Blog

गुरु पूर्णिमा व्रत के विधान को जानें

05/08/2017 | 03:29 AM
Category : संस्कृति और विज्ञान

517 View | 0 Comments

गुरु पूर्णिमा का पर्व अध्यात्म, संत-महागुरु और शिक्षकों के लिए समर्पित एक भारतीय त्योहार है। यह पर्व पारंपरिक रूप से गुरुओं के प्रति, संतों का सानिध्य प्राप्त करने, अच्छी शिक्षा ग्रहण तथा संस्कार करने, शिक्षकों को सम्मान देने और उनके प्रति आभार व्यक्त करने के लिए मनाया जाता है।

1.प्रातः घर की सफाई, स्नानादि नित्य कर्म से निवृत्त होकर साफ-सुथरे वस्त्र धारण करके तैयार हो जाएं।

2.घर के किसी पवित्र स्थान पर पटिए पर सफेद वस्त्र बिछाकर उस पर 12-12 रेखाएं बनाकर व्यास-पीठ बनाना चाहिए।[ads1]

3.फिर हमें ‘गुरुपरंपरासिद्धयर्थं व्यासपूजां करिष्ये’ मंत्र से पूजा का संकल्प लेना चाहिए।

4.तत्पश्चात दसों दिशाओं में अक्षत छोड़ना चाहिए।

5.फिर व्यासजी, ब्रह्माजी, शुकदेवजी, गोविंद स्वामीजी और शंकराचार्यजी के नाम, मंत्र से पूजा का आवाहन करना चाहिए।

6.अब अपने गुरु अथवा उनके चित्र की पूजा करके उन्हें यथा योग्य दक्षिणा देना चाहिए।

 By Admin

- By Admin

Leave a Comment:

Recent Blog

What is atheism : नास्‍ति‍क कि‍से कहते हैं?

नास्ति = न + अस्ति = नहीं है, अर्थात ईश्वर नहीं ह....

What is Meditation in Hindi : ध्यान किसे कहते हैं?

ध्यानं निर्विषयं मन:।’ अर्थात् मन सं....

स्त्रियां कभी नारियल क्यों नहीं फोड़ती हैं जानें

नारियल को हिन्दू धर्म में एक शुभ फल माना जाता है, अक्सर लो....

How to Worship Lord Shiva । स्त्री रूप में होती है शिवलिंग की पूजा जानें

How to Worship Lord Shiva : भारत एकमात्र ऐसा देश है जहा....

Mostly Viewed

कलावा बांधने के वैज्ञानिक रहस्य के बारें में जानें

हिन्दू धर्म में हर धार्मिक कार्यक्रम में कलावा बांधने का विधान होत....

क्यों देते हैं उगते सूर्य को जल जानें।

हिंदू संस्कृति में रोज सुबह सूर्य को जल देने की परंपरा है, लेकिन क्य....

क्या है माथे पर तिलक लगाने की निशानी जानिए

नकारात्मक ऊर्जा को भगाता है। जब ललाट पर तिलक शुशोभित होता है तो हमा....

शिवलिंग पर दूध क्यों चढ़ाया जाता है?

भगवान शिव के शिवलिंग पर दूध चढ़ाने की महिमा का विशेष महत....