हर समस्या का आसानी से हल निकाल सकते है हर विपदा को आसानी से पार कर सकते हैं। क्योँकि प्रभु भक्ति से ही हमें इतनी शक्ति मिल जाती है की हम इन समस्याओं को आसानी से दूर कर सकते है और जो लोग प्रभु की भक्ति नहीं करते है तो वो इन समस्याओं में उलझ कर ही रह जाते है। इन समस्याओं को दूर नहीं कर पाते है। यहाँ पर सबसे पहले महाराज श्री ने कथा शुरू करने से पहले एक समस्या के बारे में बताया। महाराज श्री ने कहा की कुछ लोगों ने मुझसे कहा कि महाराज मेरा भगवान के भजन में मन नहीं लगता है। हम जब भी भजन करने को बैठते है तो हमारा ध्यान इधर-उधर भटकता रहता है, लेकिन प्रभु के भजन में ही हमारा मन नहीं लगता है। बैठते तो हम भजन करने के लिए है लेकिन हमारा मन ही कहीं और चला जाता है। महाराज श्री ने कहा की हमारे मन में जितनी भी समस्याएं होती है वो उसी वक़्त ही आती है जब हम भजन करने के लिए बैठते है। यह समस्या हम सभी को होती है। इस समस्या के समाधान के लिए भगवान ने हमें समाधान तो बताया है पर हम उस समाधान को करना नहीं चाहते है। जब तक हम उस समस्या का समाधान करेंगे नहीं तब तक उस का समाधान होगा ही नहीं। हमको कोई न कोई समस्या होती है तो इसके लिए हम कुछ न कुछ समाधान करने की कोशिश तो करते ही है। लेकिन जब हमारा भगवान के भजन में मन नहीं लगता है तो इस समस्या का समाधान हम करना ही नहीं चाहते है। नहीं लगता है तो नहीं लगता, बैठे है तो बैठे है, कुछ भी करने का प्रयास ही नहीं करते है। जब भी हम इस समस्या का समाधान ढूंढेंगे तो इस समस्या का समाधान हमको जरूर ही मिल जायेगा। इस समस्या के समाधान के लिए भगवान ने हमें अच्छे संतो के संग करने को कहा है। हमको उन संतों का संग करना चाहिए जिनका मन पहले से ही भगवान में लगा हुआ है। जिनका मन अगर भगवान में लगा हुआ है और हमें अपना मन उनमे लगा देना चाहिए तो निश्चित तौर पर एक दिन उनके माध्यम से हमारा मन भगवान में जरूर ही लग जायेगा। तब किसी ने महाराज से कहा कि महाराज हम इस बात पर यकीन कैसे करे कि आप जो भी बात कह रहे है वो बात सही है? इसके लिए महाराज श्री ने एक उदाहरण दिया। जब हमारे घरों में गैस सिलेंडर नहीं हुआ करते थे तो लोग या हमारी माताएं जंगलों में जाकर के लकड़ियां लाती थी और भोजन का प्रबंध करती थी। बारिश के दिनों में माताएं जंगल में लकड़ी लेने के लिए गई। माताएं जहाँ-जहाँ से लकड़ियां बीन रही थी तो वो सभी की सभी गीली पड़ी थी। तो अब ये बताइये की जब हम इन सभी गीली लकड़ियों को चूल्हे में लगा देंगे तो आग जलेगी ही नहीं। क्योँकि वो सारी की सारी लकड़ी तो गीली पड़ी थी। इसके लिए हमें सबसे पहले एक सुखी लकड़ी कहीं से लेकर आनी है। सबसे पहले हमें उसमें आग लगानी है फिर उसकी सहायता से ही उन गीली लकड़ियों में भी आग लग जाएगी। तो ये जो हमारा मन है ये उस गीली लकड़ी के समान है ये भटकता ही रहता है। किसी संत का पका हुआ मन मिल जाये जो लगा है ठाकुर के चरणों में। हमें तो ऐसे ही संत का का संग करना चाहिए जिनके मन में तो सदा से ही गोविन्द बसते है। उनके द्वारा ही हम अपनी इस समस्या का समाधान कर सकते है। इसके बाद महाराज श्री ने एक और उदाहरण दिया की जब भी हम लोग अपने अपने संत या साधु का संग करते है ,चाहे वो कैसा भी क्योँ न हो? उसका असर हम पर पड़ता ही है। उदाहरण के तौर पर यदि हम किसी जुआरी का संग कर लेते है तो हमको भी उस जुआरी की आदत ही पड़ जाएगी। अगर हम किसी पोलिटिसियन का संग करेंगे तो उनके साथ रहते -रहते एक दिन हम भी राजनीतिज्ञ बन ही जायेंगे। जो आदमी शराब पीता हो अगर हम उसका संग करेंगे तो एक दिन हम भी शराब पीने लग जायेंगे। आप जैसा भी और जिसका भी संग करोगे तो उसका रंग एक न एक दिन आप पर जरूर ही चढ़ जायेगा। इसलिए हमको ऐसे संत का संग करना चाहिए जो प्रभु भक्ति में हमेशा ही लगा रहता है तो एक दिन हमारी भक्ति भी भगवान के प्रति परफेक्ट हो जाएगी और हमारा मन भी उस भगवान की भक्ति में हमेशा के लिए लग जायेगा। कभी भी वहां से हटेगा नहीं। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

5Oct 2017

"आप जैसा भी और जिसका भी संग करोगे तो उसका रंग एक न एक दिन आप पर जरूर ही चढ़ जायेगा।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में शिकागो, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के चतुर्थ दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने "मीठों रस से भरों री राधा रानी लागे, महारानी लागे" भजन से आज की कथा प्रारम्भ की। महाराज श्री ने अपने प्रभु भक्ति को ही हम सभी के लिए जरुरी बताया। क्योँकि इस के द्वारा ही हम सभी अपने जीवन को सुधार सकते हैं। इस परमात्मा की भक्ति से ही हम हर पाप से मुक्ति पा सकते है। प्रभु भक्ति से ही हम हर समस्या का आसानी से हल निकाल सकते है हर विपदा को आसानी से पार कर सकते हैं। क्योँकि प्रभु भक्ति से ही हमें इतनी शक्ति मिल जाती है की हम इन समस्याओं को आसानी से दूर कर सकते है और जो लोग प्रभु की भक्ति नहीं करते है तो वो इन समस्याओं में उलझ कर ही रह जाते है। इन समस्याओं को दूर नहीं कर पाते है। यहाँ पर सबसे पहले महाराज श्री ने कथा शुरू करने से पहले एक समस्या के बारे में बताया। महाराज श्री ने कहा की कुछ लोगों ने मुझसे कहा कि महाराज मेरा भगवान के भजन में मन नहीं लगता है। हम जब भी भजन करने को बैठते है तो हमारा ध्यान इधर-उधर भटकता रहता है, लेकिन प्रभु के भजन में ही हमारा मन नहीं लगता है। बैठते तो हम भजन करने के लिए है लेकिन हमारा मन ही कहीं और चला जाता है। महाराज श्री ने कहा की हमारे मन में जितनी भी समस्याएं होती है वो उसी वक़्त ही आती है जब हम भजन करने के लिए बैठते है। यह समस्या हम सभी को होती है। इस समस्या के समाधान के लिए भगवान ने हमें समाधान तो बताया है पर हम उस समाधान को करना नहीं चाहते है। जब तक हम उस समस्या का समाधान करेंगे नहीं तब तक उस का समाधान होगा ही नहीं। हमको कोई न कोई समस्या होती है तो इसके लिए हम कुछ न कुछ समाधान करने की कोशिश तो करते ही है। लेकिन जब हमारा भगवान के भजन में मन नहीं लगता है तो इस समस्या का समाधान हम करना ही नहीं चाहते है। नहीं लगता है तो नहीं लगता, बैठे है तो बैठे है, कुछ भी करने का प्रयास ही नहीं करते है। जब भी हम इस समस्या का समाधान ढूंढेंगे तो इस समस्या का समाधान हमको जरूर ही मिल जायेगा। इस समस्या के समाधान के लिए भगवान ने हमें अच्छे संतो के संग करने को कहा है। हमको उन संतों का संग करना चाहिए जिनका मन पहले से ही भगवान में लगा हुआ है। जिनका मन अगर भगवान में लगा हुआ है और हमें अपना मन उनमे लगा देना चाहिए तो निश्चित तौर पर एक दिन उनके माध्यम से हमारा मन भगवान में जरूर ही लग जायेगा। तब किसी ने महाराज से कहा कि महाराज हम इस बात पर यकीन कैसे करे कि आप जो भी बात कह रहे है वो बात सही है? इसके लिए महाराज श्री ने एक उदाहरण दिया। जब हमारे घरों में गैस सिलेंडर नहीं हुआ करते थे तो लोग या हमारी माताएं जंगलों में जाकर के लकड़ियां लाती थी और भोजन का प्रबंध करती थी। बारिश के दिनों में माताएं जंगल में लकड़ी लेने के लिए गई। माताएं जहाँ-जहाँ से लकड़ियां बीन रही थी तो वो सभी की सभी गीली पड़ी थी। तो अब ये बताइये की जब हम इन सभी गीली लकड़ियों को चूल्हे में लगा देंगे तो आग जलेगी ही नहीं। क्योँकि वो सारी की सारी लकड़ी तो गीली पड़ी थी। इसके लिए हमें सबसे पहले एक सुखी लकड़ी कहीं से लेकर आनी है। सबसे पहले हमें उसमें आग लगानी है फिर उसकी सहायता से ही उन गीली लकड़ियों में भी आग लग जाएगी। तो ये जो हमारा मन है ये उस गीली लकड़ी के समान है ये भटकता ही रहता है। किसी संत का पका हुआ मन मिल जाये जो लगा है ठाकुर के चरणों में। हमें तो ऐसे ही संत का का संग करना चाहिए जिनके मन में तो सदा से ही गोविन्द बसते है। उनके द्वारा ही हम अपनी इस समस्या का समाधान कर सकते है। इसके बाद महाराज श्री ने एक और उदाहरण दिया की जब भी हम लोग अपने अपने संत या साधु का संग करते है ,चाहे वो कैसा भी क्योँ न हो? उसका असर हम पर पड़ता ही है। उदाहरण के तौर पर यदि हम किसी जुआरी का संग कर लेते है तो हमको भी उस जुआरी की आदत ही पड़ जाएगी। अगर हम किसी पोलिटिसियन का संग करेंगे तो उनके साथ रहते -रहते एक दिन हम भी राजनीतिज्ञ बन ही जायेंगे। जो आदमी शराब पीता हो अगर हम उसका संग करेंगे तो एक दिन हम भी शराब पीने लग जायेंगे। आप जैसा भी और जिसका भी संग करोगे तो उसका रंग एक न एक दिन आप पर जरूर ही चढ़ जायेगा। इसलिए हमको ऐसे संत का संग करना चाहिए जो प्रभु भक्ति में हमेशा ही लगा रहता है तो एक दिन हमारी भक्ति भी भगवान के प्रति परफेक्ट हो जाएगी और हमारा मन भी उस भगवान की भक्ति में हमेशा के लिए लग जायेगा। कभी भी वहां से हटेगा नहीं। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

5Oct 2017

"आप जैसा भी और जिसका भी संग करोगे तो उसका रंग एक न एक दिन आप पर जरूर ही चढ़ जायेगा।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में शिकागो, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के चतुर्थ दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने "मीठों रस से भरों री राधा रानी लागे, महारानी लागे" भजन से आज की कथा प्रारम्भ की। महाराज श्री ने अपने प्रभु भक्ति को ही हम सभी के लिए जरुरी बताया। क्योँकि इस के द्वारा ही हम सभी अपने जीवन को सुधार सकते हैं। इस परमात्मा की भक्ति से ही हम हर पाप से मुक्ति पा सकते है। प्रभु भक्ति से ही हम हर समस्या का आसानी से हल निकाल सकते है हर विपदा को आसानी से पार कर सकते हैं। क्योँकि प्रभु भक्ति से ही हमें इतनी शक्ति मिल जाती है की हम इन समस्याओं को आसानी से दूर कर सकते है और जो लोग प्रभु की भक्ति नहीं करते है तो वो इन समस्याओं में उलझ कर ही रह जाते है। इन समस्याओं को दूर नहीं कर पाते है। यहाँ पर सबसे पहले महाराज श्री ने कथा शुरू करने से पहले एक समस्या के बारे में बताया। महाराज श्री ने कहा की कुछ लोगों ने मुझसे कहा कि महाराज मेरा भगवान के भजन में मन नहीं लगता है। हम जब भी भजन करने को बैठते है तो हमारा ध्यान इधर-उधर भटकता रहता है, लेकिन प्रभु के भजन में ही हमारा मन नहीं लगता है। बैठते तो हम भजन करने के लिए है लेकिन हमारा मन ही कहीं और चला जाता है। महाराज श्री ने कहा की हमारे मन में जितनी भी समस्याएं होती है वो उसी वक़्त ही आती है जब हम भजन करने के लिए बैठते है। यह समस्या हम सभी को होती है। इस समस्या के समाधान के लिए भगवान ने हमें समाधान तो बताया है पर हम उस समाधान को करना नहीं चाहते है। जब तक हम उस समस्या का समाधान करेंगे नहीं तब तक उस का समाधान होगा ही नहीं। हमको कोई न कोई समस्या होती है तो इसके लिए हम कुछ न कुछ समाधान करने की कोशिश तो करते ही है। लेकिन जब हमारा भगवान के भजन में मन नहीं लगता है तो इस समस्या का समाधान हम करना ही नहीं चाहते है। नहीं लगता है तो नहीं लगता, बैठे है तो बैठे है, कुछ भी करने का प्रयास ही नहीं करते है। जब भी हम इस समस्या का समाधान ढूंढेंगे तो इस समस्या का समाधान हमको जरूर ही मिल जायेगा। इस समस्या के समाधान के लिए भगवान ने हमें अच्छे संतो के संग करने को कहा है। हमको उन संतों का संग करना चाहिए जिनका मन पहले से ही भगवान में लगा हुआ है। जिनका मन अगर भगवान में लगा हुआ है और हमें अपना मन उनमे लगा देना चाहिए तो निश्चित तौर पर एक दिन उनके माध्यम से हमारा मन भगवान में जरूर ही लग जायेगा। तब किसी ने महाराज से कहा कि महाराज हम इस बात पर यकीन कैसे करे कि आप जो भी बात कह रहे है वो बात सही है? इसके लिए महाराज श्री ने एक उदाहरण दिया। जब हमारे घरों में गैस सिलेंडर नहीं हुआ करते थे तो लोग या हमारी माताएं जंगलों में जाकर के लकड़ियां लाती थी और भोजन का प्रबंध करती थी। बारिश के दिनों में माताएं जंगल में लकड़ी लेने के लिए गई। माताएं जहाँ-जहाँ से लकड़ियां बीन रही थी तो वो सभी की सभी गीली पड़ी थी। तो अब ये बताइये की जब हम इन सभी गीली लकड़ियों को चूल्हे में लगा देंगे तो आग जलेगी ही नहीं। क्योँकि वो सारी की सारी लकड़ी तो गीली पड़ी थी। इसके लिए हमें सबसे पहले एक सुखी लकड़ी कहीं से लेकर आनी है। सबसे पहले हमें उसमें आग लगानी है फिर उसकी सहायता से ही उन गीली लकड़ियों में भी आग लग जाएगी। तो ये जो हमारा मन है ये उस गीली लकड़ी के समान है ये भटकता ही रहता है। किसी संत का पका हुआ मन मिल जाये जो लगा है ठाकुर के चरणों में। हमें तो ऐसे ही संत का का संग करना चाहिए जिनके मन में तो सदा से ही गोविन्द बसते है। उनके द्वारा ही हम अपनी इस समस्या का समाधान कर सकते है। इसके बाद महाराज श्री ने एक और उदाहरण दिया की जब भी हम लोग अपने अपने संत या साधु का संग करते है ,चाहे वो कैसा भी क्योँ न हो? उसका असर हम पर पड़ता ही है। उदाहरण के तौर पर यदि हम किसी जुआरी का संग कर लेते है तो हमको भी उस जुआरी की आदत ही पड़ जाएगी। अगर हम किसी पोलिटिसियन का संग करेंगे तो उनके साथ रहते -रहते एक दिन हम भी राजनीतिज्ञ बन ही जायेंगे। जो आदमी शराब पीता हो अगर हम उसका संग करेंगे तो एक दिन हम भी शराब पीने लग जायेंगे। आप जैसा भी और जिसका भी संग करोगे तो उसका रंग एक न एक दिन आप पर जरूर ही चढ़ जायेगा। इसलिए हमको ऐसे संत का संग करना चाहिए जो प्रभु भक्ति में हमेशा ही लगा रहता है तो एक दिन हमारी भक्ति भी भगवान के प्रति परफेक्ट हो जाएगी और हमारा मन भी उस भगवान की भक्ति में हमेशा के लिए लग जायेगा। कभी भी वहां से हटेगा नहीं। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

5Oct 2017

"आप जैसा भी और जिसका भी संग करोगे तो उसका रंग एक न एक दिन आप पर जरूर ही चढ़ जायेगा।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में शिकागो, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के चतुर्थ दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने "मीठों रस से भरों री राधा रानी लागे, महारानी लागे" भजन से आज की कथा प्रारम्भ की। महाराज श्री ने अपने प्रभु भक्ति को ही हम सभी के लिए जरुरी बताया। क्योँकि इस के द्वारा ही हम सभी अपने जीवन को सुधार सकते हैं। इस परमात्मा की भक्ति से ही हम हर पाप से मुक्ति पा सकते है। प्रभु भक्ति से ही हम हर समस्या का आसानी से हल निकाल सकते है हर विपदा को आसानी से पार कर सकते हैं। क्योँकि प्रभु भक्ति से ही हमें इतनी शक्ति मिल जाती है की हम इन समस्याओं को आसानी से दूर कर सकते है और जो लोग प्रभु की भक्ति नहीं करते है तो वो इन समस्याओं में उलझ कर ही रह जाते है। इन समस्याओं को दूर नहीं कर पाते है। यहाँ पर सबसे पहले महाराज श्री ने कथा शुरू करने से पहले एक समस्या के बारे में बताया। महाराज श्री ने कहा की कुछ लोगों ने मुझसे कहा कि महाराज मेरा भगवान के भजन में मन नहीं लगता है। हम जब भी भजन करने को बैठते है तो हमारा ध्यान इधर-उधर भटकता रहता है, लेकिन प्रभु के भजन में ही हमारा मन नहीं लगता है। बैठते तो हम भजन करने के लिए है लेकिन हमारा मन ही कहीं और चला जाता है। महाराज श्री ने कहा की हमारे मन में जितनी भी समस्याएं होती है वो उसी वक़्त ही आती है जब हम भजन करने के लिए बैठते है। यह समस्या हम सभी को होती है। इस समस्या के समाधान के लिए भगवान ने हमें समाधान तो बताया है पर हम उस समाधान को करना नहीं चाहते है। जब तक हम उस समस्या का समाधान करेंगे नहीं तब तक उस का समाधान होगा ही नहीं। हमको कोई न कोई समस्या होती है तो इसके लिए हम कुछ न कुछ समाधान करने की कोशिश तो करते ही है। लेकिन जब हमारा भगवान के भजन में मन नहीं लगता है तो इस समस्या का समाधान हम करना ही नहीं चाहते है। नहीं लगता है तो नहीं लगता, बैठे है तो बैठे है, कुछ भी करने का प्रयास ही नहीं करते है। जब भी हम इस समस्या का समाधान ढूंढेंगे तो इस समस्या का समाधान हमको जरूर ही मिल जायेगा। इस समस्या के समाधान के लिए भगवान ने हमें अच्छे संतो के संग करने को कहा है। हमको उन संतों का संग करना चाहिए जिनका मन पहले से ही भगवान में लगा हुआ है। जिनका मन अगर भगवान में लगा हुआ है और हमें अपना मन उनमे लगा देना चाहिए तो निश्चित तौर पर एक दिन उनके माध्यम से हमारा मन भगवान में जरूर ही लग जायेगा। तब किसी ने महाराज से कहा कि महाराज हम इस बात पर यकीन कैसे करे कि आप जो भी बात कह रहे है वो बात सही है? इसके लिए महाराज श्री ने एक उदाहरण दिया। जब हमारे घरों में गैस सिलेंडर नहीं हुआ करते थे तो लोग या हमारी माताएं जंगलों में जाकर के लकड़ियां लाती थी और भोजन का प्रबंध करती थी। बारिश के दिनों में माताएं जंगल में लकड़ी लेने के लिए गई। माताएं जहाँ-जहाँ से लकड़ियां बीन रही थी तो वो सभी की सभी गीली पड़ी थी। तो अब ये बताइये की जब हम इन सभी गीली लकड़ियों को चूल्हे में लगा देंगे तो आग जलेगी ही नहीं। क्योँकि वो सारी की सारी लकड़ी तो गीली पड़ी थी। इसके लिए हमें सबसे पहले एक सुखी लकड़ी कहीं से लेकर आनी है। सबसे पहले हमें उसमें आग लगानी है फिर उसकी सहायता से ही उन गीली लकड़ियों में भी आग लग जाएगी। तो ये जो हमारा मन है ये उस गीली लकड़ी के समान है ये भटकता ही रहता है। किसी संत का पका हुआ मन मिल जाये जो लगा है ठाकुर के चरणों में। हमें तो ऐसे ही संत का का संग करना चाहिए जिनके मन में तो सदा से ही गोविन्द बसते है। उनके द्वारा ही हम अपनी इस समस्या का समाधान कर सकते है। इसके बाद महाराज श्री ने एक और उदाहरण दिया की जब भी हम लोग अपने अपने संत या साधु का संग करते है ,चाहे वो कैसा भी क्योँ न हो? उसका असर हम पर पड़ता ही है। उदाहरण के तौर पर यदि हम किसी जुआरी का संग कर लेते है तो हमको भी उस जुआरी की आदत ही पड़ जाएगी। अगर हम किसी पोलिटिसियन का संग करेंगे तो उनके साथ रहते -रहते एक दिन हम भी राजनीतिज्ञ बन ही जायेंगे। जो आदमी शराब पीता हो अगर हम उसका संग करेंगे तो एक दिन हम भी शराब पीने लग जायेंगे। आप जैसा भी और जिसका भी संग करोगे तो उसका रंग एक न एक दिन आप पर जरूर ही चढ़ जायेगा। इसलिए हमको ऐसे संत का संग करना चाहिए जो प्रभु भक्ति में हमेशा ही लगा रहता है तो एक दिन हमारी भक्ति भी भगवान के प्रति परफेक्ट हो जाएगी और हमारा मन भी उस भगवान की भक्ति में हमेशा के लिए लग जायेगा। कभी भी वहां से हटेगा नहीं। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

5Oct 2017

"आप जैसा भी और जिसका भी संग करोगे तो उसका रंग एक न एक दिन आप पर जरूर ही चढ़ जायेगा।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में शिकागो, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के चतुर्थ दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने "मीठों रस से भरों री राधा रानी लागे, महारानी लागे" भजन से आज की कथा प्रारम्भ की। महाराज श्री ने अपने प्रभु भक्ति को ही हम सभी के लिए जरुरी बताया। क्योँकि इस के द्वारा ही हम सभी अपने जीवन को सुधार सकते हैं। इस परमात्मा की भक्ति से ही हम हर पाप से मुक्ति पा सकते है। प्रभु भक्ति से ही हम हर समस्या का आसानी से हल निकाल सकते है हर विपदा को आसानी से पार कर सकते हैं। क्योँकि प्रभु भक्ति से ही हमें इतनी शक्ति मिल जाती है की हम इन समस्याओं को आसानी से दूर कर सकते है और जो लोग प्रभु की भक्ति नहीं करते है तो वो इन समस्याओं में उलझ कर ही रह जाते है। इन समस्याओं को दूर नहीं कर पाते है। यहाँ पर सबसे पहले महाराज श्री ने कथा शुरू करने से पहले एक समस्या के बारे में बताया। महाराज श्री ने कहा की कुछ लोगों ने मुझसे कहा कि महाराज मेरा भगवान के भजन में मन नहीं लगता है। हम जब भी भजन करने को बैठते है तो हमारा ध्यान इधर-उधर भटकता रहता है, लेकिन प्रभु के भजन में ही हमारा मन नहीं लगता है। बैठते तो हम भजन करने के लिए है लेकिन हमारा मन ही कहीं और चला जाता है। महाराज श्री ने कहा की हमारे मन में जितनी भी समस्याएं होती है वो उसी वक़्त ही आती है जब हम भजन करने के लिए बैठते है। यह समस्या हम सभी को होती है। इस समस्या के समाधान के लिए भगवान ने हमें समाधान तो बताया है पर हम उस समाधान को करना नहीं चाहते है। जब तक हम उस समस्या का समाधान करेंगे नहीं तब तक उस का समाधान होगा ही नहीं। हमको कोई न कोई समस्या होती है तो इसके लिए हम कुछ न कुछ समाधान करने की कोशिश तो करते ही है। लेकिन जब हमारा भगवान के भजन में मन नहीं लगता है तो इस समस्या का समाधान हम करना ही नहीं चाहते है। नहीं लगता है तो नहीं लगता, बैठे है तो बैठे है, कुछ भी करने का प्रयास ही नहीं करते है। जब भी हम इस समस्या का समाधान ढूंढेंगे तो इस समस्या का समाधान हमको जरूर ही मिल जायेगा। इस समस्या के समाधान के लिए भगवान ने हमें अच्छे संतो के संग करने को कहा है। हमको उन संतों का संग करना चाहिए जिनका मन पहले से ही भगवान में लगा हुआ है। जिनका मन अगर भगवान में लगा हुआ है और हमें अपना मन उनमे लगा देना चाहिए तो निश्चित तौर पर एक दिन उनके माध्यम से हमारा मन भगवान में जरूर ही लग जायेगा। तब किसी ने महाराज से कहा कि महाराज हम इस बात पर यकीन कैसे करे कि आप जो भी बात कह रहे है वो बात सही है? इसके लिए महाराज श्री ने एक उदाहरण दिया। जब हमारे घरों में गैस सिलेंडर नहीं हुआ करते थे तो लोग या हमारी माताएं जंगलों में जाकर के लकड़ियां लाती थी और भोजन का प्रबंध करती थी। बारिश के दिनों में माताएं जंगल में लकड़ी लेने के लिए गई। माताएं जहाँ-जहाँ से लकड़ियां बीन रही थी तो वो सभी की सभी गीली पड़ी थी। तो अब ये बताइये की जब हम इन सभी गीली लकड़ियों को चूल्हे में लगा देंगे तो आग जलेगी ही नहीं। क्योँकि वो सारी की सारी लकड़ी तो गीली पड़ी थी। इसके लिए हमें सबसे पहले एक सुखी लकड़ी कहीं से लेकर आनी है। सबसे पहले हमें उसमें आग लगानी है फिर उसकी सहायता से ही उन गीली लकड़ियों में भी आग लग जाएगी। तो ये जो हमारा मन है ये उस गीली लकड़ी के समान है ये भटकता ही रहता है। किसी संत का पका हुआ मन मिल जाये जो लगा है ठाकुर के चरणों में। हमें तो ऐसे ही संत का का संग करना चाहिए जिनके मन में तो सदा से ही गोविन्द बसते है। उनके द्वारा ही हम अपनी इस समस्या का समाधान कर सकते है। इसके बाद महाराज श्री ने एक और उदाहरण दिया की जब भी हम लोग अपने अपने संत या साधु का संग करते है ,चाहे वो कैसा भी क्योँ न हो? उसका असर हम पर पड़ता ही है। उदाहरण के तौर पर यदि हम किसी जुआरी का संग कर लेते है तो हमको भी उस जुआरी की आदत ही पड़ जाएगी। अगर हम किसी पोलिटिसियन का संग करेंगे तो उनके साथ रहते -रहते एक दिन हम भी राजनीतिज्ञ बन ही जायेंगे। जो आदमी शराब पीता हो अगर हम उसका संग करेंगे तो एक दिन हम भी शराब पीने लग जायेंगे। आप जैसा भी और जिसका भी संग करोगे तो उसका रंग एक न एक दिन आप पर जरूर ही चढ़ जायेगा। इसलिए हमको ऐसे संत का संग करना चाहिए जो प्रभु भक्ति में हमेशा ही लगा रहता है तो एक दिन हमारी भक्ति भी भगवान के प्रति परफेक्ट हो जाएगी और हमारा मन भी उस भगवान की भक्ति में हमेशा के लिए लग जायेगा। कभी भी वहां से हटेगा नहीं। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

5Oct 2017

"आप जैसा भी और जिसका भी संग करोगे तो उसका रंग एक न एक दिन आप पर जरूर ही चढ़ जायेगा।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में शिकागो, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के चतुर्थ दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने "मीठों रस से भरों री राधा रानी लागे, महारानी लागे" भजन से आज की कथा प्रारम्भ की। महाराज श्री ने अपने प्रभु भक्ति को ही हम सभी के लिए जरुरी बताया। क्योँकि इस के द्वारा ही हम सभी अपने जीवन को सुधार सकते हैं। इस परमात्मा की भक्ति से ही हम हर पाप से मुक्ति पा सकते है। प्रभु भक्ति से ही हम हर समस्या का आसानी से हल निकाल सकते है हर विपदा को आसानी से पार कर सकते हैं। क्योँकि प्रभु भक्ति से ही हमें इतनी शक्ति मिल जाती है की हम इन समस्याओं को आसानी से दूर कर सकते है और जो लोग प्रभु की भक्ति नहीं करते है तो वो इन समस्याओं में उलझ कर ही रह जाते है। इन समस्याओं को दूर नहीं कर पाते है। यहाँ पर सबसे पहले महाराज श्री ने कथा शुरू करने से पहले एक समस्या के बारे में बताया। महाराज श्री ने कहा की कुछ लोगों ने मुझसे कहा कि महाराज मेरा भगवान के भजन में मन नहीं लगता है। हम जब भी भजन करने को बैठते है तो हमारा ध्यान इधर-उधर भटकता रहता है, लेकिन प्रभु के भजन में ही हमारा मन नहीं लगता है। बैठते तो हम भजन करने के लिए है लेकिन हमारा मन ही कहीं और चला जाता है। महाराज श्री ने कहा की हमारे मन में जितनी भी समस्याएं होती है वो उसी वक़्त ही आती है जब हम भजन करने के लिए बैठते है। यह समस्या हम सभी को होती है। इस समस्या के समाधान के लिए भगवान ने हमें समाधान तो बताया है पर हम उस समाधान को करना नहीं चाहते है। जब तक हम उस समस्या का समाधान करेंगे नहीं तब तक उस का समाधान होगा ही नहीं। हमको कोई न कोई समस्या होती है तो इसके लिए हम कुछ न कुछ समाधान करने की कोशिश तो करते ही है। लेकिन जब हमारा भगवान के भजन में मन नहीं लगता है तो इस समस्या का समाधान हम करना ही नहीं चाहते है। नहीं लगता है तो नहीं लगता, बैठे है तो बैठे है, कुछ भी करने का प्रयास ही नहीं करते है। जब भी हम इस समस्या का समाधान ढूंढेंगे तो इस समस्या का समाधान हमको जरूर ही मिल जायेगा। इस समस्या के समाधान के लिए भगवान ने हमें अच्छे संतो के संग करने को कहा है। हमको उन संतों का संग करना चाहिए जिनका मन पहले से ही भगवान में लगा हुआ है। जिनका मन अगर भगवान में लगा हुआ है और हमें अपना मन उनमे लगा देना चाहिए तो निश्चित तौर पर एक दिन उनके माध्यम से हमारा मन भगवान में जरूर ही लग जायेगा। तब किसी ने महाराज से कहा कि महाराज हम इस बात पर यकीन कैसे करे कि आप जो भी बात कह रहे है वो बात सही है? इसके लिए महाराज श्री ने एक उदाहरण दिया। जब हमारे घरों में गैस सिलेंडर नहीं हुआ करते थे तो लोग या हमारी माताएं जंगलों में जाकर के लकड़ियां लाती थी और भोजन का प्रबंध करती थी। बारिश के दिनों में माताएं जंगल में लकड़ी लेने के लिए गई। माताएं जहाँ-जहाँ से लकड़ियां बीन रही थी तो वो सभी की सभी गीली पड़ी थी। तो अब ये बताइये की जब हम इन सभी गीली लकड़ियों को चूल्हे में लगा देंगे तो आग जलेगी ही नहीं। क्योँकि वो सारी की सारी लकड़ी तो गीली पड़ी थी। इसके लिए हमें सबसे पहले एक सुखी लकड़ी कहीं से लेकर आनी है। सबसे पहले हमें उसमें आग लगानी है फिर उसकी सहायता से ही उन गीली लकड़ियों में भी आग लग जाएगी। तो ये जो हमारा मन है ये उस गीली लकड़ी के समान है ये भटकता ही रहता है। किसी संत का पका हुआ मन मिल जाये जो लगा है ठाकुर के चरणों में। हमें तो ऐसे ही संत का का संग करना चाहिए जिनके मन में तो सदा से ही गोविन्द बसते है। उनके द्वारा ही हम अपनी इस समस्या का समाधान कर सकते है। इसके बाद महाराज श्री ने एक और उदाहरण दिया की जब भी हम लोग अपने अपने संत या साधु का संग करते है ,चाहे वो कैसा भी क्योँ न हो? उसका असर हम पर पड़ता ही है। उदाहरण के तौर पर यदि हम किसी जुआरी का संग कर लेते है तो हमको भी उस जुआरी की आदत ही पड़ जाएगी। अगर हम किसी पोलिटिसियन का संग करेंगे तो उनके साथ रहते -रहते एक दिन हम भी राजनीतिज्ञ बन ही जायेंगे। जो आदमी शराब पीता हो अगर हम उसका संग करेंगे तो एक दिन हम भी शराब पीने लग जायेंगे। आप जैसा भी और जिसका भी संग करोगे तो उसका रंग एक न एक दिन आप पर जरूर ही चढ़ जायेगा। इसलिए हमको ऐसे संत का संग करना चाहिए जो प्रभु भक्ति में हमेशा ही लगा रहता है तो एक दिन हमारी भक्ति भी भगवान के प्रति परफेक्ट हो जाएगी और हमारा मन भी उस भगवान की भक्ति में हमेशा के लिए लग जायेगा। कभी भी वहां से हटेगा नहीं। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

5Oct 2017

"भगवान ने हमपर अपनी कृपा की है तो इसका सबसे जीता जागता उदाहरण है ये मानव शरीर।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में शिकागो, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के पंचम दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने "मेरा आप की कृपा से सब काम हो रहा है, करते हो तुम कन्हैया मेरा नाम हो रहा है" भजन से आज की कथा प्रारम्भ की। गोविन्द भगवान ही हमको इस धरती पर सभी समस्याओं से निजात दिला सकता है। जो भी भगवान की भक्ति में लगा रहता है तो उसको किसी भी समस्या का डर नहीं रहता है। हमारे प्रभु गोविन्द जी हमको उस विपदा से आसानी से निकाल लेते है। सर्वेश्वर भगवान जो घाट-घाट में वास करते है। उनके द्वारा दिया हुआ ये मानव शरीर जिसके द्वारा हम उनको ही प्राप्त कर सकते है। बहुत से लोग होते है जो ये कहते है कि हमपर उनकी कृपा कैसे बनी रह सकती है? हम ये महसूस कैसे कर सकते है? भगवान की कृपा का दर्शन हम कैसे करे। हम ये भी कैसे महसूस करे कि भगवान् ने हमपर कृपा की है। अगर जो भी व्यक्ति ये महसूस करना चाहता है कि भगवान ने हमपर अपनी कृपा की है तो इसका सबसे जीता जागता उदहारण है ये मानव शरीर। हमको सिर्फ ये मानव शरीर ही केवल प्राप्त नहीं हुआ है, हमको एक अच्छा मानव शरीर भी प्राप्त हुआ है जिसमे किसी भी तरह का कोई भी डिफेक्ट नहीं है। सबकी दो आँखे होती है तो हमारी भी है,सबके दो हाथ होते है तो हमारे भी है, सबके दो पैर होते है तो वो हमारे भी है, हमको वाणी बोलने को दी है, कान हमको सुनने के लिए दिए है। आपने बहुत से ऐसे भी लोग देखे होंगे कि उनके कर्मों के अनुसार किसी के हाथ नहीं होते है, किसी के पैर नहीं होते है, कोई रंग में बहुत ही सुन्दर होता है तो वो बोल नहीं सकता है। किसी के पास तो भगवान का दिया हुआ सब कुछ होता है पर दिमाग ही नहीं होता है, न तो वह कुछ सोच सकता है और न ही समझ सकता है। इसको हम एक दूसरे से तुलना करने पर पता लगा सकते है। यहाँ पर आप अपने पैरों पर चलकर आये है लेकिन लोग दूसरों के मोहताज है, हम अपने हाथों से ही अपना सब काम करते है पर बाकि लोग दूसरों पर ही निर्भर रहते है। तो क्योँ हम कहे की भगवान की कृपा नहीं है। इसलिए हम पर भागवत कृपा तो है ही इसका जीता जगता उदाहरण है ये पवित्र मानव शरीर। अब इसके द्वारा हम क्या कर सकते है और क्या कर रहे है ये सब हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण होता है। तब महाराज श्री ने एक दृश्टान्त सुनाया। एक नदी के किनारे पर एक बहुत ही सुन्दर सा वन था। उस वन में कुछ सुन्दर फल और फूल लगे हुए थे। एक दिन की बात है उस वन में एक कौवा रहा करता था। उसकी जिंदगी काफी आनंद से कट रही थी। एक दिन जब वह डाल पर बैठा था तो उसने एक नजारा देखा कि उस नदी में एक मरा हुआ हाथी बहता हुआ जा रहा है। तो वो कौवा तुरंत डाल से उड़ा और और उस मरे हुए हाथी के ऊपर जाकर बैठ गया। उसने उस मरे हुए हाथी का मॉस खा लिया और उसी नदी में पानी पी लिया। उस कौवे ने उसके मॉस से अपने पेट को भर लिया था और वहां के वातावरण को देख कर काफी खुश हो रहा था। अचानक से उस कौवे ने सोचा की मैं इस वन में रहता हूँ तो मुझे कभी यहाँ कभी वहां जाना पड़ता है, अपनी खाने की सभी व्यवस्था करनी पड़ती है, लेकिन यदि मैं इस मरे हुए हाथी के ऊपर यदि बैठा रहूं तो मुझे तो कुछ भी करने की जरुरत ही नहीं पड़ेगी। क्योंकि अगर मैं इस मांस को जीवन भर भी खाता रहूं तो भी ये ख़त्म नहीं होगा और साथ ही मुझे पिने के लिए इस नदी का जल भी मिलता रहेगा तो मुझे तो अपने लिए और कुछ करने की जरुरत ही नहीं होगी। अब मुझे तो कहीं भी और जाने की जरुरत ही नहीं है, उस कौवे ने ये निर्णय कर लिया था। अब हाथी तो उस जलधारा के साथ बहा जा रहा है और नहीं अपने पथ की और बही जा रही है। कुछ ही दिन बाद नदी को अपनी मंजिल प्राप्त हुई और वो तो सागर में जाकर मिल गयी। नदी को तो आज बहुत ही ख़ुशी हो रही थी कि आज उसके जन्म-जन्म के साथी उसके पिया से उसका मिलन हो गया है यानि उसका एक ही उद्देश्य था कि वह सागर में जाकर मिल जाये। इसके बाद उसका कोई भी उद्देश्य शेष नहीं रह जाता है। अब नदी के साथ वह हाथी भी उस सागर में आ गया। और उस हाथी के साथ ही वह कौवा भी उसी सागर में ही आ गया था। अब बेचारा कौवा क्या करता अपनी जान बचाने के लिए वहां से उड़ने लगा। कभी वह इधर जाता कभी उधर जाता। और करता भी क्या? सागर की तो कोई सीमा ही नहीं होती है। वह बेचारा अपने आप को अब असहाय सा महसूस करने लगा। वहां की ऊंची ऊँची लहरों से वह घबरा गया था। कितना उड़ता वह कौवा और अंत में वह उसी सागर में गिर गया और उसकी मौत हो गयी। अब इस में उस कौवे क्या विशेषता थी की उसने उस खाने को ही अपना सब कुछ समझ लिया था और बाकि के सब संसार से ही उसने अपना नाता तोड़ लिया था। अंत में वह कौवा निकल गया था अपनी मृत्यु के सफर पर। ठीक वैसे ही हम सबने भी खाने कमाने को ही अपने जीवन का उद्देश्य समझ रखा है। इस संसार में हाथी के समान खाने-पीने की चीज ही हमारे सामने खड़ी है। समय की लहरे भी उस नदी की तरह बहती चली जा रही है जैसे वह नदी बह रही है। लेकिन कभी न कभी तो महासागर में नदी का मिलन होगा। तब हमारी ये उड़ान काम नहीं आ सकेगी। फिर जो उस कौवे का हश्र हुआ है वही हश्र हमारा भी होगा। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

2Oct 2017

"जब इंसान अपनी मय में आ जाता है तो केवल एक पुतला बन कर रह जाता है।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में शिकागो, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के द्वितीय दिवस में भगवान श्रीराम के जीवन के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कहा कि जैसा की आप सभी जानते है कि आज विजय दशमी का त्यौहार है। और विजय दशमी के त्योहार के बारे में तो आप सभी को मालूम ही है कि इस दिन भगवान श्री राम चंद्र ने राक्षस राज रावण का वध किया था। इसको हम सत्य पर असत्य की जीत भी कह सकते है। रावण को इस लिया जलाया जाता है क्योँकि उसको बुराइयों का प्रतिक समझा जाता है। इसका सही मतलब हम ये कह सकते है कि जो धर्म के विरुद्ध जाता है वो जल ही जाता है या उसका नाश होना निश्चित ही है। मानव जीवन वही होता है जो हमेशा सत्य के साथ खड़ा रहता है। जो धर्म के विरुद्ध हो गया या राम के विरुद्ध हो गया हो उस व्यक्ति का कल्याण कभी भी नहीं हो सकता है। आज के दिन हम सब अपने बच्चों को एक उपदेश देते है की हमें सदा ही धर्म पर ही चलना चाहिए। उसके विपरीत कभी भी नहीं चलना चाहिए। क्योँकि जो भी धर्म के विपरीत चलता है उस का कल्याण कभी भी नहीं हो सकता है। इस युद्ध में रावण की पराजय हुई थी और राम की विजय हुई थी। तभी तो इस को हम असत्य पर सत्य की जीत मानते है। इस में रावण के पास सब कुछ होते हुए भी वह राम से हार गया था। उसके पास सेना, बल, बुद्धि, ज्ञान सब कुछ होते हुए भी और राम के पास न तो सेना थी वो तो एक वनवासी की तरह घूम रहे थे, न ही धन दौलत थी और फिर भी उन्होंने उस पापी रावण को युद्ध में हरा दिया था और सीता माता को उस के चंगुल से आज़ाद कराया था। इसको हम कई चीजों से भी नाप सकते है। पहली तो ये है कि जो धर्म के विरुद्ध जाता है उसका कभी भी भला नहीं हो सकता है। उसका तो हर जगह विनाश ही होगा। उस अत्याचारी रावण के एक लाख पुत्र होते हुए भी और सवा लाख नाती होते हुए भी युद्ध के अंत में कोई भी कुल में रोने के लिए नहीं बचा था और जब अंत में युद्ध में स्वयं रावण मरा था तो उसके लिए भी कुल में रोने के लिए कोई भी नहीं बचा था। स्वयं रावण की पत्नी मंदोदरी ने उससे ये कहा था की हे प्राण नाथ आपको क्या ये पता है की आपके कुल में कोई भी रोने के लिए नहीं बचा है ये स्थति आपकी क्योँ हुई है। आप जब चलते भी है तो पृथ्वी कांपती है। आप जब भी चलते हो तो इतना विशाल समुन्द्र भी रास्ता छोड़ देता है। आप जब भी चलते है तो देवता भी अपना महल छोड़ कर भाग जाते है अर्थात स्वर्ग ही छोड़ कर चले जाते है। काल को तो आपने अपनी पाटी से बांध कर रखा है। अग्नि देव को आपने रसोइया बन रखा है और पवन देव आपके यहाँ पर झाड़ू लगाते है। रावण का इतना विशाल साम्राज्य होने के बाद भी उसके यहाँ पर अंत में कोई भी रोने के लिए नहीं बचा था। इसकी वजह तो केवल ये ही है कि आप भगवान राम के विरुद्ध चले गए है ये सब कहती है रावण की पत्नी मंदोदरी अपने पति रावण से। दुनिया में आप किसी के भी विरुद्ध चले जाओ तो राम आपके बचा लेंगे। लेकिन जब आप राम के ही और धर्म के ही विरुद्ध चले जाओगे तो आप को कोई भी नहीं बचा सकता है। आपका ये जो हाल हुआ है ये केवल राम के विरुद्ध जाने से ही हुआ है। अपने जीवन में आप कुछ भी करो लेकिन राम के विरुद्ध आपको नहीं जाना चाहिए। हमको कभी भी धर्म के विरुद्ध नहीं जाना चाहिए। आपका ये विनाश तो आप की ही वजह से हुआ है। न आप राम कर्म विरुद्ध जाते, न ही आप धर्म के विरुद्ध जाते तो आपका ये हाल कभी भी नहीं होता। जब भगवान राम राक्षस राज रावण को हरा कर अयोध्या वापस लौटे थे तो कौशल्या माता ने राम से पूछा कि राम क्या तुमने रावण को मारा। माता कौशल्या माता को तो विश्वास ही नहीं हो रहा था कि उसके इतने छोटे से पुत्र ने उस अत्याचारी राक्षस राज रावण को मार दिया था। क्योँकि बेटा कितना भी बड़ा क्योँ न हो जाये लेकिन माँ के लिए तो बच्चा ही होता है। तब भगवान राम ने कहा माता से कहा कि रावण तो त्रिकालज्ञ है मैं कैसे उसे मार सकता हूँ। रावण भगवान शिव का परम भक्त है। उसे मैं कैसे मार सकता हूँ? रावण तो परम पराक्रमी है उसे मैं कैसे मार सकता हूँ? रावण तो चारों वेदों का ज्ञाता है उसे मैं कैसे मार सकता हूँ? हे माँ सच तो ये है कि रावण को मैंने नहीं मारा ,रावण को तो उसके अहंकार ने मारा है। जब तक हमारी मैं या अहंकार जिन्दा रहता है तब तक हमारा कुछ भी भला नहीं हो सकता है। हम किसी भी वक़्त मारे जा सकते है। आप क्या हो ये घमंड हमको कभी भी नहीं करना चाहिए क्योँकि हमको बनाने वाला तो कोई और ही है। और जब इंसान अपनी मैं में आ जाता है तो केवल एक पुतला बन कर रह जाता है। जहाँ त्रेता युग में रावण मरा था और आज तक उसका पुतला जलाया जाता है। आज भी हम सब अपने बच्चों को मेला देखने ले जाते है, तमाशा दिखाने ले जाते है, लेकिन कभी भी उनको ज्ञान नहीं देते है कि इसके पीछे कारण क्या है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

1Oct 2017

"भागवत कथा श्रवण करने से बड़ा और कोई सौभाग्य नहीं हो सकता है।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में शिकागो, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के प्रथम दिवस में श्रीमद भागवत कथा के महत्त्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कथा शुरू करने से पहले अपने सभी भक्तों को हरी नाम का संकीर्तन करने को कहा। जिससे की हमारा मन इस कथा में लगे। इसके बाद महाराज श्री ने "जय राधे राधे गोविन्द राधे" भजन भक्तों को श्रवण कराया। हम जो भी कार्य करते है उसका हमारे जीवन पर किसी न किसी रूप में फर्क पड़ता है। अगर हम कोई भी अच्छा कार्य करते है तो हम को उस अच्छे कार्य का फल भी अच्छा ही मिलता है और यदि हम कोई भी बुरा कार्य करते है तो उस बुरे कार्य का फल भी हमें बुरा ही मिलता है। इसलिए हमको सदा ही अच्छे ही कार्य करने चाहिए और बुरे कार्यों से सदा ही बचाना चाहिए। कथा सुनना भी हर किसी के बस की बात नहीं है। हम एक दिन सुन लेंगे या दो दिन कथा सुन लेंगे पर सातों दिन कथा कोई कोई ही व्यक्ति सुन पता है। क्योँकि देवराज इन्द्र भी इस कथा को नहीं सुन पाए थे। ये कथा देवताओ से भी दूर आप सब के लिए इस विदेशी धरती पर भी आपको सुनने को मिल रही है। यही आप सब का सबसे बड़ा सौभाग्य है। सोचिये अगर इस संसार में साधु संत या कथाकार नहीं होते तो कब कहाँ कनाडा में कथा खत्म हो जाती है और कब कहाँ शिकागो में कथा शुरू हो जाती है। भगवान से जुडने का जो अवसर भागवत हमको देती है वो कहाँ हम सब को मिलता है। वो लोग बहुत ही धन्य है जिनका मन कथा को सुनने के लिए यहाँ पर पहुँच जाता है। वो मन बहुत ही तरसता है की हमको अपने उस परमात्मा की कथा सुननी है। मनुष्य का कभी कभी भगवान से विश्वास उठ जाता है लेकिन जैसे ही वह व्यक्ति भागवत कथा को सुनता है तो उस व्यक्ति का फिर से उस परमात्मा में विश्वास लौट कर वापस आ जाता है। ये तो केवल भगवान की कथा ही है जो हमको भगवान की तरफ लौट कर ले जाती है। और मानव जीवन का परम उद्देश्य तो केवल भागवत कथा को सुनना ही है। और हमारा कोई भी उद्देश्य नहीं है। हम सब ने अपना देश किस के लिए छोड़ा था, केवल पैसे के लिए ही न। पर क्या जब हम इस धरती को छोड़ कर जायेंगे तो क्या पैसा हमारे साथ जायेगा। तो ऐसा पैसा किस काम का है? जिसके लिए मैंने तो अपना सब कुछ ही छोड़ दिया था ऊपर जब मैं इस धरती को छोड़ कर जा रहा हूँ तो वही पैसा मेरे साथ नहीं है। लेकिन आप जो इस कथा को सुनते है ये आपको कभी भी नहीं छोड़ेगी। चाहे आप इस देश में हो या उस देश में हो। विश्व में भी रहो या मृत्यु हो जाये तब भी ये आप सब के साथ ही जाती है। ये तो सदा ही आप का साथ देने वाली है ये आप का कभी भी छोड़ने वाली नहीं है। आपके पास इतनी दौलत है क्या जिससे आप भगवान से कह दो कि भगवान हम आपको इतनी दौलत दे देंगे इसके बदले आप हमको मोक्ष दे दो। इस पर भगवान इस पापी मनुष्य से कहता है की तुम अपनी इस माया को अपने पास रखो। तुम जिस अपनी माया पर इतना उछाल रहे हो उस माया का तो केवल एक ही कण तुम्हारे पास है। वही लक्ष्मी तो सदा मेरे चरण दबा रही होती है। चौबीस घंटे मेरे साथ ही रहती है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

1Oct 2017

"मानव जीवन का परम उद्देश्य तो केवल भागवत कथा को सुनना ही है।"

महाराज श्री ने कथा शुरू करने से पहले अपने सभी भक्तों को हरी नाम का संकीर्तन करने को कहा। जिससे की हमारा मन इस कथा में लगे। इसके बाद महाराज श्री ने "जय राधे राधे गोविन्द राधे" भजन भक्तों को श्रवण कराया। हम जो भी कार्य करते है उसका हमारे जीवन पर किसी न किसी रूप में फर्क पड़ता है। अगर हम कोई भी अच्छा कार्य करते है तो हम को उस अच्छे कार्य का फल भी अच्छा ही मिलता है और यदि हम कोई भी बुरा कार्य करते है तो उस बुरे कार्य का फल भी हमें बुरा ही मिलता है। इसलिए हमको सदा ही अच्छे ही कार्य करने चाहिए और बुरे कार्यों से सदा ही बचाना चाहिए। कथा सुनना भी हर किसी के बस की बात नहीं है। हम एक दिन सुन लेंगे या दो दिन कथा सुन लेंगे पर सातों दिन कथा कोई कोई ही व्यक्ति सुन पता है। क्योँकि देवराज इन्द्र भी इस कथा को नहीं सुन पाए थे। ये कथा देवताओ से भी दूर आप सब के लिए इस विदेशी धरती पर भी आपको सुनने को मिल रही है। यही आप सब का सबसे बड़ा सौभाग्य है। सोचिये अगर इस संसार में साधु संत या कथाकार नहीं होते तो कब कहाँ कनाडा में कथा खत्म हो जाती है और कब कहाँ शिकागो में कथा शुरू हो जाती है। भगवान से जुडने का जो अवसर भागवत हमको देती है वो कहाँ हम सब को मिलता है। वो लोग बहुत ही धन्य है जिनका मन कथा को सुनने के लिए यहाँ पर पहुँच जाता है। वो मन बहुत ही तरसता है की हमको अपने उस परमात्मा की कथा सुननी है। मनुष्य का कभी कभी भगवान से विश्वास उठ जाता है लेकिन जैसे ही वह व्यक्ति भागवत कथा को सुनता है तो उस व्यक्ति का फिर से उस परमात्मा में विश्वास लौट कर वापस आ जाता है। ये तो केवल भगवान की कथा ही है जो हमको भगवान की तरफ लौट कर ले जाती है। और मानव जीवन का परम उद्देश्य तो केवल भागवत कथा को सुनना ही है। और हमारा कोई भी उद्देश्य नहीं है। हम सब ने अपना देश किस के लिए छोड़ा था, केवल पैसे के लिए ही न। पर क्या जब हम इस धरती को छोड़ कर जायेंगे तो क्या पैसा हमारे साथ जायेगा। तो ऐसा पैसा किस काम का है? जिसके लिए मैंने तो अपना सब कुछ ही छोड़ दिया था ऊपर जब मैं इस धरती को छोड़ कर जा रहा हूँ तो वही पैसा मेरे साथ नहीं है। लेकिन आप जो इस कथा को सुनते है ये आपको कभी भी नहीं छोड़ेगी। चाहे आप इस देश में हो या उस देश में हो। विश्व में भी रहो या मृत्यु हो जाये तब भी ये आप सब के साथ ही जाती है। ये तो सदा ही आप का साथ देने वाली है ये आप का कभी भी छोड़ने वाली नहीं है। आपके पास इतनी दौलत है क्या जिससे आप भगवान से कह दो कि भगवान हम आपको इतनी दौलत दे देंगे इसके बदले आप हमको मोक्ष दे दो। इस पर भगवान इस पापी मनुष्य से कहता है की तुम अपनी इस माया को अपने पास रखो। तुम जिस अपनी माया पर इतना उछाल रहे हो उस माया का तो केवल एक ही कण तुम्हारे पास है। वही लक्ष्मी तो सदा मेरे चरण दबा रही होती है। चौबीस घंटे मेरे साथ ही रहती है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

29Sep 2017

"श्रीमद भागवत कथा का अर्थ ही मोक्ष है।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में टोरंटो, कनाडा में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के षष्टम दिवस में श्रीमद भागवत कथा में जीवन और मृत्यु का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने "नाम तुम्हारा तारणहारा न जाने कब दर्शन होगा, तेरी रचना कितनी सुन्दर तू कितना सुन्दर होगा" भजन से आज की कथा प्रारम्भ की। यहाँ पर महाराज श्री ने भगवान को ही अपना तारणहार बताया है। भगवान ही सभी सुखो को देने वाला होता है। भगवान ही हम सबको इस धरती पर सुख और दुःख को देने वाला होता है। भगवान के द्वारा ही हमें अपने कर्मों का फल मिल जाता है। महाराज श्री ने हमें बताया की श्रीमद भागवत कथा का अर्थ मोक्ष होता है। इसलिए हमें भागवत कथा अधिक से अधिक श्रवण करनी चाहिए। जो लोग भागवत कथा का श्रवण करते है उनका जीवन हर प्रकार से सफल हो जाता है और जो लोग भागवत कथा का श्रवण नहीं करते है उनके जीवन में कई समस्याएं आ जाती है। उनको अनेक कठिनाइयां आ कर घेर लेती है और उनका जीवन हर प्रकार से नीरस सा हो जाता है। उनके जीवन का कोई मतलब ही नहीं होता है। जो भी ज्ञान बड़े बड़े साधु संतों, बड़े-बड़े ऋषि मुनियों, बड़े बड़े ज्ञानी व्यक्तियों को कड़ी तपस्या करने से नहीं मिलता है वही ज्ञान हमें केवल इन सात दिनों में मात्र भागवत कथा सुनने से ही मिल जाता है। अगर हमें हिन्दू धर्म को बचाना है तो नाचने वाला, बंसी बजाने वाले कृष्ण की ही नहीं, उस गीता का ज्ञान देने वाले कृष्ण की भी हमको जरूरत है। हमें उनका भी प्रचार करना है। रास का मतलब केवल नृत्य नहीं है, नाचना नहीं है अगर आप रास के मतलब को समझोगे तो आपका जीवन ही निखार जायेगा। यहाँ पर कमजोर से कमजोर व्यक्ति भी लड़ सकता है, जिसमे खुद में कुछ भी दम नहीं होता है वो भी हमको लड़ने की धमकी देता रहता है। वो हमें ऐसे धमकी देता है जैसे सामने वाले को जान से ही मार देगा। अपने आप को खली से कम नहीं समझाता है। लड़ना तो बहुत ही आसान है लेकिन भगवान श्री कृष्ण ने अपने बाल्यकाल में जो किया है उसे बड़े-बड़े ऋषि मुनि नहीं कर सकते है। अगर भगवान की उन लीलाओं को समझने की जगह उन पर अगर हम कटाक्ष करे तो ये बहुत ही गलत बात है। हम सनातन धर्म प्रेमियों की बस एक यही कमी है हम सब पर अपने विचार थोपते है लेकिन दूसरों के विचार को सुन कर समझकर उनका सम्मान करना चाहिए। हम एक दूसरे को नीचा दिखाने की कोशिश में लगे रहते है। हम कहते है कि आप गलत बोलते है और हम ही सही बोलते है। बस इसी बात में लगे रहते है। हम सब का एक ही मार्ग है, हम सब को एक ही जगह जाना है। हाँ बस है इतना की हम सब भगवान के अलग अलग रूप को भजते है। दुनिया में जितने भी प्रेमी युगल हुए है वो उपासना के, पूजा के, पात्र नहीं हुए है। यहाँ पर पूरा का पूरा इतिहास उठा करके देख लो अगर कोई प्रेमी युगल पूजा का, उपासना का पात्र हुआ है तो वो राधा और कृष्ण भगवान हुए है और पूजा उसी की होती है युगो-युगो तक जो विषय उनका प्रचलित किया गया ,प्रचारित किया गया, वो शुद्ध हो, सात्विक हो। श्री राधा कृष्ण के प्रेम को हम लोग गलत तरीके से प्रस्तुत करते है। सबसे पहले तो हमें ये समझना चाहिए की ये गोपियाँ कौन है। हमें वृंदावन में जाना चाहिए और वृंदावन के निधिवन में जाना चाहिए। उस निधिवन की लता पता है जो उनसे जाकर के मिलिए आपको एक अलग ही अनुभव होगा। कहते है की वो लता पता ही रात्रि में गोपी बनती है और भगवान श्री कृष्ण प्रगट होती है, माता राधा प्रगट होती है और वो लता पता ही रात्रि में भगवान कृष्ण के साथ रास लीला करती है और सुबह को फिर से वो वृक्ष हो जाती है। आज भी ये हमारे वृंदावन में प्रचलित है। तो वो गोपियाँ कैसी होंगी। दुनियां को दिखाने के लिए वो जड़ बन जाती है और जब कृष्ण प्रगट होते है तो गोपियों का रूप धारण कर लेती है। जहाँ वासना का दूर -दूर तक कोई सम्बन्ध ही नहीं है। इस रास को भगवान कृष्ण कभी नहीं करते अगर कामदेव अहंकारी नहीं होते। यहाँ पर महाराज श्री ने पूछा की क्या तुमने कभी काम देव को हराया है। तुम एक स्त्री के साथ रहते हो तो भी तुम काम देव को नहीं हरा सकते हो लेकिन भगवान श्री कृष्ण ने सैकड़ों गोपियों के साथ रह कर और 16108 विवाह करके भी कृष्ण भगवान काम देव को हरा देते है तो बताइये की वो रास कैसे गलत हो सकता है। इस बात का प्रमाण अगर आपको चाहिए तो प्रमाण ये है की वृंदावन में काम को हराना ये है की वही कामदेव कृष्ण के पुत्र बनके आये जिनक नाम था प्रद्युम्न। ये सब इसलिए ही हुआ था कि कामदेव ने हर मान ली थी और उसी सब के कारण ही उन्होंने उनका पुत्र बनना स्वीकार किया और बोले की अब जो भी आप बोलोगे तो मैं वो सब करूँगा। उनकी पत्नी रो रही थी की मेरे पति को मार दिया है अब मेरा क्या होगा। तब भगवान श्री कृष्ण ने कहा कि ये मेरा पुत्र आकर बनेगा तो तुम तुम इनकी पत्नी बनना। अब आगे ये मेरे पुत्र के रूप में तुमको प्राप्त होगा। ये सब कृष्ण ने उनसे तब कहा था जब कृष्ण भगवान केवल साढ़े सात साल के थे। यहाँ पर एक साढ़े सात साल का कृष्ण कामदेव को हरा देता है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

28Sep 2017

"हमारी सभी इंद्रियां वो गाडी है जो हमें भगवान तक पहुंचा सकती है।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में टोरंटो, कनाडा में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के पंचम दिवस में श्रीमद भागवत कथा में मानव के इन्द्रियों के सही उपयोग का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने यहाँ पर कथा शुरू करने से पहले किशोरी जी से प्रार्थना की और "मेरे सर पर हाथ अपना रख दो राधा रानी जी" भक्तों को कराया। यहाँ पर महाराज श्री ने अपने भक्तों से कहा की कि उनको अपने आप को अपने इष्ट देव को समर्पित कर देना चाहिए। तभी हम सब का कल्याण हो सकता है। ताकि आने वाला हमारा समय अच्छा हो और हमको किसी भी तरह का कोई कष्ट न हो। यूँ तो मानव जीवन सभी को प्राप्त नहीं होता है और बहुत से व्यक्तियों को प्राप्त भी हो जाता है। लेकिन जिसको भी प्राप्त होता है क्या वो सभी इसका महत्व जानते है। जो व्यक्ति मानव जीवन को भगवान से मिलने का माध्यम समझ लेता है। वही मानव जीवन के उद्देश्य को समझ पाता है। यहाँ पर महाराज श्री ने हमें दो लोगों के बारे में बताया है। एक होता है जो हमें माया की बधाई कर कर के हमें नरक की तरफ भेजता है। और एक वो होते है जो भगवान की प्रशंसा कर कर के हमें भगवान की तरफ भेजने का मार्ग दिखाते है। तुमको उस गोविन्द से मिला देते है। तुम्हारा स्वर्ग, बैकुंठ सभी कुछ सुधर जाता है। उनकी बातों के द्वारा हम सब अपने उस भगवान के धाम तक पहुँच जाते है। यहाँ पर महाराज श्री ने बताया की मनुष्य के कान कुछ न कुछ तो सुनते ही है या तो वह माया के बारे में सुनता है या भगवान के बारे में सुनता है। जो लोग कहते है की देख उस व्यक्ति के पास कितना पैसा है, वह कितनी पार्टी करता है, वह कितना अमीर है, वह कितना घूमता है, वह कितना अच्छा खाना खता है, यह सब तो केवल माया की प्रशंसा ही है। अब तुम वैसा ही बनना चाहोगे। एक वो है जो आपको हर रोज भगवान की कथा सुनाते है चाहे वो आपको लगता है की वह झूठ ही बोल रहा है, लेकिन वह ये झूठ भी आपके लिए ही बोल रहा है। जिससे आपका मन लग जाये गोविन्द में। महाराज श्री ने कहा की इस संसार में कोई भी परफेक्ट नहीं होता है सिवाय भगवान के। तो हमें केवल इस बात को समझना चाहिए की जो भी हमें अच्छा रास्ता दिखाए हमें उसका धन्यवाद देकर आगे अपने रास्ते के लिए चल देना चाहिए। यही हम सब के लिए अच्छा होता है ताकि हमारा पथ आसानी से हमें मिल जाये। और हम को हमारी मंजिल में किसी भी तरह की कोई भी रुकावट नहीं आ पाए। भगवान श्री राम जब शबरी को नवदा भक्ति के बारे में बताते है। आपके तन के सभी भाग भगवान तक जाने के रास्ते है। आंखों से हम अपने भगवान को देखते है। कानों से हम भगवान के बारे में सुनते है और वाणी से हम भगवन के बारे में बोलते है। नाक से हम उस गंध को ग्रहण करते है। इस शरीर से हम उस स्पर्श को महसूस कर पाते है। तो यहाँ पर महाराज श्री ने इसके केवल दो रास्ते बताये है। एक रास्ता ऐसा है कि यदि हम इनका दुरूपयोग करेंगे तो हम नरक में जायेंगे और यदि हम इन्ही का सदुपयोग करंगे तो हम स्वर्ग में जायेंगे। जिन व्यक्तियों ने अपने कानों से भगवान की कथा नहीं सुनी है तो उसके ये कर्ण छिद्र सर्प बिल के समान है और जो लोग अपने इन कानो से उस भगवान की कथा को सुनते है तो वह स्वर्ग को प्राप्त करता है। वह लगातार उस परम ब्रह्म की कथा को सुनता ही रहता है। इन सभी इन्द्रियों को आप भगवान के द्वारा दी हुई गाडी ही समझो। यहाँ पर गाड़ी से मतलब है है हमें भगवान की कथा को सुनना भी है और उसके बारे में समझना भी है। इन सब चीजों को जो व्यक्ति सदुपयोग में लाता है वही सच्चा मानव कहलाता है। जो भी व्यक्ति इन सब बातों को समझ लेता है सच्चे अर्थों में वही सच्चा मानव कहलाता है। बाकि के लोग तो बोलते है की बस अपनी जिंदगी को काट ही रहे है। वो लोग तो केवल अपने दिनों को काटते ही रहते है, वो अपने दिनों को गुजारते भी है है। उनके जीवन का कोई भी औचित्य ही नहीं रह जाता है। हमारे जीवन का हर एक पल कीमती होता है, हमें सच्चे अर्थों में अपने जीवन को सहीं ढंग से जीना चाहिए। क्योँकि हमारे जीवन का जो भी समय निकल जाता है वो वापस लौट कर नहीं आ पाता है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

25Sep 2017

"रामायण हमें जीना सीखाती है और भागवत हमें मरना सीखाती है।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में टोरंटो, कनाडा में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के तृतीय दिवस में श्रीमद भागवत कथा में जीवन और मृत्यु का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। आज की कथा पूज्य महाराज श्री ने "ये जीवन है तेरे हवाले मुरलिया" भजन से की। इसके बाद महाराज श्री ने कहा की हमारे सनातन धर्म के मुताबिक ये नवरात्र हमारे लिए बहुत ही महत्वपूर्ण दिन है। इन दिनों में किया हुआ कोई भी सत कर्म हम लोगों को अधिक फल देने वाला होता है। इसलिए हमें इन दिनों में ज्यादा से ज्यादा अच्छे काम करने चाहिए। इन दिनों में देवी बहुत ही जल्दी से प्रसन्न हो जाती है। कल आपने श्रीमद भागवत कथा में सुना की किस तरह से राजा परीक्षित को श्राप लगा और राजा परीक्षित ने उसी समय में घर को त्याग दिया था। उनको श्राप यह मिला था की सातवें दिन आपको तक्षक नाग डस लेगा। जैसा की आप सब जानते है की यह श्राप हम सब को भी लगा हुआ है। श्री शुकदेव महाराज जी बहुत प्रसन्न हुए जब राजा ने उनसे प्रश्न किया था कि जिसकी मृत्यु सातवें दिन हो उसे क्या करना चाहिए? महाराज श्री ने हमें बताया की जो भी प्राणी इस धरती पर आया है उसकी मृत्यु तो एक न एक दिन जरूर ही होगी। जो भी इस धरती पर आया है वो एक दिन जायेगा जरूर। जब भी हम इस धरती को छोड़कर वहां पर जायेंगे तो हमसे सबसे पहले पूछा जायेगा कि तुम्हारे पेपर कैसे है। तुमने नीचे धरती पर जाकर क्या किया था। यक्ष ने धर्मराज से प्रश्न किया कि इस संसार का सबसे बड़ा आश्चर्य क्या है। तब धर्मराज ने कहा कि सबसे बड़ा आश्चर्य यह है कि लोग अपने ही लोगों को शमशान में जाकर के जलाते है और स्वयं ऐसे जिन्दा रहते है कि जैसे वो कभी मरेंगे ही नहीं। लेकिन हम सब इस बात को जान कर भी इस बात से अनजान बने रहते है। यही तो मुर्ख व्यक्ति की पहचान होती है। राजा ने प्रश्न किया की जिस व्यक्ति की मृत्यु सातवें दिन हो तो वो व्यक्ति क्या करे? तो शुकदेव महाराज जी ने कहा की तुमने यह प्रश्न अपने नहीं अपितु जगत के कल्याण के लिए मुझसे किया है। तुम तो जनकल्याण के पात्र हो। तुम भगवान की कृपा के पात्र हो। तब शुकदेव जी महाराज ने कहा कि हे राजन जिसकी मृत्यु सातवें दिन है उस व्यक्ति को श्रीमद भागवत कथा सुननी चाहिए। रामायण हमें जीना सीखाती है और भागवत हमें मरना सीखाती है। हम जिन भी चीजों के ऊपर बैठे है ,हमने जिन भी चीजों के ऊपर अपना सारा जीवन लगाया है। हमारे सनातन धर्म में स्त्री को शमशान में जाने की अनुमति नहीं होती है। हमारा ये शरीर भी केवल चिता तक ही हमारा साथ देता है। जिस शरीर को हम सब कुछ समझते है वो शरीर भी हमारा साथ नहीं देता है और जैसे ही चिता पर हमारा शरीर जलाया जाता है तो सभी हमारा साथ छोड़ देते है। उसके बाद केवल उस पवित्र आत्मा के द्वारा किये हुए अच्छे काम ही उस व्यक्ति के साथ जाते है। नहीं तो उस व्यक्ति को अकेला ही चलना पड़ता है। आप के द्वारा किये हुए सत कर्म ही आपके साथ है। वही आपका साथ निभाने वाले होते है। उसके अलावा कोई भी आपका साथ देने वाला नहीं है चाहे आप गौरे है या काले है। धनवान हो या निर्धन, मोटे हो या काले, परिवार बहुत बड़ा हो या बहुत ही छोटा इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता है। तुमको तो अकेले ही जाना पड़ेगा। तुम्हारे द्वारा किये हुए सत कर्म ही तुम्हारा साथ देंगे और कोई भी नहीं देगा। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

26Sep 2017

"जब तक जीव भागवत से दूर रहता है तब तक भगवान की कृपा से दूर है।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में टोरंटो, कनाडा में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के चतुर्थ दिवस में श्रीमद भागवत कथा में जीवन और मृत्यु का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कहा कि इस संसार में जन्म लेने वाला व्यक्ति, इस भवसागर में आने वाला व्यक्ति कभी अपने आपको सुखी पाता है तो कभी दुखी पाता है। इस संसार का यह सुख कभी भी स्थाई नहीं रहता है और इसी तरह से दुःख भी स्थाई नहीं रहता है। ईश्वर को त्याग करने वाला व्यक्ति, सत कर्मों को त्याग करने वाला व्यक्ति, धर्म का त्याग करने वाला व्यक्ति स्थाई रूप से दुखी हो जाता है। हमेशा सुखी रहने वाला व्यक्ति कौन होता है रामायण में इसका बहुत ही सुन्दर वर्णन किया गया है। जीव कब तक दुखी रहता है? जीव कब तक परेशान रहता है? यहाँ पर महाराज श्री ने एक मछली के द्वारा बताया है की आखिर कौन सच्चे अर्थों में सुखी है? एक मछली वहां पर दुखी होती है जहाँ पर पानी बहुत ही कम है और एक मछली वहां पर बहुत ही सुखी होती है जहाँ पर बहुत ही गहरा पानी होता है। तो सुखी रहने के लिए हमें इन मछलियों से सीखना चाहिए। हम लोग कहते है कि हम दुखी है पर उस दुखी रहने की वजह को तो हम जान नहीं पाते है या जानने की कोशिश ही नहीं करते है। समस्या ये है की अगर मछली जल से बाहर आ जाएगी तो वो दुखी हो जाएगी। मछली को सुखी रहने के लिए तो गहरे जल के अंदर जाना ही होगा। तभी वह हर तरह से सुखी रह सकती है। ठीक इसी तरह जीव तब तक ही दुखी रहता है जब तक वह भागवत से दूर रहता है। जब तक वह भागवत सप्ताह से दूर है तब तक भगवान् की कृपा से दूर है। जीव कभी भी सुखी नहीं हो सकता है। आप मकान, दुकान, परिवार ये सब तो बढ़ा सकते हो पर सुख को कभी भी बढ़ा नहीं सकते हो। यहाँ पर हम जिन चीजों को बढ़ा रहे है वो साधन साधन है सुख नहीं है और यहाँ पर साधन कभी भी हमको सुख नहीं दे सकते हैं। जीव केवल तभी सुखी रह सकता है जब वह उस जड़ रुपी परमात्मा से जुड़ जायेगा। हम सब लोगों की जड़ भगवान है और हम सब लोगों की जड़ हमारा धर्म है। जब तक जीव धर्म से नहीं जुड़ेगा तब तक वो इस संसार में दुखी रहेगा और जिस दिन जीव धर्म से जुड़ जायेगा और ईश्वर से जुड़ जायेगा उस दिन उसके सभी दुःख ख़त्म हो जायेंगे और वो हर प्रकार से सुखी हो जायेगा। यहाँ पर तुलसीदास जी कहते है कि जब मनुष्य ईश्वर से जुड़ जाता है तो उस को किसी भी प्रकार की समस्या नहीं सताती है। यदि आप धर्म से जुड़े रहे या भगवान से जुड़े रहे तो इस संसार में ऐसी कोई भी शक्ति नहीं है जो तुमको दुःख पहुंचा सके। इस संसार में जो कुछ भी होता है वो सब भगवान की मर्जी से ही होता है। कुछ भी उसकी मर्जी के बगैर नहीं होता है। यहाँ पर हमारे साथ अच्छा हो, बुरा हो, भला हो सब को भगवान की मर्जी समझ कर उसका आंनद लो। जो व्यक्ति दुःख में भी हसकर अपना जीवन जीता है वही व्यक्ति यहाँ पर सही अर्थों में सुखी होता है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

23Sep 2017

"संसार हमेशा चलायमान है और हमेशा चलता रहता है यह कभी भी किसी के लिए नहीं रुकता।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में टोरंटो, कनाडा में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के प्रथम दिवस में श्रीमद भागवत कथा कथा के महत्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कथा प्रारम्भ करते हुए कहा की नवरात्रि चल रहे है और आज नवरात्रि का दूसरा दिन है आप सभी भाग्यशाली है जो इस पावन अवसर पर कथा का रसपान कर रहे हैं। हिन्दू परम्परा में, हिन्दू संस्कृति में कुछ दिन विशेष दिन होते है विशेष तौर पर ये ऐसे पवित्र दिन होते है जिसमें व्यक्ति अगर थोड़ा- सा भी सत्कर्म करता है तो उसका लाभ अधिक मिलता है। यदि माता रानी को मनाना है तो शक्ति की पूजा किये बगैर आप शक्ति को प्राप्त नहीं कर सकते हैं। नौ देवियों की पूजा इन नौ दिनों में की जाती है। ये सभी माँ जगदम्बा का ही रूप हैं। माँ भगवती अनेकानेक रूपों में अपनी कृपा प्रदान करती है। मैं हमेशा आपको बताता हूँ कि माँ वैष्णो देवी भगवान श्री कृष्णा की बहन ही है। इसके बाद महाराज श्री ने कहा की ये जो आत्मा है, ये अजर, अमर है, अखंड है, अग्नि इसको जला नहीं सकती, पानी इसको डूबा नहीं सकता, तलवार इसे काट नहीं सकती। संसार का यह सत्य है, सत्य तो यही है जो आया हैं वह जायेगा, राजा रंक फ़क़ीर उसे भी जाना हैं। इसीलिए उसे शोक नहीं करना चाहिए। जैसे हम सब अपने शरीर के वस्त्र बदलते हैं, आज जो वस्त्र पहने हैं उसे धुलने डाल देते हैं और दूसरे पहनते हैं ठीक उसी प्रकार आत्मा भी वस्त्र बदलती हैं और आत्मा का वस्त्र यह शरीर हैं। जब वस्त्र पुराना हो जाता हैं तब वह आत्मा दूसरा शरीर धारण कर लेती है। यह आज से नहीं युगो-युगांतर से है उसी क्रम के तहत जो हमेशा से चला आ रहा है इसी क्रम में जो हमेशा से चला आ रहा है। पूज्य पिता जी ने कुछ समय पूर्व गोलोक के लिए प्रस्थान किया इसीलिए यह संसार हमेशा चलायमान है और हमेशा चलता रहता है किसी के लिए भी नहीं रुकता है। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

24Sep 2017

"अपने अहंकार का त्याग करके ही दुनिया के भवसागर को पार किया जा सकता है।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में टोरंटो, कनाडा में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के द्वितीय दिवस में शुकदेव जी महाराज की लीलाओं का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। कथा प्रारम्भ करते हुए महाराज श्री ने कहा कि श्री राधा ने भगवान श्री कृष्ण से पूछा भगवान आप इतने परेशान क्यों हैं... भगवान श्री कृष्ण से कहते हैं इस कलयुग में रह रहे लोगो के दुःख देख के बहुत दुखी हूँ... कैसे ये लोग अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं... तब श्री राधा ने कहा भगवान आप तो सब जानते हैं आप ही क्यों नहीं इन लोगो के उद्धार के लिए कुछ करते? तब श्री कृष्ण ने कहा मेरा कोई ऐसा दूत जो इन्हे मेरी कहानी सुनाये.. जिससे लोगो का उद्धार हो.. मेरी कथाये इन्हे मौका देगा इन्हे मेरे से जुड़ने का ... सुखी रहने का.. तब श्री राधा ने पूछा, ऐसा कौन जायँगे.. तब श्री कृष्ण ने कहा शुकदेव जायँगे.. जब माँ पार्वती जी ने भगवान भोले से कथा सुनाने के लिए कहा तो भोले बोले देख के आओ कैलाश पर कोई और तो नहीं हैं। माँ पार्वती ने देखा और उन्हें कोई नहीं मिला लेकिन वह शुक छुपे बैठे थे और भोले कथा सुनाने लगे। कथा सुनते सुनते माँ पार्वती सो गयी और शुक कथा सुन रहे थे। माँ पार्वती ने ऐसा क्या किया जिसकी वजह से वो कथा पूरी नहीं सुन पाई? माँ पार्वती के पूर्व जन्म में जाइये जंहा :- कथा मन से नहीं सुना, राम पर विश्वाश न रखना, अपने पति की परीक्षा लेना, अपने पति पर अविश्वाश रखना, ये सभी पाप कहलाते हैं। जिसके कारण माँ पार्वती सती हुई और इस जन्म में माँ पार्वती कथा नहीं सुन पाई। श्री शुकदेव जी महाराज ने अपना घर छोड़ दिया, अपने माँ पिता जी को छोड़ दिया। अपने तन पर एक वस्त्र नई रखा और घर-बार सब छोड़ दिया। भवसागर को पार करने के लिए क्या क्या करना पड़ता हैं। अपने अभिमान को त्यागना पड़ता हैं। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

31Aug 2017

"बिना स्वार्थ के की गयी भक्ति से भगवान भी आपके ऋणी हो जाते है "

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में एप्पल वैली, कैलिफोर्निया-अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के पंचम दिवस में श्रीमद भागवत कथा में जीवन में भक्ति के महत्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कथा शुरू करने से पहले अपने सभी भक्तों को एक प्यारा सा भजन " वृंदावन धाम अपार भजे जा राधे राधे" श्रवण करा सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। इस भजन के द्वारा महाराज श्री ने अपने सभी भक्तों को ठाकुर जी की भक्ति के लिए प्रेरित किया। ब्रज में, गोकुल में, बरसाने में, गोवर्धन में, रावल ग्राम में, नंदगाव में, जहाँ भक्ति महारानी स्वयं आनंदित होकर नृत्य करती है। जहाँ जगतपति अखिल ब्रह्माण्ड नायक, जगत रचियता अकारण ही अवतरित होकर आते है। जहाँ ब्रज की गलियों में संत बहुत ही अच्छा पद गाते है कि वृंदावन की महिमा तीन लोक से न्यारी है। इतने प्यारे वृंदावन की विशेषता का वर्णन कौन कर सकता है। जहाँ कर्म और धर्म दोनों ही मिलकर रस्सी बून रहे है और मुक्ति वृंदावन में पानी भर रही है। भला ऐसी विशेषता वाले वृंदावन का वर्णन कौन कर सकता है। हमारे आचार्यों ने तो यहाँ तक कहाँ है कि वृंदावन के बाहर अगर भगवान भी तुमको दर्शन देने के लिए तैयार हो तो तुम दर्शन मत करना। हमें श्री कृष्ण से प्रार्थना करनी चाहिए की हमें तो आपके दर्शन केवल वृंदावन में ही करने है बाहर नहीं। हमें वृन्दावन की सीमा के बाहर तो आपके दर्शन तो दूर हम आपको देखना भी नहीं चाहते है। हम तो आपको सदा सदा के लिए वृंदावन में ही देखना चाहते है। तब एक भक्त ने कहा की महाराज क्या मिलता है आपके वृंदावन में? ऐसा है क्या वहां पर? तब महाराज श्री ने कहा की वृंदावन में दो तरह के विजिटर्स आते है। एक विजिटर्स आते है की चलों बिहारी जी के दर्शन कर आये। आते है बिहारी जी के दर्शन करते है और चले जाते है और दूसरे विजिटर्स जाते है ये सोचकर की जाना तो है और मिलकर आना है। एक उस तरीके के भक्त जाने है और सोचते है की अगर हमें प्रभु जी मिल जाए तो हमारा भाग्य ही बदल जायेगा। तब महारज श्री ने वहां पर मौजूद सभी भक्तों को एक बालक की कथा सुनाई। एक बालक गुरु की आज्ञा से वृंदावन में वास करता था और पुरे दिनभर राधा कृष्ण का जाप करता रहता था। वह बालक यह काम अपने प्रति दिन करता रहता था। उसका काम ही था भगवान की युगल उपासना करना और कोई काम उसका दूसरा कुछ भी नहीं था। जब भी वह बालक बिहारी जी के मंदिर में जाता था पर उस बालक को वहां पर बिहारी जी के दर्शन नहीं होते थे। इस तरह से दिन बीतते गए और उस बालक को यह अहसास हुआ की वह भी यह सोचने लगा की की मैं बहुत ही बड़ा पापी हूँ। इसलिए ही बिहारी जी मुझे दर्शन नहीं देते है बाकि सभी को बिहारी जी के दर्शन हो जाते है। सबकी पुण्य आत्मा है इसलिए ही बिहारी जी सबको दर्शन देते है और मैं पापी हूँ इसलिए बिहारी जी मुझे दर्शन नहीं देते है यही बात उस बालक के मन में घर कर गयी। जब ये बात उस बालक के मन में घर कर गयी तो वह सोचने लगा की जब हम इतने ही पापी है तो हमारा जीना ही बेकार है और वह बालक मरने के बारे में सोचने लगा और यमुना जी की तरफ बड़े ही उदास मन से जाने लगा। यमुना के तट पर एक कोढ़ी लेटा हुआ था उसको अचानक ठाकुर जी ने सपने में आकर कहा की तू एक कोढ़ी है और अगर तुझे अपना कोढ़ ठीक करना है तो अभी सुबह-सुबह यहाँ से एक बालक गुजरेगा तो तू उस बालक के पैर पकड़ लेना और तब तक मत छोड़ना जब तक वह बालक तुमसे ये न कह दे की जा तेरा कोढ़ ठीक हो जायेगा। जब वह बालक वहां से गुजरा तो उस कोढ़ी ने उस बालक के पैर पकड़ लिए तब उस बालक ने कहा की तुम मेरे पैर छोड़ दो। इस पर वह कहने लगा की मैं तो नहीं छोडूंगा आपके पैर। मैं तो आपके पैर जब छोडूंगा जब आप मुझसे कह दो की जा तेरा कोढ़ ठीक हो जायेगा। इस पर बालक बोला की मैं कोई भगवान थोड़े न हूँ जिसके कहने से तेरा कोढ़ ठीक हो जायेगा। इस पर बालक बोला की मुझसे बड़ा पापी ही कोई नहीं है इस धरती पर जिसको बिहारी जी के दर्शन ही नहीं होते है बाकि सभी को तो बिहारी जी दर्शन हो जाते है। इतना बड़ा पापी हूँ की मुझे बिहारी जी के दर्शन ही नहीं होते है। मैं झूठ क्योँ बोलूं। पर कोढ़ी कहने लगा की नहीं आप कह कर तो देखो। पर बालक फिर भी मना करने लगा। पर फिर उस कोढ़ी ने कहा की मैं तो तब तक तुम्हारा पैर नहीं छोडूंगा जब तक तुम ये न कहो की जा तेरा कोढ़ ठीक हो जायेगा। इस पर बालक उस कोढ़ी से बोला की आप मुझसे झूठ बुलवाना चाहते हो तो कोढ़ी बोला की झूठ नहीं आप बोल कर तो देखो एक बार। तो इस पर गुस्से में आकर उस बालक ने आखिर कह ही दिया की जा तेरा कोढ़ ठीक हो जायेगा। बस इतना ही कहना था उस बालक का कि उस कोढ़ी का कोढ़ ठीक हो गया। इस पर वह बालक और भी गुस्से में आ गया और कहने लगा की महाराज हमारे द्वारा कहने से आप किसी का कोढ़ तो ठीक करवा सकते हो पर हमको दर्शन नहीं दे सकते हो। इसका मतलब तो एक ही की आप केवल छलिया ही हो सभी लोग आपके बारे में ठीक ही कहते है। अगर आपने मुझे अभी दर्शन नहीं दिए तो मैं अभी यमुना में अपने प्राण ही त्याग दूंगा। वह तेज गति से उस यमुना की तरफ बढ़ने लगा तभी बांके बिहारी जी ने उस बालक के सामने आकर दर्शन दिए और कहने लगे की आप कहाँ जा रहे हो। तो इस पर उस बालक ने कहाँ की क्योँ आपने इतने दिनों से मुझे दर्शन नहीं दिए और अब दिए भी तो पहले हमसे झूठ बुलवा कर इस कोढ़ी का कोढ़ ठीक करवा लिया। जब मैं यमुना जी में मरने के लिए जा रहा हूँ तो आपने हमें दर्शन दे दिए है। ये सब लीलाएं आप हमसे क्योँ करते है? तब उस बालक को अपने गले से लगा कर बिहारी जी कहते है की देख मेरे प्यारे तू तो एक गजब का भक्त है। तू पुरे दिनभर ही मेरी भक्ति में डूबा रहता है। तू हर पल मेरा नाम जपता रहता है। पर बड़ी विचित्र बात तो ये है कि तू कभी भी मुझसे कुछ मांगता ही नहीं है। जब तू मुझसे कुछ मांगता ही नहीं है तो तेरी भक्ति का ऋण मुझपर कुछ ज्यादा ही बढ़ गया था। मैं अपने आप को यह नहीं समझा पाता हूँ की मैं तुझे दर्शन देकर तेरे प्यार का ऋण चुका सकूँ। तूने कभी कुछ नहीं माँगा मुझसे और सदा ही सत कर्म में लिप्त रहता है। इसलिए ही तो मैंने यह सब लीला रचाई है और अब मैंने तुम्हारे द्वारा यह कार्य करवा कर तेरा ऋण कुछ कम किया और आज मैं तुझे दर्शन देने के लिए आ गया हूँ। राधे राधे बोलना पड़ेगा !!

31Aug 2017

"मानव जीवन का एकमात्र उद्देश्य है और वो है प्रभु की प्राप्ति करना "

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में एप्पल वैली, कैलिफोर्निया-अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के षष्टम दिवस में श्रीमद भागवत कथा में जीवन के महत्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कहा कि एक अभूत ही प्रेरणादायक भजन है कि जीवन में इंसान किसे कहते है। यहाँ पर कौन सहीं मायने में इंसान है। यूँ तो आप सब देखते ही है कि असभ्य अपना अपना जीवन व्यतीत कर ही रहे है। लेकिन सहीं मायने में हम किस को कहेंगे की मानव कौन है। अच्छा ,बुरा ,भला ,कौन है मानव। जो हमेशा दुसरो का बुरा चाहता है क्या वो सहीं मायने में इंसान कहलाने के लायक है। या दूसरों का भी भला सोचता है वही सही मायने में इंसान होता है। मानवता को इंसान को सेल्फिश होकर दुसित नहीं करना चाहिए। अगर हम सेल्फिश होकर दुसित कर देंगे और यहीं सोचे की वह इस धरती से मिट जाये तो वो व्यक्ति कभी भी मानव कहलाने के लायक नहीं है। वो तो केवल शैतान कहलाने के लायक ही होता है। इंसान वहीँ होता है जो हमेशा निश्वार्थ होकर दूसरों की सेवा करता है। हमें यह प्रार्थना करनी चाहिए की हमारी वजह से पापी भी सुधर जाये। हमें सीसा नहीं सोचना चाहिए की पापी इस धरती से ही मर जाये। मरने से पहले उस पापी की आत्मा भी सुध हो हमें ऐसी प्रार्थना करनी चाहिए। कोई मर जाये या मिट जाये हमें ऐसा नहीं सोचना चाहिए। क्योँकि पाप तो हम सब ने भी किये है। फिर दूसरों के बारे में हमें ऐसा नहीं सोचना चाहिए। हमको पाप से साद ही नफरत करनी चाहिए लेकिन पापी के नहीं करनी चाहिए। वो पाप जो सामने वाले ने किया है वो पाप हमसे आगे चलकर न हो ऐसी हमें जीवन भर कोशिश करते रहनी चाहिए। यहाँ पर महाराज जी ने एक प्यारा भजन "किसी के काम जो आये उसे इंसान कहते है "नमक गीत सुना कर वहां पर मौजूद सभी भक्तों के मन को मोह लिया। बाहत से लोग है जो जो कथाओ से बहुत कुछ सीख लेते है। और अपने जीवन को काफी डेवलप कर लेते है। ये तो आप के ऊपर ही निर्भर करता है की आप कैसे उसका चुनाव करते है। महाराज जी सदा ही हमसे कहते है की हमें अपने जीवन में जीवन के महत्व को समझना चाहिए। और जीवन के उद्देश्य को समझना होगा। पहले हमें अपने जीवन में एक लक्ष्य को निर्धारित कर लेना चाहिए। जब तक हम अपने जीवन में एक लक्ष्य नहीं निर्धारित कर लेते है तब तक हमें यही नहीं पता होता है की हमें करना क्या है। हमारा जीवन उस बेकार इंसान की तरह हो जाता है जो इस धरती पर बेकार ही घूमता रहता है। तो सबसे पहला हमारा कर्तव्य होता है कि हमें अपने जीवन में लक्ष्य को निर्धारित करना चाहिए। कहते है की जब तक हम लक्ष्य नहीं बना लेते है की हमको करना क्या है तो हमारे सब काम ही बेकार जाते है। हमारा जीवन ही बेकार हो जाता है। इसलिए ही हमें साद ही अपने जीवन में एक लक्ष्य बना लेना चाहिए की हमको आगे अपने जीवन में करना क्या है , हमको कुछ लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए काफी कड़ी मेहनत करनी पड़ती है। क्योँकि बिना मेहनत के हमें अपने लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर सकते है। इसलिए हमें सदा ही मेहनत करते रहना चाहिए और मेहनत से कभी भी घबराना नहीं चाहिए। तब महारज श्री ने एक दृष्टांत हमको सुनाया। भगवान् के दिए हुए इस जीवन के साथ हमको सिर्फ खेलना है चाहिए। हमको तो इसके उद्देश्यों को भी समझना चाहिए। एक बहुत ही विद्वान पंडित थे जो अपने स्कूल के बच्चो को पढ़ा कर आते थे लेकिन घर पर आने के बाद उसकी पत्नी उनसे लड़ती थी। वो विद्वान पंडित चाहे कितना भी अच्छा काम कर ले पर उसकी पत्नी साद ही उसको भला बुरा बोलती थी। उसके काम से वो कभी भी खुश नहीं रहती थी। उनकी पत्नी उनसे हर रोज लड़ती झगड़ती रहती थी। वो पंडित हर रोज स्कूल जाता बच्चो को पढ़ाने और घर आकर पत्नी लड़ती रहती है तो वो काफी अपसेट हो गया। और वो सोचने लगा कि अब तो मेरा जीवन ही बेकार है। ऐसी जिंदगी ही ही बेकार है। क्या करूँगा ऐसी जिंदगी जीकर मैं। यहाँ पर समाज ,घर ,पत्नी ,बच्चे सभी मेरे खिलाफ है। तो कई बार व्यक्ति डिप्रेसन में आकर गलत कदम उठा लेता है। तो समाज की भी यही ड्यूटी है की किसी भी व्यक्ति के पीछे हाथ धोके न पड़े। कहीं हमारी वजह से कोई डिप्रेशन में न आ जाये। पर कहाँ दूसरों के बारे में हम सोच पाते है। आज कल तो अपने ही बारे में हम नहीं सोच पाते है। तब वो विद्वान पडित सोचने लगे की क्योँ न मैं अपना आत्मदाह कर लूँ। पर आत्मदाह से पहले बोले चलो पहले संत जी से परामर्श ले लेता हूँ शायद ही कोई उपाय निकल आये। तब पंडित जी महात्मा जी के पास गए। तब महात्मा जी वहां पर पत्तल बना रहे थे। तब पंडित जी ने कहा कि महात्मा जी मुझे आप से कुछ बात करनी है। लेकिन महात्मा जी अपना पत्तल बनाने का काम करते रहे। तब पंडित जी महात्मा से बोला की महाराज बहुत ही जरुरी काम है मुझे आप से जरुरी बात करनी है। पंडित जी बोले की महात्मा जी ये काम जरुरी नहीं है जो आप कर रहे है। काम तो ये जरुरी है जिसके लिए मैं यहाँ पर आया हूँ। तब महात्मा बोले मैं भी तो काम ही कर रहा हूँ। तब पंडित बोला की जो प्रश्न मैं लेकर आया हूँ वो मेरे जीवन और मरण का सवाल है और आप पत्तल बनाने में बने हैं। और पंडित जी वहां से नाराज होकर जाने लगा। तब संत ने पत्तल बना लिए और उससे कहाँ की इधर आओ और बताओ की तुमको क्या समस्या है। तब पंडित बोला की समस्या क्या मैं बड़ा ही परेशां हूँ जिंदगी में। कभी भी मैं किसी को खुश नहीं कर पा रहा हूँ। मैं खुद ही अपने आप को खुश नहीं कर पा रहा हूँ। मैं घर में जब भी जाता हूँ पत्नी बेवजह ही मुझसे लड़ती झगड़ती रहती है। मेरा मन करता है की मैं अपना आत्मदाह कर लूँ। तो आप मुझे सलह दीजिये की क्या मैं मर जाऊ। तब संत ने कहाँ की जो तुम चाहो तुम्हारी ही तो जिंदगी है। तब महात्मा ने उस पंडित से कहाँ की तुमने देखा कि मैं क्या कर रहा था। तो पंडित जी बोला की क्या कर रहे थे तो संत ने कहाँ कि मैं पत्तल बना रहा था। आप ऐसी पत्तल बना रहे थे जिसको आप को फेंक ही देना है। आपको मेरे जीवन की कोई भी परवाह नहीं है। आपको तो उस पत्तल की परवाह है जिपर भोजन करने के बाद फेंकना ही है। तब संत ने पंडित से कहाँ की पत्तल को फेंकना कब है भोजन के बाद यानि यूज करने के बाद पहले नहीं फैकना है। अगर उद्देश्य प्राप्त हो जाए तो पत्तल को तो फेंकना ही है। लेकिन उद्देश्य से पहले नहीं फैकना है। तब संत ने पंडित से कहाँ की के समझे जिंदगी में जब तक उद्देश्य प्राप्त नहीं हो जाता है तो हमें आत्मदाह के बारे में नहीं सोचना चाहिए। और मानव जीवन का उद्देश्य प्रभु की प्राप्ति है। और जब तक प्रभु की पर्पटी न हो जाये तब तक मरने के बारे में सोचना भी पाप है। राधे राधे बोलना पड़ेगा !!

30Aug 2017

" आपके कर्म जैसे होंगे भगवान आपको वैसे ही फल देता है "

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में एप्पल वैली, कैलिफोर्निया-अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के चतुर्थ दिवस में श्रीमद भागवत कथा में जीवन के महत्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कहा कि भगवान ने हम सबकी किस्मत अपने हाथों से लिखी है और उन लोगों की किस्मत का क्या कहना जिन लोगों की किस्मत में ठाकुर की भक्ति हो, गोविन्द का प्यार हो और उन की कथा को श्रवण करने का अधिकार हो। माँ बाप की सेवा जो कर सके, धर्म और देश का सम्मान जो कर सके ऐसे लोगों की किस्मत का क्या कहना है। उन लोगों का भाग्य बहुत ही बड़ा होता है। यहाँ पर महाराज श्री ने बहुत ही प्यारे भजन "एक झोली में फूल खिले है ,एक झोली में कांटे रे कोई कारण होगा " भक्तों को श्रवण करवाया। आपके कर्म जैसे होंगे आपको वैसे ही फल मिलते है। इस भजन के द्वारा महाराज श्री ने लोगों को सच्चाई के रास्ते पर चलने के लिए लोगों को प्रेरित किया। और बुराई के रास्ते को सदा के लिए छोड़ने के लिए कहा। क्योँकि इस रस्ते पर चलकर ही हम सब का जीवन कष्टकारी हो जाता है। यहाँ पर सब व्यक्तियों को शांति चाहिए। जो लोग सदा के लिए भगवान के बने है उन लोगों की रक्षा भी तो भगवान ने सदा ही की है। हमें अपने आप को सदा के लिए भगवान की भक्ति में समर्पित कर देना चाहिए। तभी तो हमारा हर प्रकार से भला हो सकता है। यहाँ पर महाराज श्री ने कहा कि पैसा आपको सुख नहीं दे सकता है, साधनाये आपको सुख नहीं दे सकती है। सुख तो हमारा मन ही हमको दे सकता है। हमारा सब्र भी हमको सुख दे सकता है और जब तक हमारे पास ये सब चीजे नहीं है तो हमको सुख प्राप्त नहीं हो सकता है। हम जो भी करते है तो हमें वो सब अपने गोविन्द के चरणों में अर्पित कर देना चाहिए। क्योँकि भगवान के चरणों में अर्पित की हुई कोई भी वस्तु हमें हज़ार गुना हो कर वापिस मिलती है। हम जब भी कोई गीता पाठ करते है, कोई भजन गाते है, कोई कथा सुनते है, कोई सत कर्म करते है या भागवत श्रवण करते है तो हमें श्रवण करने के बाद उन सब को गोविन्द के चरणों में ही समर्पित कर देना चाहिए। जिस समय भगवान राम धनुष तोड़ने के लिए जा रहे थे तो उस समय सब मिथिला वासियों ने अपने सारे सत कर्मों को याद किया और कहने लगे की हम सबने अपने जीवन जितने भी सत कर्म किये हो वो सभी भगवान राम को लग जाये और वो इस धनुष को तोड़ दे। क्योँकि हम सब के द्वारा किया हुआ सत कर्म कभी भी खाली नहीं जाता है। हमें अपने सत कर्मों को करने के बाद कभी भी दूसरे व्यक्तयों के सामने नहीं गाना चाहिए। क्योँकि ऐसा करने से हमारे द्वारा किये हुए सत कर्म का फल कम हो जाता है। हमें किये हुए कर्मों का बखान नहीं करना चाहिए। चाहे दूसरे हमारे किये हुए कर्मों का बखान करते फिरे। क्योँकि जब राम ने धनुष को तोडा था तो भगवान राम मिथिला वासियों के जीजा भी बन गए थे और सदा के लिए मिथिला में ही रह गए थे ऐसा ही मानना है मिथिलावासियों का। यहाँ पर वो सब कहते है कि अगर भगवान से सम्बन्ध जुड़ जाये तो इससे अच्छी बात और क्या हो सकती है। महाराज श्री ने बताया कि हम सब चाहते है कि जो भी हमारे शहर का पावरफुल व्यक्ति हो उससे हमारा सम्बन्ध जुड़ जाये। कौन व्यक्ति नहीं चाहता है की हमारा राम के साथ और कृष्ण के सम्बन्ध जुड़े। जो ये सब नहीं चाहता है वो तो बद किस्मत वाला है और जो ये सब चाहता है वही किस्मत वाला है। उनसे सम्बन्ध जोड़ना भी आसान है और निभाना भी आसान है। दुनिया से तो छोटे से छोटा रिश्ता निभाना भी मुश्किल होता है। लेकिन जब भगवान से सम्बन्ध जुड़ जाये तो इससे बड़ी कोई बात हो ही नहीं सकती है। जिससे भगवान राम हमेशा के लिए मिथिलावासियों के बन कर मिथिला में ही रह गए थे। हमें सदा अपने गोविन्द के साथ ऐसा रिश्ता बना लेना चाहिए जिससे हमारी ज़िंदगी सुधर जाए। हम सब को ये तो पता ही है की हमारी मृत्यु तो निश्चित ही है तो इसको सफल बनाने के लिए हमें अपने इस जीवन में अच्छे अच्छे काम करने चाहिए। हम जितने अच्छे काम करेंगे तो हमें फल भी तो उसी के अनुसार ही मिलेंगे। महाराज श्री ने बताया कि ये शरीर तो एक वस्त्र के सामान है। आत्मा इस वस्त्र रुपी शरीर को समय समय पर बदलती रहती है। एक बार एक स्त्री ने महाराज जी से कहा कि महाराज मुझे मरना नहीं है तो महाराज ने कहा की क्योँ नहीं मरना है। तब स्त्री ने कहा कि महाराज मुझे मरने से डर नहीं लगता है मुझे तो मरने के बाद जलाते है उससे डर लगता है। तब महाराज श्री ने कहा कि कोई बात नहीं है एक बार मृत्यु को आ जाने दो तब देख लेंगे। तुम मरने के बाद जलने से मत डरना। मृत्यु तो हर व्यक्ति के जीवन में आती ही है। क्योँकि जिस भी व्यक्ति ने इस धरती पर जन्म लिया है तो उसको इस धरती से भी तो एक दिन जाना ही होता है। क्योँकि जो इस धरती पर आया है उसको इस धरती से एक दिन जाना भी तो होगा। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

27Aug 2017

"भगवान हमारे जीवन का सबसे बड़ा पासपोर्ट है।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में एप्पल वैली, कैलिफोर्निया-अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के प्रथम दिवस में भगवत कथा के महत्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कहा कि भादों के महीने में श्रीमद भागवत कथा सुनना कोई आसान काम नहीं है। भादों के महीने में ही समय है राधा अष्टमी का। कृष्ण जन्माष्टमी हमने वृंदावन में मनाई थी और राधा अष्टमी हम अमेरिका में अपने भक्तों के साथ मना रहे है। भागवत भी हमको आसानी से सुनने को नहीं मिलती है ये भी हमें अपने बहुत ही जन्मो के पुण्य करने के बाद प्राप्त होता है। हम और आप बहुत ही भाग्यशाली है जिन्हे घर बैठे ही भागवत कथा सुनने का अवसर मिल रहा है। पांच तत्व से हमारा शरीर चल रहा है और उन पांच तत्वों को जिसने बनाया है वह है भगवान श्री कृष्ण और उन सब का संहार करने वाले भी श्री कृष्ण ही है। हमारे अंदर जीव तीन तरह से जीवित रहता है ये है दैहिक, जैविक और भौतिक। दैहिक होता है शारीरिक कष्ट, शारीरिक सुख। दैविक होता है देवताओं द्वारा दिया हुआ कष्ट और देवताओं के द्वारा दिया हुआ सुख। भौतिक होता है हमारे अपने लोग, समाज के लोग जिनसे कभी हम सुख की अनुभूति करते है और कभी दुःख की अनुभूति करते है। इन त्रितापों को जन्म देने वाला भी कोई और नहीं है वो तो हमारे भगवान श्री कृष्ण ही है। वही श्री कृष्ण जो हमको इस धरती पर भेजते है, हमारा पालन पोषण करते है और हम सब का संहार भी करते है। वही ही इन तीनो वजहों का जन्म का, पालन का और मृत्यु का कारण है। जीव सबसे ज्यादा दुःख कब पता है जानते हो? जब उस कारण को भूल कर अन्य यत्र तत्र भटकता रहता है। हमको उस कारण को कभी भी भूलना नहीं चाहिए। जब जीव इस कारण को भूलता है तो उसे इन कष्टों को भुगतना पड़ता है। उदहारण के तौर पर महाराज श्री ने कहा कि यदि आप विदेश चले जाये और अपना पासपोर्ट खो दो तो आपको सुख मिलेगा या दुःख मिलेगा। तब महाराज बोले की हमको काफी परेशानी होगी और भगवान हमारे जीवन का सबसे बड़ा पासपोर्ट है। हम इस दुनिया में आये है और भगवान रुपी पासपोर्ट हमने अगर खो दिया तो निश्चित ही हमें सदा ही अपने जीवन में कष्टों का सामना ही करना पड़ेगा। यहाँ पर व्यक्ति अपनी वजह से ही खुद भी दुःख पाता है और दूसरों को भी दुःख देता है। कई बार हम ये कहते है की हमको तो इसने दुःख दे दिया है या उसने दुःख दे दिया है पर ऐसा नहीं है। हम तो दुःख अपनी वजह से ही पाते है। इसके लिए हम दूसरों को दोषी नहीं ठहरा सकते है। महाराज श्री ने कहा कि आप जो भी करते है भगवान उसी का फल हमको देता है। संत को महाराज श्री ने भगवान की उपाधि दी है। अगर मानव जीवन आपको मिला है तो सबसे पहले उस ब्रह्म को, उस श्री कृष्ण को जानने की कोशिश करो, उस परमात्मा को जानने की कोशिश कीजिये। वो निराकार वादियों के लिए ब्रह्म है, साकार वादियों के लिए कृष्ण है और भक्तों के लिए वो परमात्मा है। भगवान तो केवल एक ही होता है केवल उसके रूप अलग-अलग हो सकते है। लोग जिस भी रूप में उसे याद करते है तो भगवान अपने भक्तों को उसी रूप में उनको मिल जाते है। अगर हम सब अपने जीवन में जीपीएस रूल को फॉलो करेंगे तो हमेशा ही खुश रहेंगे। हमारा ये ही मकसद होना चाहिए की हम कैसे उस ब्रह्म को, भगवान को, या परमात्मा को जान सके। हमें सदा ही अपने परमात्मा में खोये रहना चाहिए। बहुत से लोग कहते है कि अगर हम भागवत सुनेंगे तो हमें क्या मिलेगा? सबसे पहले इंसान को अपने धर्म के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए। यहाँ पर महाराज श्री ने कहा कि पूरी जानकारी तो किसी को भी नहीं है पर लेकिन जितनी ज्यादा से ज्यादा जान सको तो जान लो। तभी हम सब का इस संसार में कल्याण हो सकता है। सतयुग में, द्वापर में और त्रेता इन तीनो युगों में हज़ारों-हज़ारों वर्ष तप करो और तपस्या भी कैसी कि एक पैर पर खड़े हो कर, या जल में खड़े हो कर, पेड़ के नीचे खड़े हो कर आदि इतनी घनघोर तपस्या के बाद भी पता नहीं है की भगवान हमसे प्रसन्न होंगे या नहीं। कलयुग में मात्र केवल नियम से सात दिन भागवत कथा सुनो तो हम वो सब पा सकते है जिसकी हम कल्पना भी नहीं कर सकते है। यहाँ पर व्यक्ति को धर्म पर विश्वास इसलिए नहीं होता है क्योँकि यहाँ पर चमत्कार नहीं होते है। तब महारज श्री ने एक बच्चे की बात बताई। एक बच्चा था पन्द्रह सोलह साल का। डॉक्टरों ने कहा कि उस बच्चे को कैंसर है और वो भी लास्ट स्टेज का कैंसर है जिससे बचाया नहीं जा सकता है। तब वह बच्चा भागवत कथा सुनने की रट करने लगा और सुनी भी उसने कथा। और महाराज श्री मुझे जैसे कथा सुनाएंगे मैं वैसे ही सुनूंगा और पूरी कथा सुनुँगा। भागवत कथा के सुनने से ही उस बच्चे का लास्ट स्टेज का कैंसर भी ठीक हो गया था। ये तो भगवान की महिमा ही है जिसके सुनने मात्र से ही उसके सभी कष्ट दूर हो गए थे। तब वह महाराज श्री के पास आया और कहने लगा की महाराज मैं अब पूरी तरह से ठीक हूँ। मुझे किसी भी तरह की कोई भी प्रॉब्लम नहीं है। इस पर कोई भरोसा भी नहीं करेगा पर जिस व्यक्ति के साथ ये सब हुआ है वो आकर महाराज श्री को बता रहा है और आकर डॉक्टर का सर्टिफिकेट दिखा रहा है की मुझे लास्ट स्टेज का कैंसर था जो अब पूरी तरह से ठीक है। सही को गलत और गलत को सही करने की ताकत तो केवल उस परमात्मा में ही है। चाँद को छुपा दे, बादलों में छुपा दे , दिन में रात कर दे, रात में दिन कर दे ये सब ताकत तो केवल उस परमात्मा में ही है तो कैंसर कौनसी बड़ी चीज है। पर सबसे पहले हम सब को चाहिए की हमें उस परमात्मा में पक्का विश्वास करना चाहिए। उसमें पक्का भरोसा करना चाहिए। तभी यह सब संभव हो सकता है। महाराज श्री ने कहा की जो लोग भागवत कथा सुनते है तो रोगी निरोगी काया को प्राप्त होगा, गरीब लोग धनवान हो जायेंगे, पापी हमेशा के लिए निष्पाप हो जायेंगे। तब वह बोला की महाराज जिसको किसी भी चीज की जरुरत न हो, जिसके पास सब कुछ हो तो। तब महाराज श्री बोले की जिसको कुछ नहीं चाहिए वही मोक्ष को प्राप्त करता है और भगवान उन लोगों को ही प्राप्त होते है जिन व्यक्तियों का मन सदा ही निर्मल होता है। जिनका मन निर्मल नहीं होता है उन व्यक्तियों को भगवान के दर्शन कभी भी नहीं होते है। भगवान बोले की हमें वो लोग बहुत ही अच्छे लगते है जिनका मन निर्मल होता है। जो लोग झूठ का सहारा कभी भी नहीं लेते है और छल कपट से सदा ही दूर रहते है। अगर आप झूठ का सहारा लोगे तो दूसरे लोग आप से सदा के लिए किनारा करने लग जायेंगे। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

27Aug 2017

"भगवान हमारे जीवन का सबसे बड़ा पासपोर्ट है।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में एप्पल वैली, कैलिफोर्निया-अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के प्रथम दिवस में भगवत कथा के महत्व का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कहा कि भादों के महीने में श्रीमद भागवत कथा सुनना कोई आसान काम नहीं है। भादों के महीने में ही समय है राधा अष्टमी का। कृष्ण जन्माष्टमी हमने वृंदावन में मनाई थी और राधा अष्टमी हम अमेरिका में अपने भक्तों के साथ मना रहे है। भागवत भी हमको आसानी से सुनने को नहीं मिलती है ये भी हमें अपने बहुत ही जन्मो के पुण्य करने के बाद प्राप्त होता है। हम और आप बहुत ही भाग्यशाली है जिन्हे घर बैठे ही भागवत कथा सुनने का अवसर मिल रहा है। पांच तत्व से हमारा शरीर चल रहा है और उन पांच तत्वों को जिसने बनाया है वह है भगवान श्री कृष्ण और उन सब का संहार करने वाले भी श्री कृष्ण ही है। हमारे अंदर जीव तीन तरह से जीवित रहता है ये है दैहिक, जैविक और भौतिक। दैहिक होता है शारीरिक कष्ट, शारीरिक सुख। दैविक होता है देवताओं द्वारा दिया हुआ कष्ट और देवताओं के द्वारा दिया हुआ सुख। भौतिक होता है हमारे अपने लोग, समाज के लोग जिनसे कभी हम सुख की अनुभूति करते है और कभी दुःख की अनुभूति करते है। इन त्रितापों को जन्म देने वाला भी कोई और नहीं है वो तो हमारे भगवान श्री कृष्ण ही है। वही श्री कृष्ण जो हमको इस धरती पर भेजते है, हमारा पालन पोषण करते है और हम सब का संहार भी करते है। वही ही इन तीनो वजहों का जन्म का, पालन का और मृत्यु का कारण है। जीव सबसे ज्यादा दुःख कब पता है जानते हो? जब उस कारण को भूल कर अन्य यत्र तत्र भटकता रहता है। हमको उस कारण को कभी भी भूलना नहीं चाहिए। जब जीव इस कारण को भूलता है तो उसे इन कष्टों को भुगतना पड़ता है। उदहारण के तौर पर महाराज श्री ने कहा कि यदि आप विदेश चले जाये और अपना पासपोर्ट खो दो तो आपको सुख मिलेगा या दुःख मिलेगा। तब महाराज बोले की हमको काफी परेशानी होगी और भगवान हमारे जीवन का सबसे बड़ा पासपोर्ट है। हम इस दुनिया में आये है और भगवान रुपी पासपोर्ट हमने अगर खो दिया तो निश्चित ही हमें सदा ही अपने जीवन में कष्टों का सामना ही करना पड़ेगा। यहाँ पर व्यक्ति अपनी वजह से ही खुद भी दुःख पाता है और दूसरों को भी दुःख देता है। कई बार हम ये कहते है की हमको तो इसने दुःख दे दिया है या उसने दुःख दे दिया है पर ऐसा नहीं है। हम तो दुःख अपनी वजह से ही पाते है। इसके लिए हम दूसरों को दोषी नहीं ठहरा सकते है। महाराज श्री ने कहा कि आप जो भी करते है भगवान उसी का फल हमको देता है। संत को महाराज श्री ने भगवान की उपाधि दी है। अगर मानव जीवन आपको मिला है तो सबसे पहले उस ब्रह्म को, उस श्री कृष्ण को जानने की कोशिश करो, उस परमात्मा को जानने की कोशिश कीजिये। वो निराकार वादियों के लिए ब्रह्म है, साकार वादियों के लिए कृष्ण है और भक्तों के लिए वो परमात्मा है। भगवान तो केवल एक ही होता है केवल उसके रूप अलग-अलग हो सकते है। लोग जिस भी रूप में उसे याद करते है तो भगवान अपने भक्तों को उसी रूप में उनको मिल जाते है। अगर हम सब अपने जीवन में जीपीएस रूल को फॉलो करेंगे तो हमेशा ही खुश रहेंगे। हमारा ये ही मकसद होना चाहिए की हम कैसे उस ब्रह्म को, भगवान को, या परमात्मा को जान सके। हमें सदा ही अपने परमात्मा में खोये रहना चाहिए। बहुत से लोग कहते है कि अगर हम भागवत सुनेंगे तो हमें क्या मिलेगा? सबसे पहले इंसान को अपने धर्म के बारे में पूरी जानकारी होनी चाहिए। यहाँ पर महाराज श्री ने कहा कि पूरी जानकारी तो किसी को भी नहीं है पर लेकिन जितनी ज्यादा से ज्यादा जान सको तो जान लो। तभी हम सब का इस संसार में कल्याण हो सकता है। सतयुग में, द्वापर में और त्रेता इन तीनो युगों में हज़ारों-हज़ारों वर्ष तप करो और तपस्या भी कैसी कि एक पैर पर खड़े हो कर, या जल में खड़े हो कर, पेड़ के नीचे खड़े हो कर आदि इतनी घनघोर तपस्या के बाद भी पता नहीं है की भगवान हमसे प्रसन्न होंगे या नहीं। कलयुग में मात्र केवल नियम से सात दिन भागवत कथा सुनो तो हम वो सब पा सकते है जिसकी हम कल्पना भी नहीं कर सकते है। यहाँ पर व्यक्ति को धर्म पर विश्वास इसलिए नहीं होता है क्योँकि यहाँ पर चमत्कार नहीं होते है। तब महारज श्री ने एक बच्चे की बात बताई। एक बच्चा था पन्द्रह सोलह साल का। डॉक्टरों ने कहा कि उस बच्चे को कैंसर है और वो भी लास्ट स्टेज का कैंसर है जिससे बचाया नहीं जा सकता है। तब वह बच्चा भागवत कथा सुनने की रट करने लगा और सुनी भी उसने कथा। और महाराज श्री मुझे जैसे कथा सुनाएंगे मैं वैसे ही सुनूंगा और पूरी कथा सुनुँगा। भागवत कथा के सुनने से ही उस बच्चे का लास्ट स्टेज का कैंसर भी ठीक हो गया था। ये तो भगवान की महिमा ही है जिसके सुनने मात्र से ही उसके सभी कष्ट दूर हो गए थे। तब वह महाराज श्री के पास आया और कहने लगा की महाराज मैं अब पूरी तरह से ठीक हूँ। मुझे किसी भी तरह की कोई भी प्रॉब्लम नहीं है। इस पर कोई भरोसा भी नहीं करेगा पर जिस व्यक्ति के साथ ये सब हुआ है वो आकर महाराज श्री को बता रहा है और आकर डॉक्टर का सर्टिफिकेट दिखा रहा है की मुझे लास्ट स्टेज का कैंसर था जो अब पूरी तरह से ठीक है। सही को गलत और गलत को सही करने की ताकत तो केवल उस परमात्मा में ही है। चाँद को छुपा दे, बादलों में छुपा दे , दिन में रात कर दे, रात में दिन कर दे ये सब ताकत तो केवल उस परमात्मा में ही है तो कैंसर कौनसी बड़ी चीज है। पर सबसे पहले हम सब को चाहिए की हमें उस परमात्मा में पक्का विश्वास करना चाहिए। उसमें पक्का भरोसा करना चाहिए। तभी यह सब संभव हो सकता है। महाराज श्री ने कहा की जो लोग भागवत कथा सुनते है तो रोगी निरोगी काया को प्राप्त होगा, गरीब लोग धनवान हो जायेंगे, पापी हमेशा के लिए निष्पाप हो जायेंगे। तब वह बोला की महाराज जिसको किसी भी चीज की जरुरत न हो, जिसके पास सब कुछ हो तो। तब महाराज श्री बोले की जिसको कुछ नहीं चाहिए वही मोक्ष को प्राप्त करता है और भगवान उन लोगों को ही प्राप्त होते है जिन व्यक्तियों का मन सदा ही निर्मल होता है। जिनका मन निर्मल नहीं होता है उन व्यक्तियों को भगवान के दर्शन कभी भी नहीं होते है। भगवान बोले की हमें वो लोग बहुत ही अच्छे लगते है जिनका मन निर्मल होता है। जो लोग झूठ का सहारा कभी भी नहीं लेते है और छल कपट से सदा ही दूर रहते है। अगर आप झूठ का सहारा लोगे तो दूसरे लोग आप से सदा के लिए किनारा करने लग जायेंगे। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

28Aug 2017

" भगवान को सच्ची भक्ति से ही प्राप्त किया जा सकता है "

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में एप्पल वैली, कैलिफोर्निया-अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के द्वितीय दिवस में श्री शुकदेवजी महाराज की लीलाओं का वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कथा की शुरआत "मीठी रस सो भरी राधा रानी लागे, महरानी लागे भजन से की। महाराज श्री ने कहा की मेरे प्यारे प्रभु प्रेमिओ आप सब भद्रा पक्ष में राधा अष्ठमी के समय पर भागवत कथा श्रवण कर रहें है। भगवान श्री कृष्णा के गौ लोक प्रस्थान के बाद राजा परीक्षित को प्रथम बार श्रीमद्भागवत कथा को श्रवण करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ था। तब से चली आ रही ये परंपरा आज तक हम सब के मध्य उपस्थित है और अनेकों-अनेक विद्वानों के द्वारा ऋषि मुनि ब्राह्मण के द्वारा हमको श्रीमद भागवत कथा प्राप्त होती है। कथा मैं आपको नया सुनने को मिलता है ये हमारा और आप सबका सौभाग्य है। महाराज श्री ने कहा -श्री शुक जब कथा सुन रहे थे तब उनकी आंखों से अश्रु बह रहा थे इसलिए अश्रु बह रहे थे क्योंकि श्री कृष्ण की विदाई का प्रसंग चल रहा था। श्री कृष्ण इस धरा धाम को तयाग कर अपने धाम के लिए जा रहे है ये सुनते हुए शुक रो पड़े। ठाकुर की कथा सुन कर ठाकुर का हो गया निश्चित तौर पर उसके संस्कार अच्छे होंगे। महाराज श्री जीे ने कहा की कथा उन्हीं को अच्छी लगती है जिनके संस्कार अच्छे होते है, हर किसी को कथा अच्छी नहीं लग सकती है। जिन्हें अपने माँ बाप से, बुजुरुर्गों से अच्छे कर्मो से जो मिला है उन्हीं को कथा अच्छी लग सकती है। बाबा ने सोचा की शुक कथा चोरी से सुन रहा है हाथ मैं त्रिशूल लेके बाबा दौड़े श्री शुक आगे-आगे बाबा पीछे-पीछे आत्म रूप से दौड़े। शुक व्यास पत्नी के मुख से गर्भ अस्थान में प्रवेश कर गए और बाबा भोले नाथ व्यास जी आश्रम में डट के बैठ गए की जब आएगा तब मारूंगा। 9महीने बाद तो आओगे न तब मार के जाऊँगा शुकदेव बोले मैं 9 साल तक नहीं आने वाला ये भक्त और भगवान् की लड़ाई है, 9 साल नहीं 12 साल हो गए शुक देव जी को माँ के गर्भ में उसके बाद ही उन्होंने धरा पर जन्म लिया। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

25Aug 2017

"धर्म आत्मा का एक ऐसा आभूषण है जिसे एक बार धारण कर लिया तो उतारा नहीं जा सकता है।"

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में नार्थ कैरोलिना, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के सप्तम दिवस में श्री कृष्ण की लीलाओं का सुन्दर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। "ये संसार किसी का हुआ नहीं, आगे होगा नहीं" इस भजन के साथ महाराज श्री ने आज की कथा प्रारम्भ की। महाराज श्री ने कहा की यह भजन बहुत ही प्यारा भजन है। हम एक दूसरे से बहुत ही उम्मीद करते है लेकिन उम्मीदें कहाँ कब किसकी पूरी होती है? सिर्फ भगवान ही उम्मीदों को पूरा करते है बाकि के लोग तो सिर्फ अपना टाइम पास करते है। "ओ दाता तेरा मेरा प्यार कभी न बदले, ओ कान्हा तेरा मेरा प्यार कभी न बदले" भजन सुना कर वहां पर मौजूद सभी भक्तों को मन्त्रमुग़्ध कर दिया। जिंदगी जब निकलती है हमें तब अपनी गलती का अहसास होता है कि हमने अपना क्या खोया है। लोग अपने अपने हिसाब से धर्म का अर्थ बताते है। किसी की नजर में भोजन कराना धर्म है। किसी की नजर में कथा सुनना धर्म है। किसी की नजर में किसी को गाली देना ही धर्म है। तो अपने अपने सिद्धांत के हिसाब से धर्म की परिभाषा बताई है। लेकिन धर्म तो वो है जो गोस्वामी तुलसीदास बाबा ने रामायण में लिखा है तुम किसी को दुःख दो उसके बराबर पाप नहीं है और तुम किसी को सुख दो उसके बराबर कोई पुण्य नहीं है। अगर तुम दुसरो की सेवा करोगे तो भगवान तुम्हारी सेवा करेंगे। तुम किसी को दुःख मत दो तुम्हारे लिए यही सबसे बड़ा पुण्य है। तो धर्म कभी भी चलाय मान नहीं है। लेकिन धर्म की गति ऐसी है जो हमें सुख प्रदान करने वाली है। जो जीव या मनुष्य केवल धर्म के बताये हुए मार्ग पर चलते है, उनका सदा ही कल्याण होता है। धर्म केवल वस्त्रों की तरह नहीं है जब चाहा उसे उतार लिया और जब चाहा उसे पहन लिया। धर्म एक ऐसा आभूषण है आत्मा का, जिसे एक बार धारण कर लिया तो उतारा नहीं जा सकता है। धर्म को केवल धारण करो इसे उतारने की कोशिश मत करों। शरीर पर से तो वस्त्र उतर भी सकते है और उनको फिर से पहना भी जा सकता है लेकिन आत्मा का जो वस्त्र है धर्म उसे यदि उतार दिया तो उसे हम दोबारा पहन नहीं सकते है। धर्म के अनुसार ही हमें अपना जीवन जीना चाहिए। धर्म से ही हमें सब कुछ सीखना चाहिए। कई व्यक्तियों की जिंदगी केवल दूसरों को दुःख देने में ही निकल जाती है। वो लोग केवल उसी में ही अपना सुख समझने लगते है। पैसे के लिए व्यक्ति क्या नहीं करता है। लोग अपना जमीर तक बेच देते है पैसे के लिए। केवल धर्म ही है जो मरने के बाद भी हमारे साथ ही जायेगा। सिर्फ एक धर्म ही है जो हमेशा हमारा साथ निभाएगा और जितनी भी संसार में वस्तुएं है वो सब तो यही पर रह जाती है। तो हमें अपने जीवन में धर्म के अनुसार ही कर्म करने चाहिए। भगवान राम आये हो या भगवान कृष्ण आये हो सभी ने अपने चरित्र से इस बात का दर्शन हमें कराया है। अपने चरित्र से उन्होंने हमें बताया कि हमको क्या करना चाहिए और क्या नहीं करना चाहिए। भगवान राम जब बड़े होते है तो स्वयं ही वेदों का श्रवण करते है और पुराणों को सुनते है। और जो भी कथा स्वयं सुनते है तो अपने छोटे भाई बहनो को भी सुनाते है। जो भी अच्छी बात आज हमने सीखी है तो हमको उस बात को अपनों से छोटो को समझानी चाहिए। अगर कोई बुरी बात आपको लगे तो उस बात को अपने छोटे भाई बहन को नहीं बतानी चाहिए। भगवान् श्री कृष्ण के सोलह हज़ार एक सो आठ विवाह हुए। भगवान् की जो कुल संताने है वो एक लाख सत्ततर हज़ार एक सो अट्ठासी थी। उनके साथ बैठ कर श्री कृष्ण ब्राहम्णो को बालते है कथा सुनते है और अपने उन बच्चों को सुनाते है। और जो कथा हमारे राम भगवान् सुनते है, जो कथा हमारे कृष्ण सुनते है ,जिन कथाओं से हमें कुछ सिखने को मिलता है। एकबार की बात है भगवान् श्री कृष्ण अपने बाल गोपालों के साथ भृमण करने के वन में गए। वन में जाकरके अपने बल गोपालों को कुछ ऐसी कथा सुना रहे थे तो वहां पर एक बच्चे ने कहा कि "मैं प्यासा हूँ"। तो उन्होंने कहा की जाओ और देख के आओ के कही आस पास में कोई जल स्तोत्र है तो। अब बच्चे गए तो उन्हें वहां पर एक कुआ मिला। लेकिन कुए में एक बहुत ही बड़ा गिरगिट पड़ा हुआ था। तब उन बच्चों ने भगवान से आकर कहा की वहां पर पास ही में एक कुआ तो है पर उसमें बहुत बड़ा गिरगिट गिरा पड़ा है। तब भगवान ने उनसे कहा चलो में तुम्हारे साथ चलता हूँ। और जैसे ही भगवान् ने उस गिरगिट को बाहर निकलना चाहा तो उस गिरगिट का रूप बदल गया। और उसका आकर एक मनुष्य के रूप में बदल गया। और वह भगवान् श्री कृष्ण के सामने हाथ जोड़कर खड़ा हो गया। तब भगवान् श्री कृष्ण ने उससे पूछा की आप कौन है। तब उस व्यक्ति ने कहा की मैं पूर्व जन्म में राजा नृग था। और मेरा हमेशा एक काम था की मैं हमेशा ब्राह्मणो को दान देता था। ब्राह्मणो को गाय दान में देता था। और गाय के सींगों को और गाय के पैरों के खुरों को सोने में मांडवा कर दान देता था। बस एक बार गलती ये हो गयी थी की जो गाय मैंने दान में दी थी तो वो उस ब्राह्मण के यहाँ से खुल कर आ गयी और उन सभी दान देने वाली गायों में आकर मिलकर कड़ी हो गयी थी। और उसी गाय को मैंने दोबारा से दान कर दिया। तो जहाँ पर मैंने पहले गाय दान में दी थी तो वो वहां पर आ रहे थे जो दूसरे वाले ब्राह्मण उस गे को लेकर वहां पर से जा रहे थे। और उन्होंने उस गाय को पहचान लिया। और कहने लगे की ये गाय तो मेरी है। तब दूसरा ब्राह्मण कहने लगा की नहीं ये आपकी नहीं हो सकती है इसे तो अभी राजा ने मुझे दान में दिया है। तब पहले वाला ब्राह्मण बोलै अरे नहीं इसे भी तो मुझे राजा ने एक दिन पहले दिया था। तब वो दोनों बोले चालों इस बारे में राजा से ही पता कर लेते है। तब दोनों ब्राह्मण राजा के यहाँ पर गए। और राजा से जाकर बोले की राजा जी ये गाय तो आपने परसो मुझे दान में दी थी और दूसरा बोले की नहीं ये गाय तो आज आपने मुझे दान में दी है। तो अब बताइये राजा जी की ये गाय आखिर है किसकी। तब राजा बोलै की महाराज गलती से सायद ऐसा हो गया है आप दोनों मुझे छमा कर दीजिये। एक ब्राह्मण इस गाय को छोड़ दे और जिसको इसकी ज्यादा जरुरत है वो ले ले। पर वो दोनों ब्राह्मण कहने लगे नहीं महाराज हमें तो यही गाय ही चाहिए। और कहने लगे की महाराज हमने तो दान लिया है कोई भीख नहीं ली है। हम तो संतोषी ब्राह्मण है। और राजा ने फिर कहाँ की नहीं महाराज आप एक हज़ार गाय ले लो या एक लाख गाय ले लो। इन बातों को सुनकर राजा को गुस्सा आ गया। राजन आप हमें ब्राह्मण नहीं समझते हो आप तो हमें लोभी और लालची समझते हो। तो इस सब को सुन कर ब्राह्मण बोलै जाओ हम तुम्हे श्राप देते है जिस तरह तुम गिरगिट की तरह रंग बदल रहे रहो तुमको गिरगिट बनना पड़ेगा। तब राजा उन ब्राहम्णो के कहरनो मरण गिर पड़े और माफ़ी मांगने लगे की महाराज इसमें मेरी कोई गलती नहीं है। मुझे छमा कर दो। राजा जब छमा मांगने लगा तो ब्राह्मणो को दया आयी और बोले की हे राजन अभी तो आपको गिरगिट बनना पड़ेगा लेकिन द्वापर युग के अंत में आपको भगवान् के साक्षात् दर्शन होंगे। जो तुमने इतने पुण्य के काम करे है उसी के फलीभूत तुमको भगवान् के साक्षात् दर्शन होंगे। और उनके दर्शन के बाद ही तुम्हारा उद्धार हो जायेगा। और तुम वापिस इंसान के रूप में आ जाओगे। अगर कोई बुरी बात आपको लगे तो उस बात को अपने छोटे भाई बहन को नहीं बतानी चाहिए। भगवान श्री कृष्ण के सोलह हज़ार एक सो आठ विवाह हुए। भगवान की जो कुल संताने है वो एक लाख सत्ततर हज़ार एक सो अट्ठासी थी। उनके साथ बैठ कर श्री कृष्ण ब्राहम्णो को बालते है कथा सुनते है और अपने उन बच्चों को सुनाते है। जो कथा हमारे राम भगवान सुनते है, जो कथा हमारे कृष्ण सुनते है जिन कथाओं से हमें कुछ सिखने को मिलता है। एकबार की बात है भगवान श्री कृष्ण अपने बाल गोपालों के साथ भ्रमण करने के वन में गए। वन में जाकर के अपने बाल गोपालों को कुछ ऐसी कथा सुना रहे थे तो वहां पर एक बच्चे ने कहा कि "मैं प्यासा हूँ" तो उन्होंने कहा की जाओ और देख के आओ के कही आस पास में कोई जल स्तोत्र है तो अब बच्चे गए उन्हें वहां पर एक कुआ मिला। लेकिन कुए में एक बहुत ही बड़ा गिरगिट पड़ा हुआ था। तब उन बच्चों ने भगवान से आकर कहा की वहां पर पास ही में एक कुआ तो है पर उसमें बहुत बड़ा गिरगिट गिरा पड़ा है। तब भगवान ने उनसे कहा चलो में तुम्हारे साथ चलता हूँ और जैसे ही भगवान ने उस गिरगिट को बाहर निकलना चाहा तो उस गिरगिट का रूप बदल गया। उसका आकार एक मनुष्य के रूप में बदल गया। वह भगवान श्री कृष्ण के सामने हाथ जोड़कर खड़ा हो गया। तब भगवान श्री कृष्ण ने उससे पूछा की आप कौन है? उस व्यक्ति ने कहा की मैं पूर्व जन्म में राजा नृग था। और मेरा हमेशा एक काम था की मैं हमेशा ब्राह्मणो को दान देता था। ब्राह्मणो को गाय दान में देता था। गाय के सींगों को और गाय के पैरों के खुरों को सोने में मंडवा कर दान देता था। बस एक बार गलती ये हो गयी थी की जो गाय मैंने दान में दी थी तो वो उस ब्राह्मण के यहाँ से खुल कर आ गयी और उन सभी दान देने वाली गायों में आकर मिलकर खड़ी हो गयी थी। उसी गाय को मैंने दोबारा से दान कर दिया। जहाँ पर मैंने पहले गाय दान में दी थी तो वो वहां से आ रहे थे तो दूसरे वाले ब्राह्मण ने उस गाय को पहचान लिया और कहने लगे की ये गाय तो मेरी है। तब दूसरा ब्राह्मण कहने लगा की नहीं ये आपकी नहीं हो सकती है इसे तो अभी राजा ने मुझे दान में दिया है। तब पहले वाला ब्राह्मण बोले अरे नहीं इसे भी तो मुझे राजा ने एक दिन पहले दिया था। तब वो दोनों बोले चलों इस बारे में राजा से ही पता कर लेते है। तब दोनों ब्राह्मण राजा के यहाँ पर गए और राजा से जाकर बोले की राजा जी ये गाय तो आपने परसो मुझे दान में दी थी और दूसरा बोले की नहीं ये गाय तो आज आपने मुझे दान में दी है। तो अब बताइये राजा जी की ये गाय आखिर है किसकी? तब राजा बोले की महाराज गलती से शायद ऐसा हो गया है आप दोनों मुझे क्षमा कर दीजिये। एक ब्राह्मण इस गाय को छोड़ दे और जिसको इसकी ज्यादा जरुरत है वो ले ले। पर वो दोनों ब्राह्मण कहने लगे नहीं महाराज हमें तो यही गाय ही चाहिएऔर कहने लगे की महाराज हमने तो दान लिया है कोई भीख नहीं ली है। हम तो संतोषी ब्राह्मण है। राजा ने फिर कहा की नहीं महाराज आप एक हज़ार गाय ले लो या एक लाख गाय ले लो। इन बातों को सुनकर ब्राह्मण को गुस्सा आ गया। राजन आप हमें ब्राह्मण नहीं समझते हो आप तो हमें लोभी और लालची समझते हो। तो इस सब को सुन कर ब्राह्मण बोले जाओ हम तुम्हे श्राप देते है जिस तरह तुम गिरगिट की तरह रंग बदल रहे रहो तुमको गिरगिट बनना पड़ेगा। तब राजा उन ब्राहम्णो के चरणों गिर पड़े और माफ़ी मांगने लगे की महाराज इसमें मेरी कोई गलती नहीं है। मुझे क्षमा कर दो। राजा जब क्षमा मांगने लगा तो ब्राह्मणो को दया आयी और बोले की हे राजन अभी तो आपको गिरगिट बनना पड़ेगा लेकिन द्वापर युग के अंत में आपको भगवान के साक्षात दर्शन होंगे। जो तुमने इतने पुण्य के काम करे है उसी के फलीभूत तुमको भगवान के साक्षात दर्शन होंगे और उनके दर्शन के बाद ही तुम्हारा उद्धार हो जायेगा और तुम वापिस इंसान के रूप में आ जाओगे। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

24Aug 2017

" भगवान की भक्ति हमें ब्लाइंड फेथ के साथ करनी चाहिए "

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में नार्थ कैरोलिना, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के षष्टम दिवस में श्री कृष्ण की बाल लीलाओं का सुन्दर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कहा कि अच्छा समय न जाने कब निकल जाता है इसका हमको पता भी नहीं चल पाता है। भगवान से सदा ही अपने मन की बात करते रहनी चाहिए। कुछ बातें उनसे करनी चाहिए और कुछ बातें उनसे हमें सुननी चाहिए। तभी तो हमारे जीवन का हर प्रकार से उद्धार हो सकता है। भगवान का नाम हमारे मुख से तब तक नहीं निकलता है जब तक भगवान स्वयं हम पर अपनी कृपा नहीं करते है। हर चीज हमारे मुख से आसानी से निकल जाती है लेकिन भगवान का नाम आसानी से नहीं निकलता है। "सुन बरसाने बारी दूर बड़ी दूर नगरी,कैसे मैं मिलने आऊं बड़ी दूर नगरी" भजन श्रवण कराकर महाराज श्री ने सभी भक्तों को मंत्रमुग्ध कर दिया। महाराज श्री ने कहा की मानव जीवन का उद्देश्य ये नहीं है की खाओ कमाओ और सो जाओ। उसका तो एक ही उद्देश्य होना चाहिए की वह भगवान को कैसे प्राप्त कर सके। इस दुनिया में एक साकार ब्रह्म को मानने वाले लोग होते है और एक निराकार ब्रह्म को मानने वाले लोग होते है। महाराज श्री ने कहा कि हमारे कर्मकांड के 84 हज़ार श्लोक है। किसी ने भगवान से पूछा की आप कैसे हो? आपका आकर कैसा है? आप निराकार हो या साकार हो? भगवान ने कहा कि जो लोग मुझे निराकार रूप में भजते है उनके लिए मैं निराकार हूँ और जो लोग मुझे साकार रूप में भजते है उनके लिए मैं साकार हूँ। क्योँकि कई बार राधा कहती है कि "बंसी बजाते हुए क्या किसी ने मेरे शयाम देखे" जो चीजे हमारे लिए जीवन है और जो चीजे हमारे लिए मृत्यु का एक मार्ग बन जाती है। वही सब चीजें भगवान के चरणों में बंधन करती है क्योँकि ये सब चीजे ही उनसे प्रकट हुई है। जिन लोगों को भगवान पर डाउट हो वो या तो किसी संत के चरणों में जा कर बैठे। जो भगवान के बारे में सब कुछ जानते हो और उनसे भगवान के बारे में जानने की कोशिश करो उन पर कुछ थोपो नहीं। पार्वती माता ने भी एक प्रश्न किया था की साकार ब्रह्म निराकार कैसे हुआ? यहाँ पर महाराज श्री ने भगवान राम के बारे में भी उदाहरण दिया है कि भगवान राम कौन है। अब भगवान पर संदेह करना कहाँ की सही बात है उसको तो हमें मिटाना ही पड़ेगा। इसके लिए हमें किसी जानकर या संत के चरणों में जाकर बैठना पड़ेगा। जिससे हमें भगवान के सही रूप के बारे में सही से जानकारी मिल सके। हम भगवान के सही रूप को जान सके। हमें भी तो भगवान के बारे में जानने अपनी जिज्ञासा दिखानी पड़ेगी। क्योँकि जैसे ही हम किसी ज्ञानी पुरुष या संत के पास ये प्रश्न लेकर जायेंगे की भगवान कौन है तो वह ज्ञानी हमें उस ईश्वर की सभी लीलाओं के बारे में बताता है। तब हम को उस ज्ञानी से उस भगवान का बहुत ही सुन्दर वर्णन प्राप्त हो जाता है। जिसके बाद हमें अपने उस प्रभु के बारे में जानने की और जिज्ञासा नहीं रहती है। भगवान का एक स्वाभाव और है कि भगवान किसी का अहंकार बर्दाश्त नहीं करता है। आज के इस जीवन में या समय में हमें अपनी छोटी छोटी चीजों पर अहंकार हो जाता है। अगर हम कोई नई गाड़ी भी घर में ले आते है तो अपने रिश्तेदारों को चिढ़ाने के लिए एकबार जरूर ही उनके पास जाते है कि तुम्हारे पास इतनी बड़ी गाडी नहीं है मेरे या हमारे पास तो है। तो हम अपने अहंकार के कारण उस को चिढ़ाते है की तुम इतनी बड़ी गाडी नहीं ले सकते है पर लेकिन हम ले सकते है और उसको इसी बात से जलन कराते है। महाराज श्री ने बताया की भगवान हर इंसान से कहता है कि आप सब को अहंकार से दूर रहना चाहिए। क्योँकि जो लोग अहंकार करते है मैं उन लोगों से कोशों दूर रहता हूँ। जहाँ पर अभिमान होता है वहां पर भगवान का वास नहीं होता है। और दूसरी बात ये है की भगवान अहंकार को भी नहीं रहने देता है। जीव जिस भी चीज का अभिमान करता है भगवान उससे उस चीज को ही छीन लेता है। यहाँ पर महाराज श्री ने बहुत ही सुन्दर पंक्तियों का वर्णन किया है कि "बनतो को भी बिगड़ते देखा है बिगड़तों को भी बनते देखा है,जो खूब अकड़के चलते थे उनको मिटटी में भी मिलते देखा है ".इन पंक्तियों के द्वारा महाराज श्री ने वहां पर मौजूद सभी लोगों को अहंकार को छोड़ने के लिए कहा है। क्योँकि अहंकार से मनुष्य का हर प्रकार से नाश ही होता है। उसका भला कभी भी नहीं हो सकता है। कल आप सभी ने गोवर्धन की परिक्रमा की थी। पर भगवान ने आप सभी से गोवर्धन की परिक्रमा कराई क्योँ थी। इसकी तो आवश्यकता ही नहीं थी। अगर भगवान श्री कृष्ण नहीं होते तो क्या वहां पर भगवान इंद्र की पूजा नहीं छुड़वा सकते थे। जब स्वयं बनाने वाला ही मिटाने पर आ जाये तो कोई भी आपको बचा नहीं सकता है। इस बात को आप देर से मानो या जल्दी से मानो, जितनी जल्दी से मान लोगे तो आप का ही भला हो सकता है। क्योँकि जितनी जल्दी ही मान लोगे तो उतना ज्यादा समय ही आप के पास मिल जाता है कुछ अच्छा करने के लिए। देवराज इंद्र ने वहां पर घनघोर वर्षा की। वहां पर इंद्र ये चाहते थे की इस भारी वर्षा से पूरा का पूरा ब्रज ही बह जाना चाहिए यमुना नदी में और इन लोगों का नामो निशान ही मिट जाना चाहिए। जब वहां पर काले काले बदल घुमड़ कर आये तो सब ब्रज वासी भगवान कान्हा से कहने लगे की आज तो आप हमारा सूपड़ा ही साफ करा दिया है। बादलों को देखकर सभी लोग काफी परेशान हो गए। सभी लोग कन्हैया से कहने लगे की देखो कान्हा कितने भयंकर बादल बन कर आ रहे है। अब तो यहाँ पर काफी बाहरी बारिश होगी और सब कुछ ही ख़त्म हो जायेगा। तब भगवान श्री कृष्ण सभी ब्रज वासियों से कहते है कि कमाल करते हो की जिस भगवान की पूजा करते हो उस पर तो भरोसा करो। इसलिए ही तो हमारी पूजा इतनी फलीभूत नहीं है जितनी होनी चाहिए। लोग कहते है कि पूजा करो पर ब्लाइंड फेथ मत करो। पर मैं कहता हूँ की ब्लाइंड फेथ करके ही पूजा करो। अगर आप का भगवान में भरोसा नहीं होगा तो इसमें आपका ही नुक्सान होगा। भगवान का कुछ नहीं बिगड़ेगा। अगर तुम चार पांच व्यक्ति भगवान को नहीं मानोगे तो इससे भगवान को मानने वालों की कमी नहीं होगी। तो इससे कौनसे भगवान की पूजा होनी बंद हो जाएगी। क्योँकि मेरे ऋषियों ने मुझसे कहा है, मेरे वेदों ने मुझसे कहा है, मेरे पुराणों ने मुझसे कहा है, ग्रंथों ने मुझसे कहा है ,मेरे गुरुओं ने मुझसे कहा है कि कृष्ण भगवान है। तभी तो बालभाचार्य ने कहा है कि इस पृथ्वी के कण कण में हमारे प्रभु श्री कृष्ण बसते है। फिर अगर हमको इस बात का ब्रह्म है तो हमने भगवान को जानने की कोशिश नहीं की है। क्योँकि आज का व्यक्ति काफी फ़ास्ट सर्विस चाहता है। अगर आज हमने पूजा की है तो आज शाम तक ही हमको उस पूजा का फल मिल जाये तभी हम यकीन करेंगे की पूजा का कोई असर हुआ है। नहीं फल मिला तो हम जानेंगे की हमारी पूजा का बेकार ही चली गयी है। यहाँ पर महाराज श्री एक दृष्टांत सुना रहे है। एक व्यक्ति एक संत के पास गए और कहने लगे की महाराज मुझे कोई ऐसा देवता बताओ जल्दी से प्रसन्न हो जाये। क्योँकि मैं चाहता हूँ की कोई देवता जल्दी से प्रसन्न हो और जो मैं चाहता हूँ वो मुझे जल्दी से प्राप्त हो जाए। तब संत ने कहा की तुम एक काम करो की तुम नारायण की पूजा करो और नारायण भगवान से आप जो मांगोगे आपको मिल जायेगा। फिर वह व्यक्ति भगवान नारायण की मूर्ति ले आया और पूजा शुरू कर दी। इस तरह से एक के बाद दो और दो के बाद एक सप्ताह हो गया तो व्यक्ति काफी नाराज हो गया और बोला की संत ने तो मुझे गलत देवता बता दिया है। एक हफ्ते से मैं पूजा कर रहा हूँ पर अगले ने मुझे ये तक नहीं पूछा है की आप कैसे हो ,प्रसन्न होने की तो बात दूर है। ये देवता तो मुझे ठीक नहीं लगता है। तब वह व्यक्ति सोचने लगा की शायद कलयुग में देवताओं की कम चलती है तो मुझे देविओं की पूजा करनी चाहिए। तब महाराज जी उस व्यक्ति से कहने लगे की चलों तो आप देवी की पूजा करों। नारायण भगवान तो शायद देर से तुम्हारी सुनेंगे पर देवी जल्दी ही सुन लेंगी। तो इस तरह से वह व्यक्ति एक देवी जी की भी मूर्ति ले आया। पर मंदिर में जगह तो काफी छोटी थी। अब या तो मंदिर में नारायण भगवान रहे या देवी रहे। दोनों एक मंदिर में नहीं रह सकते। तब उस व्यक्ति ने भगवान नारायण की मूर्ति को हटा कर वहां पर देवी की मूर्ति को लगा दिया और वहीँ पास में दीवार पर एक कील लगा कर भगवान नारायण की मूर्ति को उस पर टांक दिया। उसने उसी दिन से देवी माता की पूजा करनी शुरू कर दी। फिर एक दिन उस व्यक्ति ने देवी की मूर्ति के सामने धुप बत्ती जलाई और सयोंगवश उस धूपबत्ती का धुआँ भगवान नारायण की मूर्ति की तरफ जा रहा था। तो इस को देखकर उस व्यक्ति के मन में काफी टेंशन हो रही थी। तो उसने सोचा की लो जी हो गया कबाड़ा इनकी पूजा हमने करी थी तो खुद तो आये नहीं और अब कहीं देवी जी भी न आ जाये तो इनकी भी धुप ले रहे है। अगर मेरी धूपबत्ती के धुंए को भी नारायण ले गए तो मेरे पास देवी कहाँ से आ पाएंगी। तब वह व्यक्ति तुरंत गया और वहां से रुई ले आया और उस रुई को भगवान नारायण की नाक में लगा दिया और कहने लगा की अब देखता हूँ की कैसे लोगे धुआँ धुप का। इतना उसका कहना था की भगवान नारायण स्वयं वहां पर उसके सामने प्रकट हुए और कहने लगे की वरदान मांगो। अब वहां पर जो व्यक्ति मौजूद था वह ये देखकर काफी हैरान हो गया। वह कहने लगा की "यह क्या हुआ" और कहने लगा की वरदान देंगे आप! तब नारायण भगवान कहने लगे हाँ देंगे हम वरदान आपको! पर मेरे मन में एक प्रश्न है? तब भगवान बोले पूछो क्या है? तब वह व्यक्ति बोला की जब मैं आपकी पूजा कर रहा था तब तो आप वरदान देने के लिए नहीं आये और जब मैं देवी की पूजा करने लगा तो तब आपके मन में बड़ा वरदान देने की बात उमड़ आयी है। मैंने तो आपकी नाक में रुई तक लगा दी थी तो फिर भी आप मुझे वरदान देने के लिए क्योँ आ गए है। तब भगवान नारायण ने उस व्यक्ति को जो उत्तर दिया था वह बड़ा ही गजब का था। नारायण ने कहा कि जब तक तुम मेरी पूजा कर रहे थे तब तक तुम मुझे केवल मूर्ति समझ रहे थे। फिर जब तुम मुझे मूर्ति समझ कर पूजा करते रहे तो मैं केवल मूर्ति बनकर ही बैठा रहा। आज पहली बार तुम्हे अहसास हुआ की मैं तुम्हारी धूपबत्ती का धुआँ ग्रहण कर रहा हूँ। इसका मतलब ये है की आज तुमने पहली बार मुझे नारायण समझा है और अपने हाथों से आपने मेरी नाक में रुई लगा दी है तो अब मुझे लगा है की अब तुम्हे ये लग गया है की मैं नारायण हूँ। इसलिए आज में तुम्हारे सामने प्रकट हो गया हूँ और तुमसे वरदान मांगने के लिए कह रहा हूँ। इसलिए मैं तुम्हे वरदान देना चाहता हूँ। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।।

23Aug 2017

" भगवान छल से नहीं पवित्र मन से प्राप्त किये जा सकते है "

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में नार्थ कैरोलिना, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के पंचम दिवस में श्री कृष्ण की बाल लीलाओं का सुन्दर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया। महाराज श्री ने कहा कि हमें अपने भगवान की भक्ति में ही अपना तन-मन-धन लगा देना चाहिए। तभी हमको इस लालची संसार से सदा के लिए मुक्ति मिल सकती है। इसके बाद महाराज श्री ने एक भजन "मीठों रस से भरों री राधा रानी लागे, महारानी लागे" सुनाकर मौजूद सभी भक्तों को मंत्रमुग्ध कर दिया। क्यों लोग ब्रज की लीलाओं में बहुत ही आनंद लेते है क्योँकि ब्रज की लीला हम सब के संदेह का निवारण करती है। जो लोग सिर्फ भगवान को रास रचैया समझते है, बंसी बजैया समझते है उन लोगों को दशम स्कन्द की कथा मन लगा कर सुननी चाहिए। भागवत कथा के दशम स्कन्द में श्री कृष्ण ने अपनी भगवत्ता का दर्शन लोगों को कराया है। मैं भगवान हूँ ये बार-बार लोगों को दर्शन कराया है। लेकिन मेरे गोविन्द का ना समझने वाले लोग कहते है की वो तो चोर थे। कहते है कि वो तो गोपियों के साथ रास रचाते थे। उन्हें रास रचाने वाले तो याद होते है लेकिन गीता का ज्ञान देने वाले याद नहीं रहते है। विष का पान करने वाले याद नहीं रहते है। कालिया नाग को नाथने वाले याद नहीं रहते है। गिर्राज पर्वत को उठाने वाले याद नहीं रहते है। और न जाने ऐसी कितनी लीला है ,उनकी इन लीलाओं को ये सब याद नहीं रखते है। क्योँकि इन सब को वो लोग स्वयं जानना नहीं चाहते है। एक व्यक्ति ने मुझसे किसी अन्य धर्म के ग्रन्थ के विषय में बात की और वो लड़का कहने लगा की क्या फर्क पड़ता है महाराज जी हम ये पढ़े या वो पढ़े। हाँ मुझे ये धर्म बहुत ही पसंद है। महाराज श्री ने कहा कि तुम्हे जो धर्म पसंद हो तुम उसका पालन करों। पर सबसे पहले हमने जिस धर्म में जन्म लिया है हमें उस धर्म का पालन करना चाहिए। अगर उस धर्म को जानने में कोई प्रॉब्लम हो तो उस धर्म को जानने वालों के पास बैठे। अगर तब भी आपके वह धर्म समझ में न आये तो तुम अपना धर्म बदल सकते हो। अपनी सोच को बदल सकते हो। तब महाराज श्री ने उससे कहा कि क्या तुमने कभी गीता को पढ़ा है। तब वो लड़का बोला नहीं महाराज नहीं पढ़ा है। तब महाराज बोले की फिर तुम ये कैसे कह सकते हो की क्या अच्छा है क्या बुरा है। महाराज श्री ने बताया की उनसे एक लड़की ने पूछा था कि भगवान को दुध नहीं चढ़ाना चाहिए। हमें उस दूध को गरीबों में बाँट देना चाहिए। तब महाराज ने उस लड़की से पूछा की हम कितना दूध शिवजी को चढ़ाते है। आपको गरीबों में शिवजी वाला दूध ही क्योँ बाटना है। जब आपको शिवजी पर दूध चढ़ाते है तो आपको गरीब याद आते है और पूरी ज़िंदगी भर आप दूध चढ़ाते है तो आपको गरीब याद नहीं आते है। जब भगवान को थोड़ा सा भोग लगाना है तो आपके मन में नए नए विचार आ जाते है। कि भगवान को इस दूध की क्या जरुरत है और जब आप दिन में चार-पांच बार खाना खाते हो तो तब आपको गरीब याद नहीं आते है। इतना सारा दूध भगवान पर चढ़ा कर आप बर्बाद कर देते है तब आपको भगवान याद नहीं आते है। क्योँ नहीं याद आते है महाराज श्री ने लोगों से पूछा। ये एक सोची समझी रणनीति के तहत इन लोगों को भटकाया जाता है। वो कहते है कि क्या वो भगवान हमारे दूध का भूखा है, वो भी इतना बड़ा भगवान। तब महाराज श्री ने कहा कि न भगवान किसी भी चीज का भूखा नहीं है। उन्होंने कहा की यदि भगवान हम सब पर अपनी कृपा न करे तो हम सब लोग ही भूखा मर जाएंगे और सोचते है की हम सब भगवान को भोग क्योँ लगाते है? प्रसाद क्योँ लेते है? उस प्रसाद को ग्रहण करके ही हम सब निरोगी रहते है। यहाँ पर प्रसाद और भोजन में बहुत ही अंतर होता हैं। तब उन्होंने कहा की श्रावण मास में लोग या हम सब दूध दही नहीं खाते है। इस महीने में दूध दही खाने से हम सब को कोई भी लाभ नहीं होता है और दूसरा शिवजी के वेग को खत्म करने के लिए हम सब उन पर दूध चढ़ाते है। जहाँ पर भी वो अभिषेक किया हुआ दूध निकलता है तो हम सब को वहां से नहीं निकलना चाहिए या उसको क्रॉस नहीं करना चाहिए क्योँकि अगर हम उस दूध को क्रॉस करेंगे तो हमको बीमारी लगने का डर लगा रहता है। इसलिए ही हम उस दूध का उपयोग नहीं करते है और न ही उसका इस्तेमाल ही करते है और जब वह दूध नदी या तालाब में मिल जाता है तो वो हमारे लिए औषधि का काम करता है। हमारे ऋषि मुनियों ने जो भी परम्पराए स्थापित की है वो सब मानव जाती के कल्याण के लिए की है। यहाँ पर महाराज श्री ने कहा की न तो भगवान को किसी भी चीज की जरुरत होती है। हम तो केवल उस दूध का प्रयोग करके उसका शुद्धिकरण करते है। यहाँ पर दूध चढ़ाना और दूध बाँटना एक अलग-अलग विषय है। अगर आप दूध चढ़ाना चाहते है तो चढ़ाइये। अगर आप दूध बाँटना चाहते है तो उस से भी हज़ार गुना दूध बाँटना चाहिए। "हरी जी मेरी लागि लगन मत तोडना ,गहरी नदिया नाव पुरानी, बीच भंवर मत छोड़ना" भजन सुनकर महाराज श्री ने भक्तों को भक्ति में सदा के लिए डूब जाने के लिए कहा। आप सोचिये की हमने भगवान को किसके लिए छोड़ा है। महाराज ने वहां पर मौजूद सभी लोगों से पूछा। एक गांव में एक नौजवान की मृत्यु हो गयी। उसके छोटे छोटे बच्चे थे और गाँव वाले सभी उसकी सब यात्रा में जा रहे थे। जो भी लोग आगे-आगे चल रहे थे तो वो सब राम नाम सत्य कह रहे थे और जो पीछे चल रहे थे तो वो कुछ भी बोल रहे थे। कोई भगवान-भगवान नहीं है। वो कह रहे थे की अगर भगवान होते तो इसको नहीं बुलाते अपने पास। जिसके इतने छोटे छोटे बच्चे है। तब भगवान स्वयं एक संत का रूप बन कर वहां पर आये और पूछा की तुम ऐसे भगवान को क्योँ बोल रहे हो। वो बोले की क्योँ नहीं बोले की क्या एक जवान व्यक्ति की ऐसे मौत होनी चाहिए। जैसी इस व्यक्ति की हो गयी है। क्या ये भगवान का न्याय है? नहीं ये तो भगवान का अन्याय है। कोई भगवान नाम की चीज नहीं है। वो बोले की अगर ये व्यक्ति अभी ज़िंदा हो जाए तो हम मान लेंगे की हाँ भगवान है। तब महाराज ने उस मरे हुए को स्पर्श किया और वो मरा हुआ व्यक्ति ज़िंदा हो गया। वहां पर मौजूद सभी लोग भगवान को भूल गए और उन संत की जय जयकार करने लग गए। सब लोग कह रहे थे की महाराज की जय हो। बाबा की जय हो और शव यात्रा शोभा यात्रा में बदल गयी। महाराज को अपने गाँव में लेकर गए हुए पुरे गाँव में घुमाया और जय जयकार करते रहे। तब बाबा ने कहा की अगर तुम्हारी सभी बधाइयाँ पूरी हो गयी हो तो मैं तुमसे एक बात कहना चाहता हूँ। वो बोले की अच्छा बाबा बताओ। अब तो तुम खुश हो की तुम्हारा बच्चा जीवित हो गया है तो वो सब बोले की हाँ महाराज हम सब तो बहुत ही खुश है। आप जैसे संतों के कारण ही ये पृथ्वी टिकी हुई है। तब बाबा बोला की तुम लोगों के कहने पर मैंने इस व्यक्ति को जीवित कर दिया है। ये तभी जीवित रहेगा जब कोई भी व्यक्ति इसके बदले अपने प्राण दे और जो इसको सबसे ज्यादा प्रेम करता है वो इसके बदले अपने प्राण दे दे तो ये हमेशा ही जीवित रहेगा। सबसे पहले पिता जी पूछा की आप तो अब बूढ़े हो गए हो आप ही अपने प्राण दे दो। तब पिता जी ने अलग-अलग बहाने बना कर कहा की अगर मैंने अपने प्राण दे दिए तो ये पीछे से सारे परिवार को ही मरवा देगा। इस लिए मेरा मरना ठीक नहीं है। उसके बाद माता जी पूछा की आप ही दे दो तो माता जी ने भी ऐसे ही बहाना बना दिया। महाराज श्री ने बताया की कन्हैया का जन्म हुआ और सभी ब्रजवासी उनका दर्शन करने के लिए वहां पर आये। जब कंस को पता चला की मुझे मारने वाला ब्रज में जन्म ले चूका है तो कंस ने अपनी मुँह बोली बहन पूतना को ब्रज में भेज कर कहा की जाओ और जितने भी वहां पर नवजात शिशु है उन सब को मार दो। पूतना भेष बदलकर श्री कृष्ण के पास गयी। भगवान को झूंठे लोग बिलकुल भी पसंद नहीं है। दो लोगों को भगवान बिलकुल भी नहीं देखता है। कृष्ण अवतार में भगवान कृष्ण ने पूतना को नजरें उठाकर नहीं देखा था। और राम अवतार में भगवान् राम ने शूर्पणखा को नहीं देखा था। ।। राधे राधे बोलना पड़ेगा ।। .

22Aug 2017

" मनुष्य को भगवान से सदा प्रेम करना चाहिए, घृणा कभी नहीं करनी चाहिए "

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में नार्थ कैरोलिना, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के चतुर्थ दिवस में राजा बलि की कथा रसपान भक्तों को कराया। महाराज श्री ने कहा कि हमें हमेशा ही अपने ईश्वर से प्यार करना चाहिए। हमें अपने इष्ट देव का कभी भी अपमान नहीं करना चाहिए क्योंकि अपने ईश्वर से जो भी व्यक्ति घृणा करता है उसका कभी भी कल्याण नहीं हो सकता है। हमें सदा ही अपने उस परमात्मा से प्रेम करते रहना चाहिए तभी तो हमारा कल्याण वो करेंगे। यदि हम वेद, पुराण, साधु, संत, ब्राह्मण आदि से प्रेम नहीं करेंगे और उनका अपमान करेंगे तो हमारा कभी भी भला नहीं हो सकता है। हमारे प्रभु हमसे सदा के लिए रूठ जायेंगे और कभी भी हमारा उद्धार नहीं हो सकता है। हमारा प्रेमी तो वो कान्हा है जो हमें हर मुसीबत से बचाता है। जब प्रह्लाद भक्ति करने के लिए जाते है उनका पिता हिरण्यकशपु उनको सताता है तो भगवान विष्णु नरसिंघ का रूप लेकर के खम्बा चीर के प्रकट हो जाते है। भगवान उन लोगों की सदा ही मदद करते है जो भगवान के नाम पर अपने आप को न्योछावर कर देता है। तो इसलिए हमें ये नहीं सोचना चाहिए कि अगर हम भक्ति करेंगे तो हमें क्या मिलेगा। आप ये सोचिये की अगर हम भगवान के हो गए तो ऐसा कुछ नहीं है जो हमसे बच जायेगा। सबकुछ हमारे इष्टदेव भगवान कन्हैया हमको दे देंगे। हमारी देखभाल भी करेंगे। क्योंकि वो तो उनकी जिम्मेदारी बन जाएगी। श्री शुकदेव महाराज गंगा के तट पर विराजमान राजा परीक्षित को कथा श्रवण करा रहे है। उसके बाद महाराज श्री बताते है की भगवान वामन का रूप धर के राजा बलि को छलने के लिए जाते है और राजा बलि से कहते है कि तीन पग धरती हमको दान में दे दो। तब महाराज बलि ने कहा की महाराज आप देखने में बहुत ही छोटे से दिख रहे हो। आप इससे भी ज्यादा भी मांग सकते हो। तीन पग धरती में तो कुछ भी नहीं होगा। महाराज श्री ने कहा की आज कल का दानी कहता है की कम मांगों। जो लोग ये समझते है की देने से कुछ ख़त्म होता है तो वो सब व्यक्ति मुर्ख है। हम जब तक बीज नहीं बोते है तो हमको फसल की भी इच्छा नहीं करनी चाहिए। तब राजा बलि ने भगवान वामन से कहा की महाराज आप इसे ज्यादा भी मांग सकते हो तो महाराज वामन ने कहा की नहीं महाराज आप केवल मुझे तीन पग धरती ही दे दो। फिर राजा बलि ने कहा की नहीं महाराज आप इससे ज्यादा ही मांग लो में दे दूंगा। तब भगवान वामन ने कहा नहीं महाराज में तो एक संतोषी ब्राह्मण हूँ। मुझे तो केवल तीन पग धरती ही चाहिए। तब राजा बलि ने कहा की तो लीजिये में आपको तीन पग धरती देता हूँ ,लेकिन तभी वहां पर राक्षसों के गुरु शुक्राचार्य जी वहां पर आ जाते है। उन्होंने कहा की नहीं राजन आप तीन पग धरती तो क्या इनको एक पग धरती भी मत देना और शुक्राचार्य ने राजा बलि से कहा की तुम जानते नहीं हो कि ये कौन है? तब राजा बलि बोले की ये कौन है तब गुरु शुक्राचार्य बोले की ये तिर्लोकिनाथ है ये तुम्हारा सब कुछ हरण करने के लिए यहाँ पर आये है। तभी राजा बलि काफी खुश हो गए की मेरा तो भाग्य ही खुल गया है। "दाता एक राम भिखारी सारी दुनिया, राम एक देवता पुजारी दुनिया सारी" भजन सुना कर महाराज श्री ने सभी भक्तों को मंत्रमुग्ध कर दिया। यहाँ पर महाराज श्री ने कहा कि आप मुझे अपना समय दो मैं तुमको आनंद दूंगा। मैं आपके सभी दुखों को नष्ट करने की राह दिखा दूंगा। तब राजा बलि ने कहा कि आज तो मेरा भाग्य ही जाग गया है जो सारी दुनिया को देने वाला है आज मेरे दर पर आकर मुझसे ही कुछ मांग रहे है। अगर आज मैंने इनको खाली हाथ लौटा दिया तो मेरा तो सब जीवन ही व्यर्थ हो जायेगा। तभी महाराज को एक दृष्टांत याद आया और बताने लगे कि एक मंदिर के बाहर एक भिखारी बैठा रहता था। वो काफी ही बुजुर्ग था। वह एकदम शांत बैठा रहता था। और उनके शरीर से खून बह रहा था। उनके पुरे शरीर को कोड लगा हुआ था और उनकी दशा बड़ी ही दयनीय थी। जवान लड़का उस मंदिर में हर रोज आता और उस को कुछ न कुछ हर रोज देता था। फिर एक दिन वह व्यक्ति हर रोज की तरह वहां पर आया और रोज की तरह उसको देने लगा। आज उस यंग व्यक्ति के मन में एक प्रश्न उठ रहा था। तब उस जवान व्यक्ति ने उस बूढ़े व्यक्ति से कहा की बाबा बुरा न मनो तो मैं आपसे कुछ पूछना चाहता हूँ। तब बूढ़ा व्यक्ति बोला की पूछो बेटा। बाबा आप इस दयनीय अवस्था में भीख क्योँ मांगते हो? तब वह बूढ़ा आदमी बोला की बेटा अपना पेट भरने के लिए। अगर हमें ज़िंदा रहना है तो अपना पेट तो किसी न किसी तरह भरना ही होगा। तब वो जवान व्यक्ति बोला की आप ज़िंदा रहना चाहते हो तो बूढ़ा व्यक्ति बोला की ज़िंदा कौन नहीं रहना चाहता है। तब उस जवान व्यक्ति ने कहा की इस उम्र में आपको इस अवस्था में भी ज़िंदा रहने के लिए भीख मांगनी पड़ती है। आप भगवान से अपने लिए मौत ही क्योँ नहीं मांग लेते हो? आपके सभी दुःख नष्ट हो जायेंगे। तब उस बूढ़े व्यक्ति ने बड़े ही गजब का जवाब दिया कि बेटा जीवन और मृत्यु किसी भी जीव के हाथ में नहीं है। जीवन और मृत्यु तो केवल उस भगवान के हाथ में ही है। तब उस बच्चे कहा की क्या वो भगवान आपको मरना नहीं चाहता है तो उसने कहा की नहीं वो मुझे नहीं मारना चाहता है। वो मुझे इसलिए नहीं मारना चाहता है की कल तुम मेरी जगह पर न आ जाओ जहाँ पर आज मैं बैठा हूँ। तुम जानते नहीं हो की कल मैं वहां था जहाँ पर आज तुम हो। कहते है कि जो भी व्यक्ति अपने दर से किसी व्यक्ति को खाली हाथ लौटा देता है या उस व्यक्ति के दर से कोई भी खली हाथ लौट जाता है तो उसके सभी पुण्य कर्मों को ले जाता है और जीवन भर के अपने पापों को उसके दर पर ही छोड़ जाता है। तभी तो गृहस्थ आश्रम सबसे बड़ा आश्रम होता है की जो भी हमारे घर पर आता है हम उनकी सेवा करते है। हमें अपने गुरु की हर बात माननी चाहिए। क्योंकि गुरु की हर बात को मानना तो हर शिष्य का फर्ज होता है। गुरु के बिना तो मनुष्य का जीवन ही बेकार है। उसके सभी काम बेकार जाते है। कभी भी उसका भला नहीं हो सकता है। राधे राधे बोलना पड़ेगा!!

19Aug 2017

" हर एक भारतीय को अपनी संस्कृति से प्रेम करना चाहिए "

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में नार्थ कैरोलिना, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के प्रथम दिवस महाराज श्री ने आत्मदेव की कथा का रसपान भक्तों को कराया। महाराज श्री ने कहा कि आजकल हम हम अपने बच्चों को अपनी संस्कृति से नहीं जोड़ते हैं फिर हम कहते ही कि हमारे बच्चे हमारा सम्मान या सेवा नही कर रहे है। महारज श्री ने कहा कि श्रीमती सहानी मुम्बई में मर गई लेकिन उसके बच्चे ने उसको 1 साल के बाद देखा जब उसकी बॉडी कंकाल बन गई थी। पूर्व काल में एक नगर में एक ब्राह्मण रहता था। उसका नाम आत्मदेव था। वह बहुत ज्ञानी और तेजस्वी था। उसकी पत्नी धुन्धुली कुलीन होने पर भी अपनी बात पर अड़नेवाली थी। वह क्रूर, झगडालू और कंजूस थी। बहुत समय बीत जाने के बाद भी उन दोनों के यहाँ संतान नही हुई। उन्होंने बहुत तरह से दान धर्म निभाया पर कुछ नही हुआ। एक दिन आत्मदेव दुखी होकर घर छोड़ कर वन को चला गया। वह एक तालाब के पास पंहुचा। पानी पी कर बैठा तो उसने एक सन्यासी महात्मा को वहाँ आते देखा। आत्मदेव ने सन्यासी के चरणों में प्रणाम किया और लम्बी लम्बी साँसे लेने लगा। सन्यासी ने उसके दुःख का कारण पूछा तो वह बोला कि अब देवता और ब्राह्मण भी उसका दिया प्रसन्न मन से स्वीकार नही करते। उसके संतान न होने से वह बहुत दुखी है और आत्महत्या करने आया है। उसके संतानहीन जीवन, घर और धन को धिक्कार है। जब आत्मदेव सन्यासी के सामने ये सब कहकर रोने लगा तब महात्मा को बहुत दया आई। उन्होंने आत्मदेव से कहा कि मैनें तुम्हारे माथे कीलकीरों में पढ़ा है कि सात जन्मों तक तुम्हारे कोई संतान नही हो सकती इसलिए तुम संसार की वासना छोड़ कर संन्यास ले लो। परन्तु ब्राह्मण ने कहा कि जिसमें पुत्र और स्त्री का सुख नही है वह संन्यास भी नीरस है। महात्मा ने समझाते हुए कहा कि विधाता का लेख मिटाने पर भी तुम्हे संतान से सुख नही मिलेगा। जब वह ब्राह्मण किसी प्रकार नही माना, तब सन्यासी ने उसे एक फल दिया और कहा कि ये अपनी पत्नी को खिला देना। इससे एक पुत्र होगा। अगर तुम्हारी पत्नी एक साल तक सत्य, शौच, दया, दान और एक समय एक ही अन्न खाने का नियम रखेगी तो बालक बहुत शुद्ध स्वभाव वाला होगा। ब्राह्मण ने वह फल अपनी पत्नी को दिया और कहीं चला गया। उसकी पत्नी कुटिल स्वभाव कि थी। उसने अपनी सखी से कहा कि मैं यह फल खाऊँगी तो मुझे बहुत कष्ट सहने पड़ेंगे। प्रसव कि पीड़ा, नियमों का पालन आदि सब करना होगा। इसलिए मैं ये फल नही खाऊँगी। उसके पति ने जब घर आकर पूछा कि फल खा लिया तो उसने कहा हाँ खा लिया। धुन्धुली ने अपनी बहन को सब बात बतायी तो वह बोली कि मेरे पास एक उपाए है। उसकी बहन ने कहा कि मेरे पेट में जो बच्चा है वो मैं तुझे दे दूँगी। तक तक तू गर्भवती के समान घर में गुप्त रूप से रह। तू मेरे पति को कुछ धन दे देगी तो वो तुझे अपना बालक दे देंगे। हम ऐसी युक्ति करेंगे जिससे सब यही कहें कि मेरा बालक छेह महीने का होकर मर गया। फिर मैं तेरे घर आकर उस बालक का पालन पोषण करती रहूंगी। और यह फल तू गौ को खिला दे। ब्राह्मणी ने सब कुछ अपनी बहन के कहे अनुसार किया। जब उसकी बहन को पुत्र हुआ तो उसकेपति ने चुपचाप उसे धुन्धुली को दे दिया। आत्मदेव बालक के होने ही ख़बर सुनकर बहुत आनंदित हुआ। उसकी स्त्री ने कहा कि बालक के पालन पोषण के लिए मैं अपनी बहन को यहाँ बुला लेती हूँ। आत्मदेव ने कहा ठीक है। उस बच्चे का नाम धुंधकारी रख दिया। तीन महीने बाद उस गौ ने भी एक मनुष्य के आकार के बच्चे को जन्म दिया। लोगों को बहुत आश्चर्य हुआ और आत्मदेव के भाग्य कीसराहना करने लगे। आत्मदेव ने बालक के गौ के से कान देखकर उसका नाम गोकर्ण रख दिया। जब वे दोनों बालक जवान हुए तो गोकर्ण बहुत बड़ा पंडित और ज्ञानी हुआ किंतु धुंधकारी बहुत दुष्ट निकला। चोरी करना, सबसे द्वेष बढाना, दूसरे के बालकों को कुएं में डालना और सबको तंग करना यही उसका स्वभाव था। उसने वेश्याओं के जाल में फँस कर अपने पिता की सारी संपत्ति नष्ट कर दी। जब सब कुछ ख़तम हो गया तो आत्मदेव बहुत दुखी हुआ और कहने लगा कि इससे तो मेरी पत्नी बाँझ ही रहती। अब मैं कहाँ जाऊं और क्या करूं। उसी समय गोकर्ण ने आकर अपने पिता को समझाया कि यह संसार असार है। यह अत्यन्त दुखरूप और मोह में डालने वाला है। सुख न तो इन्द्र को है और न ही चक्रवर्ती राजा को। सुख केवल एकांतजीवी विरक्त मुनि को है। "यह मेरा पुत्र है" इस अज्ञान-को छोड़ दीजिये। मोह से नरक कीप्राप्ति है। इसलिए सबकुछ छोड़ कर वन में चले जाइए। गोकर्ण की बात सुनकर आत्मदेव को बहुत अच्छा लगा। उसने अपने पुत्र से उसे और उपदेश देने को कहा। गोकर्ण ने कहा यहशरीर हड्डी, मांस और रुधिर का पिंड है। इसे मैं मानना छोड़ दीजिये। स्त्री पुत्र आदि को अपना कभी ना मानें। भगवान् का भजन सबसे बड़ा धर्म है। निरंतर उसी का आश्रय लिए रहे। आत्मदेव ने अपने पुत्र की बात सुनकर घर त्याग दिया और वन में रात दिन भगवान् की सेवा- पूजा करने लगा। नियमपूर्वक भागवत के दशम स्कंध का पाठ करने से उसने भगवान् श्री कृष्ण चंद्र को प्राप्त कर लिया।

20Aug 2017

" हमें अपने ईश्वर की भक्ति में ही विश्वास रखना चाहिए "

पूज्य महाराज श्री के सानिध्य में नार्थ कैरोलिना, अमेरिका में शुरू हुई श्रीमद्भागवत कथा के द्वितीय दिवस में भगवान शुक की कथा रसपान भक्तों को कराया। महाराज श्री ने कहा कि इस संसार में मेरे प्रभु अगर कृपा करे तभी श्रीमद भागवत कथा का श्रवण करने का मज़ा आता है। कभी-कभी कथा के सुनने में आस पास का ट्रैफिक भी बाधा पहुंचाता है। कई अन्य चीजे भी बाधा पहुंचाती है। हमारी नींद भी कभी-कभी बाधा पहुंचाती है। कई बार वहां का भोजन प्रबंध भी बाधा पहुंचा सकता है। कथा के सुनने में बाधा कहीं से भी आ सकती है। आप कल्पना नहीं कर सकते है बाधा कहाँ-2 से आ सकती है। महाराज श्री ने बताया कि केवल जब हमारे प्रभु अपनी कृपा हम पर करते है तभी ही श्रीमद भागवत कथा को सुनने का मज़ा आता है। यहाँ पर महाराज श्री ने कहा कि भगवान श्री कृष्ण ने आपको कथा को सुनने के लिए चुना है। तभी तो आपको इसके सुनने का फल प्राप्त होगा और जब भगवान हरी स्वयं हमें अपनी कथा को सुनाये तो इससे बड़ा हमारे लिए और क्या हो सकता है कि मेरे इष्ट देव स्वयं आ कर मुझे अपनी इस कथा का रसपान करा रहे है। महाराज श्री ने कहा कि कल आपने भागवत कथा में आत्मदेव की कथा को सुना था। जब हम धर्म के विरुद्ध कार्य करते है तो हम धुंधकारी है। हम सब में धुंधकारी मनुष्य मौजूद होता है और जब हम धर्म में रह कर कार्य करते है तो हम गौकर्ण होते है। गौकर्ण का मतलब है की विद्वान मनुष्य। वह मनुष्य समझदार होता है। सत कर्म करता है और सदा ही माँ बाप की सेवा करते है। धर्म की सेवा करते है। सदा ही सत्य का अनुशरण करते है। महाराज श्री ने बताया कि किसी को भी उसकी वाणी से कष्ट न हो ऐसी वाणी का प्रयोग करते है और इसके विपरीत ही धुंधकारी अपना कार्य करते है। सभी को कष्ट देते है। धर्म के विरुद्ध अपना कार्य करते है। सदा ही दुसरो से उल्टा सीधा बोलते रहते है। उनके जो भी मन में आता है उनसे वैसा ही बोलते है।