Program Shedule

पूज्य महाराज श्री के सानिधय में 03 जून से 10 जून तक प्रतिदिन राजकीय आदर्श उच्च माध्यमिक विद्यालय का खेल मैदान, खाटूश्याम जी में श्रीमद् भागवत कथा के षष्ठम दिवस पर महाराज श्री ने पुतना उद्धार एवं श्री कृष्ण की बाल लीलाओं का सुंदर वर्णन भक्तों को श्रवण कराया।

भागवत कथा के षष्ठम दिवस की शुरुआत भागवत आरती और विश्व शांति के लिए प्रार्थना के साथ की गई।

पूज्य देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने कथा की शुरुआत करते हुए कहा कि जीवन का एक मात्र उद्देश्य होना चाहिए अपने जीवन में रहते हुए भगवान को मना लेना। हमारे दुख का एक कारण यह भी है कि हम अपना पूरा जीवन दुनिया का मनाने में निकाल देते हैं। लेकन संसार कभी माना नहीं है किसी से, कितनी भी आप कोशिश कर लो, 99 बात आप मानो लेकिन 1 बात नहीं मानोगे तो कह देंगे तुझसे बुरा इंसान कोई नहीं है दुनिया में। ये संसार का स्वभाव है कि इनकी हर इच्छा को पूरी करती रहो तो आप इनके अपने हो और जिस दिन आप इनकी बात पूरी ना करो उस दिन वो आपकी हर अच्छाई भूल जाते हैं और सिर्फ बुराई याद रखते हैं। लेकिन हमारे प्रभु का स्वभाव अलग है, हम जन्मों से उन्हें भूल बैठे हैं अपने बल के, जीवन के, धन के, रूप के अभिमान पर। ना जाने कितने अभिमानों के कारण हम उन्हे भूले बैठे हैं लेकिन फिर भी हमारे मरने तक इंतजार करते हैं कि ये मरेगा मुझे याद करेगा। ईश्वर को मनाना बहुत आसान है और जीव को मनाना बहुत मुश्किल है इसलिए आओ आज अपने जीवन में से कुछ समय निकालें भगवान को मनाने के लिए। 


महाराज श्री ने सांस्कृतिक आतंकवाद पर भी अपनी बात रखी, उन्होंने कहा कि यहां पर जिनते भी बुजुर्ग बैठे हैं उन्होंने अपने समय में संगीत के माध्यम से भी नृत्य के माध्यम से भी अपनी कल्चर को देखा होगा। यूपी मे चले जाओ, राजस्थान में चले जाओ, मध्य प्रदेश में चले जाओ, झारखंड में चले जाओ, झारखंड में चले जाओ हर प्रदेश की भाषा अलग, नृत्य अलग, गायन अलग, अनेकता में एकता की पहचान है हमारा भारत। जहां पर हमारे भारत में भरत नाट्यम जैसे नृत्य है, ऐसे ऐसे नृत्य हैं जिसमें बिना कुछ कहे राम कथा और पूरा महाभारत वो नृत्य के माध्यम से हम सब को प्रस्तुत कर देते हैं, इतनी सुंदर हमारी संस्कृति है, संस्कार हैं, कल्चर है। लेकिन आप देख रहे होंगे आजकल पाश्चात्य संगीत और फिल्मी धूनों ने हमारे संगीत और नृत्य के कल्चर पर जो आघात किया है, अब धीरे धीरे वो हमारे प्रदेशों से गायब होता जा रहा है। हमारे वहां ऐसी कलाएं हैं जिसने पूरे विश्व का ध्यान हमारी और आकृषित किया है। कई कलाओं ने तो विदेश में जाकर झंडे गाडे हैं, अवॉर्ड जीते हैं लेकिन आज अपने ही देश में वो उपेक्षित हैं। आज हर जगह रिमिक्स छाया है, पहले फिल्मी गाने भी पूरे राग में हुआ करते थे। वो करण प्रिय संगीत आज करण को दुख देने वाला संगीत होता जा रहा है। आज कल के फिल्मों के डांस देखो आप वो डांस नही रहे उन्हे देख कर जैसे हमारे बच्चे बन रहे हैं इसके बारे में भी आप सोचिए। आज हमारे देश की नृत्य कला, गायन संस्कृति खत्म होती चली जा रही है, मृत्यु की कगार पर खड़ी है। विदेशों से कई लोग आते हैं इन कलाओं को सीखने के लिए लेकिन अपने ही देश में अपनी भाषा, अपना नृत्य उपेक्षित है। मैं यह नहीं कर रहा हूं की हम महान बन जाएं पर इतना जरूर कह रहा हूं की क्या हमारे बच्चे वो पुरातन नृत्य देख पाएंगे, वो शास्त्रीय संगीत सुन पाएंगे, ये सांस्कृतिक आतंकवाद नहीं तो क्या ? संस्कृति, सभ्यता, संस्कार यह हमारे देश की सबसे बड़ी समपत्ति है और इसे बचा कर रखना हमारी जिम्मेदारी है। 


पूज्य देवकीनंदन ठाकुर जी महाराज ने षष्ठम दिवस की कथा प्रारंभ करते हुए कृष्ण जन्म पर नंद बाबा की खुशी का वृतांत सुनाते हुए कहा की जब प्रभु ने जन्म लिया तो वासुदेव जी कंस कारागार से उनको लेकर नन्द बाबा के यहाँ छोड़ आये और वहाँ से जन्मी योगमाया को ले आये। नंद बाबा के घर में कन्हैया के जन्म की खबर सुन कर पूरा गोकुल झूम उठा। महाराज ने कथा का वृतांत बताते हुए पूतना चरित्र का वर्णन करते हुए कहा की पुतना कंस द्वारा भेजी गई एक राक्षसी थी और श्रीकृष्ण को स्तनपान के जरिए विष देकर मार देना चाहती थी। पुतना कृष्ण को विषपान कराने के लिए एक सुंदर स्त्री का रूप धारण कर वृंदावन में पहुंची थी। जब पूतना भगवान के जन्म के ६ दिन बाद प्रभु को मारने के लिए अपने स्तनों पर कालकूट विष लगा कर आई तो मेरे कन्हैया ने अपनी आँखे बंद कर ली, कारण क्या था? क्योकि जब एक बार मेरे ठाकुर की शरण में आ जाता है तो उसका उद्धार निश्चित है। परन्तु मेरे ठाकुर को दिखावा, छलावा पसंद नहीं, आप जैसे हो वैसे आओ। रावण भी भगवान श्री राम के सामने आया परन्तु छल से नहीं शत्रु बन कर, कंस भी सामने शत्रु बन आया पर भगवान ने उनका उद्दार किया। लेकिन जब पूतना और शूपर्णखा आई तो प्रभु ने आखे फेर ली क्योंकि वो मित्र के भेष रख कर शत्रुता निभाने आई थी। मौका पाकर पुतना ने बालकृष्ण को उठा लिया और स्तनपान कराने लगी। श्रीकृष्ण ने स्तनपान करते-करते ही पुतना का वध कर उसका कल्याण किया।

महाराज श्री ने कहा संतो ने कई भाव बताए है कि भगवान ने नेत्र बंद किस लिए किए ? इसका तो नाम ही है पूतना, इसके तो पूत है ही नहीं, कितना अशुभ नाम है पूतना। एक ओर भाव है कि इसे किसी के पूत पसंद भी नहीं हैं इसलिए बच्चों को मारने जाती है।

भगवान जो भी लीला करते हैं वह अपने भक्तों के कल्याण या उनकी इच्छापूर्ति के लिए करते हैं। श्रीकृष्ण ने विचार किया कि मुझमें शुद्ध सत्त्वगुण ही रहता है, पर आगे अनेक राक्षसों का संहार करना है। अत: दुष्टों के दमन के लिए रजोगुण की आवश्यकताहै। इसलिए व्रज की रज के रूप में रजोगुण संग्रह कर रहे हैं। पृथ्वी का एक नाम ‘रसा’ है। श्रीकृष्ण ने सोचा कि सब रस तो ले चुका हूँ अब रसा (पृथ्वी) रस का आस्वादन करूँ। पृथ्वी का नाम ‘क्षमा’ भी है। माटी खाने का अर्थ क्षमा को अपनाना है। भगवान ने सोचा कि मुझे ग्वालबालों के साथ खेलना है,किन्तु वे बड़े ढीठ हैं। खेल-खेल में वे मेरे सम्मान का ध्यान भी भूल जाते हैं। कभी तो घोड़ा बनाकर मेरे ऊपर चढ़ भी जाते हैं। इसलिए क्षमा धारण करके खेलना चाहिए।

अत: श्रीकृष्ण ने क्षमारूप पृथ्वी अंश धारण किया। भगवान व्रजरज का सेवन करके यह दिखला रहे हैं कि जिन भक्तों ने मुझे अपनी सारी भावनाएं व कर्म समर्पित कर रखें हैं वे मेरे कितने प्रिय हैं। भगवान स्वयं अपने भक्तों की चरणरज मुख के द्वारा हृदय में धारण करते हैं। पृथ्वी ने गाय का रूप धारण करके श्रीकृष्ण को पुकारा तब श्रीकृष्ण पृथ्वी पर आये हैं। इसलिए वह मिट्टी में नहाते, खेलते और खाते हैं ताकि पृथ्वी का उद्धार कर सकें। अत: उसका कुछ अंश द्विजों (दांतों) को दान कर दिया। गोपबालकों ने जाकर यशोदामाता से शिकायत कर दी–’मां ! कन्हैया ने माटी खायी है।’ उन भोले-भाले ग्वालबालों को यह नहीं मालूम था कि पृथ्वी ने जब गाय का रूप धारणकर भगवान को पुकारा तब भगवान पृथ्वी के घर आये हैं। पृथ्वी माटी,मिट्टी के रूप में है अत: जिसके घर आये हैं उसकी वस्तु तो खानी ही पड़ेगी। इसलिए यदि श्रीकृष्ण ने माटी खाली तो क्या हुआ? ‘बालक माटी खायेगा तो रोगी हो जायेगा’ ऐसा सोचकर यशोदामाता हाथ में छड़ी लेकर दौड़ी आयीं। उन्होंने कान्हा का हाथ पकड़कर डाँटते हुये कहा–‘क्यों रे नटखट ! तू अब बहुत ढीठ हो गया है।

श्रीकृष्ण ने कहा–‘मैया ! मैंने माटी कहां खायी है।’ यशोदामैया ने कहा कि अकेले में खायी है। श्रीकृष्ण ने कहा कि अकेले में खायी है तो किसने देखा? यशोदामैया ने कहा–ग्वालों ने देखा। श्रीकृष्ण ने मैया से कहा–’तू इनको बड़ा सत्यवादी मानती है तो मेरा मुंह तुम्हारे सामने है। तुझे विश्वास न हो तो मेरा मुख देख ले।’‘अच्छा खोल मुख।’ माता के ऐसा कहने पर श्रीकृष्ण ने अपना मुख खोल दिया। भगवान के साथ ऐश्वर्यशक्ति सदा रहती है। उसने सोचा कि यदि हमारे स्वामी के मुंह में माटी निकल आयी तो यशोदामैया उनको मारेंगी और यदि माटी नहीं निकली तो दाऊ दादा पीटेंगे। इसलिए ऐसी कोई माया प्रकट करनी चाहिए जिससे माता व दाऊ दादा दोनों इधर-उधर हों जाएं और मैं अपने स्वामी को बीच के रास्ते से निकाल ले जाऊं। श्रीकृष्ण के मुख खोलते ही यशोदाजी ने देखा कि मुख में चर-अचर सम्पूर्ण जगत विद्यमान है। आकाश, दिशाएं, पहाड़, द्वीप,समुद्रों के सहित सारी पृथ्वी, बहने वाली वायु, वैद्युत, अग्नि, चन्द्रमा और तारों के साथ सम्पूर्ण ज्योतिर्मण्डल, जल, तेज अर्थात्प्रकृति, महतत्त्व, अहंकार, देवगण, इन्द्रियां, मन, बुद्धि, त्रिगुण, जीव, काल, कर्म, प्रारब्ध आदि तत्त्व भी मूर्त दीखने लगे। पूरा त्रिभुवन है, उसमें जम्बूद्वीप है, उसमें भारतवर्ष है, और उसमें यह ब्रज, ब्रज में नन्दबाबा का घर, घर में भी यशोदा और वह भी श्रीकृष्ण का हाथ पकड़े। बड़ा विस्मय हुआ माता को। अब श्रीकृष्ण ने देखा कि मैया ने तो मेरा असली तत्त्व ही पहचान लिया।

।। राधे-राधे बोलना पड़ेगा ।।

अब आपको रोज नित्य सुबह प्रियकांत जू भगवान का संदेश मिलेगा आपके फोन पर।

आपकी हर सुबह सूहानी हो। आपका हर दिन शुभ हो।। अब आपको रोज नित्य सुबह प्रियकांत जू भगवान का संदेश मिलेगा आपके फोन पर। जिसे स्वयं पूज्य महाराज श्री भेजेंगे आपको पूज्य श्री महाराज का सन्देश प्राप्त करने के लिए आप ये नंबर सेव कर लिजिए और आपको सन्देश प्राप्त हो उसके लिए आप अपना नंबर, नाम, शहर का पता, ईमेल आईडी सहित भेज दीजिये।

श्री प्रियाकांतजू भगवान जी की संध्या आरती के लाइव दर्शन करें

जिनके दर्शन मात्र से हो जाता है सभी दुखों का नाश, मिट जाते है सभी कष्ट, ऐसे हैं भगवान श्री प्रियाकांतजू। अपने नेत्रों से हृदय में उतारें कष्ट हरने वाले श्री प्रियाकांतजू भगवान जी की संध्या आरती के लाइव दर्शन करें, आप सभी भक्त प्रियाकांतजू भगवान के दर्शन फेसबुक के पेज पर देख सकते है। यह आप आज से यानि 9.4.2016 से शाम को 7:30 बजे देख सकते है।

view more